Category: बच्चों की परवरिश

क्योँ देर से बोलते हैं कुछ बच्चे - आसान घरेलु उपचार

By: Admin | 4 min read

सभी बचों का विकास दर एक सामान नहीं होता है। यही वजह है की जहाँ कुछ बच्चे ढाई साल का होते होते बहुत बोलना शुरू कर देते हैं, वहीँ कुछ बच्चे बोलने मैं बहुत समय लेते हैं। इसका मतलब ये नहीं है की जो बच्चे बोलने में ज्यादा समय लेते हैं वो दिमागी रूप से कमजोर हैं, बल्कि इसका मतलब सिर्फ इतना है की उन्हें शारीरिक रूप से तयार होने में थोड़े और समय की जरूरत है और फिर आप का भी बच्चा दुसरे बच्चों की तरह हर प्रकार की छमता में सामान्य हो जायेगा।आप शिशु के बोलने की प्रक्रिया को आसन घरेलु उपचार के दुवारा तेज़ कर सकती हैं।

क्योँ देर से बोलते हैं कुछ बच्चे - आसान घरेलु उपचार

जब बच्च पहली बार अपनी मुह से "माँ" शब्द बोलता है तो जितनी प्रसन्नता होती है, उसका वर्णन करना आसंभव है। 

बच्चे जुबान से तोतली भाषा में मीठे मीठे शब्द कानो में घंटियों की तरह बजते हैं। 

हर बच्चे में विकास की दर अलग-अलग होती है। 

यही वजह है की कुछ बच्चे जल्दी और कुछ बच्चे अच्छे देर से बोलना शुरू करते हैं। 

बच्चों में स्वाभाव-स्वाभाव का भी अंतर होता है। यही कारण है की कुछ बच्चे बहुत कम बोलते हैं तो वहीँ कुछ बच्चे न जाने क्या - क्या बोलते हैं। 

इससे आप को यह समझ जाना चाहिए की बच्चे के शारीरिक विकास के साथ साथ उसका मानसिक विकास के मापदंड को दुसरे बच्चों से तुलना कर के नापा नहीं  जा सकता है। 

विकास तो सभी बच्चों का होगा। बस अंतर इतना है की किसी बच्चे का विकास थोड़ा देरी से तो किसी बच्चे का विकास थोड़ा जल्दो हो जायेगा। किसी बच्चे के सभी दाँत जल्दी निकल जायेंगे तो किसी बच्चे के सभी दाँत निकलने में थोड़ा ज्यादा समय लगेगा। 

इस लेख में: 

  1. शिशु में भाषा का विकास
  2. कुछ बच्चों में देर से बोलने की वजह
  3. बच्चों में मस्तिष्क का विकास
  4. देरी से बोलने वाले बच्चों के लक्षण
  5. 3 से 4 महीने के आयु में लक्षण के पहचान
  6. 1 साल की आयु में लक्षण की पहचान
  7. 2 साल की  आयु के देरी से बोलने वाले बच्चों  में लक्षण
  8. देरी से बोलने वाले बच्चों का घरेलू उपचार
  9. अगर बच्चे बोलने में बहुत समय लें तो क्या करें?

शिशु में भाषा का विकास 

चूँकि हर बच्चे में मानसिक (बौद्धिक) विकास की दर सामान्य नहीं होती है। इसी वजह से कुछ बच्चे देर से बोलना शुरू करते है तो कुछ बच्चे बहुत कम बोलते हैं। 

शिशु में भाषा का विकास

जो बच्चे तुतला के बोलते हैं उनके माता-पिता को चिंता करने की बजाये सूझ-बूझ से काम लेने की आवश्यकता है। 

जितना जल्दी हो सके स्पीच थेरेपिस्ट से सलाह ले ताकि बच्चे के तुतलाने की वजह का पता चल सके। एक बार यह पता चल जाये की बच्चे का तुतलाना शारीरिक दोष की वजह से है या फिर मास्कीक दोष की वजह से है तो फिर बच्चे का उस वजह के लिए इलाज किया जा सकता है। 

कुछ बच्चों में देर से बोलने की वजह

शिशु में भाषा का विकास देर से होने के बहुत से कारण हो सकते हैं। तीन मुख्या कारण का जिक्र हम यहां कर रहे हैं। 

कुछ बच्चों में देर से बोलने की वजह

  1. अधिकांश मामलों में यह बात देखने को मिला है की जो बच्चे जन्म के प्रथम छह महीने ज्यादा नहीं रोते है या बहुत जरुरत पड़ने पे ही रोते हैं, उनमें आगे चलके हकलाने की समस्या होने की समभावना ज्यादा पायी गयी है। 
  2. बच्चे के जन्म से पहले अगर माँ को जॉन्डिस हो जाये या फिर 
  3. डेलिवरी के वक्त बच्चे के मस्तिष्क के बांई ओर चोट लग जाये तो भी बच्चे को बोलने में सुनने में और भाषा का इस्तेमाल ठीक तरीके से करने में समस्या हो सकती है। जो बच्चे ठीक से सुन नहीं पते हैं - जाहिर है की वे ठीक से बोल भी नहीं पाएंगे। 

बच्चों में मस्तिष्क का विकास

हमारे सोचने समझने और सफलता पूर्वक कार्य कर सकने की छमता ब्रेन सेल कनेक्शंस जिसे स्य्नाप्सेस (Synapse) कहते हैं, उस पे निर्भर करती है। शिशु के आठ महीने के होते होते उसकी मस्तिष्क में एक हजार ट्रिलियंस ब्रेन सेल कनेक्शंस बन चुके होते हैं। 

बच्चों में मस्तिष्क का विकास

लेकिन आप को ताजूब होगा यह जान के की आने वाले समय में ये कनेक्शंस बहुत तेजी से घटते जायेंगे। जिन कनेक्शंस का इस्तेमाल नहीं होगा वो ख़त्म भी हो जायेंगे। 

बच्चों पे हुए एक शोध में यह बात पता चली है की छहमहीने के बच्चे 17 प्रकार की विभिन्न ध्वनियों को पहचानने की क्षमता रखता है। ये ध्वनियां ही विभिन्न प्रकार की भाषाओँ का आधार है। 

यही कारण है की जो माताएं अपने बच्चों से खूब बातें करती हैं उनके बच्चे जल्दी बोलना भी सिख जाते हैं।

देरी से बोलने वाले बच्चों के लक्षण

कुछ आसान से लक्षण है जिन्हें देखकर आप आसानी से देरी से बोलने वाले बच्चों की पहचान कर सकते हैं।  ऐसी बच्चों की पहचान जितना जल्दी हो जाए, उतना अच्छा है।  क्योंकि उचित मार्गदर्शन और सहायता से यह बच्चे दूसरे बच्चों की तरह बोलने में सक्षम हो सकते हैं।  दूसरे बच्चों की तुलना में इन बच्चों को थोड़ा ज्यादा मदद की जरूरत है। 

देरी से बोलने वाले बच्चों के लक्षण

3 से 4 महीने के आयु में लक्षण के पहचान

3 से 4 महीने की आयु से ही आप देरी से बोलने वाले बच्चे को उसके लक्षण से पहचान सकते हैं।  3 से 4 महीने की आयु  वाले देरी से बोलने वाले बच्चों को आप निम्न लक्षणों से पहचान सकते हैं:

  1. यह बच्चे बहुत ज्यादा नहीं रोते हैं
  2. आवाज वाली दिशा में मुड़कर देखने का प्रयास नहीं करते हैं
  3. ध्यान आकर्षित करने के लिए यह किसी भी तरह से आवाज का प्रयोग नहीं करते हैं

1 साल की आयु में लक्षण की पहचान

14 महीने के बच्चे  एक आध शब्दों को पकड़कर बोलना शुरू कर देते हैं।  उदाहरण के लिए मामा।  लेकिन देरी से बोलने वाले बच्चे 14 महीने की होने पर भी किसी शब्दों को पकड़कर बोलना शुरू नहीं करते हैं।  इनमें आप यह लक्षण देख सकते हैं:

  1. यह किसी एक शब्द का प्रयोग नहीं करते हैं
  2. आपके द्वारा किए गए इशारों को नहीं समझते हैं उदाहरण के लिए हाथ  हिलाना,  चेहरे से इशारा करना
  3. शिशु रोने के अलावा ध्यान आकर्षित करने के लिए या अपनी बात कहने के लिए किसी दूसरे आवाज का प्रयोग नहीं करता है। 

2 साल की  आयु के देरी से बोलने वाले बच्चों  में लक्षण

जो बच्चे देर से बोलना सीखते हैं इस उम्र में 15 शब्द भी नहीं बोल सकते हैं। 

  1. बोलते वक्त यह शब्दों को दोहराते हैं 
  2. आपकी बात का और इशारों का तुरंत जवाब नहीं देते हैं
  3. आपकी बात को और इशारों को समझने में इन्हें मुश्किलें आती है।  यह बच्चे इस वजह से निराश भी हो जाते हैं। 

देरी से बोलने वाले बच्चों का घरेलू उपचार

  1. अगर आपका शिशु देरी से बोलना सीखा है तो आप अपने बच्चे को सिखाते वक्त दूसरे बच्चों का उदाहरण ना दें।
  2. उसके हर प्रयास को प्रोत्साहित करें
  3. आप अपने बच्चों को दूसरे बच्चों के साथ घुलने-मिलने का मौका दें इससे आपका बच्चा  दूसरों के संपर्क में, बोलने की कोशिश करेगा।  दूसरे बच्चों को देखकर उनसे सीखने की कोशिश करेगा।
  4. कई बार  मां बाप के व्यस्त जिंदगी के कारण कुछ बच्चे देर से  बोलना शुरू करते हैं।  इन बच्चों के लिए आपको ऐसा माहौल तैयार करना पड़ेगा कि यह अपने दिन का कुछ समय दूसरे लोगों के संपर्क में बिता सके।  ताकि इन्हें बोलने का भरपूर मौका मिले। 
  5. रात में सोते वक्त बच्चे को कहानी सुनाएं।  इस बच्चे में कम्युनिकेशन स्किल का विकास होगा। देरी से बोलने वाले बच्चों का घरेलू उपचार
  6. बच्चों को जानवर उपकरण और खिलौने खेलने को दें।  उनके साथ खेलते वक्त जानवर और खिलौनों की आवाज निकाले।  आपको देखकर आपका शिष्य आपकी नकल करने का कोशिश करेगा।  और इस कोशिश में उसके अंदर कम्युनिकेशन स्किल  का विकास होगा। 

अगर बच्चे बोलने में बहुत समय लें तो क्या करें?

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

शिशु-बुखार
1-साल-के-बच्चे-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई
नवजात-शिशु-वजन
शिशु-का-वजन-घटना
शिशु-की-लम्बाई
बच्चों-का-BMI
6-महीने-के-शिशु-का-वजन
नवजात-शिशु-का-BMI
शिशु-का-वजन-बढ़ाये-देशी-घी
शिशु-को-अंडा
शिशु-को-देशी-घी
देसी-घी
BMI-Calculator
नवजात-शिशु-का-Infant-Growth-Percentile-Calculator
शिशु-का-वजन-बढ़ाएं
लड़की-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई
गर्भ-में-लड़का-होने-के-लक्षण-इन-हिंदी
4-महीने-के-शिशु-का-वजन
ठोस-आहार
डिस्लेक्सिया-Dyslexia
मॉर्निंग-सिकनेस
benefits-of-story-telling-to-kids
एडीएचडी-(ADHD)
बच्चों-पे-चिल्लाना
जिद्दी-बच्चे
सुभाष-चंद्र-बोस
ADHD-में-शिशु
ADHD-शिशु
गणतंत्र-दिवस-essay
बोर्ड-एग्जाम

Most Read

D.P.T.
vaccination-2018
टाइफाइड-कन्जुगेटेड-वैक्सीन
OPV
वेरिसेला-वैक्सीन
कॉलरा
जन्म-के-समय-टीके
टीकाकरण-Guide
six-week-vaccine
ढाई-माह-टीका-
-9-महीने-पे-टीका
5-वर्ष-पे-टीका-
2-वर्ष-पे-टीका
14-सप्ताह-पे-टीका
10-12-महीने-पे-टीका
6-महीने-पे-टीका
शिशु-के-1-वर्ष-पे-टीका
15-18-महीने-पे-टीका
शिशु-सवाल
बंद-नाक
बच्चे-बीमार
डायपर-के-रैशेस
sardi-ka-ilaj
khansi-ka-ilaj
khansi-ka-gharelu-upchar
खांसी-की-दवा
sardi-jukam
सर्दी-जुकाम-की-दवा
balgam-wali-khansi-ka-desi-ilaj
कफ-निकालने-के-उपाय
नेबुलाइजर-Nebulizer-zukam-ka-ilaj
ह्यूमिडिफायर-Humidifier
पेट्रोलियम-जैली---Vaseline
Khasi-Ke-Upay
खांसी-की-अचूक-दवा
Khasi-Ki-Dawai
पराबेन-(paraben)
sardi-ki-dawa
jukam-ki-dawa
खांसी-की-अचूक-दवा
जुकाम-के-घरेलू-उपाय
बंद-नाक
khasi-ki-dawa
कई-दिनों-से-जुकाम
शिशु-को-खासी
शिशु-खांसी-के-लिए-घर-उपचार
बच्चों-की-नाक-बंद-होना
Best-Baby-Carriers
शिशु-सर्दी
शिशु-बुखार

Other Articles

indexed_360.txt
Footer