Category: टीकाकरण (vaccination)

हेपेटाइटिस ‘बी’ वैक्सीन - Schedule, Dose और Side Effects - Reference Guide

By: Vandana Srivastava | 9 min read

हेपेटाइटिस ‘बी’ वैक्सीन (Hepatitis B vaccine) के टीके के बारे में समपूर्ण जानकारी - complete reference guide - हेपेटाइटिस बी एक ऐसी बीमारी है जो रक्त, थूक आदि के माध्यम से होती है। हेपेटाइटिस बी के बारे में कहा जाता है की इसमें उपचार से बेहतर बचाव है इस रोग से बचने के लिए छह महीने के अंदर तीन टीके लगवाएं जाते हैं। विश्व स्वास्थ संगठन का कहना है की दुनिया भर में ढाई करोड़ लोगों को लिवर की गंभीर बीमारी है। हेपेटाइटिस बी से हर साल अत्यधिक मृत्यु होती है, परंतु इस का टीका लगवाने से यह खतरा 95 % तक कम हो जाता है।

हिपेटाइटिस ‘बी’ वैक्सीन

हेपेटाइटिस के कारण हर साल दुनिया भर में कम से कम 14 लाख लोगों की जान जाती है. कई तरह के टीकाकरण अभियानों के बावजूद लोगों में इस बीमारी को लेकर जागरूकता की कमी है

हेपेटाटाइटिस में अलग अलग तरह के संक्रामक रोग होते हैं जिन्हें ए बी सी डी और ई में बांटा गया है। 90 फीसदी मौतें हेपेटाइटिस बी और सी के कारण होती हैं। 

एशिया में होने वाली मौतों की संख्या काफी ज्यादा है। इसमें चीन के बाद भारत दूसरे नंबर पर है। एड्स की तरह हेपेटाइटिस बी और सी वायरस का संक्रमण भी गर्भवती महिला से बच्चे को होता है। 

इसके अलावा संक्रमित सुई और असुरक्षित यौन संबंध बनाने से भी संक्रमण का खतरा रहता है। 

इसीलिए आवश्यक है की हर बच्चे को  टीकाकरण चार्ट - 2018 के अनुसार समय पे टीका लगवाया जाये और बच्चे को तथा देशो को हेपेटाइटिस ‘बी’  की महामारी से बचाया जा सके। 

हेपेटाइटिस बी का टीका - डोज़ (dose) - Schedule of immunization

  1. पहली खुराक जन्म के समय
  2. दूसरी खुराक - 6 सप्ताह (डेढ़ माह ) की उम्र में
  3. तीसरी  खुराक - 6 महीने की उम्र में

हेपेटाटाइटिस वायरस के शरीर में प्रवेश करने के बाद बुखार होता है और मरीज की भूख में कमी आती है। धीरे धीरे यह लीवर को पूरी तरह खराब कर देता है। अब तक इसका कोई इलाज मौजूद नहीं है। ऐसे में शोधकर्ताओं की मांग है कि सावधानी पर ज्यादा ध्यान दिया जाए।

इस लेख में आप सीखेंगे - You will read in this article

प्राकृतिक इम्युनिटी सिस्टम (एंटीबॉडीज) - Natural immune system - Antibody

बच्चे के शरीर में किसी भी बीमारी से बचने के लिए प्राकृतिक सुरक्षा होती है। जिससे इम्युनिटी सिस्टम कहा जाता है। जब बच्चे को कोई बीमारी होती है, तो उससे लड़ने के लिए बच्चे का शरीर रसायनों का उत्पन्न करता है, जिन्हें एंटीबॉडीज नाम से जाना जाता है।

बीमारी का प्रकोप ख़त्म होने के बाद भी ये एंटीबॉडीज बच्चे के शरीर में ही रहते हैं। ये बच्चे के शरीर में उस बीमारी को पैदा करने वाले जीव के प्रति प्रतिरोधित बना देते हैं। यह इम्यून सिस्टम थोड़े समय के लिए या फिर जिंदगी भर भी बच्चे के साथ बनी रह सकती है।

टीकाकरण एंटीबॉडीज बनाने में मदद करते हैं - Vaccination paves way for antibodies development

टीकाकरण के माध्यम से बच्चे का शरीर का सामना बीमारी से कराया जाता है, ताकि उसका शरीर इसके प्रति इम्यून सिस्टम को विकसित कर सके। कुछ टीके बच्चो को मुख के ज़रिये से दिए जाते हैं, वहीं कुछ अन्य सुई के माध्यम से दिए जाते हैं। कुछ की खुराक निश्चित समय पर दी जाती है, उसी में से एक है हेपेटाइटिस बी का टीका।

क्या होता है हेपेटाइटिस बी ? - What is Hepatitis b?

हेपेटाइटिस बी एक ऐसी बीमारी है जो रक्त, थूक आदि के माध्यम से होती है। हेपेटाइटिस बी के बारे में कहा जाता है की इसमें उपचार से बेहतर बचाव है। हेपेटाइटिस बी के कीटाणु का पता लगाने के लिए ब्लड टेस्ट करवाया जाता है।

हेपेटाइटिस बी se लिवर कैंसर

हेपेटाइटिस बी के वैक्सीन की उपयोगिता - Importance of Hepatitis b vaccine

इस रोग से बचने के लिए छह महीने के अंदर तीन टीके लगवाएं जाते हैं। विश्व स्वास्थ संगठन का कहना है की दुनिया भर में ढाई करोड़ लोगों को लिवर की गंभीर बीमारी है। हेपेटाइटिस बी से हर साल अत्यधिक मृत्यु होती है, परंतु इस का टीका लगवाने से यह खतरा 95 % तक कम हो जाता है।

हेपेटाइटिस बी के वैक्सीन

हेपेटाइटिस B का वैक्सीन किन लोगों को और कब लगवाना चाहिए? - Who should get Hepatitis b vaccination? 

हेपेटाइटिस B के वैक्सीन से हेपेटाइटिस B को कम किया जा सकता है। हेपेटाइटिस B की वैक्सीन को अलग से अथवा अन्यव वैक्सीन्स के साथ एक ही टीके में लिया जा सकता है। 1982 से आरंभ करते हुए,  अमेरिका के कुछ बच्चोंथ के लिए,  तथा 1991 में सभी बच्चोंं के लिए रूटीन हेपेटाइटिस B के वैक्सीनेशन के लिए सिफारिश की गई थी।

किन लोगों को हेपेटाइटिस बी का ज्यादा खतरा है

जो लोग पहले से इस्तेमाल की हुई सुई का उपयोग करते हैं। या फिर अपने सुई को दूसरों के साथ बाँटते हैं।

  1. वे स्वस्थ कार्यकर्ता जो निरंतक संक्रमित रक्त के संपर्क में आते या फिर रहते हैं। 
  2. बच्चों को माँ के द्वारा
  3. असुरक्षित सम्भोग से

हेपेटाइटिस बी jaundice - yellow eyes

हेपेटाइटिस बी के लक्षण

जरुरी नहीं की हेपेटाइटिस बी के लक्षण सब में दिखें। फिर भी यहां पर दिए गए कुछ लक्षण हेपेटाइटिस बी के रोगियों में पाए जा सकते हैं। (बिना इन लक्षण के भी हेपेटाइटिस बी के मरीज हो सकते हैं।)

  1. ऊपर दाहिने हाथ के तरफ छाती से पीट तक के क्षेत्र में में दर्द का अनुभव
  2. जी मिचलाना था उलटी होना
  3. भूख का ना लगना
  4. पीलिया (जॉन्डिस)
  5. निरंतर थकान का बना रहना
  6. खुजली
  7. शरीर और आखों का पीला पड़ना 
  8. बुखार
  9. कमजोरी
  10. घुटनो और जोड़ों में दर्द
  11. गहरे पिले रंग का पिशाब (dark color)
  12. मिटटी के रंग का मल (stool)
  13. पेट में सीजन (पेट फूल जाता है) 
  14. वजन में गिरावट

symptoms of hepatitis b

बच्चों को सामान्य रूप से हेपेटाइटिस B की 3 खुराकें दी जाती हैं - Ever child should get three Hepatitis b dose

  • पहली खुराक - जन्मे के समय
  • दूसरी खुराक - 1-2 महीने की उम्र पर
  • तीसरी खुराक - 6-18 महीने की उम्र पर

कुछ बच्चो को इसके अलावा एक खुराक और भी दी जा सकती, जो चौथी खुराक होती है। यह एक ऐसा इंजेक्शन होता है, जिसके अंदर कई प्रकार के बीमारियों से बचने के टीके होते हैं। अगर बचपन में यह टीका नहीं लगता है तो 18 वर्ष की उम्र तक में यह टीका लगवाना पड़ता है। टीका लगवाने से हेपेटाइटिस बी प्रकोप से लंबे समय तक सुरक्षा प्रदान होती है। बल्कि कह सकते हैं की आजीवन आपका बच्चा सुरक्षित रहा सकता है।

What is Hepatitis b

हेपेटाइटिस बी का वैक्सीन किसे नहीं लगवाना चाहिये - Who should not get Hepatitis b vaccination?

हेपेटाइटिस का टीका कुछ स्थिति में नहीं लगवाना चाहिये जैसे

  1. जिससे एलर्जी हो चुकी हो उससे टीका की यह खुराक नहीं देनी चाहिये।
  2. यदि टीका लगवाने के समय बच्चे की तबियत ठीक नहीं है तो, उसके ठीक होने का इंतज़ार करना चाहिये।

किसी भी दवा की भाँति इस टीके के भी गंभीर रिएक्शन हो सकते हैं। ऐसी स्थिति में तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिये।

हेपेटाइटिस बी किस तरह नहीं फैलता है

  1. माँ द्वारा अपने बच्चे को दूध पिलाने के दौरान
  2. एक ही बर्तन और खाने की वस्तुओं को इस्तेमाल करने से 
  3. गले मिलने से
  4. चुम्बन लेने से
  5. हाथ पकड़ने से
  6. खांसने से
  7. नाक छिनकने से
  8. यह झूठे खाने और झूठे पानी से भी नहीं फैलता 

Video: हेपेटाइटिस बीमारी से बचने के तरीके - Precautions to prevent Hepatitis B

Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

बच्चों-मे-सीलिएक
बच्चों-में-स्किन-रैश-शीतपित्त
बच्चे-को-दूध-से-एलर्जी
बच्चों-में-अण्डे-एलर्जी
दस्त-में-शिशु-आहार
टीकाकरण-चार्ट-2018
बच्चों-का-गर्मी-से-बचाव
आयरन-से-भरपूर-आहार
सर्दी-जुकाम-से-बचाव
बच्चों-में-टाइफाइड
बच्चों-में-अंजनहारी
बच्चों-में-खाने-से-एलर्जी
बच्चों-में-चेचक
डेंगू-के-लक्षण
वायरल-बुखार-Viral-fever
बच्चों-का-घरेलू-इलाज
बच्चों-में-न्यूमोनिया
बच्चों-में-यूरिन
बच्चों-में-सर्दी
एंटी-रेबीज-वैक्सीन
चिकन-पाक्स-का-टिका
टाइफाइड-वैक्सीन
शिशु-का-वजन-बढ़ाने-का-आहार
दिमागी-बुखार
येलो-फीवर-yellow-fever

Most Read

गर्भ-में-लड़का-होने-के-लक्षण-इन-हिंदी
बच्चे-का-वजन
टीकाकरण-चार्ट-2018
शिशु-का-वजन-बढ़ाएं
बच्चों-में-यूरिन
बच्चों-को-गोरा-करने-का-तरीका-
कई-दिनों-से-जुकाम
खांसी-की-अचूक-दवा
बंद-नाक
balgam-wali-khansi-ka-desi-ilaj
sardi-jukam
सर्दी-जुकाम-की-दवा
बच्चे-की-भूख-बढ़ाने-के-घरेलू-नुस्खे

Other Articles

क्या कपड़े का मास्क ओमनी क्रोम से बचाने में सक्षम है - Can Cloth Masks Protect You Against Omicron?
कपड़े-का-मास्क-और-ओमनी-क्रोम कोरोना महामारी के इस दौर से गुजरने के बाद अब तक करीब दर्जन भर मास्क आपके कमरे के दरवाजे पर टांगने होंगे। कह दीजिए कि यह बात सही नहीं है। और एक बात तो मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि कम से कम एक बार आपके मन में यह सवाल तो जरूर आया होगा कि क्या कपड़े के बने यह मास्क आपको कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमनी क्रोम से बचा सकता है?
Read More...

गर्भावस्था की खुजली को काबू में करना - घरेलु उपचार
गर्भावस्था-की-खुजली गर्भावस्था में महिलाओं को पेट के साथ साथ स्तनों के पास वाली त्वचा में खुजली का सामना करना पड़ता है। यह इस लिए होता है क्यूंकि गर्भावस्था के दौरान अत्याधिक हार्मोनल परिवर्तन और त्वचा के खिचाव की वजह से महिलाओं की त्वचा अत्यंत संवेदनशील हो जाती है जिस वजह से उन्हें खुजली या अन्य त्वचा सम्बन्धी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। गर्भवती स्त्री के गर्भ में जैसे जैसे शिशु का विकास होता है और वो आकर में बढता है, पेट की त्वचा बहुत स्ट्रेच हो जाती है। पेट पे रक्त संचार भी बढ़ जाता है। पेट की त्वचा के स्ट्रेच होने और रक्त संचार के बढ़ने - दोनों - की वजह से भी पेट में तीव्र खुजली का सामना करना पड़ जाता है। इस लेख में हम आप को विस्तार से बताएँगे की खुजली की समस्या को गर्भावस्था के दौरान किस तरह से कम किया जा सकता है और इनके क्या क्या मुख्या वजह है।
Read More...

बच्चों में माईग्रेन के लक्षण और घरेलु उपचार
बच्चों-में-माईग्रेन-के-लक्षण-और-घरेलु-उपचार बदलते परिवेश में जिस प्रकार से छोटे बच्चे भी माइग्रेन की चपेट में आ रहे हैं, यह जरूरी है कि आप भी इसके लक्षणों को जाने ताकि आप अपने बच्चों में माइग्रेन के लक्षणों को आसानी से पहचान सके और समय पर उनका इलाज हो सके।
Read More...

शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन का प्रभाव
शिशु-में-चीनी-का-प्रभाव मीठी चीनी किसे पसंद नहीं। बच्चों के मन को तो ये सबसे ज्यादा लुभाता है। इसीलिए रोते बच्चे को चुप कराने के लिए कई बार माँ-बाप उसे एक चम्मच चीनी खिला देते हैं। लेकिन क्या आप को पता है की चीनी आप के बच्चे के विकास को बुरी तरह से प्रभावित कर देते है। बच्चों को चीनी खिलाना बेहद खतरनाक है। इस लेख में आप जानेंगी की किस तरह चीनी शिशु में अनेक प्रकार की बिमारियौं को जन्म देता है।
Read More...

कपडे जो गर्मियौं में बच्चों को ठंडा व आरामदायक रखें
कपडे-जो-गर्मियौं-में-बच्चों-को-ठंडा-व-आरामदायक-रखें- गर्मियों में बच्चों के लिए कपड़े खरीदते वक्त रखें इन बातों का विशेष ध्यान। बच्चों का शरीर बड़ों (व्यस्क) की तरह शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में सक्षम नहीं होता है। यही वजह है कि बच्चों को ठंड के मौसम में ज्यादा ठंड और गर्मियों के मौसम में ज्यादा गर्म लगता है। इसीलिए गर्मियों के मौसम में आपको बच्चों के कपड़ों से संबंधित बातों का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है।
Read More...

बच्चों में Learning Disabilities का कारण और समाधान
लर्निंग-डिसेबिलिटी-Learning-Disabilities लर्निंग डिसेबिलिटी (Learning Disabilities) एक आम बात है जिस बहुत से बच्चे प्रभावित देखे जा सकते हैं। इसका समाधान किया जा सकता है। माँ-बाप और अध्यापकों के प्रयास से बच्चे स्कूल में दुसरे बच्चों के सामान पढाई में अच्छा प्रदर्शन दे सकते हैं। लेकिन जरुरी है की उनके अन्दर छुपी प्रतिभा को पहचाना जाये और उचित मार्गदर्शन के दुवारा उन्हें तराशा जाये। इस लेख में आप जानेंगे की लर्निंग डिसेबिलिटी (Learning Disabilities) क्या है और आप अपने बच्चे का इलाज किस तरह से कर सकती हैं।
Read More...

गणतंत्र दिवस पर बच्चों को दें यह सन्देश (essay)
गणतंत्र-दिवस-essay गणतंत्र दिवस एक खुबसूरत अवसर है जिसका लाभ उठाकर सिखाएं बच्चों को आजादी का महत्व और उनमें जगाएं देश के संविधान के प्रति सम्मान। तभी देश का हर बच्चा बड़ा होने बनेगा एक जिमेदार और सच्चा नागरिक।
Read More...

15 आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे शिशु की खांसी की अचूक दवा - Complete Guide
खांसी-की-अचूक-दवा सर्दी के मौसम में बच्चों का बीमार होना स्वाभाविक है। सर्दी और जुकाम के घरेलु उपचार के बारे में सम्पूर्ण जानकारी यहाँ प्राप्त करें ताकि अगर आप का शिशु बीमार पड़ जाये तो आप तुरंत घर पे आसानी से उपलब्ध सामग्री से अपने बच्चे को सर्दी, जुकाम और बंद नाक की समस्या से छुटकारा दिला सकें। आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे शिशु की खांसी की अचूक दवा है।
Read More...

क्या शिशु में एलर्जी के कारण अस्थमा हो सकता है?
-शिशु-में-एलर्जी-अस्थमा एलर्जी से कई बार शिशु में अस्थमा का कारण भी बनती है। क्या आप के शिशु को हर २० से २५ दिनों पे सर्दी जुखाम हो जाता है? हो सकता है की यह एलर्जी की वजह से हो। जानिए की किस तरह से आप अपने शिशु को अस्थमा और एलर्जी से बचा सकते हैं।
Read More...

सरसों के तेल को शरीर पर लगाने से मिलते हैं कई फायदे
सरसों-के-तेल-के-फायदे सरसों का तेल लगभग सभी भारतीय घरों में पाया जाता है क्योंकि इसके फायदे हैं कई। कोई इसे खाना बनाने के लिए इस्तेमाल करता है तो कोई इसे शरीर की मालिश करने के लिए इस्तेमाल करता है। लेकिन यह तेल सभी घरों में लगभग हर दिन इस्तेमाल होने वाला एक विशेष सामग्री है।
Read More...

शिशु potty (Pooping) करते वक्त क्योँ रोता है?
शिशु-potty क्या आप का शिशु potty (Pooping) करते वक्त रोता है। मल त्याग करते वक्त शिशु के रोने के कई कारण हो सकते हैं। अगर आप को इन कारणों का पता होगा तो आप अपने शिशु को potty करते वक्त होने वाले दर्द और तकलीफ से बचा सकती है। अगर potty करते वक्त आप के शिशु को दर्द नहीं होगा तो वो रोयेगा भी नहीं।
Read More...

लौकी की प्यूरी बनाने की विधि - शिशु आहार
लौकी-की-प्यूरी बच्चों के नाजुक पाचन तंत्र में लौकी का प्यूरी आसानी से पच जाता है| इसमें प्रचुर मात्रा में मिनरल्स पाए जाते हैं जैसे की कैल्शियम, मैग्नीशियम और विटामिन A, C. जो बच्चे के पोषण के लिए अच्छा है।
Read More...

झटपट करें त्यार सब्जियों का puree बच्चों के लिए (baby food)
सब्जियों-का-puree---baby-food सब्जियों की puree एक बहुत ही आसान तरीका है झटपट baby food त्यार करने का| बच्चे को हरी सब्जियां खिलाइये, मगर बाजार से baby food खरीद कर नहीं बल्कि ताज़ा घर में बना कर| घर में बने बच्चे के आहार में आप को पता रहेगा की आप के बच्चे के भोजन में क्या-क्या है| बाजार का बना बेबी फ़ूड महंगा भी बहुत होता है| घर पे आप इसे बहुत ही कम कीमत में बना लेंगे|
Read More...

5 महीने का बच्चे की देख भाल कैसे करें
5-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें बच्चे के पांच महीने पुरे करने पर उसकी शारीरिक जरूरतें भी बढ़ जाती हैं। ऐसे में जानकारी जरुरी है की बच्चे के अच्छी देख-रेख की कैसे जाये। पांचवे महीने में शिशु की देखभाल में होने वाले बदलाव के बारे में पढ़िए इस लेख में।
Read More...

3 साल तक के बच्चे का baby food chart
3-years-baby-food-chart-in-Hindi अक्सर माताओं के लिए यह काफी चुनौतीपूर्ण रहता है की बच्चो को क्या दें की उनले बढ़ते शरीर को पोषक तत्वों की उचित खुराक मिल सके। कोई भी नया भोजन जब आप पहली बार बच्चे को देते हैं तो वो नखड़े कर सकता है। ऐसे मैं यह - 3 साल तक के बच्चे का baby food chart आप की मदद करेगा। संतुलित आहार चार्ट
Read More...

बच्चों को सिखाएं प्रेम और सहनशीलता का पाठ
प्रेम-और-सहनशीलता आज के दौर के बच्चे बहुत egocentric हो गए हैं। आज आप बच्चों को डांट के कुछ भी नहीं करा सकते हैं। उन्हें आपको प्यार से ही समझाना पड़ेगा। माता-पिता को एक अच्छे गुरु की तरह अपने सभी कर्तव्योँ का निर्वाह करना चाहिए। बच्चों को अच्छे संस्कार देना भी उन्ही कर्तव्योँ में से एक है।
Read More...

6 माह के बच्चे का baby food chart और Recipe
6-महीने-के-बच्चे-का-आहार बच्चों में आहार शुरू करने की सबसे उपयुक्त उम्र होती है जब बच्चा 6 month का होता है। इस उम्र में बच्चे को दूध के साथ साथ पौष्टिक आहार की भी आवश्यकता पड़ती है। लेकिन पहली बार बच्चों के ठोस आहार शुरू करते वक्त (weaning) यह दुविधा होती है की क्या खिलाएं और क्या नहीं। इसीलिए पढ़िए baby food chart for 6 month baby.
Read More...

कागज का खूबसूरत मोमबत्ती स्टैंड
कागज-का-खूबसूरत-मोमबत्ती-स्टैंड अकॉर्डियन पेपर फोल्डिंग तकनीक से बनाइये घर पे खूबसूरत सा मोमबत्ती स्टैंड| बनाने में आसान और झट पट तैयार, यह मोमबत्ती स्टैंड आप के बच्चो को भी बेहद पसंद आएगा और इसे स्कूल प्रोजेक्ट की तरह भी इस्तेमाल किया जा सकता है|
Read More...

बच्चों में वायरल बुखार: लक्षण और कारण
वायरल-बुखार-Viral-fever वायरल संक्रमण हर उम्र के लोगों में एक आम बात है। मगर बच्चों में यह जायद देखने को मिलता है। हालाँकि बच्चों में पाए जाने वाले अधिकतर संक्रामक बीमारियां चिंताजनक नहीं हैं मगर कुछ गंभीर संक्रामक बीमारियां भी हैं जो चिंता का विषय है।
Read More...

बच्चों में अंजनहारी - क्या सावधानियां बरतनी चाहिए
बच्चों-में-अंजनहारी अंजनहारी को आम तौर पर गुहेरी या बिलनी भी कहते हैं। यह रोग अक्सर बच्चो की आँखों के ऊपरी या निचली परत पर लाल रंग के दाने के रूप में उभर कर सामने आते हैं। अंजनहारी जैसे रोग संक्रमण की वजह से फैलते हैं
Read More...

Copyright: Kidhealthcenter.com