Category: Baby food Recipes

रागी डोसा - शिशु आहार - बनाने की विधि

Published:11 Aug, 2017     By: Salan Khalkho     8 min read

भारत में रागी को finger millet या red millet भी कहते हैं। रागी को मुख्यता महाराष्ट्र और कर्नाटक में पकाया जाता है। महाराष्ट्र में इसे नाचनी भी कहा जाता है। रागी से बना शिशु आहार (baby food) बड़ी सरलता से बच्चों में पच जाता है और पौष्टिक तत्वों के मामले में इसका कोई मुकाबला नहीं।


रागी डोसा शिशु आहार

रागी में भरपूर कैल्शियम होता है इसीलिए रागी का डोसा छोटे बच्चों के लिए एक अच्छा आहार है। कैल्शियम बच्चों के हड्डियोँ के विकास के लिए बहुत अच्छा है। चावल की तुलना में इसमें ज्यादा फाइबर होता है जो पाचन के लिए अच्छा है। रागी आयरन का भी अच्छा स्रोत है और इसमें विटामिन C भी होता है। विटामिन C शरीर में आयरन के अवशोषण में मदद करता है। रागी मैं मौजूद एमिनो एसिड एंटीऑक्सीडेंट शरीर को स्वाभाविक रूप से आराम देने में मदद करता है। 

रागी डोसा से सम्बंधित जानकारी: 

  • बच्चे का उम्र: 7 से 8 माह के बच्चों के लिए
  • पौष्टिक तत्त्व:  आयरन, कैल्शियम, एमिनो एसिड एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर 
  • सावधानी बरतें: कुछ भी नहीं 

भारत में रागी को finger millet या red millet भी कहते हैं। रागी को मुख्यता महाराष्ट्र और कर्नाटक में पकाया जाता है। महाराष्ट्र में इसे नाचनी भी कहा जाता है। रागी के बहुत सारे व्यंजन बनते हैं। जैसे की रागी-का-लड्डू, रागी खीर, रागी हलवा, और भी अनेक तरह के व्यंजन। 

आज के युग में बदलते रहन-सहन के कारण बच्चों में गेहूं से एलेर्जी की समस्या एक आम बात हो गयी है। गेहूं में gluten होता है जिसे हिंदी में लस कहते हैं। ग्लूटेन ही मुख्या कारण है बच्चों में गेहूं के प्रति एलेर्जी के लिए। गेहूं ही अकेला नहीं है, और भी बहुत सारे अनाज हैं जिनमे ग्लूटेन पाया जाता है। मगर रागी एक ऐसा आनाज है जिसमें ग्लूटेन नहीं होता है। इस वजह से रागी एक शिशु के लिए एकदम सुरक्षित आहार है। 

 

सामग्री (ingredient) 

  • १ कप रागी का आटा 
  • १/२ कप दही 
  • नमक स्वाद अनुसार (शिशु आहार में नमक की आवश्यकता नहीं होती है)
  • पानी जरुरत के अनुसार
  • तेल या घी (डोसा सेकने के लिए)

रागी डोसा - शिशु आहार - बनाने की विधि (शिशु आहार - baby food)

  1. रागी के आटे को एक परात में लें
  2. इसमें दही और नमक मिलाएं
  3. इसमें इतना पानी मिला के डोसा के लिए batter त्यार कर लें। 
  4. रागी डोसा के लिए batter साधारण batter की तुलना में पतला बनेगा। 
  5. आधे घंटे तक batter को ढक के रख दें।
  6. डोसा बनाने वाले तवा को माध्यम आंच पे गैस पे चढ़ाएं।
  7. तवे पे batter को डालें और करछुल (बड़ा चम्मच) की सहायता से तवा पे फैला दें। 
  8. इसके ऊपर तेल छिड़कें। डोसा को दौड़ने तरफ अच्छी तरह पका दें जिस तरह आप साधारण डोसा को पकती हैं।
  9. रागी के डोसा को ठंडा हो जाने पे छोटा-छोटा टुकड़ा कर के बच्चे को खिलाएं। 

दक्षिण भारत में जहाँ रागी व्यापक रूप से आहार के रूप में इस्तेमाल होता है वहां एक प्रथा आम है। प्रथा ये है की दक्षिण भारत में 28 दिन के जन्मे बच्चे को उसके नामकरण के दिन रागी का दलीय खिलाया जाता है। लोगों का यह विश्वास है की रागी बच्चों के पाचन तंत्र को बेहतर बनता है। मगर सावधान, शिशु को 6 महीने से पहले स्तनपान के आलावा कुछ भी नहीं खिलाना चाहिए - यहां तक की शिशु को 6 महीने से पहले पानी देना भी हानिकारक है। भारत के कुछ हिस्सों में बच्चे को शहद देने की प्रथा है। ध्यान रहे की बच्चे को 6 महीने से पहले तो क्या बच्चे को दो साल तक शहद नहीं देना चाहिए। शहद बनता है फूलों के nectar और मधुमखियों के थूक के मिलने से। इसमें ऐसे कीटाणुन पनपते हैं जो बड़ों का तो कुछ भी अहित नहीं कर सकते हैं पर बच्चों के लिए खतरनाक है। विश्व भर में ऐसे बहुत से मामले प्रकाश में आये हैं जहाँ शहद बच्चे के लिए जानलेवा साबित हुआ है या फिर बच्चे को आजीवन तकलीफ (शारीरिक विकृति) का सामना करना पड़ा है क्योँकि बच्चे को दो साल से पहले शहद चखाया गया था। शहद के बहुत से फायदे हैं, मगर तभी जब बच्चा दो साल का हो जाये। चाहे शहद हो या रागी, बच्चे को ६ महीने से पहले न दें। संस्कृति हमारी धरोहर हैं, उसका सम्मान, उसकी रक्षा करना, हमारा कर्त्तव्य है, मगर कुछ रीती रिवाजों के कारण बच्चो की जिंदगी को दावं पे लगाना - कहाँ तक उचित है। बच्चे की जान से खेलने का अधिकार सवयं माँ-बाप को भी नहीं है। बच्चा एक ऐसा मूल्यवान तोफा है जिसे परम परमेश्वर ने माँ-बाप को एक जिम्मेदारी की तरह दिया है। बच्चे की स्वस्थ की रक्षा करना माँ-बाप की जिम्मेदारी है। 

भारत में रागी को आम तौर पे शिशु आहार के रूप में इस्तेमाल करते हैं। इसे गर्भवती महिलायों को भी खाने को दिया जाता है। इसमें प्रचुर मात्रा में कैल्शियम और आयरन, और कुछ विशेष प्रकार के एमिनो एसिड्स (amino acids) भी पाए जाते हैं। रागी से बना आहार बड़ी सरलता से बच्चों में पच जाता है और पौष्टिक तत्वों के मामले में इसका कोई मुकाबला नहीं। 

बढ़ते बच्चों को रागी से बने आहार से अच्छी मात्रा में कैल्शियम मिल जाता है जो की उनके शरीर में हड्डियोँ के विकास में बहुत कारगर साबित होता है। बच्चों का पाचन तंत्र पूरी तरह विकसित नहीं होता है। ऐसे मैं रागी पाचन में उनकी मदद करता है क्योँकि रागी में अच्छी मात्रा मैं फाइबर होता है जो पाचन में सहायता करता है। 

रागी प्राकृतिक आयरन का भी अच्छा स्रोत है। बच्चों के शरीर में आयरन लाल रक्त कोशिकाओं के बनने मैं मदद करता है। रागी में विटामिन C मदद करता है। रागी में आयरन और विटामिन C दोनों मौजूद हैं, इस वजह से रागी से आयरन बच्चों के शरीर को सरलता से मिल जाता है। यह कहना ज्यादा  उपयुक्त रहेगा की रागी से शिशु के शरीर में आयरन अधिक अवशोषित होता है। रागी के साथ आप बच्चे को ऐसी सब्जियां दे सकते हैं जिनमे विटामिन C होता है। इससे रागी से बना शिशु आहार बच्चे के लिए ज्यादा फायदेमंद हो जाता है। 

रागी में पर्याप्त मात्रा में एमिनो एसिड्स (amino acids) और एंटीऑक्सिडेंट्स (antioxidants) भी होता है। ये दोनों ही स्वाभाविक रूप से मानसिक आराम देने में मदद करते हैं। रागी बड़ो के लिए भी फायदेमंद है। ये बड़ों को चिंता, अनिंद्रा, और अवसाद जैसे रोगों से निजात दिलाता है। बच्चों के तेज़ी से विकाशील दिमाग पर इसका अच्छा प्रभाव पड़ता है। 

यह भी पढ़ें:


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Latest Articles

khansi-ka-gharelu-upchar

शिशु रोग

12 Tips शिशु की खांसी का घरेलु उपचार - khansi ka gharelu upchar

 
khansi-ka-ilaj

शिशु रोग

बंद नाक में शिशु को सुलाने का आसन तरीका (khansi ka ilaj)

 
sardi-ka-ilaj

शिशु रोग

7 प्राकृतिक औषधि से शिशु की सर्दी का इलाज - Sardi Ka ilaj

 
childrens-day

बच्चों की परवरिश

बाल दिवस पर विशेष लेख - children's day celebration

 
खांसी-की-अचूक-दवा

शिशु रोग

15 आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे शिशु की खांसी की अचूक दवा - Complete Guide

 
khasi-ki-dawa

शिशु रोग

5 घरेलु उपाय शिशु को जुकाम से राहत दिलाने के लिए (khasi ki dawa)

 
बंद-नाक

शिशु रोग

13 जुकाम के घरेलू उपाय (बंद नाक) - डॉक्टर की सलाह

 
जुकाम-के-घरेलू-उपाय

शिशु रोग

5 आसान बंद नाक और जुकाम के घरेलू उपाय

 
कफ-निकालने-के-उपाय

शिशु रोग

बच्चों का भाप (स्‍टीम) के दुवारा कफ निकालने के उपाय

 
ह्यूमिडिफायर-Humidifier

शिशु रोग

ह्यूमिडिफायर (Humidifier) से जुकाम का इलाज - Jukam Ka ilaj

 
पेट्रोलियम-जैली---Vaseline

शिशु रोग

बेबी प्रोडक्ट्स में पेट्रोलियम जैली कहीं कर न दे आप के शिशु को बीमार

 
Khasi-Ke-Upay

शिशु रोग

आराम करने ठीक होता है शिशु का सर्दी जुकाम - Khasi Ke Upay

 
jukam-ki-dawa

शिशु रोग

भाप है जुकाम की दवा और झट से खोले बंद नाक - jukam ki dawa

 
नेबुलाइजर-Nebulizer-zukam-ka-ilaj

शिशु रोग

नेबुलाइजर (Nebulizer) से शिशु के जुकाम का इलाज - Zukam Ka ilaj

 
शिशु-सवाल

शिशु रोग

बच्चों के डॉक्टर से मिलने से पहले इन प्रश्नों की सूचि तयार कर लें

 
खांसी-की-अचूक-दवा

शिशु रोग

बच्चे के बुखार, सर्दी, खांसी की अचूक दवा - Guide

 
पराबेन-(paraben)

शिशु रोग

पराबेन (paraben) क्योँ है शिशु के लिए हानिकारक

 
Khasi-Ki-Dawai

शिशु रोग

घर पे बनाये Vapor rub (वेपर रब) - Khasi Ki Dawai

 
sardi-ki-dawa

शिशु रोग

विटामिन डी है सर्दी जुकाम की दवा - sardi ki dawa

 
खांसी-की-दवा

शिशु रोग

शिशु को बुरी खांसी में दें ये खांसी की दवा

 
सर्दी-जुकाम-की-दवा

शिशु रोग

सर्दी जुकाम की दवा - तुरंत राहत के लिए उपचार

 
Sharing is caring


सर्दी-जुकाम-की-दवा
सूजी का खीर छोटे बच्चों के लिए शिशु आहार (Sooji Kheer For Baby)

खीर सबसे बढ़िया विकल्प है - शरीर के लिए बेहद पौष्टिक, यह तुरंत बन के त्यार हो जाता है

सूजी-का-खीर
6 से 12 माह के बच्चे को क्या खिलाएं

जानिए 6 से 12 माह के बच्चे को ठोस आहार में क्या खाने को दें।

baby-food
सेब से बना पुडिंग बच्चों के लिए

सेब से बना ये पुडिंग शिशु को आसानी इ पच जाता है।

सेब-पुडिंग
सेब से बना खीर बच्चों के लिए

ताज़े सेबों से बना शिशु आहार आप के शिशु को बहुत पसंद आएगा।

बच्चों-के-लिए-खीर
दाल का सुप बच्चों के लिए - दाल का पानी

दाल का पानी (Dal ka pani/ lentil soup for infants) शिशु के लिए एक बेहतरीन आहार है।

दाल-का-पानी
सेब और सूजी का खीर 6 to 9 month बच्चों के लिए

झटपट बन जाने वाली इस रेसिपी आप सिर्फ १० मिनट या उससे कम समय में बना सकती हैं।

सेब-बेबी-फ़ूड
चावल का पानी बच्चों के लिए (चावल का सूप) for 6 to 9 month baby

पचाने में बहुत ही हल्का, पेट के लिए आरामदायक लेकिन पोषक तत्वों के मामले में यह एक बेहतरीन विकल्प है।

चावल-का-पानी
घर का बना सेरेलक बच्चों के लिए - Home Made Cerelac

घर का बना सेरेलेक (Home Made Cerelac for Babies) के हैं ढेरों फायेदे। - जानिए बनाने की विधि।

सेरेलक
सब्जियों की प्यूरी बच्चों के लिए - स्वादिष्ट और स्वस्थ वर्धक

सब्जियौं में ढेरों पोषक तत्त्व होते हैं जो बच्चे के अच्छे मानसिक और शारीर विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

सब्जियों-की-प्यूरी
फ्राइड राइस बनाने की विधि - शिशु आहार

घर पे करें तयार झट से शिशु आहार - इसे बनाना है आसन और शिशु खाए चाव से।

fried-rice
4 से 6 माह के बच्चे के लिए चावल की रेसेपी

घर पे आसानी से तयार की जा सकने वाली 4 से 6 माह के बच्चे के लिए चावल की रेसेपी

शिशु-आहार
तुरंत तैयार घर का बना बेबी फ़ूड

घर पे शिशु आहार तयार करना है आसन और इसके हैं ढेरों फायेदे।

बेबी-फ़ूड
सेब और चावल से बना बेबी फ़ूड

सेब और चावल के पौष्टिक गुणों से भर पूर यह शिशु आहार बच्चों को बहुत पसंद आता है।

बेबी-फ़ूड
बच्चे के लिए बनाये होममेड शिशु आहार (baby food)

बढ़ते बच्चे के लिए जो भी पौष्टिक तत्वों की आवश्यकता होती है, वो सब घर का बना शिशु आहार प्रदान करता है|

homemade-baby-food
इडली दाल बनाने की विधि - शिशु आहार

इडली बच्चों के स्वस्थ के लिए बहुत गुण कारी है| इससे शिशु को प्रचुर मात्रा में कार्बोहायड्रेट और प्रोटीन मिलता है|

इडली-दाल
वेजिटेबल पुलाव बनाने की विधि - शिशु आहार

ढेरों सब्जियां के साथ पुलाव बच्चों के लिए विशेष लाभकारी है| बच्चे बड़े चाव से खाते हैं|

वेजिटेबल-पुलाव
दही चावल बनाने की विधि - शिशु आहार

दही चावल या curd rice, तुरंत बन जाने वाला बेहद आसान पौष्टिक तत्वों से भरपूर आहार है|

दही-चावल
सूजी उपमा बनाने की विधि - शिशु आहार

सूजी का उपमा या रवा उपमा बेहद पौष्टिक और बनाने में आसान व्यंजन है

सूजी-उपमा
पपीते का प्यूरी बनाने की विधि - शिशु आहार

अगर आप के बच्चे को कब्ज या पेट से सम्बंधित परेशानी है तो पपीते का प्यूरी सबसे बढ़िया विकल्प है।

पपीते-का-प्यूरी
गाजर मटर और आलू से बना शिशु आहार

गाजर, मटर और आलू से बना यह एक सर्वोतम आहार है 9 महीने के बच्चे के लिए|

गाजर-मटर-और-आलू-से-बना-शिशु-आहार
अवोकाडो और केले से बना शिशु आहार

घर पे आसानी से बनायें अवोकाडो और केले की मदद से पौष्टिक शिशु आहार|

अवोकाडो-और-केले
केले का smoothie बनाने की विधि - शिशु आहार

केला पौष्टिक तत्वों का जखीरा है और शिशु में ठोस आहार शुरू करने के लिए सर्वोत्तम आहार।

केले-का-smoothie
अंगूर की प्यूरी - शिशु आहार - Baby Food

अंगूर से बना शिशु आहार - अंगूर में घनिष्ट मात्र में पोषक तत्त्व होता हैं जो बढते बच्चों के लिए आवश्यक है|

अंगूर-शिशु-आहार
पालक और याम से बने शिशु आहार को बनाने की विधि (baby food)

याम और पालन से बना आहार शिशु को बहुत पसंद आएगा। इसका स्वाद बच्चे को थोड़ा जाना पहचाना लगेगा और थोड़ा मीठा भी लगेगा।

पालक-और-याम
रागी डोसा - शिशु आहार - बनाने की विधि

रागी में भरपूर कैल्शियम होता है इसीलिए रागी का डोसा छोटे बच्चों के लिए एक अच्छा आहार है।

रागी-डोसा
रागी का खिचड़ी - शिशु आहार - बनाने की विधि

रागी का खिचड़ी में कैल्शियम, पोटैशियम और आयरन प्रचुर मात्रा में होता है

रागी-का-खिचड़ी
कद्दू की प्यूरी - शिशु आहार - बनाने की विधि

कद्दू में अच्छी मात्रा में beta कैरोटीन, पोटैशियम, और आयरन होता है शिशु के विकास के लिए अच्छा है|

कद्दू-की-प्यूरी
गाजर का प्यूरी - शिशु आहार - बनाने की विधि

बच्चों में ठोस आहार शुरू करने के लिए गाजर का प्यूरी एक बेहतरीन विकल्प है।

गाजर-का-प्यूरी
शकरकंद की प्यूरी - शिशु आहार - बनाने की विधि

Beta carotene भरपूर, शकरकंद शिशु की सेहत और अच्छी विकास के लिए बहुत अच्छा है|

शकरकंद-की-प्यूरी
अवोकाडो का प्यूरी - शिशु आहार - बनाने की विधि

अवोकाडो का प्यूरी मक्खन की तरह मुलायम और बच्चे के विकास के लिए बहुत फायदेमंद है।

अवोकाडो-का-प्यूरी
चावल का शिशु आहार - बनाने की विधि

चावल उन आहारों में से एक है जिसे शिशु को ठोस आहार शुरू करते वक्त दिया जाता है

चावल-का-शिशु-आहार
केले का प्यूरी बनाने की विधि - शिशु आहार

बच्चे के बढ़ते शरीर के लिए जो भी पौष्टिक तत्वों की आवश्यकता वो सब केले मैं मौजूद है।

केले-का-प्यूरी
हरे मटर की प्यूरी बनाने की विधि - शिशु आहार

मटर के दाने होते तो बहुत छोटे हैं मगर पौष्टिक के मामले में ये बहुत आगे हैं।

मटर-की-प्यूरी
मसूर दाल की खिचड़ी बनाने की विधि - शिशु आहार

बच्चे के अच्छे विकास के लिए सभी आवश्यक पोषक तत्त्व मसूर की खिचड़ी में मिलता है|

मसूर-दाल
आटे का हलुआ बनाने की विधि

आटे का हलुवा शिशु के लिए उचित और सन्तुलित आहार है|

आटे-का-हलुआ
चावल का खीर बनाने की विधि - शिशु आहार

खीर बच्चे को वो सारे पोषक तत्त्व देता है जो उसके बढते शारीर के अच्छे विकास के लिए जरुरी है|

चावल-का-खीर
लौकी की प्यूरी बनाने की विधि - शिशु आहार

लौकी में ढेरों विटामिन, minerals और nutrients है जो बच्चे के पोषण के लिए अच्छा है।

लौकी-की-प्यूरी
मुंग का दाल बनाने की विधि - शिशु आहार

ठोस आहार की शुरुआत करते वक्त उन्हें आप मुंग दाल का पानी दे सकते हैं|

मुंग-का-दाल
गाजर की खिचड़ी - शिशु आहार

साधारण खिचड़ी में गाजर डाल कर शिशु के लिए और भी पौष्टिक बनाया अ सकता है|

गाजर-की-खिचड़ी
झटपट करें त्यार सब्जियों का puree बच्चों के लिए (baby food)

सब्जियों की puree एक बहुत ही आसान तरीका है झटपट baby food त्यार करने का|


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit