Category: शिशु रोग

शिशु को खासी से कैसे बचाएं (Solved)

By: Salan Khalkho | 9 min read

कुछ घरेलु उपायों के मदद से आप अपने बच्चे की खांसी को तुरंत ठीक कर सकती हैं। लेकिन शिशु के सर्दी और खांसी को थिंक करने के घरेलु उपायों के साथ-साथ आप को यह भी जानने की आवशयकता है की आप किस तरह सावधानी बारात के अपने बच्चे को सर्दी और जुकाम लगने से बचा सकती हैं।

शिशु को खासी से कैसे बचाएं

आप चाहे अपने नन्ही सी जान के लिए कितने भी जतन कर लें - लेकिन कुछ चीज़ें नियंत्रण से बहार होती हैं। और आप उनके विषय में कुछ भी नहीं कर सकती हैं। जैसे की आप मौसम को बदलने से नहीं रोक सकती हैं। 

लेकिन आप अपने शिशु को खांसी से बचाने के लिए चार काम कर सकती हैं। 

  1. पहला - अपने शिशु को सर्दी और जुकाम से बचाने के लिए हर संभव प्रयास। उसे गरम कपडे पहना के रखिये ताकि उसका शारीर ठण्ड से बचा रहे।  
  2. दूसरा - अगर आप का शिशु फिर भी बीमार पड़ जाये तो इतनी जानकारी रखना की अपने शिशु की बीमारी में सही देख-रेख कर सके। 
  3. तीसरा - अपने शिशु को सभी टिके समय पे लगवाएं
  4. चौथा - अगर आप के शिशु की खांसी ठीक नहीं हो रही है और दस दिनों से ज्यादा हो गया है तो अपने बच्चे को तुरंत डाक्टर पे पास लेके जाएँ। 

शिशु और बच्चों की तुलना में स्वस्थ

अगर इतना करने के लिए आप त्यार हैं तो आप का शिशु और बच्चों की तुलना में स्वस्थ भी रहेगा और उसका मानसिक और शारीरिक विकास भी बढ़िया होगा। 

फिर भी, 

कभी भी अपने बच्चे की तुलना दुसरे बच्चों से ना करें, क्योँकि हर बच्चे की शारीरिक बनावट भिन होती है और उसके विकास पे 'डी एन ए' (DNA) तथा सामाजिक और पारिवारिक परिवेश का भी प्रभाव पड़ता है।  

कुछ सावधानियां बरत कर भी आप अपने शिशु को बीमार होने से बचा सकती हैं। 

शिशु की खांसी को ठीक करने के लिए 15 आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे आप यहां पढ़ सकती हैं। 

इस लेख में आप निम्न बातें पढ़ेंगी: 

  1. शिशु को खांसी क्योँ होता है?
  2. शिशु का खांसी ठीक होने में कितना समय लगता है?
  3. शिशु के खांसी को ठीक करने का उपाय
  4. शिशु की खांसी को शांत करने का उपाय
  5. क्या शिशु खांसते - खांसते उलटी कर सकता है?
  6. शिशु को रात में खांसी ज्यादा क्योँ आती है?

शिशु को खांसी क्योँ होता है? 

व्यक्ति की श्वसन तंत्र (respiratory system) में तकलीफ होने पे शरीर खांस के प्रतिक्रिया करता है। खांसने से शिशु के श्वसन तंत्र (respiratory system) में जमा कफ (बलगम/mucus) साफ़ हो जाता है और शिशु ठीक से साँस लेने में सक्षम हो जाता है। 

शिशु को खांसी क्योँ होता है

शिशु के शारीर की रोग प्रतिरोधक तंत्र वयस्क की तरह सुदृण नहीं होती है। इस वजह से बच्चे थोड़ा भी संक्रमण के संपर्क में आते ही बीमार पड़ जाते हैं। शिशु को खांसी तीन मुख्या कारणों से होती है: 

  1. वातावरण में मौजूद धुल और परागकण के कारण
  2. जुकाम के विषाणु के संक्रमण के दुवारा
  3. शुष्क वातावरण के कारण

जिस वक्त मौसम में बदलाव आता है, ठीक उसी वक्त प्रकृति में भी बदलाव कुछ इस तरह आता है की वातावरण परागकण (pollen grain) से भर जाता है। 

आप किसी भी तरह अंदाज से यह पता नहीं कर सकते हैं की वायु में परागकण (pollen grain) मौजूद है या नहीं। 

वायु में मौजूद परागकण (pollen grain)

वायु में मौजूद परागकण (pollen grain) का वयस्कों पे ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ता है, लेकिन बच्चों का अलेर्जी के कारण बुरा हाल हो जाता है। 

वातावरण में मौजूद परागकण (pollen grain) के संपर्क में आते ही बच्चे खांसने लगते हैं, उनका नाक बहने लगता है, और छाती में जकड़न (chest congestion) हो जाता है। 

इसी प्रकार के लक्षण जुकाम के विषाणु के संक्रमण के कारण भी होता है - बस अंतर इतना है की विषाणु के संक्रमण की वजह से बच्चे को बुखार भी होता है। 

सर्द मौसम में धूल और परागकण (pollen grain) की वजह से बच्चों का श्वसन तंत्र (respiratory system) संवेदनशील हो जाता है और शुष्क वातावरण के कारण उनकी इस स्थिति को और भी बुरी कर देती है। इसीलिए शिशु के कमरे में humidifier के इस्तेमाल से शिशु को बहुत आराम मिलता है। 

सर्दी जुकाम से बचने के लिए शिशु के कमरे की खिड़कियां और दरवारे बंद कर दें

अगर शिशु का जुकाम हवा में मौजूद धूल और परागकण (pollen grain) की वजह से तो कुछ दिनों के लिए शिशु के कमरे की खिड़कियां और दरवारे बंद कर दें। 

इससे शिशु के कमरे में बहार से धूल और परागकण (pollen grain) अंदर नहीं आ पाएंगी और शिशु के स्थिति में बहुत सुधार होगा। 

शिशु का खांसी ठीक होने में कितना समय लगता है?

शिशु की खांसी में सुधार होने में 1 से 2 सप्ताह तक का समय लग सकता है। लेकिन अगर शिशु की खांसी 10 दिनों के अंदर ठीक न हो तो डॉक्टर से परामर्श करें। 

हो सकता है आप के शिशु को खांसी किसी दूसरी वजह से हो। कई गंभीर बीमारियोँ में भी खांसी के लक्षण दीखते हैं। 

How long does a cough usually last for

शिशु के खांसी को ठीक करने का उपाय

शिशु के खांसी को प्राकृतिक तरीके से ठीक किया जा सकता है। अगर आप निम्न उपायों पे ध्यान दें तो आप के शिशु की खांसी जल्दी ही ठीक हो सकेगी और आप का शिशु बीमार भी कम पड़ेगा।

How can I stop my child from coughing शिशु के खांसी को ठीक करने का उपाय

  1. घर को साफ़ रखें - शिशु को धूल और गन्दगी से भी जुकाम होता है। जब मौसम बदलता है तो शिशु का श्वसन तंत्र (respiratory track) बहुत संवेदनशील हो जाता है। इस वक्त थोड़ा भी धूल के संपर्क में आने पे शिशु को खांसी और जुकाम हो जाता है। धूल और गन्दगी के संपर्क में रहने पे शिशु की खांसी और भी गंभीर रूप ले सकती है। इसीलिए घर को साफ़ रखिये ताकि आप का शिशु गन्दगी के संपर्क से दूर रहे। दो से तीन दिनों में ही आप पाएंगे के की आपके शिशु की खांसी ठीक होने लगी है। घर को साफ़ रखें 
  2. शिशु के हातों को साफ़ रखें - शिशु खेलते वक्त तरह तरह की चीज़ों को और सतहों को छूता है। इससे उसका हाथ में तरह तरह के जीवाणु और विषाणु पनपते हैं। खेलते वक्त शिशु समय-समय पे अपने चेहर को भी छूता है और कभी कभी अपने हातों को अपने मुँह में भी डाल लेते हैं। यही वजह है की बड़ों की तुलना में बच्चे सर्दी, जुकाम और बीमार ज्यादा पड़ते हैं। बच्चों के हातों को समय-समय पे धुलाते रहें ताकि उनके हाथ साफ़ रहें। घर में जो भी व्यक्ति बच्चों की देख-भल करे, बच्चों को पकडे, या गोदी उठाये, उसके लिए भी यह निवर्य हो की वो शिशु को छूने से पहले अपने हातों को अच्छी तरह से धो ले।  शिशु के हातों को साफ़ रखें
  3. शिशु को पर्याप्त मात्रा में सोने दें - जब शिशु सोता है, उस वक्त उसका शरीर अपनी सारी ऊर्जा का इस्तेमाल संक्रमण से लड़ने में करता है। जुकाम होने पे शिशु जितना ज्यादा सोयेगा, उसका जुकाम उतना जल्दी ठीक होगा।   शिशु को पर्याप्त मात्रा में सोने दें
  4. शिशु को दें Zinc और Vitamin C - दुनिया भर में हुए शोध में यह बात सामने आयी है की  Zinc और Vitamin C दो ऐसे तत्त्व है, जो सर्दी और जुकाम में शरीर की सबसे ज्यादा मदद करते हैं। इसीलिए शिशु के आहार में ऐसी चीज़ें को समलित करें जिसमे  Zinc और Vitamin C भरपूर मात्रा में हो।   शिशु को दें Zinc और Vitamin C शिशु को दें Zinc और Vitamin C

शिशु की खांसी को शांत करने का उपाय

  1. शहद से बने cough syrup - विश्व स्तर पे हुए अनेक शोध में यह पता चला है की शहद से बने cough syrup खांसी को शांत करने में बहुत प्रभावी है। भारत में सदियोँ से शहद का इस्तेमाल किया जाता है गले के खराश और खांसी को ठीक करने में। बस इस बात का ध्यान रहे की अगर आप का शिशु एक साल से कम उम्र का है तो उसे शहद न दें। एक साल से कम उम्र के बच्चो की शहद देना वर्जित है क्योँकि इससे उसमे मौजूद जीवाणु (bacteria) से उन्हें  botulism नामक बीमारी हो सकती है। यह उनके जान के लिए खतरना साबित हो सकता है।   शहद से बने cough syrup
  2. तरल आहार - शिशु को गरम तरल आहार दें जैसे की गरमा-गरम सूप। इससे शिशु के गले की सके हो जाएगी, उसे जुकाम से रहत मिलगा, और तरल शिशु के शरीर से संक्रमण को ख़त्म करने में मदद करेगा। सूप में एंटी-इन्फ़्लेमटॉरी गुण भी होता है। शिशु के शरीर में तरल की मात्रा बढ़ने से बलगम पतला हो जाता है और आसानी से बहार आ जाता है।   तरल आहार
  3. Cool-mist humidifier - शिशु के कमरे में cool-mist humidifier का इस्तेमाल करें। ठण्ड के दिनों में कमरे में नमी का स्तर कम हो जाता है। इससे शिशु का नाक और गाला सूखने लगता है। यह एक मुख्या कारण है खांसी आने का। शिशु के कमरे में cool-mist humidifier के इस्तेमाल से कमरे में नमी का स्तर बढ़ जाता है और इस तरह से शिशु की खांसी को शांत करने में सहायता मिलता है। शिशु को बंद नाक (nose congestion) से रहत पहुँचाने के लिए आप शिशु को नेबुलाइजर (Nebulizer) भी दिला सकती हैं। Cool-mist humidifier

क्या शिशु खांसते - खांसते उलटी कर सकता है?

