Category: शिशु रोग

13 जुकाम के घरेलू उपाय (बंद नाक) - डॉक्टर की सलाह

By: Salan Khalkho | 9 min read

जुकाम के घरेलू उपाय जिनकी सहायता से आप अपने छोटे से बच्चे को बंद नाक की समस्या से छुटकारा दिला सकती हैं। शिशु का नाक बंद (nasal congestion) तब होता है जब नाक के छेद में मौजूद रक्त वाहिका और ऊतक में बहुत ज्यादा तरल इकट्ठा हो जाता है। बच्चों में बंद नाक की समस्या को बिना दावा के ठीक किया जा सकता है।

शिशु के बंद नाक का इलाज करें घर पे - डॉक्टर की सलाह

जब आप के शिशु की नाक बंद हो तो क्या करें?

तीन साल से कम उम्र के बच्चों के लिए नाक-बंद-होने-की समस्या बहुत ही चुनौतीपूर्ण है। 

जो पहली बार माँ-या-बाप बने हैं उनको अक्सर यह पता नहीं होता है की बच्चे की नाक किस वजह से बंद हो रही है। 

घबराएँ नहीं, जुकाम के घरेलू उपाय आप के शिशु के बंद नाक को खोलने में सहायता करेंगे।

सच तो यह है की नवजात बच्चे और छोटे बच्चे (toddlers) को सर्दी, जुकाम और बुखार होना भी एक तरीका जिसके जरिये बच्चे के शरीर का रोग प्रतिरोधक तंत्र (immune system) अपने आप को विषाणुओं से लड़ने में सक्षम बनता है। 

यूँ  कहें तो जन्म के समय शिशु की रोग प्रतिरोधक तंत्र (immune system) बहुत कमजोर होती है - या - नहीं के बराबर होती है। इसीलिए शिशु हलके से भी संक्रमण के संपर्क में आने से बीमार हो जाता है। 

लेकिन हर बार जब शिशु का शरीर संक्रमण से लड़ कर फिर से ठीक होता है तो उसकी रोग प्रतिरोधक तंत्र (immune system) पहले से कहीं जयादा ताकतवर, मजबूत और सक्षम होती है। 

लेकिन

शिशु के बंद नाक (nose congestion) की समस्या का कारण जरीर नहीं की सर्दी, खांसी और जुकाम ही हो।

कई कारण है जिनकी वजह से शिशु को बंद नाक (nose congestion) का सामना करना पड़ सकता है। 

शिशु के बंद नाक (nose congestion)

मगर अफ़सोस की छोटे बच्चों को बीमारी से राहत पहुँचाने के लिए बहुत से उपचार विधि उपलब्ध नहीं है। उदाहरण के तौर पे - बड़ों को सर्दी और जुकाम लगते है उन्हें जुकाम की दवा दी जा सकती है, मगर बच्चों को नहीं।  सर्दी और जुकाम की दवा नवजात बच्चे और छोटे बच्चे (toddlers) के लिए हानिकारक हो सकती है। 

सौभाग्य से भारतवर्ष में बहुत से घरेलु उपचार विधि उपलब्ध है जिनकी सहायता से आप अपने छोटे से बच्चे को सर्दी और जुकाम में राहत पहुंचा सकती है। 

इस लेख में आप पढेंगे:

  1. नाक बंद होने की वजह का पता लगाना
  2. विषाणु के संक्रमण की वजह से नाक का बहना / नाक का बंद होना
  3. एलेर्जी की वजह से शिशु के नाक का बहना / नाक का बंद होना
  4. शिशु की नाक में कुछ फसने की वजह से नाक का बंद होना
  5. अन्य कारणों से शिशु की नाक बंद
  6. सक्शन बल्ब/ड्रॉपर (suction bulb) से शिशु के बंद नाक का सुरक्षित उपचार
  7. छोटे शिशु में नेसल ड्राप (nasal drop/saline drops) इस्तेमाल करने का तरीका
  8. वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier)
  9. वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier) का रख - रखाव
  10. स्नानघर (bathroom) को भाप घर (steam room) बना दें
  11. बंद नाक में शिशु के सर को ऊँचा कर के सुलाएं
  12. शिशु को बंद नाक में बहुत सारा तरल आहार और पानी  पिने को दें
  13. अपने शिशु को नाक छिनकना सिखाएं

नाक बंद होने की वजह का पता लगाना 

शिशु के नाक बंद होने की वजह का पता लगाना

जब आप का बच्चा नाक बंद होने की समस्या से परेशान हो तो सबसे पहले आप को यह सुनिश्चित करना होगा की आप के बच्चे की नाक किस वजह से बंद हो रही है। नाक बंद होने की वजह से जब आप बच्चे को डॉक्टर के पास लेके जाती हैं तो वो भी पहला काम यही करेगा - नाक बंद होने की वजह को पता करना। 

शिशु का नाक बंद (nasal congestion) तब होता है जब नाक के छेद में मौजूद रक्त वाहिका और ऊतक में बहुत ज्यादा तरल इकट्ठा हो जाता है। 

इसके वजह से शिशु को सोने में बहुत समस्या का सामना करना पड़ता है, और साथ ही यह दुसरे समस्यों को भी जन्म देता है जैसे की साइनस संक्रमण (sinus infection)। 

नाक बंद होने की स्थिति मैं शिशु को आहार ग्रहण करने में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। 

कुछ मूलभूत लक्षण (telltale signs) हैं जिनकी सहायता से आप शिशु का नाक बंद होने की स्थिति में यह पता लगा सकती हैं की यह किस वजह से हो रहा है - विषाणु की वजह से - या - फिर जीवाणुओं की वजह से। 

उदहारण के लिए - अगर आप के शिशु की नाक बह रही (runny nose) है तो जो बलगम (discharge) बह के नकल रहा है वो भी महत्वपूर्ण संकेत देता है की शिशु को संक्रमण किस वजह से है। 

विषाणु के संक्रमण की वजह से नाक का बहना / नाक का बंद होना 

शिशु में विषाणु के संक्रमण की वजह से नाक का बहना नाक का बंद होना

अगर शिशु की नाक विषाणु के संक्रमण की वजह से बह रही है तो शुरुआती दौर में नाक से निकलने वाला द्रव (तरल) दिखने में साफ़ पानी की तरह होगा। लेकिन धीरे - धीरे ये तरल (mucus) हरे रंग का दिखने लगेगा और फिर इसके बाद पिले रंग का और इसके बाद अंत में यह फिर से साफ रंग का हो जायेगा। 

एलेर्जी की वजह से शिशु के नाक का बहना / नाक का बंद होना 

एलेर्जी की वजह से शिशु के नाक का बहना नाक का बंद होना

शिशु के नाक का बहना एलेर्जी के कारण भी हो सकता है। अगर शिशु की नाक अलेर्जी की वजह से बह रही है तो आप को अपने शिशु को डॉक्टर के पास लेके जाने की आवशकता पड़ेगी। डॉक्टर शिशु के लिए एलेर्जी से सम्बंधित कुछ जाँच-परिक्षण कराने की राय दे सकते हैं। 

शिशु की नाक में कुछ फसने की वजह से नाक का बंद होना

शिशु की नाक में कुछ फसने की वजह से नाक का बंद होना

शिशु की नाक बंद (nose congestion) इस वजह से भी हो सकती है जब उसके नाक में कुछ चला गया हो, जैसे की आहार या कोई दूसरी वस्तु। कभी-कभी बच्चे खेल-खेल में अपने नाक में कुछ डाल लेते हैं जो उनके नाक में फस जाती है। अगर इस वजह से आप के शिशु की नाक बंद हो गयी है तो आप को अपने शिशु को तुरंत डॉक्टर के पास लेके जाने की आवशकता है। आप शिशु की नाक से खुद कुछ निकलने की कोशिश न करें। 

अन्य कारणों से शिशु की नाक बंद

अन्य कारणों से शिशु की नाक बंद

कभी-कभी शिशु की नाक बंद (nose congestion) होना गंभीर समस्या के संकेत भी हो सकते हैं। सर्दी और जुकाम की वजह से बंद नाक को नेसल ड्राप (nasal drop/saline drops) की सहायता से ठीक किया जा सकता है। अगर शिशु में बंद नाक (nasal congestion) के साथ ही साथ और दुसरे भी लक्षण हैं जैसे की विशेषकर बुखार, गाहड़ा पीला बलगम (thick yellow mucus), तो आप को अपने शिशु को बाल रोग विशेषज्ञ को दिखने की आवशकता है। 

सक्शन बल्ब/ड्रॉपर (suction bulb) से शिशु के बंद नाक का सुरक्षित उपचार

नवजात बच्चे और छोटे शिशु के बंद नाक को खोलने का सबसे सुरक्षित और प्रभावी तरीका है की नेसल ड्राप (nasal drop/saline drops) का इस्तेमाल किया जाये। नेसल ड्राप (nasal drop/saline drops) को आप दवा की दूकान से बिना डॉक्टरी सलाह के (prescription letter) के भी खरीद सकती हैं। 

two सक्शन बल्ब ड्रॉपर (suction bulb) से शिशु के बंद नाक का सुरक्षित उपचार

three सक्शन बल्ब ड्रॉपर (suction bulb) से शिशु के बंद नाक का सुरक्षित उपचार

one सक्शन बल्ब ड्रॉपर (suction bulb) से शिशु के बंद नाक का सुरक्षित उपचार

छोटे शिशु में नेसल ड्राप (nasal drop/saline drops) इस्तेमाल करने का तरीका

छोटे बच्चों की नाक बंद होने की स्थिति में आप उनके नाक की दोनों छिद्रों में दो-दो बून्द नेसल ड्राप (nasal drop/saline drops) की डाल दें। इसके बाद सक्शन बल्ब/ड्रॉपर (suction bulb) की सहायता से इसे बहार खिंच के निकल दें। इससे शिशु की नाक से नेसल ड्राप के साथ-साथ बलगम भी ढीला हो के निकल जायेगा। शिशु की नाक में नेसल ड्राप डालते वक्त उसके सर को थोड़ा पीछे की तरफ झुका दें ताकि नेसल ड्राप आसानी से शिशु की नाक में अंदर तक पहुँच सके। 

छोटे शिशु में नेसल ड्राप (nasal drop saline drops) इस्तेमाल करने का तरीका

शिशु की नाक में सक्शन बल्ब/ड्रॉपर (suction bulb) डालने से पहले उसे निचोड़ दें ताकि उसकी हवा बहार निकल जाये। शिशु के नाक में डालने के बाद उसे ना निचोड़ें। नाक के अंदर निचोड़ने से सक्शन बल्ब/ड्रॉपर (suction bulb) से निकलने वाली हवा नाक में मैजूद बलगम को और अंदर तक धकेल देगी। लेकिन आप का मकसद ये हैं की आप सक्शन बल्ब/ड्रॉपर (suction bulb) की सहायता से शिशु की नाक में भरे हुए बलगम (mucus) को चूस के बहार निकल सके। 

शिशु की नाक में जब आप सक्शन बल्ब/ड्रॉपर (suction bulb) को डालें तो निचोड़े हुए स्थित में ही डालें। ताकि नाक में सक्शन बल्ब/ड्रॉपर (suction bulb) के जाने के बाद जब आप इसे छोडे (release) तो यह तुरंत नाक में मौजूद सरे बलगम को चूस के बहार कर दे - और शिशु की नाक साफ़ हो जाये। 

छोटे शिशु में नेसल ड्राप (nasal drop saline drops) इस्तेमाल करने का तरीका

यह प्रक्रिया आप शिशु के सोने से पहले या आहार ग्रहण करने से पहले करें ताकि शिशु आसानी से साँस लेने लायक हो सके। हर बार इस्तेमाल करने के बाद सक्शन बल्ब/ड्रॉपर (suction bulb) को अच्छी तरह धो लें ताकि यह अगले बार के इस्तेमाल के लिए उपलब्ध रहे और इसमें किसी प्रकार के संक्रमण के पनपने की भी गुंजाईश ना रहे। 

वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier)

वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier)

ठण्ड के दिनों में कमरे में हीटर और ब्लोअर के इस्तेमाल से हवा बहुत शुष्क हो जाती है। इनका इस्तेमाल अगर ना भी किया जाये तो भी ठण्ड के दिनों में कमरे में नमी का स्तर बहुत घट जाता है। वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier) कमरे में पानी के भाप छोड़ता है जिस वजह से कमरे में नमी का स्टार बढ़ जाता है। कमरे में नमी का स्तर बढ़ने से शिशु को साँस लेने में आसानी हो जाता है, और शिशु अच्छी नींद सो पाता है। 

वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier) का रख - रखाव 

अगर आप वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier) को इस्तेमाल करने का विचार कर रहे हैं तो आप को इसके दैनिक रख-रखाव के बारे में भी सोचने की आवशकता पड़गी। 

वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier) cleaning and maintenence

  1. ठण्ड के दिनों में कमरे में नमी का स्तर के बढ़ने से कमरे में राखी वस्तुओं के उप्पर फफूंद लगने की सम्भावना रहती है। इसीलिए वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier) के इस्तेमाल करने के बाद अगले दिन कुछ देर के लिए कमरे की खिड़कियों और दरवाजों को खोल दें ताकि बहार की तजा हवा कमरे में प्रवेश कर सके और कमरे में नमी का स्तर बहार की तुलना में सामान्य हो सके। 
  2. हर दिन वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier) को इस्तेमाल करने से पहले इसे अच्छी तरह से साफ़ कर लें और इसके पानी को बदल दें। कभी भी पुराने पानी का इस्तेमाल न करें। 

स्नानघर (bathroom) को भाप घर (steam room) बना दें 

वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier) के होने से बहुत सहूलियत हो जाती है कमरे में नमी के स्तर को नियंत्रित करने में और बच्चे को भाप देने में। लेकिन अगर आप के पास वापोरीज़ेर या हुमिडिफिएर (vaporizer or humidifier) नहीं है तो भो आप को चिंता करने की कोई आवशकता नहीं है। आप को इसे खरीदने की भी आवशकता नहीं है। 

turn steam room into bathroom स्नानघर को भाप घर बना दें

आप अपने स्नानघर (bathroom) को भाप घर (steam room) में कुछ देर के लिए तब्दील कर सकती हैं। इसके लिए जब आप को अपने बच्चे को भाप दिलाना हो तो स्नानघर (bathroom) में गरम पानी चला के कुछ देर के लिए छोड़ दें। नल से गरम पानी गिरते वक्त पूरा  स्नानघर (bathroom) पानी के भाप से भर जायेगा। आप आप अपने शिशु को  स्नानघर (bathroom) में गोदी में ले के पंद्रह मिनट के लिए बैठ जाएँ। इससे शिशु को जुकाम और बंद नाक की समस्या मैं बहुत आराम मिलना चाहिए। कमरे में भाप की वजह से शिशु के नाक में और छाती में जमा कफ/बलगम (mucus) ढीला होके नाक के रास्ते बहार आ जायेगा। इसे आप सक्शन बल्ब/ड्रॉपर (suction bulb) की सहायता से बहार खिंच लें। 

शिशु के सर को ऊँचा कर के सुलाएं

शिशु के सर को ऊँचा कर के सुलाएं place baby head higher than the feet in nose congestion

बंद नाक की वजह से शिशु को सबसे ज्यादा परेशानी साते समय होती है। अगर आप शिशु के सर को तकिये की सहायता से ऊँचा कर के सुलाएं तो उसे साँस लेने में आसानी होगी। सर सोते समय ऊँचा रखने से नाक में मौजूद बलगम (mucus) साइनस में से बहार आ जायेगा। यह विधि दो साल से बड़े बच्चों के लिए उपयुक्त है। लेकिन अगर आप का शिशु अभी नवजात शिशु है और पलने में सोता है तो यह विधि न अपनाएं। शिशु के आसपास तकिया या कोई भी और वस्तु न रखें - अन्यथा शिशु में SIDS (sudden infant death syndrome) की सम्भावना बढ़ जाती है। 

शिशु का नाक बंद होने पे बहुत सारा तरल आहार और पानी  पिने को दें

शिशु का नाक बंद होने पे बहुत सारा तरल आहार दें give child plenty of water to drink in blocked nose

अपने बच्चे को ढेर सारा पानी पिने के लिए प्रोत्साहित करें। इस बारे में ज्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है की किस तरह ज्यादा पानी पिने से जुखाम में और बंद नाक ठीक होता है - मगर विदेशों में हुए अनेक शोध में यह बात साबित हो गयी है की बंद नाक और जुकाम में पानी पीना बहुत फायदा पहुंचता है। अगर आप का शिशु पानी पीना नहीं चाहता है तो उसे जबस्दस्ती पानी न पिलयें। अगर वो दिन भर में थोड़ा-थोड़ा ही पानी पिता है तो भी उसे फायदा मिलेगा। आप अपने शिशु को ऐसे आहार दे सकती हैं जिस में प्रचुर मात्रा में पानी होता है - जैसे की सूप (soup)।

अपने शिशु को नाक छिनकना सिखाएं

अपने शिशु को नाक छिनकना सिखाएं teach your child to sneeze clear nose

दिन भर में कई बार नाक को छिनकने से नाक और छाती में मौजूद बलगम (कफ - mucus) ख़त्म होता है। शिशु को आप नाक को छिनकना सिखाएं ताकि जब भी उसकी नाक भर जाये वो उसे आसानी से छिनक के साफ़ कर सके। 

Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Kidhealthcenter.com is a participant in the Amazon Services LLC Associates Program, an affiliate advertising program designed to provide a means for us to earn fees by linking to Amazon.com and affiliated sites.
3
Footer