Category: शिशु रोग

बच्चों को कुपोषण से कैसे बचाएं

By: Editorial Team | 6 min read

अन्य बच्चों की तुलना में कुपोषण से ग्रसित बच्चे वजन और ऊंचाई दोनों ही स्तर पर अपनी आयु के हिसाब से कम होते हैं। स्वभाव में यह बच्चे सुस्त और चढ़े होते हैं। इनमें दिमाग का विकास ठीक से नहीं होता है, ध्यान केंद्रित करने में इन्हें समस्या आती है। यह बच्चे देर से बोलना शुरू करते हैं। कुछ बच्चों में दांत निकलने में भी काफी समय लगता है। बच्चों को कुपोषण से बचाया जा सकता है लेकिन उसके लिए जरूरी है कि शिशु के भोजन में हर प्रकार के आहार को सम्मिलित किया जाएं।

बच्चों को कुपोषण से कैसे बचाएं

हर मां बाप अपने बच्चों को बेहतर से बेहतर आहार देना चाहते हैं ताकि उनका शारीरिक और मानसिक विकास सही तरीके से हो सके।  एक सेहतमंद और तंदुरुस्त बच्चे के लिए पौष्टिक आहार बहुत जरूरी है।  लेकिन सरकारी आंकड़े इस बात को बताते हैं कि भारत में सभी बच्चों को समुचित पोषक आहार नहीं मिल पाता है।  या नहीं बच्चों को पेट भर आहार तो मिलता है लेकिन उस आहार से बच्चे को वह सभी पोषक तत्व नहीं मिलते हैं जो उसके शारीरिक और मानसिक विकास के लिए जरूरी है।  

12 साल तक की उम्र तक शिशु का शरीर बहुत तेजी से विकसित होता है और इस दौरान उसके  बढ़ते शरीर को कई प्रकार के पोषक तत्वों की आवश्यकता पड़ती है जैसे कि कैल्शियम, दांतो और हड्डियों के विकास के लिए, आयरन दिमागी विकास के लिए,  प्रोटीन मांसपेशियों के निर्माण के लिए तथा कई अन्य प्रकार के विटामिंस और मिनरल्स की भी आवश्यकता पड़ती है।  

अगर बच्चों को यह सभी पोषक तत्व ना मिले तो उनका शारीरिक और बौद्धिक विकास रुक जाता है या धीमा हो जाता है।  जिस यह बच्चे शारीरिक तौर पर और बौद्धिक स्तर पर अन्य बच्चों की तुलना में  कम विकसित करते हैं। 

पढ़ें: क्यों होते हैं बच्चें कुपोषण के शिकार?

यह लेख सभी माता-पिता के लिए बहुत आवश्यक है।  बहुत से मां-बाप यह सोचते हैं कि वह अपने बच्चों को पेट भरा  आहार  दे रहे हैं तो उनका विकास सही तरह से होना चाहिए।  लेकिन क्या आपको पता है कि जो आहार आप अपने बच्चे को दे रहे हैं उससे आपके शिशु को वह सारे पोषक तत्व मिल भी रहे हैं जो उसके शारीरिक और मानसिक विकास के लिए आवश्यक है। 

हर प्रकार के आहार पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं।  लेकिन सभी आहार में हर तरह के पोषक तत्व नहीं होते हैं। इसीलिए अगर आप अपने शिशु को केवल एक ही तरह का आहार हर दिन खिलाएंगे तो आपके शिशु को एक ही प्रकार का पोषक तत्व हर दिन मिलेगा लेकिन आपका शिशु अन्य प्रकार के पोषक तत्वों से वंचित रह जाएगा। 

 शिशु के शरीर को कई प्रकार की पोषक तत्वों की आवश्यकता पड़ती है जिन की पूर्ति तभी हो सकती है अगर शिशु को आप हर तरह के आहार खिला रहे हैं।  इसके लिए सबसे बेहतर विकल्प यह है कि आप अपने शिशु को मौसम के अनुरूप उपलब्ध फल और सब्जियों को उसके आहार में सम्मिलित करें। 

इस लेख मे:

कुपोषण से संबंधित  भारतीय आंकड़े

सन 2015-16  मैं भारत सरकार द्वारा जारी राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे 4 (एनएफएचएस4) के आंकड़ों के अनुसार  6 महीने से लेकर 2 साल तक के बच्चों  मे 11.6 प्रतिशत शहरी बच्चे और 8.8 ग्रामीण बच्चों को ही सभी प्रकार के पोषक तत्व मिल पाते हैं जो उनके सही विकास के लिए आवश्यक है।  

कुपोषण से संबंधित भारतीय आंकड़े

यह स्थिति बहुत ही चिंताजनक है।  इसका मतलब यह है कि अधिकांश मां-बाप जो यह समझते हैं कि उनके बच्चों को सभी पोषक तत्व मिल रहे हैं वास्तव में ऐसा नहीं है। इसका मतलब यह हुआ कि हर 10 में से मात्र एक ही बच्चे को सही मायने में सभी पोषक युक्त आहार मिल पाता है। 

 यह आंकड़े काफी चौंकाने वाले हैं। यानी कि हम अपने चारों तरफ जो भी स्वस्थ बच्चों को देखते हैं वह और भी बेहतर कर सकते हैं अगर उनके आहार को  सही मायने में पोस्टिक बना दिया जाए तो। 

कैलोरी और पोषण में अंतर है

कैलोरी और पोषण में अंतर है

 जब बच्चों को हम भरपेट खाना खिलाते हैं तो उस अनाज से शिशु को  भरपूर कैलोरी मिलता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि शिशु को भरपूर पोषण भी मिल रहा है।  फल और सब्जियों में अनाज की तुलना में कैलोरी बहुत थोड़ा सा होता है लेकिन पोषक तत्वों की मात्रा अनाज की तुलना में बहुत ज्यादा होता है। 

 फल और सब्जियों में 90% से ज्यादा पानी  और फाइबर होता है। लेकिन फिर भी अनाज तुलनात्मक रूप में इनमें ज्यादा पोषक तत्व होते हैं जो शिशु के शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं,  शारीरिक विकास में सहयोग करते हैं,  शिशु के बौद्धिक स्तर को बढ़ाते हैं। 

किस तरह पूरा करें शिशु में पोषण की आवश्यकता

किस तरह पूरा करें शिशु में पोषण की आवश्यकता

शिशु को दूध के साथ साथ ऐसे आहार दें जिन में प्रचुर मात्रा में 

  • मैक्रोन्यूटियंट यानि कि काबरेहाइड्रेट, वसा, प्रोटीन हो जो शिशु को दिनभर क्रियाशील रहने के लिए ऊर्जा प्रदान करें,  उस की मांसपेशियों के विकास के लिए प्रोटीन प्रदान करें और शरीर को स्वस्थ रखने के लिए तथा पोषक तत्व के अवशोषण के लिए वसा प्रदान करें
  • माइक्रोन्यूटियंट जैसे विटामिन व मिनरलजो शिशु को शारीरिक रूप से स्वस्थ बनाएं, जरूरी हार्मोन के निर्माण में सहयोग करें,  शरीर के अंगों को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद दे,  बौद्धिक विकास करें और शिशु के शरीर को अनेक प्रकार की बीमारियों से लड़ने में सक्षम बनाएं। 

जब शिशु के शरीर को उचित मात्रा में माइक्रोन्यूटियंट नहीं मिलता है तो न केवल उसका बौद्धिक विकास रुक जाता है बल्कि बच्चे  में निमोनिया का खतरा भी बढ़ जाता है,  उसे गंभीर डायरिया की समस्या हो सकती है तथा शिशु के शरीर की रोग प्रतिरोधक प्रणाली कमजोर हो सकती है। 

शिशु के जीवन के प्रथम कुछ साल बहुत महत्वपूर्ण है

शिशु स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार शिशु के लिए उसके प्रथम 1000 दिन बहुत महत्वपूर्ण है और यह उसकी  बाकी के जिंदगी के  शारीरिक स्वास्थ्य को निर्धारित करते हैं। इस समय शिशु को जो पोषक तत्व उसके आहार से मिलते हैं वह उसकी भविष्य के लिए एक मजबूत नींव का काम करता है। 

शिशु के जीवन के प्रथम कुछ साल बहुत महत्वपूर्ण है

अनेक प्रकार की पोषक तत्वों से युक्त आहार जब शिशु को प्रदान किया जाता है तो उसका शारीरिक विकार,  सोचने और विश्लेषण करने की बौद्धिक क्षमता,  शरीर की बीमारियों से लड़ने की योग्यता विकसित होती है।  इस दौरान अगर शिशु को सही पोषण ना मिले तो उसके दिमाग का विकास ठीक तरह से नहीं होता है और सारी जिंदगी शारीरिक और बौद्धिक योग्यता के मामले में दूसरे बच्चों से पीछे रह जाते हैं। 

भारत में कुपोषण और शिशु मृत्यु दर

भारत में हर साल कुपोषण की वजह से लाखों बच्चे मौत के शिकार होते हैं। भारत में कुपोषण की यह स्थिति दुनिया के कई देशों से ज्यादा  खराब है। डब्ल्यूएचओ (WHO) के आंकड़ों के अनुसार हर दिन  दुनिया भर में करीब 15000 बच्चे कुपोषण की वजह से मृत्यु को प्राप्त होते हैं। कुपोषण से शिशु मृत्यु कि दो वजह है। 

भारत में कुपोषण और शिशु मृत्यु दर

पहला तो कुपोषण की वजह से शिशु का रोग प्रतिरोधक तंत्र बहुत कमजोर हो जाता है जिस वजह से शिशु की हर प्रकार के संक्रमण  की चपेट में आने की संभावना बढ़ जाती है। चुकी शिशु का शरीर संक्रमण से लड़ने में सक्षम नहीं होता है, एक बार संक्रमित होने पर शिशु फिर ठीक नहीं हो पाता है और  संक्रमण की वजह से अत्यधिक बीमार हो होकर मृत्यु प्राप्त करता है।  

बच्चों को जब सभी प्रकार के पोषक तत्व नहीं मिलते हैं तो ऐसे बच्चों में एनीमिया की समस्या भी सबसे ज्यादा देखी गई है। बच्चों में एनीमिया की वजह शरीर में आयरन की कमी है।  एनीमिया होने पर शिशु का शरीर ठीक प्रकार से ऑक्सीजन को अवशोषित नहीं कर पाता है जिसकी वजह से शिशु का दिमाग प्रभावित होता है और आगे चलकर शिशु किसी भी कार्य में एकाग्रता करने में असफल होता है। 

शिक्षा या करियर में सफलता पाने के लिए दिमाग की एकाग्रता बहुत आवश्यक है और जो बच्चे  ध्यान केंद्रित करने में असफल होते हैं वह आगे चलकर पढ़ाई और अपने करियर में असफल देखे गए हैं। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

यूटीआई-UTI-Infection
सिजेरियन-या-नार्मल-डिलीवरी
डिलीवरी-के-बाद-पेट-कम
गर्भपात
डिलीवरी-के-बाद-आहार
होली-सिखाये-बच्चों
स्तनपान-आहार
स्तनपान-में-आहार
प्रेगनेंसी-के-दौरान-गैस
बालों-का-झाड़ना
प्रेगनेंसी-में-हेयर-डाई
अपच-Indigestion-or-dyspepsia
गर्भावस्था-(प्रेगनेंसी)-में-ब्लड-प्रेशर-का-घरेलु-उपचार
गर्भधारण-का-उपयुक्त-समय-
बच्चे-में-अच्छा-व्यहार-(Good-Behavior)
शिशु-के-गले-के-टॉन्सिल-इन्फेक्शन
गर्भावस्था-में-बालों-का-झड़ना
बच्चों-का-गुस्सा
क्या-गर्भावस्था-के-दौरान-Vitamins-लेना-सुरक्षित-है
बालों-का-झाड़ना
बालों-का-झाड़ना
बालों-का-झाड़ना
सिजेरियन-डिलीवरी-के-बाद-देखभाल-के-10-तरीके
सिजेरियन-डिलीवरी-के-बाद-खान-पान-(Diet-Chart)
सिजेरियन-डिलीवरी-के-बाद-मालिश
बच्चे-के-दातों-के-दर्द
नार्मल-डिलीवरी-के-बाद-बार-बार-यूरिन-पास-की-समस्या
डिलीवरी-के-बाद-पीरियड
कपडे-जो-गर्मियौं-में-बच्चों-को-ठंडा-व-आरामदायक-रखें-
शिशु-में-फ़ूड-पोइजन-(Food-Poison)-का-घरेलु-इलाज

Most Read

खांसी-की-अचूक-दवा
Khasi-Ki-Dawai
पराबेन-(paraben)
sardi-ki-dawa
jukam-ki-dawa
खांसी-की-अचूक-दवा
जुकाम-के-घरेलू-उपाय
बंद-नाक
khasi-ki-dawa
कई-दिनों-से-जुकाम
शिशु-को-खासी
शिशु-खांसी-के-लिए-घर-उपचार
बच्चों-की-नाक-बंद-होना
Best-Baby-Carriers
शिशु-सर्दी
शिशु-बुखार
1-साल-के-बच्चे-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई
नवजात-शिशु-वजन
शिशु-का-वजन-घटना
शिशु-की-लम्बाई
नवजात-शिशु-का-BMI
बच्चों-का-BMI
6-महीने-के-शिशु-का-वजन
शिशु-का-वजन-बढ़ाये-देशी-घी
शिशु-को-अंडा
शिशु-को-देशी-घी
देसी-घी
नवजात-शिशु-का-Infant-Growth-Percentile-Calculator
शिशु-का-वजन-बढ़ाएं
BMI-Calculator
गर्भ-में-लड़का-होने-के-लक्षण-इन-हिंदी
लड़की-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई
4-महीने-के-शिशु-का-वजन
डिस्लेक्सिया-Dyslexia
ठोस-आहार
मॉर्निंग-सिकनेस
एडीएचडी-(ADHD)
benefits-of-story-telling-to-kids
बच्चों-पे-चिल्लाना
जिद्दी-बच्चे
सुभाष-चंद्र-बोस
ADHD-में-शिशु
ADHD-शिशु
गणतंत्र-दिवस-essay
बोर्ड-एग्जाम
लर्निंग-डिसेबिलिटी-Learning-Disabilities
बच्चों-में-तुतलाने
-देर-से-बोलते-हैं-कुछ-बच्चे
गर्भावस्था-में-उलटी
प्रेग्नेंसी-में-उल्टी-और-मतली

Other Articles

Footer