शिशु को खांसते - खांसते उलटी होना एक बहुत ही आम बात है। यही वजह है की जब बच्चों को सर्दी और जुकाम लगता है तो उलटी का दौर भी शुरू होता है। बच्चे खांसते खांसते उलटी कर देते हैं। 

क्या शिशु खांसते - खांसते उलटी कर सकता है

सबसे ज्यादा तकलीफ उस वक्त होती है जब बच्चे रात को सोते - सोते खांसी की वजह से उठ जाते है और खांसते - खांसते उलटी तक कर देते हैं। हालाँकि खांसते खांसते उलटी करना कोई विशेष चिंता की बात नहीं है, लेकिन फिर भी आप अपने बच्चे के डाक्टर से इस विषय पे बात अवश्य कर लें। 

लेकिन कभी कभी इस तरह से खांसते खांसते उलटी कर देना गंभीर बीमारी के लक्षण भी हो सकते हैं। 

शिशु को रात में खांसी ज्यादा क्योँ आती है?

शिशु के सर के पीछे वाले हिस्से में बलगम इकठा हो जाता है। व्यस्क नाक में इकठा बलगम को छिनक के निकल देते हैं, मगर बच्चे घोट जाते हैं। इससे वो दिन-भर इकठ्ठा होता रहता है और सोते वक्त लेटते ही सिर पीछे वाले हिस्से से बह के नाक में भर जाता है। 

शिशु को रात में खांसी ज्यादा क्योँ आती है

तकिये के इस्तेमाल से सिर की उचाई ज्यादा हो जाएगी और नाक खुली रहेगी - जिससे शिशु बिना तकलीफ के साँस ले सकेगा। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

10-12-महीने-पे-टीका
6-महीने-पे-टीका
शिशु-के-1-वर्ष-पे-टीका
15-18-महीने-पे-टीका
शिशु-सवाल
बंद-नाक
डायपर-के-रैशेस
बच्चे-बीमार
khansi-ka-ilaj
sardi-ka-ilaj
khansi-ka-gharelu-upchar
खांसी-की-दवा
sardi-jukam
सर्दी-जुकाम-की-दवा
balgam-wali-khansi-ka-desi-ilaj
कफ-निकालने-के-उपाय
नेबुलाइजर-Nebulizer-zukam-ka-ilaj
ह्यूमिडिफायर-Humidifier
पेट्रोलियम-जैली---Vaseline
Khasi-Ke-Upay
खांसी-की-अचूक-दवा
Khasi-Ki-Dawai
पराबेन-(paraben)
sardi-ki-dawa
jukam-ki-dawa
खांसी-की-अचूक-दवा
जुकाम-के-घरेलू-उपाय
khasi-ki-dawa
बंद-नाक
कई-दिनों-से-जुकाम

Most Read

teachers-day
शिशु-में-हिचकी
बच्चों-के-हिचकी
शिशु-हिचकी
दूध-के-बाद-हिचकी
नवजात-में-हिचकी
SIDS
कोलोस्‍ट्रम
Ambroxol-Hydrochloride
शिशु-potty
ठण्ड-शिशु
सरसों-के-तेल-के-फायदे
मखाना
भीगे-चने
Neonatal-Care
-शिशु-में-एलर्जी-अस्थमा
शिशु-मालिश
शिशु-क्योँ-रोता
अंडे-की-एलर्जी
शिशु-एलर्जी
नारियल-से-एलर्जी
रंगहीनता-(Albinism)
पेट-दर्द
fried-rice
दाल-का-पानी
गर्भावस्था
बच्चे-बैठना
शिशु-को-आइस-क्रीम
चिकनगुनिया
शिशु-गुस्सा
दाई-babysitter
टीकाकरण-2018
शिशु-एक्जिमा-(eczema)
बच्चों-को-डेंगू
शिशु-कान
ब्‍लू-व्‍हेल-गेम
vaccination-2018
D.P.T.
टाइफाइड-कन्जुगेटेड-वैक्सीन
OPV
वेरिसेला-वैक्सीन
कॉलरा
जन्म-के-समय-टीके
टीकाकरण-Guide
six-week-vaccine
ढाई-माह-टीका-
-9-महीने-पे-टीका
5-वर्ष-पे-टीका-
2-वर्ष-पे-टीका
14-सप्ताह-पे-टीका

Other Articles

indexed_320.txt
Footer