Category: Baby food Recipes

रागी डोसा - शिशु आहार - बनाने की विधि

Published:11 Aug, 2017     By: Salan Khalkho     8 min read

भारत में रागी को finger millet या red millet भी कहते हैं। रागी को मुख्यता महाराष्ट्र और कर्नाटक में पकाया जाता है। महाराष्ट्र में इसे नाचनी भी कहा जाता है। रागी से बना शिशु आहार (baby food) बड़ी सरलता से बच्चों में पच जाता है और पौष्टिक तत्वों के मामले में इसका कोई मुकाबला नहीं।


रागी डोसा शिशु आहार

रागी में भरपूर कैल्शियम होता है इसीलिए रागी का डोसा छोटे बच्चों के लिए एक अच्छा आहार है। कैल्शियम बच्चों के हड्डियोँ के विकास के लिए बहुत अच्छा है। चावल की तुलना में इसमें ज्यादा फाइबर होता है जो पाचन के लिए अच्छा है। रागी आयरन का भी अच्छा स्रोत है और इसमें विटामिन C भी होता है। विटामिन C शरीर में आयरन के अवशोषण में मदद करता है। रागी मैं मौजूद एमिनो एसिड एंटीऑक्सीडेंट शरीर को स्वाभाविक रूप से आराम देने में मदद करता है। 

रागी डोसा से सम्बंधित जानकारी: 

  • बच्चे का उम्र: 7 से 8 माह के बच्चों के लिए
  • पौष्टिक तत्त्व:  आयरन, कैल्शियम, एमिनो एसिड एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर 
  • सावधानी बरतें: कुछ भी नहीं 

भारत में रागी को finger millet या red millet भी कहते हैं। रागी को मुख्यता महाराष्ट्र और कर्नाटक में पकाया जाता है। महाराष्ट्र में इसे नाचनी भी कहा जाता है। रागी के बहुत सारे व्यंजन बनते हैं। जैसे की रागी-का-लड्डू, रागी खीर, रागी हलवा, और भी अनेक तरह के व्यंजन। 

आज के युग में बदलते रहन-सहन के कारण बच्चों में गेहूं से एलेर्जी की समस्या एक आम बात हो गयी है। गेहूं में gluten होता है जिसे हिंदी में लस कहते हैं। ग्लूटेन ही मुख्या कारण है बच्चों में गेहूं के प्रति एलेर्जी के लिए। गेहूं ही अकेला नहीं है, और भी बहुत सारे अनाज हैं जिनमे ग्लूटेन पाया जाता है। मगर रागी एक ऐसा आनाज है जिसमें ग्लूटेन नहीं होता है। इस वजह से रागी एक शिशु के लिए एकदम सुरक्षित आहार है। 

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

 

सामग्री (ingredient) 

  • १ कप रागी का आटा 
  • १/२ कप दही 
  • नमक स्वाद अनुसार (शिशु आहार में नमक की आवश्यकता नहीं होती है)
  • पानी जरुरत के अनुसार
  • तेल या घी (डोसा सेकने के लिए)

रागी डोसा - शिशु आहार - बनाने की विधि (शिशु आहार - baby food)

  1. रागी के आटे को एक परात में लें
  2. इसमें दही और नमक मिलाएं
  3. इसमें इतना पानी मिला के डोसा के लिए batter त्यार कर लें। 
  4. रागी डोसा के लिए batter साधारण batter की तुलना में पतला बनेगा। 
  5. आधे घंटे तक batter को ढक के रख दें।
  6. डोसा बनाने वाले तवा को माध्यम आंच पे गैस पे चढ़ाएं।
  7. तवे पे batter को डालें और करछुल (बड़ा चम्मच) की सहायता से तवा पे फैला दें। 
  8. इसके ऊपर तेल छिड़कें। डोसा को दौड़ने तरफ अच्छी तरह पका दें जिस तरह आप साधारण डोसा को पकती हैं।
  9. रागी के डोसा को ठंडा हो जाने पे छोटा-छोटा टुकड़ा कर के बच्चे को खिलाएं। 

दक्षिण भारत में जहाँ रागी व्यापक रूप से आहार के रूप में इस्तेमाल होता है वहां एक प्रथा आम है। प्रथा ये है की दक्षिण भारत में 28 दिन के जन्मे बच्चे को उसके नामकरण के दिन रागी का दलीय खिलाया जाता है। लोगों का यह विश्वास है की रागी बच्चों के पाचन तंत्र को बेहतर बनता है। मगर सावधान, शिशु को 6 महीने से पहले स्तनपान के आलावा कुछ भी नहीं खिलाना चाहिए - यहां तक की शिशु को 6 महीने से पहले पानी देना भी हानिकारक है। भारत के कुछ हिस्सों में बच्चे को शहद देने की प्रथा है। ध्यान रहे की बच्चे को 6 महीने से पहले तो क्या बच्चे को दो साल तक शहद नहीं देना चाहिए। शहद बनता है फूलों के nectar और मधुमखियों के थूक के मिलने से। इसमें ऐसे कीटाणुन पनपते हैं जो बड़ों का तो कुछ भी अहित नहीं कर सकते हैं पर बच्चों के लिए खतरनाक है। विश्व भर में ऐसे बहुत से मामले प्रकाश में आये हैं जहाँ शहद बच्चे के लिए जानलेवा साबित हुआ है या फिर बच्चे को आजीवन तकलीफ (शारीरिक विकृति) का सामना करना पड़ा है क्योँकि बच्चे को दो साल से पहले शहद चखाया गया था। शहद के बहुत से फायदे हैं, मगर तभी जब बच्चा दो साल का हो जाये। चाहे शहद हो या रागी, बच्चे को ६ महीने से पहले न दें। संस्कृति हमारी धरोहर हैं, उसका सम्मान, उसकी रक्षा करना, हमारा कर्त्तव्य है, मगर कुछ रीती रिवाजों के कारण बच्चो की जिंदगी को दावं पे लगाना - कहाँ तक उचित है। बच्चे की जान से खेलने का अधिकार सवयं माँ-बाप को भी नहीं है। बच्चा एक ऐसा मूल्यवान तोफा है जिसे परम परमेश्वर ने माँ-बाप को एक जिम्मेदारी की तरह दिया है। बच्चे की स्वस्थ की रक्षा करना माँ-बाप की जिम्मेदारी है। 

भारत में रागी को आम तौर पे शिशु आहार के रूप में इस्तेमाल करते हैं। इसे गर्भवती महिलायों को भी खाने को दिया जाता है। इसमें प्रचुर मात्रा में कैल्शियम और आयरन, और कुछ विशेष प्रकार के एमिनो एसिड्स (amino acids) भी पाए जाते हैं। रागी से बना आहार बड़ी सरलता से बच्चों में पच जाता है और पौष्टिक तत्वों के मामले में इसका कोई मुकाबला नहीं। 

बढ़ते बच्चों को रागी से बने आहार से अच्छी मात्रा में कैल्शियम मिल जाता है जो की उनके शरीर में हड्डियोँ के विकास में बहुत कारगर साबित होता है। बच्चों का पाचन तंत्र पूरी तरह विकसित नहीं होता है। ऐसे मैं रागी पाचन में उनकी मदद करता है क्योँकि रागी में अच्छी मात्रा मैं फाइबर होता है जो पाचन में सहायता करता है। 

रागी प्राकृतिक आयरन का भी अच्छा स्रोत है। बच्चों के शरीर में आयरन लाल रक्त कोशिकाओं के बनने मैं मदद करता है। रागी में विटामिन C मदद करता है। रागी में आयरन और विटामिन C दोनों मौजूद हैं, इस वजह से रागी से आयरन बच्चों के शरीर को सरलता से मिल जाता है। यह कहना ज्यादा  उपयुक्त रहेगा की रागी से शिशु के शरीर में आयरन अधिक अवशोषित होता है। रागी के साथ आप बच्चे को ऐसी सब्जियां दे सकते हैं जिनमे विटामिन C होता है। इससे रागी से बना शिशु आहार बच्चे के लिए ज्यादा फायदेमंद हो जाता है। 

रागी में पर्याप्त मात्रा में एमिनो एसिड्स (amino acids) और एंटीऑक्सिडेंट्स (antioxidants) भी होता है। ये दोनों ही स्वाभाविक रूप से मानसिक आराम देने में मदद करते हैं। रागी बड़ो के लिए भी फायदेमंद है। ये बड़ों को चिंता, अनिंद्रा, और अवसाद जैसे रोगों से निजात दिलाता है। बच्चों के तेज़ी से विकाशील दिमाग पर इसका अच्छा प्रभाव पड़ता है। 

यह भी पढ़ें:


यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी।



Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Recommended Articles

Sharing is caring

पारिवारिक-माहौल
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school
ब्लू व्हेल - बच्चों के मौत का खेल

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

ब्लू-व्हेल
भारत के पांच सबसे महंगे स्कूल

लेकिन भारत के ये प्रसिद्ध बोडिंग स्कूलो, भारत के सबसे महंगे स्कूलों में शामिल हैं| यहां पढ़ाना सबके बस की बात नहीं|

India-expensive-school
6 बेबी प्रोडक्टस जो हो सकते हैं नुकसानदेह आपके बच्चे के लिए

कुछ ऐसे बेबी प्रोडक्ट जो न खरीदें तो बेहतर है

6-बेबी-प्रोडक्टस-जो-हो-सकते-हैं-नुकसानदेह-आपके-बच्चे-के-लिए
6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना है खतरनाक

शिशु में पानी की शुरुआत 6 महीने के बाद की जानी चाहिए।

6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
माँ का दूध छुड़ाने के बाद क्या दें बच्चे को आहार

बच्चों में माँ का दूध कैसे छुड़ाएं और उसके बाद उसे क्या आहार दें ?

बच्चे-को-आहार
छोटे बच्चों को मच्छरों से बचाने के 4 सुरक्षित तरीके

अगर घर में छोटे बच्चे हों तो मच्छरों से बचने के 4 सुरक्षित तरीके।

बच्चों-को-मच्छरों-से-बचाएं
किस उम्र से सिखाएं बच्चों को ब्रश करना

अच्छे दांतों के लिए डेढ़ साल की उम्र से ही अच्छी तरह ब्रशिंग की आदत डालें

बच्चों-को-ब्रश-कराना
बच्चों का लम्बाई बढ़ाने का आसान घरेलु उपाय

अपने बच्चे की शारीरिक लम्बाई को बढ़ाने के लिए इन बातों का ध्यान रखना होगा



बच्चों-का-लम्बाई
बच्चे के लिए बनाये होममेड शिशु आहार (baby food)

बढ़ते बच्चे के लिए जो भी पौष्टिक तत्वों की आवश्यकता होती है, वो सब घर का बना शिशु आहार प्रदान करता है|

homemade-baby-food
इडली दाल बनाने की विधि - शिशु आहार

इडली बच्चों के स्वस्थ के लिए बहुत गुण कारी है| इससे शिशु को प्रचुर मात्रा में कार्बोहायड्रेट और प्रोटीन मिलता है|

इडली-दाल
वेजिटेबल पुलाव बनाने की विधि - शिशु आहार

ढेरों सब्जियां के साथ पुलाव बच्चों के लिए विशेष लाभकारी है| बच्चे बड़े चाव से खाते हैं|

वेजिटेबल-पुलाव
दही चावल बनाने की विधि - शिशु आहार

दही चावल या curd rice, तुरंत बन जाने वाला बेहद आसान पौष्टिक तत्वों से भरपूर आहार है|

दही-चावल
सूजी उपमा बनाने की विधि - शिशु आहार

सूजी का उपमा या रवा उपमा बेहद पौष्टिक और बनाने में आसान व्यंजन है

सूजी-उपमा
पपीते का प्यूरी बनाने की विधि - शिशु आहार

अगर आप के बच्चे को कब्ज या पेट से सम्बंधित परेशानी है तो पपीते का प्यूरी सबसे बढ़िया विकल्प है।

पपीते-का-प्यूरी
गाजर मटर और आलू से बना शिशु आहार

गाजर, मटर और आलू से बना यह एक सर्वोतम आहार है 9 महीने के बच्चे के लिए|

गाजर-मटर-और-आलू-से-बना-शिशु-आहार
अवोकाडो और केले से बना शिशु आहार

घर पे आसानी से बनायें अवोकाडो और केले की मदद से पौष्टिक शिशु आहार|

अवोकाडो-और-केले
केले का smoothie बनाने की विधि - शिशु आहार

केला पौष्टिक तत्वों का जखीरा है और शिशु में ठोस आहार शुरू करने के लिए सर्वोत्तम आहार।

केले-का-smoothie
अंगूर की प्यूरी - शिशु आहार - Baby Food

अंगूर से बना शिशु आहार - अंगूर में घनिष्ट मात्र में पोषक तत्त्व होता हैं जो बढते बच्चों के लिए आवश्यक है|


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit