Category: स्वस्थ शरीर

शिशु के लिए नींद एक टॉनिक

Published:08 Sep, 2017     By: Salan Khalkho     3 min read

सोते समय शरीर अपनी मरमत (repair) करता है, नई उत्तकों और कोशिकाओं का निर्माण करता है, दिमाग में नई brain synapses का निर्माण करता है - जिससे बच्चे का दिमाग प्रखर बनता है।


शिशु के लिए नींद एक टॉनिक sleep is tonic for child

शिशु के लिए नींद एक दवा है

यह तो आप जानती ही हैं!

की एक बच्चे के लिए नींद कितना जरुरी है 

इसका अंदाज़ा आप इस बात से लगा सकती हैं 

की जब बच्चे का नींद पूरा नहीं होती है तो उसे कुछ भी अच्छा नहीं लगता है, वो खेलना बंद कर देता है, खाना नहीं खाता है और चिड़चिड़ा हो जाता है। 

मगर,

क्या आप जानती हैं?

की बच्चे की नींद उसके अच्छी सेहत और उसके स्वस्थ विकास के लिए भी जरुरी है?

बच्चों का विकास - सिर्फ पोषक तत्त्व और खेल कूद से ही नहीं होता है वरन, उसके शारीरिक और दिमागी विकास के लिए भी शिशु की नींद एक महत्वपूर्ण दवा का काम करती है। खेलते समय लगे चोट को भी शारीर नींद की अवस्था में भरता है। 

लेकिन,

नींद दवा का काम तब करती है जब शिशु को उत्तम गुणवत्ता की नींद मिलता है। 

यह  उत्तम गुणवत्ता की नींद क्या होती है।

उत्तम गुणवत्ता की नींद - बच्चों और बड़ों में नींद की वह अवस्था है जिसे REM (random eye movement) कहते हैं। यह बहुत गहरी नींद वाली अवस्था है। 

इस अवस्था में शरीर अपनी मरमत (repair) करता है, नई उत्तकों और कोशिकाओं का निर्माण करता है, दिमाग में नई  brain synapses का निर्माण करता है - जिससे बच्चे का दिमाग प्रखर बनता है। 

British Medical Journal में छपे एक शोध के अनुसार जो बच्चे तीन साल तक की उम्र में हर-दिन एक निश्चित समय पे नहीं सोते हैं (irregular bedtimes) उन बच्चों की यह दिनचर्या उनके reading, math skills and spatial awareness सम्बंधित योग्यता को प्रभावित करता है। ऐसे बच्चे पढ़ाई में बाकि बच्चों से पीछे छूट जाते हैं। बच्चों के दिनचर्या को निर्धारित करने के फायदे बहुत सारे फायेदे हैं। 

अगर आप अपने बच्चे के लिए एक निश्चित दिनचर्या का पालन करती हैं, तो आप का बच्चा हर दिन सोने के समय पे आसानी से तुरन्त सो सकेगा।। 

एक दूसरे शोध में यह बात सामने आयी हैं की आप अपने बच्चे को कहाँ सुलाती हैं, इसका भी असर आप के बच्चे के विकास पे पड़ता है। उदहारण के तौर पे बहुत से लोग अपने बच्चे को दूसरे कमरे में सुलाते हैं। कुछ लोग तो बच्चे के जन्म के एक हफ्ते के बाद से ही अलग कमरे में सुलाने लगते हैं। इसका असर बच्चे के विकास पे पड़ता है। ऐसे माँ-बाप को खुद ही सोचना चाहिए की एक नन्हे से बच्चे को दूसरे कमरे में अकेले सुलाना कहाँ तक नैतिकता है। 

ठीक इसी का उल्टा वह स्थिति है जब कुछ माँ-बाप अपने बच्चे के बड़े होने तक अपने साथ सुलाते हैं। 

चलिए विस्तार से देखते हैं की एक अच्छी सी नींद बच्चे के परवरिश और उसके शरीरीर और बौद्धिक विकास में किस तरह योगदान देता है। 

क्वालिटी नींद शिशु के लम्बाई में मदद करती है

बचपन में अच्छी नींद बच्चे के कद काठी को बढ़ाने में मदद करता है। जब बच्चा गहरी नींद में सोता है तो उसका शरीर वह हार्मोन बनाता है जो बच्चे की शारीरिक लम्बाई बढ़ाने में मदद करता है। यह हॉर्मोन बच्चे को स्वस्थ रहने में भी मदद करता है।

अच्छा दिमागी विकास

बच्चे जितना सोये उतना अच्छा है। बच्चा जितना ज्यादा छोटा है, उसे उतना ज्यादा सोने की आवश्यकता है। क्या आप जानती है की आप के बच्चे की उम्र के अनुसार उसे कितना सोने की आवश्यकता है। बच्चा जितना सोता है उसका दिमागी विकास उतना ज्यादा होता है। ठीक इसी का उल्टा वह स्थिति है जब बच्चे को पर्याप्त मात्रा में नींद नहीं मिलता है। अगर बच्चे को समुचित मात्रा मैं नींद नहीं मिले तो उसका दिमागी विकास प्रभावित हो सकता है। कम नींद बच्चे के केंद्रीय तंत्रिका तंत्र की विकास को प्रभावित करता है। ऐसे बच्चों का केंद्रीय तंत्रिका तंत्र - दुसरे बच्चों के मुकाबले कम विकसित होता है। 

स्वस्थ और तंदरूस्त बच्चा 

आप का बच्चा जितना ज्यादा सोयेगा, वो उतना ज्यादा स्वस्थ और तंदरूस्त  बनेगा। अपने बच्चे को जितनी ज्यादा हो सके सोने दें। 

रोग प्रतिरोधक छमता का विकास 

शिशु का जब जन्म होता है तो उसमे रोग प्रतिरोधक छमता (immune system) विकसित नहीं होती है। जैसे जैसे बच्चा बड़ा होता है, उसके शरीर में रोगों से लड़ने की रोग प्रतिरोधक छमता विकसित होती रहती है। बच्चे में रोग प्रतिरोधक छमता (immune system) का विकास उस समय सबसे ज्यादा होता है जब वो सो रहा होता है। इसका मतलब यह है की आप अपने बच्चे को जितना सोने देंगे, वह उतना कम बीमार पड़ेगा। 


यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी।



Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Recommended Articles

Sharing is caring

शिशु-क्योँ-रोता
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school
ब्लू व्हेल - बच्चों के मौत का खेल

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

ब्लू-व्हेल
भारत के पांच सबसे महंगे स्कूल

लेकिन भारत के ये प्रसिद्ध बोडिंग स्कूलो, भारत के सबसे महंगे स्कूलों में शामिल हैं| यहां पढ़ाना सबके बस की बात नहीं|

India-expensive-school
6 बेबी प्रोडक्टस जो हो सकते हैं नुकसानदेह आपके बच्चे के लिए

कुछ ऐसे बेबी प्रोडक्ट जो न खरीदें तो बेहतर है

6-बेबी-प्रोडक्टस-जो-हो-सकते-हैं-नुकसानदेह-आपके-बच्चे-के-लिए
6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना है खतरनाक

शिशु में पानी की शुरुआत 6 महीने के बाद की जानी चाहिए।

6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
माँ का दूध छुड़ाने के बाद क्या दें बच्चे को आहार

बच्चों में माँ का दूध कैसे छुड़ाएं और उसके बाद उसे क्या आहार दें ?

बच्चे-को-आहार
छोटे बच्चों को मच्छरों से बचाने के 4 सुरक्षित तरीके

अगर घर में छोटे बच्चे हों तो मच्छरों से बचने के 4 सुरक्षित तरीके।

बच्चों-को-मच्छरों-से-बचाएं
किस उम्र से सिखाएं बच्चों को ब्रश करना

अच्छे दांतों के लिए डेढ़ साल की उम्र से ही अच्छी तरह ब्रशिंग की आदत डालें

बच्चों-को-ब्रश-कराना
बच्चों का लम्बाई बढ़ाने का आसान घरेलु उपाय

अपने बच्चे की शारीरिक लम्बाई को बढ़ाने के लिए इन बातों का ध्यान रखना होगा



बच्चों-का-लम्बाई
शिशु को ड्राई फ्रूट से एलर्जी है तो क्या वो नारियल खा सकता है?

कहीं अनजाने में आप का शिशु कोई ऐसा आहार न खा ले जिसमें नारियल का इस्तेमाल किया गया है।

नारियल-से-एलर्जी
शिशु मालिश के लिए सर्वोतम तेल

बच्चों की मालिश करने के लिए सबसे बेहतरीन तेल

शिशु-मालिश
नवजात बच्चे के लिए कपडे खरीदते वक्त रखें इन बत्तों का ख्याल

कपडे खरीदते वक्त कुछ बातों का ध्यान न रखे तो कुछ कपड़ों से बच्चे को स्किन रैशेज (skin rash) भी हो सकता है।

बच्चे-के-कपडे
जो बच्चे जल्दी चलना सीखते हैं बड़े होने पे उनकी हड्डियाँ ज्यादा मजबूत होती है|

इन बच्चों की हड्डियाँ दुसरे बच्चों के मुकाबले ज्यादा मजूब हो जाती है।

शिशु-के-लिए-नींद
नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के तरीके

जानिए की नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के लिए आप को क्या क्या करना पड़ेगा|

शिशु-का-वजन
Indian Baby Sleep Chart

बच्चे को किस उम्र में कब और कितना सोने की आवश्यकता है इसकी जानकारी प्राप्त करें|

Indian-Baby-Sleep-Chart
लंबाई और वजन का चार्ट - Baby Growth Weight & Height Chart

शिशुओं और बच्चों के लिए उम्र के अनुसार लंबाई और वजन का चार्ट डाउनलोड करें (Baby Growth Chart)

Weight-&-Height-Calculator
बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा - कारण और उपचार

अगर आप के बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा है तो जानिए की आप को क्या करना चाहिए

बच्चे-का-वजन
क्या आपका बच्चा दूध पीते ही उलटी कर देता है?

अगर आप का बच्चा दूध पीते ही उलटी कर देता है तो उसे रोकने के कुछ आसन तरकीब हैं


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit