Category: शिशु रोग

8 चिन्ह - शिशु में बाइपोलर डिसऑर्डर के ८ चिन्ह

By: Admin | 7 min read

8 लक्षण जो बताएं की बच्चे में बाइपोलर डिसऑर्डर है। किसी बच्चे के व्यवहार को देखकर इस निष्कर्ष पर पहुंचना कि उस शिशु को बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder), गलत होगा। चिकित्सीय जांच के द्वारा ही एक विशेषज्ञ (psychiatrist) इस निष्कर्ष पर पहुंच सकता है कि बच्चे को बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) है या नहीं।

शिशु में बाइपोलर डिसऑर्डर के ८ चिन्ह

बड़ों की तुलना में बच्चों में बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) के लक्षणों को पता करना बहुत मुश्किल काम है।  

ऐसा इसलिए क्योंकि बच्चों का बहुत सा स्वभाव बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) से मिलता-जुलता है।  



For Readers: Diaper पे भारी छुट (Discount) का लाभ उठायें!
Know More>>
*Amazon पे हर दिन discount और offers बदलता है| जरुरी नहीं की यह DISCOUNT कल उपलब्ध रहे|


उदाहरण के लिए सभी बच्चों का मिजाज पल-पल बदलता है।  एक पल में आप उन्हें रोते हुए पाएंगे तो दूसरे ही पल आप उन्हें हंसता और खेलता हुआ पाएंगे। इसका मतलब यह नहीं है कि सभी बच्चे बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder)  से पीड़ित है।

यही वजह है कि किसी बच्चे के व्यवहार को देखकर इस  निष्कर्ष पर पहुंचना कि उस शिशु को बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) है, गलत होगा। चिकित्सीय जांच के द्वारा ही एक विशेषज्ञ (psychiatrist) इस निष्कर्ष पर पहुंच सकता है कि बच्चे को बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) है या नहीं। 

यह भी पढ़ें: बाइपोलर डिसऑर्डर (Bipolar Disorder) के शिकार बच्चे - लक्षण और इलाज

लेकिन यह भी जरूरी है कि अगर बच्चा बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) से ग्रस्त है तो उसकी पहचान जल्द से जल्द हो सके ताकि समय पर उचित चिकित्सा प्रदान की जा सके। 

बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder)  से पीड़ित बच्चों को चिकित्सीय मदद ना मिलने की वजह से उनका मानसिक विकास प्रभावित हो सकता है।  

बच्चों में बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder)  का इलाज जितना प्रभावी तरीके से किया जा सकता है उतना प्रभावी तरीके से व्यस्क में इसका इलाज नहीं किया जा सकता है। 

हम आपको बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder)  के 8 लक्षणों के बारे में बताएंगे जिनके द्वारा आप आसानी से इसकी पहचान कर सकते हैं। 

इस लेख में:

  1. उन्माद भरा स्वभाव (Manic Episodes)
  2. अवसाद से भरा बर्ताव (Depressive Episodes)
  3. गुस्सा और क्रोध (Anger and Rage)
  4. मिजाज में अप्रत्याशित बदलाव (Severe fluctuations in mood)
  5. अत्यधिक प्यार की चाहत
  6. पारिवारिक प्रभाव
  7. बच्चे के व्यक्तित्व पे स्कूल का प्रभाव
  8. लक्षणों में अंतर समझें

अवसाद से भरा बर्ताव

1.  उन्माद भरा स्वभाव (Manic Episodes)

अगर बच्चे का कुछ स्वभाव उन्माद भरा हो, मसलन अत्यधिक घमंडी या अभिमानी या फिर इस तरह से बर्ताव करना कि वह अपने दोस्तों से ज्यादा बेहतर है। 

तथा शारीरिक रूप से ऊर्जा से भरे रहना,  कई कई दिनों तक कम मात्रा में सोने के बावजूद भी पूरी तरह से स्वस्थ देखना, तुरंत सोचना और तुरंत किसी निष्कर्ष पर पहुंच जाना,  जल्दी-जल्दी बातें करना और जोखिम भरे कार्य करना। 

2. अवसाद से भरा बर्ताव (Depressive Episodes)

इन्हीं बच्चों में अगर आपको कुछ समय (या दिनों) पश्चात अवसाद भरा बर्ताव दिखे जैसे कि शारीरिक ऊर्जा में कमी, किसी भी कार्य में मन ना लगना, थकान, ध्यान केंद्रित करने में असमर्थ, भूख में कमी और शारीरिक रूप से बीमार महसूस होना जैसे कि पेट में दर्द, सिरदर्द और मन में बुरे-बुरे ख्याल आना जैसे आत्महत्या इत्यादि।  

यह भी पढ़ें: ADHD शिशु के व्यहार को नियंत्रित किस तरह करें

3. गुस्सा और क्रोध (Anger and Rage)

सभी बच्चों को कभी ना कभी गुस्सा आता है। लेकिन जो बच्चे बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) से ग्रसित हैं उन्हें बहुत ही अत्यधिक तीव्रता वाला गुस्सा आता है। 

गुस्सा और क्रोध

इन्हें गुस्सा इतना ज्यादा आता है कि ये हिंसात्मक हो जाते हैं।  हो सकता है कई बार यह अपने गुस्से को संभाल ना पाए और साथ खेल रहे दूसरे बच्चों पर आक्रमण कर दें या खिलौनों को तोड़ना शुरू करने।  

ऐसा इसलिए क्योंकि बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) से ग्रसित बच्चे अपने गुस्से को नियंत्रित करने में असमर्थ होते हैं।  इनका गुस्सा क्रोध में बदल सकता है जो कई घंटो तक रह सकता है। 

यह भी पढ़ें: 10 TIPS - ADHD में शिशु को इस तरह संभालें 

4. मिजाज में अप्रत्याशित बदलाव (Severe fluctuations in mood)

यूं तो हर बच्चे का मिजाज पल-पल बदलता है। लेकिन बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) पीड़ित बच्चों का मिजाज बार बार बदलता है और जल्दी-जल्दी बदलता है।  

मिजाज में अप्रत्याशित बदलाव

हो सकता है एक पल में यह अत्यधिक नाराज हो और गुस्से में हो और कुछ घंटों बाद यह अत्यधिक खुशमिजाज में हों। दिन भर के दौरान आप इनकी शारीरिक ऊर्जा में कई बार उतार चढ़ाव देख सकते हैं और कई बार इनके मिजाज में बदलाव भी देख सकते हैं। 

इनके मिजाज में अप्रत्याशित बदलाव की वजह से दोस्तों के साथ तथा घर में अन्य लोगों के साथ इन्हें तालमेल बैठाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। 

यह भी पढ़ें: 3 TIPS बच्चों को जिद्दी बन्ने से रोकने के लिए 

5. अत्यधिक प्यार की चाहत

हलाकि बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) के कई लक्षण बच्चों में उतना आम नहीं है जितना कि उनमें गुस्सा और क्रोध (Anger and Rage) का लक्षण। 

अत्यधिक प्यार की चाहत

लेकिन फिर भी अगर सुबह उठने के बाद और रात में सोने से पहले अगर आपका बच्चा  आप से अत्यधिक अपेक्षाएं रखें,  जैसे कि बहुत देर तक गोदी में पड़े रहना चाहे,  या चाहे कि आप बहुत देर तक उसे प्यार करें जैसे कि उसके सिर को सहलाने उसके पैर को मालिश करें इत्यादि,  तो यह भी बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) के लक्षण हो सकते हैं।  

लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि सभी बच्चे इस प्रकार का व्यवहार प्रदर्शित करते हैं -  बस अंतर इतना है कि आम बच्चे इस प्रकार का व्यवहार थोड़ा कम प्रदर्शित करते हैं लेकिन बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) से प्रभावित बच्चे इस प्रकार का व्यवहार थोड़ा ज्यादा प्रदर्शित करते हैं। 

यह भी पढ़ें: ADHD से प्रभावित बच्चों को बनाये SMART इस तरह

6. पारिवारिक प्रभाव

बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) से प्रभावित अधिकांश बच्चों के परिवारिक इतिहास में इस मिजाज संबंधित डिसऑर्डर को पाया गया है।  

पारिवारिक प्रभाव

अगर शिशु के मां बाप में से किसी में भी बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder)  की समस्या है ( या बचपन में रही) तो हो सकता है शिशु को भी इस समस्या  का सामना करना पड़े।  

लेकिन बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) केवल आनुवंशिकी की वजह से ही नहीं होता है -  या और भी कई कारणों से हो सकता है। 

जिस परिवार में बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder)  का कोई इतिहास ना हो,  उस परिवार के बच्चे में भी बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) पाया जा सकता है। 

यह भी पढ़ें: बच्चे में अच्छा व्यहार (Good Behavior) विकसित करने का तरीका

7. बच्चे के व्यक्तित्व पे स्कूल का प्रभाव

स्कूल का माहौल बच्चे के लिए कैसा है,  यह भी बच्चे के व्यवहार को प्रभावित करता है।  स्कूल में अगर बच्चे को प्रोत्साहन मिलता है,  अपनापन मिलता है तो उसका व्यवहार स्कूल में बेहतर होगा।  

जो बच्चे अपने अध्यापकों के चहेते होते हैं स्कूल  के कार्यों में और पढ़ाई में उनका प्रदर्शन भी बेहतर होता है। लेकिन जिन बच्चों को स्कूल में अक्सर अध्यापक डांटते रहते हैं, उन बच्चों का व्यवहार दूसरे बच्चों की तुलना में थोड़ा उग्र होता है।ऐसे बच्चों के मन में हीन भावना पनपने लगती है।  

बच्चे के व्यक्तित्व पे स्कूल का प्रभाव

यह बच्चे पढ़ाई में कमजोर पड़ने लगते हैं, स्कूल के खेलकूद कार्यक्रम में भाग नहीं लेना चाहते हैं, और किसी भी कार्य को करने में इनका मन नहीं लगता है।  

अगर स्कूल की टीचर आपके बच्चे में इस प्रकार के व्यवहार की चर्चा करें तो हो सकता हैआपका शिशु बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) की समस्या से परेशान है।  

ऐसे में आप अपने शिशु के टीचर से बात कर सकती हैं कि ऐसे में शिशु को स्कूल में कैसे उपयुक्त माहौल प्रदान किया जाए।  

आप चाहें तो शिशु के लिए किसी दूसरे स्कूल के विकल्प के लिए भी सोच सकती हैं।  हो सकता है बच्चे की स्कूल को बदलने से उसके लिए माहौल में बदलाव आए।  

तथा इस बदले माहौल में आपके बच्चे का प्रदर्शन बेहतर बने,  और आपका बच्चा बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder)  की समस्या से बाहर निकल पाए। 

यह भी पढ़ें: शिशु बहुत गुस्सा करता है - करें शांत इस तरह

8. लक्षणों में अंतर समझें 

बच्चों में बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder)  से मिलती-जुलती दूसरी समस्याएं भी हो सकती हैं। उदाहरण के लिए ADD।  जो बच्चे ADD  से प्रभावित होते हैं उन्हें कई बार नींद ना आने की समस्या से जूझना पड़ता है।  

लक्षणों में अंतर समझें

कम सोने की वजह से ये बच्चे दूसरे दिन थका हुआ महसूस करते हैं।  लेकिन जिन बच्चों को बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder)  की वजह से नींद ना आने की समस्या का सामना करना पड़ता है, वह बच्चे नहीं सोने के बावजूद दूसरे दिन थका हुआ महसूस नहीं करते हैं।  

आप इन्हें उत्साह और ऊर्जा से भरा हुआ पाएंगे।  लेकिन ADD  से प्रभावित बच्चों में इसी का ठीक उल्टा लक्षण दिखता है मतलब वे अत्यधिक थकान में दिखेंगे। 

ऊपर दिए गए कोई भी लक्षण अगर आपको अपने बच्चे में दिखे तो इसका मतलब जरूरी नहीं है कि आपका बच्चा बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder)  से पीड़ित है।  

लेकिन एक बार आप अपने शिशु को किसी विशेषज्ञ को अवश्य दिखाएं ताकि यह पूरी तरह से निश्चित हो सके कि आपका बच्चा बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) से प्रभावित है या नहीं।  

क्योंकि बचपन में सही इलाज मिलने पर बच्चा पूरी तरह से इस डिसऑर्डर से उभर सकता है।  बड़े होने पर उसके व्यवहार में बदलाव लाना बहुत मुश्किल काम होगा। 

बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder)  से पीड़ित बच्चे और बड़ों को  अपने व्यवहार के कारण समाज में और अपने कार्य क्षेत्र में कई प्रकार की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। 

Most Read

Other Articles

Footer