Category: स्वस्थ शरीर

शिशु का घुटनों के बल चलने के फायेदे

By: Admin | 6 min read

आपके मन में यह सवाल आया होगा कि क्या शिशु का घुटने के बल चलने का कोई फायदा है? पैरों पर चलने से पहले बच्चों का घुटनों के बल चलना, प्राकृतिक का एक नियम है क्योंकि इससे शिशु के शारीर को अनेक प्रकार के स्वस्थ लाभ मिलते हैं जो उसके शारीरिक, मानसिक और संवेगात्मक विकास के लिए बहुत जरूरी है।

शिशु का घुटनों के बल चलने के फायेदे

इससे पहले की बच्चे पैरों के बल चलना सीखे, वे घुटनों के बल चलना सीखते हैं।

बच्चों को घुटने के बल चलते देखकर मां बाप को बहुत खुशी मिलती है। एक बार जब बच्चे घुटनों के बल चलना शुरू कर देते हैं तो घर के सभी सदस्यों के लिए यह काफी भागदौड़ का समय होता है और पूरा घर बच्चों की किल्कारियौं से भर जाता है। 

ऐसे में कई बार हो सकता है आपके मन में यह सवाल आया होगा कि क्या शिशु का घुटने के बल चलने का कोई फायदा है?

सच बात तो यह है  कि जब बच्चे घुटनों के बल चलते हैं तो एक प्रकार से उनके शरीर का व्यायाम होता है। उनके पैरों में ताकत आती है और खड़े होकर चलने की क्षमता विकसित होती है।  

लेकिन कई बार,

ऐसे बच्चों को भी देखने को मिलता है जो घुटनों के बल कभी चले ही नहीं,  बल्कि सीधा चलना शुरू कर दिए। ऐसे में हम कई बार यह सोचने को मजबूर हो जाते हैं कि क्या छोटे बच्चों का घुटनों के बल चलना जरूरी है?

 तो चलिए इसमें हम इन्हीं बातों  पर विस्तार से चर्चा करेंगे!

इस लेख में: 

  1. घुटनों के बल चलने से शिशु को स्वास्थ्य लाभ
  2. शिशु के शारीरिक विकास के लिए
  3. घुटने के बल चलना प्रकृति का नियम
  4. दृष्टि और सामंजस्य की क्षमता का विकास
  5. शिशु के मस्तिष्क का विकास
  6. यह  शिशु के आत्मविश्वास को बढ़ाता है

घुटनों के बल चलने से शिशु को स्वास्थ्य लाभ

 पैरों पर चलने से पहले बच्चों का घुटनों के बल चलना,  प्राकृतिक का एक नियम है।  प्रकृति ने यह नियम हम मनुष्यों के लिए इसी उद्देश्य से बनाया है। घुटनों के बल चलने से शिशु को स्वास्थ्य लाभ

पैरों के बल चलने से पहले,  घुटनों के बल चलने से शिशु को अनेक प्रकार के स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं।  शिशु का घुटनों के बल चलना उसके शारीरिक, मानसिक और संवेगात्मक विकास के लिए बहुत जरूरी है।

शिशु के शारीरिक विकास के लिए

जब बच्चे घुटनों के बल चलते हैं तो पैरों के साथ-साथ उनके हाथों का भी इस्तेमाल होता है।  इस तरह शिशु के हाथ और पैर दोनों की हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूती मिलती है साथ ही उनका शरीर लचीला बनता है।  

शिशु के शारीरिक विकास के लिए

जब बच्चे अपने घुटनों के बल चलते हैं तो उनका पैर शरीर को मोड़ना, घुमाना साथ ही चलने और दौड़ने जैसी जरूरी प्रक्रिया को समझता है और सीखता है। 

शिशु जब घुटनों के बल चलना शुरू करता है तो  उसके शरीर को प्रोटीन और कैल्शियम युक्त आहार की आवश्यकता पड़ती है।  

अगर इस समय आप शिशु के आहार में ऐसे भोजन को सम्मिलित करें जिसे प्रचुर मात्रा में चींटियों को प्रोटीन और कैल्शियम मिले तो उसकी हड्डियां मजबूत बनेगी और उसकी मांसपेशियों का विकास बहुत तेजी से होगा।

घुटने के बल चलना प्रकृति का नियम

शिशु के अच्छे मानसिक विकास के लिए यह जरूरी है कि वह खुद चीजों को करके सीखें।  इसी के अंतर्गत प्राकृतिक ने शिशु के लिए घुटनों के बल चलने का नियम निर्धारित किया है।  

वरना इस संसार में ऐसे भी जीव है जो जन्म के तुरंत बाद कूदना शुरू कर देते हैं,  उदाहरण के लिए बकरी, हिरन, गाय इत्यादि। 

घुटने के बल चलना प्रकृति का नियम

जब शिशु पैरों के बल चलता है तो  उसमें गति और  स्थिति के नियमों को समझने की क्षमता बढ़ती है।  इसके  समाज से शिशु अपना संतुलन बनाना सीखना है। 

शिशु किस प्रक्रिया से अपनी आंखों और हाथों की गति में सामंजस्य स्थापित करना भी सीखता है।  घुटनों के बल चलने के दौरान क्योंकि अपने आसपास की चीजों से संबंधित समझ बढ़ती है। 

दृष्टि और सामंजस्य की क्षमता का विकास

 घुटनों के बल चलते वक्त जब शिशु एक स्थान से दूसरे स्थान जाता है तो उसमें आंखों और दृष्टि के नियमों की समझ बढ़ती है।  इसके साथ ही उसकी दृष्टि की क्षमता का विकास होता है।  

दृष्टि और सामंजस्य की क्षमता का विकास

इससे पहले नवजात अवस्था में जब शिशु केवल गोद में रहता था तो वह केवल अपने आसपास की वस्तुओं को दूर से देख सकता था लेकिन घुटनों के बल चलने के दौरान उसमें पास और दूरी की समझ का विकास पड़ता है।  या यूं कहें कि उसमें दूरी से संबंधित समझ का विकास होता है।  

इस समझ के आधार पर वह यह निर्णय करना सीखता है कि उसे किस गति से कहां पर पहुंचना है कि शरीर को नुकसान ना पहुंचे तथा  दूरी के आधार पर एक स्थान से दूसरे स्थान पहुंचने पर कितना समय लगेगा।

शिशु के मस्तिष्क का विकास

बच्चों पर हुए अनेक शोध में यह बात सामने आई है कि बच्चों का दुनियावी चीजों से संबंधित विकास सबसे ज्यादा  बच्चों का घुटने के बल चलने के दौरान हुआ। 

शिशु के मस्तिष्क का विकास

यह शिशु की जिंदगी का वह महत्वपूर्ण पड़ाव है जब शिशु का दाया और बाया मस्तिष्क आपस में सामंजस्य स्थापित करना सीखता है।  

ऐसा इसलिए क्योंकि इस समय शिशु एक साथ कई काम कर रहा होता है जिससे उसके दिमाग के अलग-अलग हिस्सों का इस्तेमाल हो रहा होता है।  

उदाहरण के लिए जब शिशु घुटनों के बल चलता है तो वह अपने हाथ और पैर दोनों का इस्तेमाल करता है तथा तापमान, दूरी, गहराई जैसे ना जाने  अनेक चीजों को भी अपने  तजुर्बे से इस्तेमाल करना सीखता है। इस समय शिशु के दिमाग का विकास अपने चरम पर होता है। 

यह शिशु के आत्मविश्वास को बढ़ाता है

घुटनों के बल चलने से शिशु के आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होती है क्योंकि वह अपनी जिंदगी के बहुत से दैनिक फैसले खुद लेना शुरू करता है।  

यह शिशु के आत्मविश्वास को बढ़ाता है

उदाहरण के लिए दूरी या गहराई के आधार पर वह यह निर्णय लेना शुरू करता है कि उसे किस दिशा में घुटनों के बल आगे बढ़ना है या उसे कब रुकना है। 

इस तरह से उसे हर शारीरिक गतिविधि के लिए कुछ ना कुछ निर्णय लेना पड़ता है।  इस तरह समय  से निर्णय लेने  से उसमें आत्मविश्वास के साथ साथ  सोचने और विचार करने की क्षमता का भी विकास होता है। 

घुटनों के बल चलने के दौरान कई बार बच्चों को चोट भी लगती हो।  इस प्रकार की और दर्द के आधार पर अपने जीवन में फिजिकल। 

जिंदगी के इस प्रकार के छोटे-छोटे  रिस्क उसे आगे चलकर उसमे बड़ा जोखिम लेने का साहस पैदा करते हैं  और साथ ही असफल होने की स्थिति में उसके अंदर पुनः प्रयास करने की समझ और साहस विकसित करते हैं।  इस प्रकार का समय और आत्मविश्वास दोनों आगे चलकर किसी को पैरों के बल चलने में मदद करते हैं। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_0.txt
Footer