Category: बच्चों की परवरिश

Easy Tips - बच्चों को बोर्ड एग्जैम की तैयारी करवाने के लिए

Published:28 Aug, 2017     By: Salan Khalkho     3 min read

10वीं में या 12वीं की बोर्ड परीक्षा में ज्यादा अंक लाना उतना मुश्किल भी नहीं अगर बच्चा सही और नियमित ढंग से अपनी तयारी (पढ़ाई) करे। शुरू से ही अगर बच्चा अपनी तयारी प्रारम्भ कर दे तो बोर्ड एग्जाम को लेकर उतनी चिंता और तनाव का माहौल नहीं रहेगा।


class 10 and 12 board exam 10वीं में या 12वीं की बोर्ड परीक्षा

बोर्ड की परीक्षा में बैठने वाले छात्रों में अगर आप का बच्चा भी है तो आप इस बात को लेकर जरूर परेशान होंगे की आप का बच्चा कैसा perform करेगा और उसको कितने marks मिलेंगे। बोर्ड एक्साम्स का डर न केवल बच्चों में बल्कि पुरे परिवार में दीखता है। 

10वीं में या 12वीं की बोर्ड परीक्षा में ज्यादा अंक लाना उतना मुश्किल भी नहीं अगर बच्चा सही और नियमित ढंग से अपनी तयारी (पढ़ाई) करे। शुरू से ही अगर बच्चा अपनी तयारी प्रारम्भ कर दे तो बोर्ड एग्जाम को लेकर उतनी चिंता और तनाव का माहौल नहीं रहेगा। 

बोर्ड एग्जाम की तयारी के लिए माँ-बाप क्या करें 

एक बार आप का बच्चा जैसे ही 10वीं में या 12वीं में पहुंचे उसे परीक्षा के बारे में गम्भीरता से बात करें। उससे बातें करें की उसे बोर्ड एग्जाम की तयारी में किस तरह की मदद की आवश्यकता पड़ेगी। उससे कहें की वो पहले दिन से ही अपने बोर्ड एग्जाम की तयारी में जुट जाये। 

बच्चों को शुरू से ही यह बताये की मार्क्स की बजाय वो अपनी पढ़ाई में अपना ध्यान केंद्रित करें। बच्चों को यह समझना जरुरी है की केवल मार्क्स ही महत्व पूर्ण नहीं है वरन मार्क्स के साथ साथ विषय की अछि समझ भी जरुरी है। 

योजनाबद्ध तरीके से board exam की तयारी करवाएं 

योजनाबद्ध तरीके से board exam की तयारी में अपने बच्चे को session के शुरुआत से ही करने के लिए प्रोत्साहित करें। पुरे घर में इस दौरान पढ़ाई का माहौल बने रहने दें। बच्चे exam के दौरान अक्सर तनाव मैं आ जाते हैं। ऐसा इसलिए क्योँकि exam की तयारी ही बच्चे board exam के शुरू होने के कुछ दिन पहले से ही शुरुर करते हैं। ऐसे में बच्चों का तनावग्रस्त होना लाजमी है। 

5 Tips - Board Exam की बेहतर तयारी के लिए 

- अपने बच्चे को exam के तयारी के लिए एक रूटीन का पालन करने में मदद करें। जितना जल्दी आप के बच्चे का रूटीन (routine) स्थापित हो जायेगा उतना जल्दी आप के बच्चे की अच्छी तयारी भी शुरू हो जाएगी।  रूटीन (routine) को स्थापित करने के लिए बच्चे को कहें की वो अपनी दिनचर्या के अनुसार पढ़ाई का time table बनाये। ये कहना ज्यादा उचित रहेगा की बच्चे को अपनी दिनचर्या के अनुसार नहीं वरन हो सके तो पढ़ाई के अनुसार अपने दिनचर्या को ढाल ले। इससे पढ़ाई के लिए बेहतर time table.

बच्चों-के-उग्र-स्वाभाव

अलग-अलग सांस्कृतिक समूहों के बच्चे में व्यवहारिक होने की छमता भिन भिन होती है|

.
स्मार्ट-फ़ोन

स्मार्ट फ़ोन के जरिये माँ-बाप अपने बच्चे के संपर्क में २४ घंटे रह सकते हैं|

.
नवजात-बच्चे-का-दिमागी-विकास

बच्चे को छूने और उसे निहारने से उसके दिमाग के विकास को गति मिलती है|

स्थापित करने में मदद मिलेगी। 

  • समय समय पे बच्चों से उनके तयारी के बारे में पूछें। जहाँ हो सके उन्हें उचित मार्गदर्शन प्रदान करें। उन्हें हर विषय में पर्याप्त ध्यान देने को कहें। स्कूल के होमवर्क के अलावा स्कूल अपने बच्चों की पहले दिन से ही स्कूल में जो भी पढ़ाया जा रहा है उसका revision घर पे हर दिन  करने को कहें। 
  • बच्चे को मैथ्स के subject के revision के लिए कम से कम एक घंटे का समय नियमित रूप से सुनिश्चित करें। 
  • बच्चों को स्कूल में नोट्स बनाने के लिए प्रोत्साहित करें और उन्हें उस नोट्स को हफ्ते में में दो बार दोहराने के लिए अवश्य कहें। 
  • Exam के तयारी में लिख कर याद करने से ज्यादा स्पष्ट याद रहता है और hand writing में भी सुधर आता है। इससे बच्चों में लिखने का आदत भी विकसित होता है। कई बार बच्चे सिर्फ इस लिए fail हो जाते हैं क्योँकि उन्हें उत्तर लिखने के लिए उन्हें पर्याप्त समय नहीं मिला। अगर उनकी लिखने की speed बेहतर होती तो यह नौबत नहीं आती। 

आपने बच्चों के स्कूल टीचर से नियमित रूप से संपर्क में रहें। अगर आप का बच्चा किसी विषय में परेशानी महसूस कर रहा है तो उसके टीचर से बात करें, टीचर की बातून को गम्भीरता से सुने और बच्चे की समस्या को हल करने का विकल्प ढूंढे। 

बच्चा अगर किसी विषय में कमजोर है तो उसके लिए घर पर ही टूशन का इंतेज़ाम कर सकते हैं या आप उसे शहर के बढ़िया coaching center में भी भेज सकते हैं। ऐसा करने पे बच्चे का फोकस उस subject में बढ़ेगा। 

बच्चों-के-साथ-यात्रा

बच्चों के साथ यात्रा करते वक्त बहुत सी बातों का ख्याल रखना जरुरी है ताकि बच्चे पुरे सफ़र दौरान स्वस्थ रहें

.
abandoned-newborn

अब अनचाहे मासूम बच्चों को भी मिलेगा जीने अधिकार|

.
गर्भ-में-सीखना

गर्भवती महिलाएं जो भी प्रेगनेंसी के दौरान खाती है, उसकी आदत बच्चों को भी पड़ जाती है|

10वीं में या 12वीं की बोर्ड परीक्षा के दौरान बच्चों को मोबाइल और इंटरनेट से दूर रखें।  बोर्ड परीक्षा के दौरान बच्चों पे बहुत ज्यादा दबाव न बनायें। उन्हें प्यार से समझएं की मोबाइल-इंटरनेट के कारन उनका ध्यान भटक सकता है और exam की तयारी करने में focus कम हो सकता है। आप चाहें तो अपने बच्चे को दिन में आधा घंटे के लिए internet इस्तेमाल करने के लिए इजाजत दे सकते हैं। 

हर संभव कोशिश करें की आप के बच्चे के exam के तयारी के लिए घर पे पढ़ाई का उचित माहौल बना रहे - जैसे की जब बच्चे पढ़ रहें हों तो TV बंद रहे और मेहमानो का उस समय के दौरान आना कम रहे। 
10वीं में या 12वीं की बोर्ड परीक्षा के दौरान छुट्टियों में कहीं जाने का प्लान कैंसल क्र दें। Vacation का समय बच्चों की तयारी के लिए एक बढ़िया अवसर यही। एक बार जब परीक्षा समाप्त हो जाये तो पूरी फैमिली के साथ घूमने जाएँ। 

बच्चों को थोड़ी देर के लिए घर से बहार अपने दोस्तों से मिलने के लिए जाने दें। मगर उन्हें समय पे घर आने के लिए जरुरी हिदायत जरूर दें। 

बोर्ड एग्जाम के तयारी के दौरान सोना बहुत जरुरी है। अगर बच्चे की नींद पूरी हो रही है तो बच्चा पढ़ाई में ज्यादा ध्यान केंद्रित कर पायेगा। नींद पूरी नहीं होने पे अपच, अनिंद्रा, चिड़चिड़ापन, सिरदर्द जैसी परेशानी भी बच्चे को झेलनी पढ़ सकती है। 

best-school-2018

अगर आप अपने बच्चे के लिए best school की तलाश कर रहें हैं तो आप को इन छह बिन्दुओं का धयान रखना है|

.
पढ़ाई-का-माहौल

घर का माहौल अगर पढ़ाई वाला होगा तो बच्चे को पढ़ाई में एकाग्र होने का मौका मिलेगा|

.
बच्चे-ट्यूशन

ट्यूशन पढ़ते समय बच्चा अकेले ही होता है इसलिए आपको इन बातों का ध्यान रखना होगा |

इस दौरान बच्चे के आहार के पौष्टिकता के बारे में ध्यान रखें। बच्चे को घर का बना पौष्टिक खाना, दूध, फल, ड्राइफूट्स दें।अगर आप इन बातों का ख्याल रखेंगे तो आप का बच्चा बोर्ड एग्जाम के दौरान टेंशन में नहीं रहेगा और बेहतर तयारी कर पायेगा। 


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Latest Articles

khansi-ka-gharelu-upchar

शिशु रोग

12 Tips शिशु की खांसी का घरेलु उपचार - khansi ka gharelu upchar

 
khansi-ka-ilaj

शिशु रोग

बंद नाक में शिशु को सुलाने का आसन तरीका (khansi ka ilaj)

 
sardi-ka-ilaj

शिशु रोग

7 प्राकृतिक औषधि से शिशु की सर्दी का इलाज - Sardi Ka ilaj

 
childrens-day

बच्चों की परवरिश

बाल दिवस पर विशेष लेख - children's day celebration

 
खांसी-की-अचूक-दवा

शिशु रोग

15 आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे शिशु की खांसी की अचूक दवा - Complete Guide

 
khasi-ki-dawa

शिशु रोग

5 घरेलु उपाय शिशु को जुकाम से राहत दिलाने के लिए (khasi ki dawa)

 
बंद-नाक

शिशु रोग

13 जुकाम के घरेलू उपाय (बंद नाक) - डॉक्टर की सलाह

 
जुकाम-के-घरेलू-उपाय

शिशु रोग

5 आसान बंद नाक और जुकाम के घरेलू उपाय

 
कफ-निकालने-के-उपाय

शिशु रोग

बच्चों का भाप (स्‍टीम) के दुवारा कफ निकालने के उपाय

 
ह्यूमिडिफायर-Humidifier

शिशु रोग

ह्यूमिडिफायर (Humidifier) से जुकाम का इलाज - Jukam Ka ilaj

 
पेट्रोलियम-जैली---Vaseline

शिशु रोग

बेबी प्रोडक्ट्स में पेट्रोलियम जैली कहीं कर न दे आप के शिशु को बीमार

 
Khasi-Ke-Upay

शिशु रोग

आराम करने ठीक होता है शिशु का सर्दी जुकाम - Khasi Ke Upay

 
jukam-ki-dawa

शिशु रोग

भाप है जुकाम की दवा और झट से खोले बंद नाक - jukam ki dawa

 
नेबुलाइजर-Nebulizer-zukam-ka-ilaj

शिशु रोग

नेबुलाइजर (Nebulizer) से शिशु के जुकाम का इलाज - Zukam Ka ilaj

 
शिशु-सवाल

शिशु रोग

बच्चों के डॉक्टर से मिलने से पहले इन प्रश्नों की सूचि तयार कर लें

 
खांसी-की-अचूक-दवा

शिशु रोग

बच्चे के बुखार, सर्दी, खांसी की अचूक दवा - Guide

 
पराबेन-(paraben)

शिशु रोग

पराबेन (paraben) क्योँ है शिशु के लिए हानिकारक

 
Khasi-Ki-Dawai

शिशु रोग

घर पे बनाये Vapor rub (वेपर रब) - Khasi Ki Dawai

 
sardi-ki-dawa

शिशु रोग

विटामिन डी है सर्दी जुकाम की दवा - sardi ki dawa

 
खांसी-की-दवा

शिशु रोग

शिशु को बुरी खांसी में दें ये खांसी की दवा

 
सर्दी-जुकाम-की-दवा

शिशु रोग

सर्दी जुकाम की दवा - तुरंत राहत के लिए उपचार

 
Sharing is caring


सर्दी-जुकाम-की-दवा
बाल दिवस पर विशेष लेख - children's day celebration

बाल दिवस बच्चों को उनके अधिकार और कर्तव्यों के बारे में सजग करने का एक तरीका है।

childrens-day
शिशु बहुत गुस्सा करता है - करें शांत इस तरह

आप को अपने बच्चे को यह सिखाना है की जब उसे गुस्सा आये तो उसे किस तरह नियंत्रित करे।

शिशु-गुस्सा
शिशु के लिए दाई (babysitter) रखते वक्त रखें इन बातों का ख्याल

जानिए - आप को अपने शिशु के लिए दाई (babysitter) चुनते वक्त किन-किन बातों का ख्याल रखने की आवश्यकता है।

दाई-babysitter
अपने बच्चे को ब्‍लू-व्‍हेल गेम से इस तरह बचाएं

बच्चों को ब्‍लू-व्‍हेल गेम से सुरक्षित रखने में माँ-बाप की समझदारी की आवश्यकता है।

ब्‍लू-व्‍हेल-गेम
गर्भावस्था के बाद ऐसे रहें फिट और तंदुरुस्त

कुछ छोटी-मोती बातों का अगर ख्याल रखा जाये तो आप अपनी पहली जैसी शारीरिक रौनक बार्कर रख पाएंगी।

गर्भावस्था
नवजात शिशु की देख रेख - Dos and Donts of Neonatal Care

शिशु की देख भाल की तरह की जाये ताकि बच्चा रहे स्वस्थ और उसका हो अच्छा शारीरिक और मानसिक विकास।

Neonatal-Care
Sex Education - बच्चों को किस उम्र में क्या पता होना चाहिए!

बच्चों को सेक्स सम्बन्धी जानकारी क्योँ देना क्यों और कैसे जरुरी है?

Sex-Education
पारिवारिक परिवेश बच्चों के विकास को प्रभावित करता है

माँ-बाप के बीच मधुर सम्बन्ध शिशु के विकास में बहुत तरीके से योगदान करता है।

पारिवारिक-माहौल
बच्चे बुद्धिमान बनते हैं जब आप हर दिन उनसे बात करते हैं|

बच्चों के साथ बातचीत करने से उनपे बेहद अच्छा और सकारात्मक प्रभाव पड़ता है

बच्चे-बुद्धिमान
क्या आप का बच्चा बात करने में ज्यादा समय ले रहा है|

बच्चे के बोलने में आप किस तरह मदद कर सकते हैं?

बच्चा-बात
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
बच्चे को सुलाएं 60 सेकंड के अन्दर

आइये हम बात करते हैं की आप अपने बच्चे को कैसे झट से 60 second के अन्दर सुला सकती हैं।

बच्चे-को-सुलाएं
5 नुस्खे नवजात बच्चे के दिमागी विकास के लिए

बच्चे को छूने और उसे निहारने से उसके दिमाग के विकास को गति मिलती है|

नवजात-बच्चे-का-दिमागी-विकास
6 TIPS: बच्चे के लिए बेस्ट स्कूल इस तरह चुने

अगर आप अपने बच्चे के लिए best school की तलाश कर रहें हैं तो आप को इन छह बिन्दुओं का धयान रखना है|

best-school-2018
Easy Tips - बच्चों को बोर्ड एग्जैम की तैयारी करवाने के लिए

अगर आप इन बातों का ख्याल रखेंगे तो आप का बच्चा बोर्ड एग्जाम की बेहतर तयारी कर पायेगा|

board-exam
टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school
भारत के पांच सबसे महंगे स्कूल

लेकिन भारत के ये प्रसिद्ध बोडिंग स्कूलो, भारत के सबसे महंगे स्कूलों में शामिल हैं| यहां पढ़ाना सबके बस की बात नहीं|

India-expensive-school
ब्लू व्हेल - बच्चों के मौत का खेल

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

ब्लू-व्हेल
बच्चे जब ट्यूशन पढ़ें तो रखें इन बातों का ख्याल

ट्यूशन पढ़ते समय बच्चा अकेले ही होता है इसलिए आपको इन बातों का ध्यान रखना होगा |

बच्चे-ट्यूशन
5 TIPS - कैसे बनाये घर पे पढ़ाई का माहौल

घर का माहौल अगर पढ़ाई वाला होगा तो बच्चे को पढ़ाई में एकाग्र होने का मौका मिलेगा|

पढ़ाई-का-माहौल
शिशु के साथ यात्रा करते वक्त रखें इन बातों का ख्याल

बच्चों के साथ यात्रा करते वक्त बहुत सी बातों का ख्याल रखना जरुरी है ताकि बच्चे पुरे सफ़र दौरान स्वस्थ रहें

बच्चों-के-साथ-यात्रा
अब कोई नवजात नहीं फेंका जायेगा कचरे के डब्बे में

अब अनचाहे मासूम बच्चों को भी मिलेगा जीने अधिकार|

abandoned-newborn
माँ के गर्भ में ही सीखने लगते हैं बच्चे

गर्भवती महिलाएं जो भी प्रेगनेंसी के दौरान खाती है, उसकी आदत बच्चों को भी पड़ जाती है|

गर्भ-में-सीखना
किस उम्र में दे बच्चों को स्मार्ट फ़ोन

स्मार्ट फ़ोन के जरिये माँ-बाप अपने बच्चे के संपर्क में २४ घंटे रह सकते हैं|

स्मार्ट-फ़ोन
बच्चों के उग्र स्वाभाव पे सांस्कृतिक समूहों का प्रभाव

अलग-अलग सांस्कृतिक समूहों के बच्चे में व्यवहारिक होने की छमता भिन भिन होती है|

बच्चों-के-उग्र-स्वाभाव
बच्चों को मातृभूमि से प्रेम करना सिखाएं

हमें आपने बच्चों को मातृभूमि से प्रेम करने की शिक्षा देनी चाहिए तथा उनके अंदर देश के प्रति समर्पण की भावना पैदा करनी चाहिए।

india-Indian-Independence-Day-15-August
बच्चों में संगति का बड़ा गहरा प्रभाव पड़ता है

बच्चों की संगती, उनके शारीरिक और मानसिक विकास को प्रभावित करता है|

संगति-का-प्रभाव
10 Tips: बच्चों को सिखाएं शिष्टाचार और अच्छे संस्कार

कुछ आसन Tips की मदद से आप अपने बच्चे को सभ्य और सुसंकृत

बच्चों-की-गलती
बच्चों के दिनचर्या को निर्धारित करने के फायदे हैं बहुत

नियमित दिनचर्या का पालन करना सेहत की द्रिष्टी से काफी महत्वपूर्ण है

बच्चों-का-दिनचर्या
5 महीने का बच्चे की देख भाल कैसे करें

पांचवे महीने में शिशु की देखभाल में होने वाले बदलाव के बारे में पढ़िए इस लेख में|

5-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें
3 महीने के बच्चे की देख भाल कैसे करें

किस तरह अपने three Month Old बेबी का ख्याल रखें

3-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें
5 वजह बच्चों के झूट बोलने के

कई ऐसे कारण है, जिसके चलते बच्चे अपने पेरेंट्स से झूठ बोलते हैं

5-वजह-बच्चों-के-झूट-बोलने-के
बड़े होते बच्चों को सिखाएं ये जरुरी बातें - Sex Education

अपने बढ़ते बच्चों को दे आवश्यक sex education ताकि हो स्वस्थ मानसिक विकास

बच्चों-को-दे-Sex-Education
कहीं आपके बच्चे के साथ यौन शोषण तो नहीं हो रहा

बच्चों को यौन शोषण से बचाने के लिए माँ-बाप को इन बातों का ख्याल रखना चाहिए

बच्चे-के-साथ-यौन-शोषण
7 तरीके बच्चों को यौन शोषण से बचाने के

अपने बच्चे को यौन शोषण की घटनाओं से बचाने की 10 तरीके

बच्चों-को-दें-अच्छे-संस्कार-
नव भारत की नई सुबह (कविता)

किसी भी राष्ट्र में क्रांति का सूतपात युवावर्ग ही करते हैं।

नव-भारत-की-नई-सुबह
दें बच्चों को नैतिक मूल्यों का वरदान

वैश्वीकरण से दुनिया करीब तो आ गई, बस अपनो से फासला बढ़ता गया।

बच्चों-को-सिखाएं-नैतिक-मूल्यों-के-महत्व
बच्चों को सिखाएं प्रेम और सहनशीलता का पाठ

माता-पिता को एक अच्छे गुरु की तरह बच्चों को अच्छे संस्कार देना चाहिए

प्रेम-और-सहनशीलता
बच्चों की पढाई के लिए बनायें उपयुक्त माहौल - 12 Tips

बच्चे को पढ़ाई करने के लिए सही माहौल और उचित मार्गदर्शन देने के 12 tips


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit