Category: स्वस्थ शरीर

Indian Baby Sleep Chart

Published:03 Sep, 2017     By: Salan Khalkho     8 min read

Indian baby sleep chart से इस बात का पता लगाया जा सकता है की भारतीय बच्चे को कितना सोने की आवश्यकता है।| बच्चों का sleeping pattern, बहुत ही अलग होता है बड़ों के sleeping pattern की तुलना मैं। सोते समय नींद की एक अवस्था होती है जिसे rapid-eye-movement (REM) sleep कहा जाता है। यह अवस्था बच्चे के शारीरिक और दिमागी विकास के लहजे से बहुत महत्वपूर्ण है।


Indian Baby Sleep Chart

यह चिंता का विषय है! 

क्या आप भी यही सोच रही हैं की आप के बच्चे को हर दिन कितना सोना चाहिए। 

सोना बच्चे की सेहत के लिए बहुत अच्छा है।

लेकिन कितना?

यह सवाल कभी न कभी हर हर माँ-बाप के मन में जरूर आता है। 

Indian baby sleep chart से इस बात का पता लगाया जा सकता है की भारतीय बच्चे को कितना सोने की आवश्यकता है।

बच्चों का sleeping pattern, बहुत ही अलग होता है बड़ों के sleeping pattern की तुलना मैं। यह कहना ज्यादा उचित होगा की बच्चों का sleeping pattern हर उम्र में अलग अलग होता है। 

बच्चा जितना छोटा होता है उसका शारीरिक विकास उतना चरम पे होता है।

सोते समय नींद की एक अवस्था होती है जिसे rapid-eye-movement (REM) sleep कहा जाता है। यह अवस्था बच्चे के शारीरिक और दिमागी विकास के लहजे से बहुत महत्वपूर्ण है। 

बच्चा कितनी देर सोता है यह उतना मायने नहीं रखता है, बल्कि यह मायने रखता है की बच्चा कितना देर सोते समय rapid-eye-movement (REM) sleep की अवस्था मैं था। 

नवजात बच्चा को दिन में २० घंटे सोने की जरुरत पड़ती है। जब बच्चे छह महीने का हो जाता है तब बच्चे का दिमाग नींद को इस तरह नियंत्रित करने की कोशिश करने लगता है जिस तरह बड़ों का दिमाग। 

जैसे जैसे बच्चा बड़ा होता चला जायेगा, उसके सोने की आवश्यकता मैं परिवर्तन आता जायेगा। 

बच्चों का sleeping pattern

Indian Baby Sleep Chart (Year 2018)

AgeNight (Hrs)Day (Hrs)Total Hours
0-1 Month7-8 Hours9-10 Hours15-18 Hours
1-2 Month7-8 Hours9-10 Hours15-18 Hours
2-4 Month8-10 Hours6-8 Hours14-16 Hours
4-6 Month9-10 Hours4-6 Hours14-15 Hours
6-9 Month10-11 Hours3-5 Hours14-15 Hours
9-12 Month (1 Yr)10-11 Hours2-4 Hours14-15 Hours
1-1.5 Yr11-12 Hours2-3 Hours13-14 Hours
1.5-2 Yr11-12 Hours2-3 Hours13-14 Hours
2-3 Yr10-11 Hours1-2 Hours12-13 Hours
3-5 Yr10-11 Hours1-2 Hours11-13 Hours
5-2 Yr10-11 Hoursupto child10-11 Hours

जन्म से लेकर एक महीने का शिशु

  1. बच्चे को 15-से-18 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है। 
  2. नवजात बच्चे को खूब सोने की आवश्यकता है।
  3. नवजात बच्चा अक्सर बेचेन रहता है और आसानी से जग जाता है।
  4. शिशु को गोदी में ले कर हल्का सा टहलने से वो फिर से सो जाता है। 

एक से दो महीना का शिशु

  1. बच्चे को 15-से-18 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है। 
  2. इस उम्र के बच्चे का भी sleeping pattern, नवजात बच्चे की ही तरह होता है। 

दो से चार महीने का बच्चा

  1. बच्चे को 14-से-16 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है। 
  2. जब आप का बच्चा चार महीने का हो जाये तब उसे जब भी वो जागे कुछ देर की लिए सूरज की रोशनी दिखाएँ। 
  3. उसे सायंकाल या रात्रि में कहीं बहार न ले के जाएँ।
  4. रात में आप का बच्चा एक बार में 4-से-6 घंटे की नीँद सोयेगा। 
  5. सोने से पहले अगर आप बच्चे को नेहला देंगे तो बच्चा ज्यादा अच्छी नींद सोयेगा। 

चार से छह महीने का बच्चा

  1. बच्चे को 14-से-15 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है।
  2. इस उम्र तक पहुँचते पहुँचते आप का बच्चा रत में दूध पिने के लिए उठना बंद कर देगा।
  3. आकड़ों के अनुसार छह महीने के 60% बच्चे पूरी रात सोते हैं बिना जागे। नौ महीने तक पहुँचते पहुँचते बच्चों का यह आंकड़ा बढ़ कर 80 फासिदी तक पहुँच जाता है। 

6-9 Month baby 

  1. बच्चे को 14-से-15 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है।
  2. इस उम्र में बच्चे में SEPARATION ANXIETY (बिछड़ने का डर) हो सकता है। इसका मतलब है की अगर सोते समय आप बच्चे के साथ में सोई, मगर जब वो जगा तब आप साथ में नहीं थी। इसका मतलब बच्चा जागने पर आप को आस पास न पा कर डर जाता है। 
  3. बच्चा जागते वक्त अगर उठ कर रोने लगे तो उसे दूध देने की आवश्यकता नहीं है। प्यार से उसके पीठ पे थपकी देकर उसे फिर से सुला दें। 

नौ से बारह महीने का शिशु (1 year baby)

  1. बच्चे को 14-से-15 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है।
  2. बच्चे की सोने की अवस्था पिछली (6-9 Month baby) अवस्थ की तरह ही है। बीएस बच्चे पे ध्यान दें जब वो सोता है। 

बारह-से-अठारह महीने का बच्चा (1-to-1.5 years)

  1. बच्चे को 13-से-14 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है।
  2. जब बच्चा जगता है तो उसके साथ खेलें 
  3. उसे दिन में धुप दिखाएँ 
  4. बच्चे को हर दिन एक निश्चित समय पे सुलाएं। इससे उसके सोने का एक निश्चित समय स्थापित होगा (help establish a sleep routine)। 

अठारह महीने से दो साल का शिशु (1.5 to 2 years baby)

  1. बच्चे को 13-से-14 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है।
  2. उम्र के इस पड़ाव में बच्चे बहुत नट-खट होते हैं। 
  3. इस उम्र में बच्चे आप के साथ खेलना, आप के ऊपर कूदना और आप के साथ सोना चाहेंगे।
  4. कोशिश करें की आप ने बच्चे के लिए जो sleeping routine (सोने का निश्चित समय) स्थापित किया है वो कायम रहे। 

दो से तीन साल का बच्चा (2 to 3 years baby)

  1. बच्चे को 12-से-13 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है।
  2. बच्चे के उम्र की यह अवस्था बहुत महत्वपूर्ण है। 
  3. इस उम्र में आप बच्चे को सही समय पे सुलाना सीखा सकते हैं। 
  4. आप बच्चे को अकेला भी सोना सीखा सकते हैं। 

तीन से पांच साल का बच्चा (3 to 5 years baby)

  1. बच्चे को 11-से-13 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है।
  2. रात में सोते वक्त आप बच्चे को कहानियां भी सुना सकते हैं। बच्चों को कहानी सुनाने से उनका बौद्धिक विकास बेहतर होता है। 
  3. बच्चे को कभी भी अँधेरे से न डराइए और न ही डरने दीजिये। 
  4. बच्चे को कभी भी यह नहीं कहें की "जल्दी सो जाओ बेटा नहीं तो साधु बाबा (या पुलिस) पकड़ के ले जायेगा।"
  5. इससे बच्चे के मन में डर पैदा हो जायेगा और बच्चा डरपोंक बन जायेगा। बच्चे को आप अगर निडर और आत्मविश्वासी बनाना चाहते हैं तो उसे कभी भी न डराएं। 

पांच से बारह साल का बच्चा (5 to 12 years baby)

  1. बच्चे को 10-से-11 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है।
  2. अब आप का बच्चा बड़ा हो गया है।
  3. सोने से एक घंटा पहले TV बंद कर दें। इसमें कभी भी ढिलवाई न बरतें। 
  4. बच्चों को सोने से दो घंटे पहले कोई भी जंक फ़ूड / फ़ास्ट फ़ूड या कोल्ड ड्रिंक वगैरह न दें। 
  5. बच्चे के सोने के समय, घर के माहौल को शांत हो जाने दें। 


यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी।



Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Recommended Articles

Sharing is caring

पारिवारिक-माहौल
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school
ब्लू व्हेल - बच्चों के मौत का खेल

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

ब्लू-व्हेल
भारत के पांच सबसे महंगे स्कूल

लेकिन भारत के ये प्रसिद्ध बोडिंग स्कूलो, भारत के सबसे महंगे स्कूलों में शामिल हैं| यहां पढ़ाना सबके बस की बात नहीं|

India-expensive-school
6 बेबी प्रोडक्टस जो हो सकते हैं नुकसानदेह आपके बच्चे के लिए

कुछ ऐसे बेबी प्रोडक्ट जो न खरीदें तो बेहतर है

6-बेबी-प्रोडक्टस-जो-हो-सकते-हैं-नुकसानदेह-आपके-बच्चे-के-लिए
6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना है खतरनाक

शिशु में पानी की शुरुआत 6 महीने के बाद की जानी चाहिए।

6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
माँ का दूध छुड़ाने के बाद क्या दें बच्चे को आहार

बच्चों में माँ का दूध कैसे छुड़ाएं और उसके बाद उसे क्या आहार दें ?

बच्चे-को-आहार
छोटे बच्चों को मच्छरों से बचाने के 4 सुरक्षित तरीके

अगर घर में छोटे बच्चे हों तो मच्छरों से बचने के 4 सुरक्षित तरीके।

बच्चों-को-मच्छरों-से-बचाएं
किस उम्र से सिखाएं बच्चों को ब्रश करना

अच्छे दांतों के लिए डेढ़ साल की उम्र से ही अच्छी तरह ब्रशिंग की आदत डालें

बच्चों-को-ब्रश-कराना
बच्चों का लम्बाई बढ़ाने का आसान घरेलु उपाय

अपने बच्चे की शारीरिक लम्बाई को बढ़ाने के लिए इन बातों का ध्यान रखना होगा



बच्चों-का-लम्बाई
नवजात बच्चे के लिए कपडे खरीदते वक्त रखें इन बत्तों का ख्याल

कपडे खरीदते वक्त कुछ बातों का ध्यान न रखे तो कुछ कपड़ों से बच्चे को स्किन रैशेज (skin rash) भी हो सकता है।

बच्चे-के-कपडे
जो बच्चे जल्दी चलना सीखते हैं बड़े होने पे उनकी हड्डियाँ ज्यादा मजबूत होती है|

इन बच्चों की हड्डियाँ दुसरे बच्चों के मुकाबले ज्यादा मजूब हो जाती है।

हड्डियाँ-ज्यादा-मजबूत
शिशु के लिए नींद एक टॉनिक

क्या आप जानती हैं की बच्चे की नींद उसके स्वस्थ विकास के लिए जरुरी है?

शिशु-के-लिए-नींद
नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के तरीके

जानिए की नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के लिए आप को क्या क्या करना पड़ेगा|

Indian-Baby-Sleep-Chart
लंबाई और वजन का चार्ट - Baby Growth Weight & Height Chart

शिशुओं और बच्चों के लिए उम्र के अनुसार लंबाई और वजन का चार्ट डाउनलोड करें (Baby Growth Chart)

Weight-&-Height-Calculator
बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा - कारण और उपचार

अगर आप के बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा है तो जानिए की आप को क्या करना चाहिए

बच्चे-का-वजन
क्या आपका बच्चा दूध पीते ही उलटी कर देता है?

अगर आप का बच्चा दूध पीते ही उलटी कर देता है तो उसे रोकने के कुछ आसन तरकीब हैं

दूध-पीते-ही-उलटी
बच्चे को तुरंत सुलाने का आसन तरीका - Short Guide

बच्चों को तुरंत सुलाने के कई नायब और मजेदार तरीके जिनसे बच्चा तिरन्त सो जाये

baby-sleep
बच्चे को साथ में सुलाने के हैं ढेरों फायेदे

जो बच्चे साथ सोते हैं उनका बौद्धिक विकास दुसरे बच्चों से बेहतर होता है


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit