Category: शिशु रोग

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) - बच्चों में बढ़ता प्रकोप – लक्षण कारण और इलाज

Published:12 Jan, 2018     By: Miss Vandana     29 min read

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) से प्रभावित बच्चों को पढाई में बहुत समस्या का सामना करना पड़ता है। ये बच्चे देर से बोलना शुरू करते हैं। डिस्लेक्सिया (Dyslexia) के लक्षणों का इलाज प्रभावी तरीके से किया जा सकता है। इसके लिए बच्चों पे ध्यान देने की ज़रुरत है। उन्हें डांटे नहीं वरन प्यार से सिखाएं और उनकी समस्याओं को समझने की कोशिश करें।


डिस्लेक्सिया (Dyslexia) - बच्चों में बढ़ता प्रकोप – लक्षण कारण और इलाज

डिस्लेक्सिया बच्चों में होने वाली एक आम बीमारी 

डिस्लेक्सिया का बच्चे के बौधिक छमता से कोई लेना देने नहीं है। 

चंचल आँखों वाला और सबका मन मोह लेने वाला गौरव आम तौर पे दिखने में दुसरे बच्चों की ही तरह था। 

लेकिन स्कूल में हर संभव प्रयास के बाद भी जब उसका प्रदर्शन उमीद से काफी कम रहा तो उसकी स्कूल की टीचर ने उसके माँ-बाप को उसे बाल रोग विशेषज्ञ से जांच कराने की सलाह दी। 

शायद उसके माँ बाप को भी इस बात का अंदाजा था क्यूंकि स्कूल का होमवर्क कराने में उन्हें भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। 

बाल रोग विशेषज्ञ ने कई तरह से गौरव का परिक्षण किया। इसमें IQ test भी शामिल थ। 

सबके उपेक्षा के विपरीत गौरव का आईक्यू लेवल 124 आया जो की सामान्य (90-110) से बहुत बेहतर है - यूँ कहें की बहुत ज्यादा है। 

इतने तेज़ और इतने प्रखर बुद्धि वाले गौरव का फिर पढाई में इतना ख़राब प्रदर्शन - आखिर क्योँ?

ऐसा इसलिए क्यूंकि गौरव डिस्लेक्सिया नमक एक डिसऑर्डर (learning disorder) से पीड़ित है। 

डिस्लेक्सिया से पीड़ित बच्चों को आप 10 साल की उम्र में भी अक्षरों को उल्टा-पुल्टा लिखते पाएंगे। 

मौखिक रूप से भले ही वे हर सवाल का जवाब दे सके लेकिन लिखने में उन्हें बहुत परेशानी का सामना करना पड़ता है। 

भारत में हर 10 में से 2 बच्चा डिस्लेक्सिया (Dyslexia) से प्रभावित है

डिस्लेक्सिया एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अनुसार भारत में 15 से 20 प्रतिशत बच्चे डिस्लेक्सिया की समस्या से पीड़ित हैं। यानि की हर पांच में से एक बच्चे में आप को डिस्लेक्सिया के कुछ लक्षण देखने को मिल सकते हैं। 

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) से प्रभावित शिशु

डिस्लेक्सिया की स्थिति बच्चे की दिमाग की बोलने-लिखने की क्षमता को प्रभावित करता है। ये बच्चे एक जैसे सुनने वाले या दिखने वाले अक्षरों में भेद करने में परेशानी महसूस करता है। उदहारण के लिए 6 और 9 में या 21 और 12 में। कई विशेषज्ञ इसे एक आनुवांशिक बीमारी भी मानते हैं। 

डिस्लेक्सिया से प्रभावित बच्चे गणित में, ब्लैकबोर्ड से कॉपी करने में, सही उचारण कर सकने में दिक्कत महसूस करते हैं। वे 'रंग, अक्षर और संख्या जैसी मूल चीजें समझने में परेशानी महसूस करते हैं। इनकी हैंडराइटिंग ख़राब होती हैं, कई बार शब्दों में अक्षरों का क्रम सही नहीं होता है, ध्वनि में अंतर नहीं कर पाते हैं। 'दिशाओं से सम्बंधित भ्रम जैसे की 'दाएं को बाएं समझना और बाएं को दाएं समझना आदि। 

लेकिन इसका इनके बौधिक छमता से कोई लेने देना नहीं है। उम्र के साथ ये दिक्कतें समाप्त हो जाएँगी। 

लेकिन इस समय उन्हें आप की सहारे की आवश्यकता है। उनके हौसले को बुलंद कीजिये, ताकि उनका आत्मविश्वास बना रहे। धीरे धीरे उतना ही पढ़ायें जितना की उनकी छमता अभी ग्रहण करने की है। 

अल्बर्ट आइंस्टीन को तो आप जानती ही होंगी। बचपन में वो भी डिस्लेक्सिया से पीड़ित बच्चे थे। तब कौन कह सकता था की वे बड़े हो कर विश्व प्रसिद्ध वैज्ञानिक बनेंगे। आगे चल कर उन्होंने अपने जीवन में जिस प्रकार का प्रदर्शन दिया, उसे पूरी दुनिया जानती है। 

बच्चा जब छोटा रहता हैं तो उससे पढाई करने में तरह - तरह की परेशानिया नजर आती हैं और वह उनको दूर करने में सक्षम नहीं होता हैं। ऐसे में माता - पिता और उसके शिक्षक तरह - तरह से उसको समझाने का प्रयत्न करते हैं और प्यार और स्नेह से वो इस दिक्कत को दूर करने की कोशिश करते हैं ,जिससे ये बीमारी दूर हो जाती हैं। एक शिक्षक और उसके माता - पिता बच्चे की समस्या को समझते हुए उससे प्रशंसा द्वारा उसके दिमागी हालत को ठीक कर सकते हैं।

आइये जाने डिस्लेक्सिया क्या हैं -

  1. डिस्लेक्सिया क्या है?
  2. डिस्लेक्सिया के लक्षण
  3. डिस्लेक्सिया में क्या करें
  4. पढ़ाते वक्त ये काम कभी ना करें
  5. पीड़ित बच्चों को इस तरह बनायें पढाई में अव्वल
  6. डिस्लेक्सिया के कारण
  7. डिस्लेक्सिया के प्रकार
  8. ट्रामा डिस्लेक्सिस
  9. डिस्लेक्सिस होने से रोका जा सकता हैं

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) क्या है? 

  • डिस्लेक्सिया कोई बीमारी नहीं है और न ही ये कोई मानसिक अयोग्यता है।
  • डिस्लेक्सिया पढ़ने लिखने से सम्बन्धी एक विकार है जिसमें बच्चों को शब्दों को पहचानने, पढ़ने, याद करने और बोलने में परेशानी आती है।
  • वे कुछ अक्षरों और शब्दों को उल्टा पढ़ते हैं और कुछ अक्षरों का उच्चारण भी नहीं कर पाते।
  • उनकी पढ़ने की रफ़्तार और बच्चों की अपेक्षा काफी कम होती है। यह विकार तीन से पंद्रह साल के बच्चों में पाया जाता है।
  • डिस्लेक्सिया को कंट्रोल किया जा सकता है , इसके लिए बच्चों पे ध्यान देने की ज़रुरत है।
  • यह कोई मानसिक बीमारी नहीं है।

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) क्या है

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) के लक्षण 

  1. देर से बोलना शुरू करना 
  2. नए शब्दों को धीमे सीखना 
  3. नर्सरी की कविताओं को सीखने में कठिनाई 
  4. कविताओं वाले खेल खेलने में कठिनाई 
  5. समाये प्रबंधन करने में कठिनाई 
  6. ऊँची आवाज़ में पढ़ने में कठिनाई 
  7. याद रखने में समस्या 
  8. कहानी को संक्षिप्त करने में कठिनाई 
  9. उम्र के हिसाब से अपेक्षित स्तर से कम पढ़ पाना 
  10. तेजी से दिए गए निर्देशों को समझने में कठिनाई 
  11. अक्षरों एवं शब्दों में अंतर करने में कठिनाई 
  12. एक अपरिचित शब्द का उच्चारण करने में कठिनाई 
  13. विदेशी भाषा सीखने की समस्या 
  14. नंबरों को जोड़ने घटाने में समस्या 

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) में क्या करें

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) से प्रभावित बच्चों को पढाई में बहुत समस्या का सामना करना पड़ता है। इसका समाधान ये नहीं है की आप बच्चों को पढाई में ज्यादा मेहनत करने के लिए जोर दें। इसके बदले आप को अपने बच्चे को पढ़ने के तरीकों में बदलाव लाने की जरुरत पड़ेगी। 

आप का बच्चा सामान्य बच्चों से भिन है। आप को उसकी गलतियौं को नजरंदाज करना होगा ताकि आप के बच्चे का मनोबल बना रहे और वो अपने आप में विश्वास ना खोये। 

अगर आप का बच्चा पढ़ी हुई चीजें भूल जाये तो आप उसको hint  दें। फिर भी उसे याद ना आये तो आप उसे उत्तर बता दें – लेकिन बिना दुसरे बच्चों से तुलना किये और बिना डांटे। 

आप के बच्चे के लिए भूल जाना बहुत स्वाभाविक है। इसमें उसकी कोई गलती नहीं है। 

बच्चे से ज्यादा मेहनत कराने से उसमे शायद ही कोई सुधर हो। लेकिन इससे आप का बच्चा हाताश हो जायेगा और पढाई से दूर भागने लगेगा। इससे नुकसान ज्यादा और फायेदा कम होगा। 

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) में बच्चों को पढ़ाते वक्त तस्वीरों और diagrams का इस्तेमाल करें

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) में लिखावट के लेआउट को सामान्य रखें

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) में बच्चे को पढाई सामग्री दूसरी formats में भी दें – जैसे की video और audio

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) में बच्चे को बहुत सरल तरीके से पढाये साफ और साधारण शब्दों का इस्तेमाल करें

पढ़ाते वक्त ये काम कभी ना करें 

कभी कभी पढ़ाते वक्त अनजाने में माँ-बाप ऐसे काम कर जाते हैं जिन की वजह से बच्चों की डिस्लेक्सिया (Dyslexia) की समस्या और बढ़ जाती है। पढ़ाते वक्त बच्चों के साथ निचे दिए काम कभी ना करें। 

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) में बच्चों को बिना चित्रों वाले लम्बे लम्बे अध्याये ना पढाये

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) में शब्दों को ना रंगे तथा underline, italics और capital words का इस्तेमाल ना करें

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) में बच्चे को पिछले अध्याए से स्मरण करने के लिए जोर ना दें

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) में बहुत ज्यादा सही वर्तनी (spellings) पे ध्यान ना दें

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) में एक बार में बच्चे को बहुत ज्यादा पढ़ाने की कोशिश ना करें

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) से पीड़ित बच्चों को इस तरह बनायें पढाई में अव्वल

  1. घर के माहौल को बच्चे के पढाई के लिए अनुकूल बनायें।
  2. बच्चों के साथ हर दिन समय बिताएं। उनसे ढेरों बातें करें। बच्चों के प्रारंभिक जीवन में उनसे बातें करने से उनकी बुद्धि का प्रखर विकास होता है। 
  3. पढाई के लिए एक निश्चित दिनचर्या का निर्धारण करें। डिस्लेक्सिया (Dyslexia) से पीड़ित बच्चे पढाई से भागने की कोशिश करते हैं। क्यूंकि दुसरे बच्चों की तुलना में पढाई उन्हें सहजता से नहीं आती है। निश्चित दिनचर्या का निर्धारण करने से आप को हर दिन बच्चों को पढाई के लिए बाध्य नहीं करना पड़ेगा। एक निर्धारित दिनचर्या के कारण वे निश्चित समय पे (बिना कुढ़कुढ़ये) खुद पढने बैठ जायेंगे।
  4. बच्चों के मेमोरी को बूस्ट करने के उपाये करें। 
  5. घर को इस तरह व्यस्थित करें ताकि बच्चे में पढाई को लेकर रुचि बढे। 
  6. डिस्लेक्सिया (Dyslexia) से पीड़ित बच्चों का पढाई में कमजोर होने की वजह से मनोबल कम रहता है। आप अपने तरफ से वो तरीके अपनाये जिनसे पढाई में बच्चों का मन लगे और उनका आत्मविश्वास बढे। 

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) के कारण 

  • आनुवांशिक करक - कई लोगों में डिस्लेक्सिया जन्म से ही होता है। ऐसा DCDC2 जीन्स में डिफेक्ट होने कारन भी होता है जो रीडिंग परफॉरमेंस से जुड़ा हुआ है 
  • अन्य कारक - कुछ लोगों को पैदा होने के बाद डिस्लेक्सिया होता है।  इस डिस्लेक्सिया का सबसे आम कारण मस्तिष्क की चोट , स्ट्रोक या कुछ अन्य प्रकार का आघात होते हैं।
  • जोखिम कारक -डिस्लेक्सिया का पारिवारिक इतिहास भी हो सकता हैं जहाँ मस्तिष्क के उन हिस्सों में समस्याए जो ,पढ़ने में सक्षम होते हैं।

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) के प्रकार 

  1. प्राथमिक डिस्लेक्सिया - आम तौर पर अक्षर और संख्या पहचान करना , पढ़ना , अंक गणित और अन्य वे गतिविधिया जो मस्तिक के बाये हिस्से से संचारित होती हैं , उनमे ये समस्याए आती हैं।
  2. दुनिया भर के स्कूलों में सामान्य शिक्षक विधियों में मुख्यता बाये तरफ के मस्तिष्क का उपयोग होता हैं। जिसमे डिस्लेक्सिया से ग्रस्त बच्चों को पढाई में समस्या आती हैं। सेकेंडरी डिस्लेक्सिया 
  3. इस डेवलपमेंटल डिस्लेक्सिया जो भ्रूण में मस्तिष्क के विकास में समस्याओं की वजह से होता हैं, जिसमे शब्दों की पहचान और उनकी वर्तनी की समस्याए आती हैं।
  4. हाला की इस स्थिति की कठिनाइया उम्र के साथ सुधर जाती हैं।
  5. बच्चा बच्चपन में डिस्लेक्सिस लक्षण का अनुभव कर सकता हैं परन्तु उचित मार्गदर्शन हो तो  कॉलेज में प्रदर्शन में सुधार आ सकता हैं।
  6. ऐसे बच्चे आमतौर पर ध्वनि विज्ञान में अच्छे होते हैं।

ट्रामा डिस्लेक्सिस (Dyslexia)

एक गंभीर बीमारी ये मस्तिष्क की चोट के कारन होता हैं।

इसके लक्षण छोटे बच्चों में निरंतर फ्लू , सरदी या कान के संक्रमण से सुनने के क्षमता के नुकसान के कारण विकसित हो सकते हैं।

इसमें बच्चे शब्दों की ध्वनि नहीं सुन पाते हैं इसलिए उन्हें शब्द बोलने वर्तनी पढ़ने और लिखने में कठिनाई होती हैं।

बढे बच्चों या वयस्कों में मस्तिष्क की बीमारी की वजह से ट्रामा डिस्लेक्सिया विकसित होता हैं , जो भाषा को समझने क क्षमता को प्रभावित करता हैं।

ये लोग आमतौर पर आघात से पहले पढ़ने - लिखने और शब्दों की वर्तनी करने में ठीक होते हैं।

डिस्लेक्सिस (Dyslexia) होने से रोका जा सकता हैं 

  • डिस्लेक्सिया रोकने के लिए ज्यादा कुछ नहीं किया जा सकता , खासकर अगर ये अनुवांशिक हैं।
  • हालाकी प्रारंभिक चरण में निदान और उपचार शुरू कर दिए जाए तो इसके प्रभाव को कम कर सकते हैं 
  • डिस्लेक्सिया से ग्रस्त बच्चों को जितनी जल्दी विशेष शिक्षक सेवाए मिलती हैं , उतनी ही जल्दी वह पढ़ना लिखना सीखते हैं।

कुछ प्रसिद्ध व्यक्तियों को यह बीमारी थी - अल्बर्ट आइंस्टीन ,थॉमस एडिसन ,पिकासो ,अभिषेक बच्चन ,मोहम्मद अली।


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

टिप्पणी



प्रातिक्रिया दे (Leave your comment)

आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा|

Latest Articles

प्रेग्नेंसी-में-उल्टी-और-मतली

प्रेगनेंसी

प्रेग्नेंसी में उल्टी और मतली अच्छा संकेत है - जानिए क्योँ?

 
यूटीआई-UTI-Infection

प्रेगनेंसी

प्रेग्‍नेंसी में खतरनाक है यूटीआई होना - लक्षण, बचाव और इलाज

 
मॉर्निंग-सिकनेस

प्रेगनेंसी

गर्भावस्था में उल्टी और मतली आना (मॉर्निंग सिकनेस) - घरेलु नुस्खे

 
बच्चों-में-तुतलाने

बच्चों की परवरिश

बच्चों में तुतलाने की समस्या - कारण और आसन घरेलु इलाज

 
जिद्दी-बच्चे

बच्चों की परवरिश

3 TIPS बच्चों को जिद्दी बन्ने से रोकने के लिए

 
बच्चों-पे-चिल्लाना

बच्चों की परवरिश

बच्चों पे चिल्लाना उनके बौधिक विकास को बाधित करता है

 
बोर्ड-एग्जाम

बच्चों की परवरिश

39 TIPS - बोर्ड एग्जाम की तयारी में बच्चों की मदद इस तरह करें

 
बच्चों-का-BMI

शिशु रोग

बच्चों का BMI Calculate करने का तरीका

 
benefits-of-story-telling-to-kids

बच्चों की परवरिश

बच्चों को कहानियां सुनाने के 5 वैज्ञानिक फायेदे

 
ADHD-में-शिशु

स्वस्थ शरीर

10 TIPS - ADHD में शिशु को इस तरह संभालें

 
शिशु-का-वजन-बढ़ाएं

बच्चों का पोषण

21 तरीकों से शिशु का वजन बढ़ाएं (बेहद आसन और घरेलु तरीके)

 
लर्निंग-डिसेबिलिटी-Learning-Disabilities

स्वस्थ शरीर

बच्चों में Learning Disabilities का कारण और समाधान

 
ADHD-शिशु

बच्चों की परवरिश

ADHD शिशु के व्यहार को नियंत्रित किस तरह करें

 
शिशु-को-देशी-घी

बच्चों का पोषण

7 वजह आप को अपने शिशु को देशी घी खिलाना चाहिए

 
गणतंत्र-दिवस-essay

बच्चों की परवरिश

गणतंत्र दिवस पर बच्चों को दें यह सन्देश (essay)

 
एडीएचडी-(ADHD)

शिशु रोग

ADHD से प्रभावित बच्चों को बनाये SMART इस तरह

 
सुभाष-चंद्र-बोस

बच्चों की परवरिश

सुभाष चंद्र बोस की जीवनी से बच्चों को सिखाएं देश भक्ति का महत्व

 
गर्भ-में-लड़का-होने-के-लक्षण-इन-हिंदी

स्वस्थ शरीर

गर्भ में लड़का होने के क्या लक्षण हैं?

 
4-महीने-के-शिशु-का-वजन

स्वस्थ शरीर

4 महीने के शिशु का वजन कितना होना चाहिए?

 
ठोस-आहार

बच्चों का पोषण

बच्चे में ठोस आहार की शुरुआत कब करें: अन्नप्राशन

 
डिस्लेक्सिया-Dyslexia

शिशु रोग

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) - बच्चों में बढ़ता प्रकोप – लक्षण कारण और इलाज

 
Sharing is caring

Most Read Articles
डिस्लेक्सिया-Dyslexia
बच्चों में सर्दी और खांसी के घरेलु उपचार

सर्दी, जुकाम और खाँसी (cold cough and sore throat) को दूर करने के लिए कुछ आसान से घरेलू उपचार

बच्चों-में-सर्दी
शिशु टीकाकरण चार्ट - 2018 Updated

टीकाकरण अभियान का लाभ उठा कर आपने बच्चों को अनेक प्रकार के बीमारियों से बचाएं।

टीकाकरण-चार्ट-2018
बच्चों की त्वचा को गोरा करने का घरेलू तरीका

त्वचा को गोरा और दाग रहित बनाने के लिए घरूले नुश्खे

बच्चों-को-गोरा-करने-का-तरीका-
6 माह के बच्चे का baby food chart और Recipe

6 महीने के बच्चे का आहार - 6 month baby Food Chart-Meal Plan

उलटी-और-दस्त
8 माह के बच्चे का baby food chart और Indian Baby Food Recipe

इस लेख में आप जानेगे की ८ महीने के बच्चे को आहार देने का सही तरीका क्या है।

8-month-baby-food
चार्ट - शिशु के उम्र के अनुसार लंबाई और वजन का चार्ट - Baby Growth Weight & Height Chart

शिशुओं और बच्चों के लिए उम्र के अनुसार लंबाई और वजन का चार्ट डाउनलोड करें (Baby Growth Chart)

Weight-&-Height-Calculator
6 से 12 वर्ष के शिशु को क्या खिलाएं - Indian Baby food diet chart

ठोस भोजन की शुरुआत का सही तरीका - The right way to start solid food in 5 to 6 month old baby

6-से-12-वर्ष-के-शिशु-को-क्या-खिलाएं
7 माह के बच्चे का baby food chart और Indian Baby Food Recipe

यह निर्धारित करने के लिए की बच्चे को सुबह, दोपहर और शाम को क्या खाने को दें।

7-month-के-बच्चे-का-baby-food
13 जुकाम के घरेलू उपाय (बंद नाक) - डॉक्टर की सलाह

बच्चों में बंद नाक की समस्या को बिना दावा के ठीक किया जा सकता है।

बच्चों-में-यूरिन
3 साल तक के बच्चे का baby food chart

अक्सर माताओं के लिए यह काफी चुनौतीपूर्ण रहता है की 3 साल के बच्चे को क्या पौष्टिक आहार दें

बच्चों-में-न्यूमोनिया
शिशु को कई दिनों से जुकाम हो तो यह इलाज करें - 1 Month to 6 Month Baby

शिशु की खांसी, सर्दी, जुकाम और बंद नाक का इलाज आप घर के रसोई (kitchen) में आसानी से मिल जाने वाली सामग्रियों से कर सकती हैं

कई-दिनों-से-जुकाम
नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के तरीके

जानिए की नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के लिए आप को क्या क्या करना पड़ेगा।

शिशु-का-वजन
बच्चों का बिस्तर पर पेशाब करना कैसे रोकें (bed wetting)

बिस्तर पे पिशाब करना (bed wetting) कोई गंभीर समस्या नहीं है और इसे आसानी से हल किया जा सकता है।

बिस्तर-पर-पेशाब-करना
2 साल के बच्चे का शाकाहारी आहार सारणी - baby food chart और Recipe

इस लेख में आप पड़ेंगे दो साल के बच्चे के लिए vegetarian Indian food chart जिसे आप आसानी से घर पर बना सकती हैं।

शाकाहारी-baby-food-chart
बच्चों को ड्राइफ्रूट्स खिलाने के फायदे

शारारिक रूप से स्वस्थ और मानसिक रूप से तेज़ रखने के लिए दें बच्चों को ड्राई फ्रूट्स

बच्चों-के-ड्राई-फ्रूट्स
बच्चों का भाप (स्‍टीम) के दुवारा कफ निकालने के उपाय

भाप (स्‍टीम) एक बहुत ही प्राकृतिक तरीका शिशु को सर्दी और जुकाम (colds, chest congestion and sinusitus) में रहत पहुँचाने का।

कफ-निकालने-के-उपाय
9 माह के बच्चे का baby food chart - Indian Baby Food Recipe

नौ माह का बच्चा आसानी से कई प्रकार के आहार आराम से ग्रहण कर सकता है - शिशु आहार सारणी

9-month-baby-food-chart-
12 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

बढ़ते बच्चों के माँ-बाप को अक्सर यह चिंता रहती है की उनके बच्चे को सम्पूर्ण पोषक तत्त्व मिल पा रहा है की नहीं?

12-month-baby-food-chart
बच्चों को चोट लगने पर प्राथमिक चिकित्सा

तुरंत ही नहीं ईलाज नहीं किया गया तो ये चोट गंभीर घाव का रूप ले लेते हैं

बच्चों-में-स्किन-रैश-शीतपित्त
11 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

11 महीने के बच्चे का आहार सारणी इस तरह होना चाहिए की कम-से-कम दिन में तीन बार ठोस आहार का प्रावधान हो।

बच्चों-में-पेट-दर्द
नवजात शिशु को हिचकी क्यों आता है?

बच्चे गर्भ में रहते वक्त तो हिचकी करते ही हैं, मगर जब वे पैदा हो जाते हैं तो भी हर वक्त उन्हें हिचकी आती है

शिशु-मैं-हिचकी
10 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

दस साल के बच्चे को आहार में क्या खाने को दें - आहार सरणी (food chart)

10-month-baby-food-chart
बच्चों को सर्दी जुकाम से कैसे बचाएं

भारतीय सभ्यता में बहुत प्रकार के घरेलू नुस्खें हैं जिनका इस्तेमाल कर के बच्चों को बिमारियों से बचाया जा सकता है

सर्दी-जुकाम-से-बचाव
बच्चों की नाक बंद होना - सरल उपचार

बहुत ही सरल तरीकों से आप अपने बच्चों के बंद नाक की समस्या को कम कर सकती हैं और उन्हें आराम पहुंचा सकती हैं।

बच्चों-की-नाक-बंद-होना
29 शिशु आहार जो बनाने में आसान

रसोई में जो वस्तुएं पहले से मौजूद हैं उनकी ही मदद से आप बढ़िया, स्वादिष्ट और पौष्टिक शिशु आहार बना सकती हैं।

शिशु-आहार
10 सबसे बेहतरीन तेल बच्चों के मसाज के लिए

शिशु की मालिश में कई तरह के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है और हर तेल की अपनी विशेषता है।

बच्चों-का-मालिश
शिशु मालिश के लिए सर्वोतम तेल

बच्चों की मालिश करने के लिए सबसे बेहतरीन तेल

शिशु-मालिश
शिशु को सर्दी जुकाम से कैसे बचाएं

अगर आप कुछ बातों का ख्याल रखें तो आप के बच्चे सर्दी और जुकाम के संक्रमण से बचे रह सकते हैं।

शिशु-सर्दी
नवजात बच्चे के चेहरे से बाल कैसे हटाएँ

अगर आपके बच्चे के जन्म के समय उसके पुरे शरीर पर महीन बाल हैं तो पढ़िए

बच्चे-के-पुरे-शरीर-पे-बाल
15 आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे शिशु की खांसी की अचूक दवा - Complete Guide

शिशु की सर्दी और जुकाम ठीक करने का घरेलु इलाज

खांसी-की-अचूक-दवा
नेबुलाइजर (Nebulizer) से शिशु के जुकाम का इलाज - Zukam Ka ilaj

नेबुलाइजर (Nebulizer) एक बहुत ही प्रभावी तरीका है शिशु के कफ को और जुखाम को कम करने के लिए।

नेबुलाइजर-Nebulizer-zukam-ka-ilaj
5 महीने का बच्चे की देख भाल कैसे करें

पांचवे महीने में शिशु की देखभाल में होने वाले बदलाव के बारे में पढ़िए इस लेख में।

5-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें
बच्चों में वजन बढ़ाने के आहार

यदि आपका बच्चा कमज़ोर है तो यहां दिए खाद्य वस्तुयों का प्रयोग आपके बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए कारगर होगा।

शिशु-का-वजन-बढ़ाने-का-आहार
ठंड में बच्चों को गर्म रखने के उपाय

कुछ विशेष स्वधानियाँ अगर आप बरतें तो आप का शिशु ठण्ड के दिनों में स्वस्थ और सुरक्षित रह सकता है।

ठण्ड-शिशु
दुबले बच्चे का कैसे बढ़ाए वजन

अपने शिशु का वजन बढ़ने के लिए आप शिशु के लिए diet chart त्यार कर सकते हैं।

शिशु-diet-chart
क्या शिशु को शहद देना सुरक्षित है?

विटामिन और मिनिरल से भरपूर, बढ़ते बच्चों को शहद देने के 8 फायदे हैं।

शहद-के-फायदे
6 से 8 माह के बच्चे के लिए भोजन तलिका

शिशु को ऐसे आहारे देने की आवश्यकता है जिसे उनका पाचन तंत्र आसानी से पचा सके।

भोजन-तलिका
बच्चों में पीलिये के लक्षण पहचाने - झट से

अगर बच्चे में पीलिया रोग के लक्षण दिखे तो इसे बहुत गम्भीरता से लेना चाहिए।

Jaundice-in-newborn-in-hindi
क्योँ कुछ बच्चे कभी बीमार नहीं पड़ते

अगर आप केवल सात बातों का ख्याल रखें तो आप के भी बच्चों के बीमार पड़ने की सम्भावना बहुत कम हो जाएगी।

बच्चे-बीमार
बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा - कारण और उपचार

अगर आप के बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा है तो जानिए की आप को क्या करना चाहिए

बच्चे-का-वजन
सर्दियौं में शिशु को किस तरह Nappy Rash से बचाएं

नवजात शिशु को डायपर के रैशेस से बचने का सरल और प्रभावी घरेलु तरीका।

डायपर-के-रैशेस
मखाने के फ़ायदे | Health Benefits of Lotus Seed - Recipes

मखाना ड्राई फ्रूट से भी ज्यादा पौष्टिक है और छोटे बच्चों के लिए बहुत फायेदेमंद भी।

बच्चों-में-चेचक
टीके के बाद बुखार क्यों आता है बच्चों को?

जानिए की आप किस तरह टीकाकरण के दुष्प्रभाव को कम कर सकती हैं।

How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit