Category: बच्चों का पोषण

3 साल तक के बच्चे का baby food chart

Published:19 Jul, 2017     By: Salan Khalkho     11 min read

अक्सर माताओं के लिए यह काफी चुनौतीपूर्ण रहता है की बच्चो को क्या दें की उनले बढ़ते शरीर को पोषक तत्वों की उचित खुराक मिल सके। कोई भी नया भोजन जब आप पहली बार बच्चे को देते हैं तो वो नखड़े कर सकता है। ऐसे मैं यह - 3 साल तक के बच्चे का baby food chart आप की मदद करेगा। संतुलित आहार चार्ट


3 साल तक के बच्चे का baby food chart

जब आपका बच्चा 1-3 साल का होता है तो उसका आहार बहुत महत्वपूर्ण है। इस उम्र में बच्चे के शरीर को पोषण की आवश्यकता बहुत ज्यादा होती है। अलग अलग तरह के पोषण (nutrients) अगर बच्चे को इस उम्र में नहीं मिले तो, यह बच्चे के विकास को प्रभावित कर सकता है। इस उम्र में बच्चे को आप दाल, पतला सब्जी (vegetable soup), चना आदि दे सकते हैं।  

1-3 साल के बच्चे का आहार इस तरह होना चाहिए की उसके शरीर की आवश्यकता अनुसार उसे carbohydrates, vitamins, minerals और fats की उचित मात्रा मिल सके - संतुलित आहार चार्ट। 

अक्सर माताओं के लिए यह काफी चुनौतीपूर्ण रहता है की बच्चो को क्या दें की उनले बढ़ते शरीर को पोषक तत्वों की उचित खुराक मिल सके। कोई भी नया भोजन जब आप पहली बार बच्चे को देते हैं तो वो नखड़े कर सकता है। लेकिन अगर आप लगे रहें तो समय के साथ आप के बच्चे को सभी तरह के भोजन पसंद आने लगेंगे।  

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

 

3 साल तक के बच्चे का baby food chart


Monday

  • सुबह का नाश्ता - Sandwich और एक गिलास दूध
  • दोपहर का खाना - मुंग की दाल की खिचड़ी  
  • शाम का नाश्ता - एक केला
  • रात का खाना - एक कटोरा दाल और रोटी

Tuesday

  • सुबह का नाश्ता - दलीय और एक गिलास दूध 
  • दोपहर का खाना - मटर-गाजर की सब्जी और रोटी  
  • शाम का नाश्ता - एक आम 
  • रात का खाना - पनीर की सब्जी और रोटी

Wednesday

  • सुबह का नाश्ता -  सूजी का हलुवा और दूध 
  • दोपहर का खाना - पांच दालों से बनी खिचड़ी   
  • शाम का नाश्ता -  एक संतरा 
  • रात का खाना - मसूर की दाल और रोटी 

Thursday

  • सुबह का नाश्ता -  आलू पराठा और दही  
  • दोपहर का खाना -  veg-पुलाव और रायता   
  • शाम का नाश्ता -   एक सेब 
  • रात का खाना -  पनीर की रोटी और सब्जी 

Friday

  • सुबह का नाश्ता - सूजी का उपमा और ग्लास दूध    
  • दोपहर का खाना - राजमा और चावल     
  • शाम का नाश्ता - एक अमरुद    
  • रात का खाना -  भिंडी की सब्जी और रोटी 

Saturday

  • सुबह का नाश्ता - मुंग दाल का चीला और दही    
  • दोपहर का खाना - पुलाव और पनीर की सब्जी     
  • शाम का नाश्ता - नाशपाती     
  • रात का खाना -  आलू मटर की सब्जी और रोटी 

Sunday

बच्चों के आहार में पोषक तत्त्व बढ़ाने के तरीके

चूँकि 1-3 साल का बच्चा बहुत तीव्र गति से विकासशील होता है उसके शरीर को ज्यादा पोषकतत्व की आवश्यकता होती है। जरुरी नहीं की जो आहार आप बच्चे को दे रहें हैं उसमे इतना पोषक तत्त्व (nutrients) हो जो बच्चे की nutritional requirements को पूरा कर सके। ऐसे मैं आप बच्चों के आहार में पोषक तत्त्व (nutrients) बढ़ाने के लिए यह तीन युक्तियाँ कर सकती हैं:

  • काजू और बादाम को तवे पे हल्का भून के उसे grinder में पीस लें। पसे हुए काजू और बादाम के powder को एक air-tight container में बंद कर के रख दें। जब कभी आप हलुवा या बच्चों के लिए pudding बना रहें हों तो उसमे एक चम्मच काजू और बादाम का पीसा पाउडर पकाते वक्त मिला दें। काजू और बादाम का पाउडर इतना बनायें की वो महीने भर में समाप्त हो जाये। 
  • बच्चो का आहार त्यार करते वक्त आप उसमे dairy products भी मिला सकते हैं जैसे की cheese, दही, पनीर। इससे बच्चे में calcium की आवश्यकता पूरी होगी। 
  • Pudding या हलुवा बनाते वक्त आप बच्चे के भोजन में शुद्ध देशी घी मिला सकते हैं। 
  • जब बच्चा सुबह सो कर उठता है तो आप उसे एक कप दूध के साथ दो बादाम दे सकते हैं। बादाम को त्यार करने के लिए उसे रात भर पानी में भिगो दें। बच्चे को सुबह देने से पहले उसका ऊपर का भूरा छिलका निकल दें। इसे हमेशा ताजा त्यार किया हुआ ही बच्चे को दें। 
  • डबल रोटी देते वक्त आप उसमे अच्छे से माखन लगा सकते हैं। डबल रोटी के साथ आप बच्चे को ऑमलेट (omelet) भी दे सकते हैं। 

बच्चों को snacks इस तरह दें

सुबह के नाश्ते और दोपहर के खाने के बीच का जो समय होता है उसे आप snacks time कह सकते हैं। इस वक्त कभी-कभी बच्चे कुछ खाने के लिए मांग करते हैं। अगर बच्चा मांगे कुछ खाने के लिए तो उसे दें। मगर इस बात का ध्यान रखें की जो भी बच्चे को खाने को दें उससे बच्चे को पोषक तत्त्व (nutrients) मिले। Snacks में आप बच्चे को एक कटोरा कटे-हुए-फल, फलों का जूस, विभिन प्रकार के सब्जियों का soup दे सकतेहैं। हर दिन बच्चे को कुछ नया दें ताकि आपका बच्चा एक ही snacks रोज-रोज खा कर बोर न हो जाये।  

यह भी पढ़ें:

सुबह का नाश्ता और दुपहर का खाना

आप के बच्चे का सुबह का नाश्ता बहुत ही पौष्टिक होना चाहिए और उतना ही पौष्टिक दोपहर का भोजन भी होना चाहिए। भोजन में आप अपने बच्चे को दाल, पनीर, स्वादिष्ट सब्जियां, भिंडी, पत्ता गोभी, मटर और गाजर, रोटी के साथ परोस सकते हैं। भोजन में आप अपने बच्चे को थोड़ा सा सलाद भी अवशय दें। 

3 साल के बच्चे का शाम का नाश्ता 

शाम के वक्त आप अपने बच्चे को स्वादिष्ट नाश्ता दे सकते हैं। 3 साल के बच्चे को fast food या ready-made snacks न दें। अगर आप अपने बच्चे को नाश्ते मैं घर का बना burgers, noodles, pizzas और sandwiches दे रहे हैं तो ध्यान रखें की उसे साथ में ढेर सारी मौसमी सब्जियां भी दें।  जैसे की आप उसे snacks के साथ बोड़ा, beans, गाजर, टमाटर, शिमला मिर्च (capsicum), और मटर दे सकते हैं। नाश्ते के साथ आप अपने बच्चे को smoothies भी दे सकते हैं। 

3 साल के बच्चे का रात का खाना (Dinner)

रात का खाना आप के बच्चे का दिन का आखरी भोजन है। इसीलिए इसमें ढेर सरे पौष्टिक तत्त्व (nutrients) होने चाहिए - मगर फिर भी, आप के छोटे से बच्चे के पेट के लिए हलके होने चाहिए। रात के खाने में अगर आप अपने बच्चे को गरिष्ट भोजन देंगे तो बच्चे को उसे पचाने में तकलीफ होगी, रात भर बेचैनी लगी रहेगी, ठीक से सो भी नहीं पायेगा, उसे पेट दर्द, अपच, और उलटी भी हो सकती है। इसीलिए रात्रि भोजन में आप अपने बच्चे को पौष्टिक आहार तो दें मगर ऐसा जो की हल्का-फुल्का भोजन ही हो। आप अपने बच्चे को dinner में सब्जी और पराठा दे सकते हैं या फिर आप उसे मुंग का दाल और साथ में एक कटोरा दही दे सकते हैं। खाने के बाद आप अपने बच्चे को गाजर का हलवा या फिर खीर भी दे सकते हैं। 

Diet Chart of a 3 Year Old Indian baby

3 साल के बच्चे का डाइट चार्ट बनाते वक्त इन बातों का ध्यान रखें - (Diet Chart of a 3 Year Old Indian baby)

  • छोटे बच्चों का पेट भी छोटा सा होता है। थोड़े से आहार में ही बच्चे का पेट भर जाता है। इसीलिए बच्चे को दिन भर थोड़ा-थोड़ा आहार देते रहें। 3 साल के बच्चे का diet chart बनाते वक्त ऐसे आहारों का चयन करें की बच्चे को सभी प्रकार के पौष्टिक तत्त्व (variety of nutrition) मिल सकें। इसके लिए आहार में सभी nutrition groups में से कुछ-न-कुछ सम्मलित करें। 
  • रसोई में बच्चे का भोजन त्यार करते वक्त अपने बच्चे की सहायता लें। उसे कोई बहुत छोटा सा काम दें जो वो आसानी से कर सके, जैसे की फलों को टोकरी में रखना या टेबल पे सजाना। इससे आपका 3 साल का बच्चा आपके द्वारा त्यार किये गए भोजन में रूचि लेगा। 
  • हर दिन दैनिक आहार में कुछ नया सम्लित करें ताकि आपके बच्चे को सबकुछ खाने की आदत पड़े। 
  • बच्चे के आहार में विभिन प्रकार के अनाज को सम्लित करें। अपने बच्चे को कई प्रकार के अनाज से बने रोटी को खाने को दें। 
  • एक अच्छा Diet chart for 3 years kids in India बनाने के लिए आपको यह निर्धारित करना पड़ेगा की आप के बच्चे के लिए कितने आहार की मात्रा उसकी भूख मिटने के लिए पर्याप्त है। बच्चा जैसे-जैसे बड़ा हो उसे प्रोत्साहित करें की वो अपना प्लेट खुद ही त्यार करे और उतना हो भोजन अपने प्लेट में निकले जितना की वो खा के ख़त्म कर सके। 

यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी।



Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Recommended Articles

Sharing is caring

शिशु-क्योँ-रोता
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school
ब्लू व्हेल - बच्चों के मौत का खेल

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

ब्लू-व्हेल
भारत के पांच सबसे महंगे स्कूल

लेकिन भारत के ये प्रसिद्ध बोडिंग स्कूलो, भारत के सबसे महंगे स्कूलों में शामिल हैं| यहां पढ़ाना सबके बस की बात नहीं|

India-expensive-school
6 बेबी प्रोडक्टस जो हो सकते हैं नुकसानदेह आपके बच्चे के लिए

कुछ ऐसे बेबी प्रोडक्ट जो न खरीदें तो बेहतर है

6-बेबी-प्रोडक्टस-जो-हो-सकते-हैं-नुकसानदेह-आपके-बच्चे-के-लिए
6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना है खतरनाक

शिशु में पानी की शुरुआत 6 महीने के बाद की जानी चाहिए।

6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
माँ का दूध छुड़ाने के बाद क्या दें बच्चे को आहार

बच्चों में माँ का दूध कैसे छुड़ाएं और उसके बाद उसे क्या आहार दें ?

बच्चे-को-आहार
छोटे बच्चों को मच्छरों से बचाने के 4 सुरक्षित तरीके

अगर घर में छोटे बच्चे हों तो मच्छरों से बचने के 4 सुरक्षित तरीके।

बच्चों-को-मच्छरों-से-बचाएं
किस उम्र से सिखाएं बच्चों को ब्रश करना

अच्छे दांतों के लिए डेढ़ साल की उम्र से ही अच्छी तरह ब्रशिंग की आदत डालें

बच्चों-को-ब्रश-कराना
बच्चों का लम्बाई बढ़ाने का आसान घरेलु उपाय

अपने बच्चे की शारीरिक लम्बाई को बढ़ाने के लिए इन बातों का ध्यान रखना होगा



बच्चों-का-लम्बाई
मखाने के फ़ायदे | Health Benefits of Lotus Seed - Recipes

मखाना ड्राई फ्रूट से भी ज्यादा पौष्टिक है और छोटे बच्चों के लिए बहुत फायेदेमंद भी।

मखाना
भीगे चने खाने के फायदे भीगे बादाम से भी ज्यादा

चने में मिलने वाले यह पोषक तत्व आप के दिमाग को तेज़ करने के साथ ही साथ आप की सुंदरता और चेहरे की रौनक भी बढ़ाते हैं।

भीगे-चने
5 कारण स्तनपान के दौरान शिशु के रोने के

जानिए शिशु के रोने के पांच कारण और उन्हें दूर करने के तरीके।

शिशु-क्योँ-रोता
15 अदभुत फायेदे Vitamin C के

विटामिन सी, या एस्कॉर्बिक एसिड, सबसे प्रभावी और सबसे सुरक्षित पोषक तत्वों में से एक है

Vitamin-C-benefits
विटामिन C का महत्व शिशु के शारीरिक विकास में

जाने की बच्चों के लिए विटामिन सी की कितनी मात्र आवश्यक है और क्योँ?

विटामिन-C
बच्चे के उम्र के अनुसार शिशु आहार - सात से नौ महीने

शिशु के पाचन तंत्र के मजबूत बनने में इस प्रकार के आहार बहुत महत्व पूर्ण भूमिका निभाते हैं।

शिशु-आहार
शिशु में कैल्शियम के कम होने का लक्षण और उपचार

बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास में कैल्शियम एहम भूमिका निभाता है|

शिशु-में-कैल्शियम-की-कमी
29 शिशु आहार जो बनाने में आसान

रसोई में जो वस्तुएं पहले से मौजूद हैं उनकी ही मदद से आप बढ़िया, स्वादिष्ट और पौष्टिक शिशु आहार बना सकती हैं।

शिशु-आहार
शिशु के लिए हानिकारक आहार

जानिए की वो कौन से आहार हैं जो आप के बच्चों के लिए हानिकारक हैं|

हानिकारक-आहार
बच्चों में अंगूर के स्वास्थ्य लाभ

बढते बच्चों में अंगूर से होने वाले फायेदे


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit