Category: बच्चों का पोषण

शिशु के लिए हानिकारक आहार

Published:13 Aug, 2017     By: Salan Khalkho     6 min read

सावधान - जानिए की वो कौन से आहार हैं जो आप के बच्चों के लिए हानिकारक हैं| बढते बच्चों का शारीर बहुत तीव्र गति से विकसित होता है| ऐसे में बच्चों को वो आहार देना चाहिए जिससे बच्चे का विकास हो न की विकास बाधित हो|


शिशु के लिए हानिकारक आहार dangerous food for children

बच्चे के पहले वर्ष में ठोस आहार की शुरुआत, उसके जीवन का एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।  शिशुओं की प्राकृतिक जिज्ञासा होती है की वे आपके मुंह में जाने वाली सभी चीजों के तरफ आकर्षित हों, मगर आपको ध्यान देना है को आप का बच्चा क्या खाता है। जब आप का बच्चा एक बार 6 month का हो जाता है तब आप उसे तरह तरह के आहार चखने के लिए दे सकते हैं। इससे बच्चे को विभिन प्रकार से स्वाद और आहार के बनावट (texture) के बारे में पता चलेगा। जब आप बच्चे को ठोस आहार देना प्रारंभ करते हैं तो यह जानना बहद जरुरी है की कौन से आहार आप को अपने बच्चे को देना चाहिए और कौन सा नहीं। व्यस्क लोगों का पाचन तंत्र पूरी तरह से विकसित होता है जबकि बच्चों का विकाशील स्थिति में होता है। हम आप को बताएँगे उन खाद्य पदार्थों के बारे में जिसे बाल रोग विशेषज्ञ और स्वास्थ्य विशेषज्ञ बच्चों के देने से मना करते हैं

शहद Honey शिशु आहार baby food

1. शहद 

भारत के कई ऐसे राज्य हैं जहाँ शिशुओं को जन्म के कुछ ही दिनों के अंदर शहद चटाया जाना एक रिवाज है। मगर सच तो यह है की बच्चों को ६ महीने से पूर्व कुछ भी नहीं दिया जाना चाहिए। शहद तो बिलकुल भी नहीं। बच्चे को ६ महीने तो क्या एक साल से पहले नहीं दिया जाना चाहिए। शहद क्लॉस्ट्रिडियम बोटिलिनम बीजाणुओं का एक स्रोत है। ये बीमारी शिशु के आंतों में तेज़ी से बढती है  और शिशु बोटुलिज़्म (infant botulism) में विकसित हो जाती हैं। बड़े बच्चों (older toddlers) का पाचन तंत्र  परिपक्व होता है और इस प्रकार के बोटुलिज़्म (बीमारी) से लड़ सकता हैं। लेकिन एक वर्ष तक की उम्र के बच्चों में यह बीमारी (बैक्टीरिया) गंभीर परिणामों  पैदा कर सकता है। इससे बच्चे को कब्ज और कमजोरी होता है और बच्चा बहुत रोता है। एक बार बच्चे में इस बीमारी का संक्रमण लग जाने पे बच्चा स्तनपान या बोतल से चूसने में कठिनाई  महसूस करता है। अगर आप बच्चे को कुछ मीठा ही देना चाहते हैं तो उसे ताज़े फल खाने को दें। मगर वो भी तब जब आप का बच्चा ६ महीने का हो जाये। 

 

दूध डेयरी उत्पादों शिशु आहार baby food

2. दूध

जीवन के पहले वर्ष के दौरान स्तनपान या फार्मूले दूध पर ही बच्चे को रखें। गाय के दूध और सोया दूध में ऐसा प्रोटीन और मिनरल्स होते हैं जो आपका बच्चा अभी पचा नहीं सकता हैं। अगर आप बच्चे को ये अभी देंगे तो ये आप के बच्चे के अविकसित गुर्दे को नुकसान पहुंचा सकता हैं। इसके अलावा, कुछ बच्चों में  दूध और अन्य डेयरी उत्पादों में मौजूद लैक्टोज के कारण भी पाचन समस्या होती है। जबकि कुछ अन्य बच्चों को दूध के प्रोटीन से एलर्जी हो जाती है, जिससे अल्सर और एलर्जी के अन्य लक्षण पैदा हो सकते हैं। यह भी पाया गया है की गाय के दूध से कुछ बच्चों के आंतों से खून भी आता है जिससे एनीमिया का जोखिम पैदा होता है। 

peanutbutter मूंगफली का मक्खन शिशु आहार baby food in hindi

3. मूंगफली का मक्खन

अखरोट की तरह, मूंगफली का मक्खन गंभीर एलर्जी प्रतिक्रियाओं का कारण हो सकता है। नए माता-पिता को अक्सर यह पता नहीं होता कि मोटे और चिपचिपा खाद्य पदार्थों का एक चम्मच ही काफी हैं बच्चे में घुटन का खतरा पैदा करने के लिए। अपने छोटे बचों को  मूंगफली का मक्खन और उसी तरह के हर खाद्य पदार्थों जो काफी चिपचिपा हो, खाने को न दें। अगर आप का बच्चा मूंगफली का मक्खन खाने के लिए बहुत जिद्द करे तो आप उसे रोटी पे या ब्रेड पे एक पतला परत लगा के दे सकते हैं। मगर बच्चे पे ध्यान बनाये रखें की कहीं इससे भी बच्चे को choking नो हो जाये। आप चाहें तो मूंगफली का मक्खन की अत्यधिक चिपचिपाहट (thick consistency) को कम करने के लिए इसमें apple sauce भी मिला सकते हैं। 

नाइट्रेट्स nitrates vegetables शिशु आहार baby food

4. कुछ सब्जियां

पके और प्यूरी या कच्चे, कुछ सब्जियां जैसे कि बीट्स, पालक, सौंफ़, कोलार्ड साग और lettuce में नाइट्रेट का स्तर बहुत अधिक होता है। एक वर्ष से छोटे शिशुओं के पास नाइट्रेट्स को process करने के लिए पर्याप्त stomach acids नहीं होता हैं। इससे सब्जियां में मौजूद नाइट्रेट्स बच्चों के लिए जानलेवा हो सकता है। नाइट्रेट्स ऑक्सीजन परिवहन की रक्त की क्षमता को कम कर देता हैं। इससे बच्चे में ऑक्सीजन का  स्तर  खतरनाक रूप से गिर जाता है। जिसे ब्लू बेबी सिंड्रोम कहा जाता है। ये सारे सब्जियां अभी फ़िलहाल बच्चे को न दें जब तक की बच्चा एक साल का न हो जाये।  आप अपने बच्चे को पकाया हुआ स्क्वैश (कद्दू), मीठा आलू (शकरकंद), मटर और अन्य (मुलायम) उच्च विटामिन वाले तथा, कम नाइट्रेट वाले सब्जियों के को खाने को दें।

seafood and fish मछली मरकरी murcery शिशु आहार baby food

5. कुछ मछली

मछलियाँ बच्चों के शारीरिक और बौद्धिक विकास के लिए बहुत अच्छी है। ये बच्चों के मस्तिष्क को तेज़ बनती हैं। मगर सावधान - कुछ मछलियाँ आप के बच्चे के लिए अच्छी नहीं हैं। जैसे की मैकेरल, शार्क, सोर्ड मछली और ट्यूना। इन मछलियों में मरकरी का स्तर बहुत ज्यादा होता है। एक वर्ष से कम उम्र के बच्चों के मरकरी का यह स्तर बेहद हानिकारक है। अगर आप अपने बच्चे को किसी प्रकार का समुद्री भोजन देना चाहते हैं तो आप उन्हें flounder, cod, haddock या sole मछली दे सकते हैं। मछलियाँ देते वक्त उनका कांटा भली भांति निकल दें। अपने बच्चे को सप्ताह में एक बार से ज्यादा मछली न दें खाने को। जिन परिवारों में मछलियों (sea food) से एलर्जी का इतिहास रहा है उन परिवारों को अपने छोटे बच्चों को मछलियाँ खाने को नहीं देना चाहिए जब तक की उनका बच्चा दो साल का न हो जाये। अगर परिवार में एलर्जी का इतिहास न भी हो तो भी जब तक की बच्चा तीन साल का न हो जाये उसे shellfish, oysters और lobster खाने को न दें। 

Berries & citrus fruits शिशु आहार baby food

6. बेरीज और खट्टे फल (Berries & citrus)

स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी, रास्पबेरी और ब्लैकबेरी में प्रोटीन होता है जो शिशुओं और छोटे बच्चों को आसानी से पचता नहीं है। संतरे और ग्रेपफ्रूट (grape fruit), अत्यधिक अम्लीय होते हैं और ये बच्चे के डायपर क्षेत्र में या उनके पीठ या चेहरे या पेट पे चकत्ते पैदा कर सकते हैं। इन फलों को आप अपने बच्चे को एक साल के बाद ही दें। लेकिन अगर आपका मन न मने तो आप एक समय में थोड़ी-थोड़ी कर के बच्चे को खाने को दें। जब बच्चे को दें तो यह सुनिश्चित करें बच्चे में कहीं कोई प्रतिक्रिया तो नहीं हो रही है।

salt नमक शिशु आहार baby food

7. नमक

शिशुओं को अपने भोजन में ज्यादा नमक की ज़रूरत नहीं है - एक दिन में 1 ग्राम से कम नमक ही बच्चे को चाहिए। स्तन के दूध और formula milk में इतना नमक होता है की बच्चे के नमक की आवश्यकता को पूरी कर सके। नमक की बड़ी मात्रा से निपटने के लिए बच्चे का गुर्दे (kidneys) पर्याप्त रूप से विकसित नहीं होते हैं। 

बीज और नट Seeds & Nuts शिशु आहार baby food

8. बीज और नट (Seeds & Nuts)

कुछ कारणों से पहले वर्ष में आप अपने बच्चे को बीज और नटों को देने से बचें। ऐसा इसलिए क्यूंकि  न केवल वे अत्यधिक एलर्जीक होते हैं, बल्कि इसलिए भी क्यूंकि हर साल ढेरों बच्चों में choking injuries और मोत का कारण भी बनते हैं। एक वर्षीय के बच्चे का वायुमार्ग (airway) अभी भी बहुत छोटा है, इसलिए सूरजमुखी के बीज जितना छोटा बिज भी आसानी से बच्चे के गले में फंस सकता है। साल, 2008 में हुए एक अध्ययन के मुताबिक, सूरजमुखी का बीज, 5 साल से कम उम्र के बच्चों में, घुटने से होने वाले खतरों का नौवां सबसे आम वजह है। यदि आप अपने बच्चे को इसलिए Seeds & Nuts देना चाहते हैं ताकि उसे प्रोटीन मिल सके तो आप उसे अंडा दें या टोफू के क्यूब्स को दें।

अंगूर grapes शिशु आहार baby food

9. अंगूर 

मीठे और पोषक तत्वों से भरा, अंगूर बच्चों के लिए एक अच्छा नाश्ता है, लेकिन जब तक वे बड़े नहीं होते, उनका पाचन तंत्र इतना सक्षम नहीं होता की अंगूर की सख्त त्वचा को पूरी तरह से पचा सके। और तो और, फल का गोल आकार घुटन का खतरा भी पैदा करता हैं। 

अंडे का सफेद हिस्सा egg white शिशु आहार baby food

10. अंडे का सफेद हिस्सा 

शिशुओं को अंडे पसंद हैं, लेकिन अंडे से बच्चों में गंभीर एलर्जी प्रतिक्रियाएं हो सकती हैं। विशेष रूप से अंडा के सफेद हिस्से से एलर्जी प्रतिक्रियाएं बहुत आम हैं। यदि आप वास्तव में अपने बच्चे को अंडे देना चाहते हैं, तो सफेद हिस्से को अलग करें और पीले भाग को अच्छी तरह से पकाएं (या अंडे उबालें और उसमे से पीले हिस्से को बहार निकल लें)। किसी भी सामान्य एलर्जी वाले खाद्य पदार्थों की तरह - अंडे को भी अकेले ही बच्चे को पहली बार खाने को दें - इस तरह, आप इस बात को देख पाएंगे कि वास्तव में आप के बच्चे मैं अंडे से कोई प्रतिक्रिया हुई है या नहीं।

chocolate चोकलेट शिशु आहार baby food

11. चॉकलेट

चॉकलेट तो हर बच्चे का favourite होता है मगर सावधान। ये जितना खाने में सुखदायक होता है ये उतना ही हानिकर भी है। चॉकलेट में मौजूद कैफीन आपके बच्चे पे विपरीत प्रभाव दाल सकता है। इसके अलावा, एक वर्ष से कम उम्र के बच्चों को चॉकलेट में मौजूद डेयरी, को पचाने में मुश्किल हो सकती है। छोटे और गोलाकार चॉकलेट से बच्चों में घुटन का खतरा भी रहता है।

baby carrot choking hazard शिशु आहार baby food

12. कच्चे गाजर

अंगूर की तरह, कच्चे गाजर का आकार और उसका कडापन छोटे बच्चों के लिए संसार में तीसरा सबसे बड़ा घुटन का कारण है। विशेष रूप से baby carrots, बच्चों के गले में फंसने के लिए सही आकार हैं। बच्चे को बीटा कैरोटीन की दैनिक खुराक देने का सबसे सुरक्षित तरीका है की आप उन्हें गाजर को मैश कर के या गाजर की प्यूरी बना के दें।  बच्चों को celery और कच्चा सेब खाने को दें जब तक की वे एक खरगोश की तरह चबाने न लगें। 

पॉपकॉर्न popcorn शिशु आहार baby food

13. पॉपकॉर्न

यह एक कुरकुरा और  स्वस्थ नाश्ता है, लेकिन यह भी छोटे बच्चों के लिए एक गंभीर घुटन का खतरा पैदा करता है। पोपकोर्न का बाहरी हिस्सा बहुत मुलायम होता है मगर उसके केंद्र का हिस्सा विघटित नहीं होता है। माता-पिता को 12 महीनों से कम उम्र के बच्चों को पॉपकॉर्न नहीं देना चाहिए। वास्तव में, अस्पतालों में छोटे बच्चों के कई ऐसे मामले सामने आते हैं, जहाँ बच्चे ने पॉपकॉर्न के एक टुकड़े के कारण दम तोड़ दिया हो। बाल रोग विशेषज्ञ बच्चों को कम से कम 4 साल का होने तक नाश्ते पर पॉपकॉर्न न देने की सलाह देते हैं।

हार्ड कैंडी और गम hard candy and gums शिशु आहार baby food

14. हार्ड कैंडी और गम

लॉलीपॉप सहित हार्ड कैंडीज, तब तक बच्चों को न दें जब तक की वे अपने दांतों को ब्रश करने में सक्षम न हो जाएँ।  है तब तक सबसे अच्छा देरी होती है। अगर घर में बड़े बच्चे हों तो उन्हें सिखाएं की वे अपने छोटे भाई बहनों के सामने हार्ड कैंडी और गम न खाएं। 


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Latest Articles

khansi-ka-gharelu-upchar

शिशु रोग

12 Tips शिशु की खांसी का घरेलु उपचार - khansi ka gharelu upchar

 
khansi-ka-ilaj

शिशु रोग

बंद नाक में शिशु को सुलाने का आसन तरीका (khansi ka ilaj)

 
sardi-ka-ilaj

शिशु रोग

7 प्राकृतिक औषधि से शिशु की सर्दी का इलाज - Sardi Ka ilaj

 
childrens-day

बच्चों की परवरिश

बाल दिवस पर विशेष लेख - children's day celebration

 
खांसी-की-अचूक-दवा

शिशु रोग

15 आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे शिशु की खांसी की अचूक दवा - Complete Guide

 
khasi-ki-dawa

शिशु रोग

5 घरेलु उपाय शिशु को जुकाम से राहत दिलाने के लिए (khasi ki dawa)

 
बंद-नाक

शिशु रोग

13 जुकाम के घरेलू उपाय (बंद नाक) - डॉक्टर की सलाह

 
जुकाम-के-घरेलू-उपाय

शिशु रोग

5 आसान बंद नाक और जुकाम के घरेलू उपाय

 
कफ-निकालने-के-उपाय

शिशु रोग

बच्चों का भाप (स्‍टीम) के दुवारा कफ निकालने के उपाय

 
ह्यूमिडिफायर-Humidifier

शिशु रोग

ह्यूमिडिफायर (Humidifier) से जुकाम का इलाज - Jukam Ka ilaj

 
पेट्रोलियम-जैली---Vaseline

शिशु रोग

बेबी प्रोडक्ट्स में पेट्रोलियम जैली कहीं कर न दे आप के शिशु को बीमार

 
Khasi-Ke-Upay

शिशु रोग

आराम करने ठीक होता है शिशु का सर्दी जुकाम - Khasi Ke Upay

 
jukam-ki-dawa

शिशु रोग

भाप है जुकाम की दवा और झट से खोले बंद नाक - jukam ki dawa

 
नेबुलाइजर-Nebulizer-zukam-ka-ilaj

शिशु रोग

नेबुलाइजर (Nebulizer) से शिशु के जुकाम का इलाज - Zukam Ka ilaj

 
शिशु-सवाल

शिशु रोग

बच्चों के डॉक्टर से मिलने से पहले इन प्रश्नों की सूचि तयार कर लें

 
खांसी-की-अचूक-दवा

शिशु रोग

बच्चे के बुखार, सर्दी, खांसी की अचूक दवा - Guide

 
पराबेन-(paraben)

शिशु रोग

पराबेन (paraben) क्योँ है शिशु के लिए हानिकारक

 
Khasi-Ki-Dawai

शिशु रोग

घर पे बनाये Vapor rub (वेपर रब) - Khasi Ki Dawai

 
sardi-ki-dawa

शिशु रोग

विटामिन डी है सर्दी जुकाम की दवा - sardi ki dawa

 
खांसी-की-दवा

शिशु रोग

शिशु को बुरी खांसी में दें ये खांसी की दवा

 
सर्दी-जुकाम-की-दवा

शिशु रोग

सर्दी जुकाम की दवा - तुरंत राहत के लिए उपचार

 
Sharing is caring


सर्दी-जुकाम-की-दवा
किस उम्र में शिशु को आइस क्रीम (ice-cream) देना उचित है|

यह जाना बेहद जरुरी है की बच्चे को किस उम्र में आइस क्रीम (ice-cream) दिया जा सकता है।

शिशु-को-आइस-क्रीम
6 से 8 माह के बच्चे के लिए भोजन तलिका

शिशु को ऐसे आहारे देने की आवश्यकता है जिसे उनका पाचन तंत्र आसानी से पचा सके।

भोजन-तलिका
दुबले बच्चे का कैसे बढ़ाए वजन

अपने शिशु का वजन बढ़ने के लिए आप शिशु के लिए diet chart त्यार कर सकते हैं।

शिशु-diet-chart
मखाने के फ़ायदे | Health Benefits of Lotus Seed - Recipes

मखाना ड्राई फ्रूट से भी ज्यादा पौष्टिक है और छोटे बच्चों के लिए बहुत फायेदेमंद भी।

मखाना
भीगे चने खाने के फायदे भीगे बादाम से भी ज्यादा

चने में मिलने वाले यह पोषक तत्व आप के दिमाग को तेज़ करने के साथ ही साथ आप की सुंदरता और चेहरे की रौनक भी बढ़ाते हैं।

भीगे-चने
5 कारण स्तनपान के दौरान शिशु के रोने के

जानिए शिशु के रोने के पांच कारण और उन्हें दूर करने के तरीके।

शिशु-क्योँ-रोता
15 अदभुत फायेदे Vitamin C के

विटामिन सी, या एस्कॉर्बिक एसिड, सबसे प्रभावी और सबसे सुरक्षित पोषक तत्वों में से एक है

Vitamin-C-benefits
विटामिन C का महत्व शिशु के शारीरिक विकास में

जाने की बच्चों के लिए विटामिन सी की कितनी मात्र आवश्यक है और क्योँ?

विटामिन-C
बच्चे के उम्र के अनुसार शिशु आहार - सात से नौ महीने

शिशु के पाचन तंत्र के मजबूत बनने में इस प्रकार के आहार बहुत महत्व पूर्ण भूमिका निभाते हैं।

शिशु-आहार
शिशु में कैल्शियम के कम होने का लक्षण और उपचार

बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास में कैल्शियम एहम भूमिका निभाता है|

शिशु-में-कैल्शियम-की-कमी
29 शिशु आहार जो बनाने में आसान

रसोई में जो वस्तुएं पहले से मौजूद हैं उनकी ही मदद से आप बढ़िया, स्वादिष्ट और पौष्टिक शिशु आहार बना सकती हैं।

शिशु-आहार
शिशु के लिए हानिकारक आहार

जानिए की वो कौन से आहार हैं जो आप के बच्चों के लिए हानिकारक हैं|

हानिकारक-आहार
बच्चों में अंगूर के स्वास्थ्य लाभ

बढते बच्चों में अंगूर से होने वाले फायेदे

अंगूर-के-फायेदे
अंगूर को आसानी से किस तरह छिलें

अब आप बिना समस्या के आसानी से अंगूर का छिलका उत्तार सकेंगे|

6-महीने-के-बच्चे-का-आहार
बच्चों को दूध पीने के फायदे

माँ का दूध बच्चे के शरीर को viruses और bacteria से मुकाबला करने में सक्षम बनता है|

दूध-के-फायदे
10 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

दस साल के बच्चे को आहार में क्या खाने को दें - आहार सरणी (food chart)

10-month-baby-food-chart
9 माह के बच्चे का baby food chart - Indian Baby Food Recipe

नौ माह का बच्चा आसानी से कई प्रकार के आहार आराम से ग्रहण कर सकता है - शिशु आहार सारणी

9-month-baby-food-chart-
2 साल के बच्चे का शाकाहारी आहार सारणी - baby food chart और Recipe

इस लेख में आप पड़ेंगे दो साल के बच्चे के लिए vegetarian Indian food chart जिसे आप आसानी से घर पर बना सकती हैं|

शाकाहारी-baby-food-chart
11 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

11 महीने के बच्चे का आहार सारणी इस तरह होना चाहिए की कम-से-कम दिन में तीन बार ठोस आहार का प्रावधान हो|

11-month-baby-food-chart
8 माह के बच्चे का baby food chart और Indian Baby Food Recipe

इस लेख में आप जानेगे की ८ महीने के बच्चे को आहार देने का सही तरीका क्या है।

8-month-baby-food
12 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

बढ़ते बच्चों के माँ-बाप को अक्सर यह चिंता रहती है की उनके बच्चे को सम्पूर्ण पोषक तत्त्व मिल पा रहा है की नहीं?

12-month-baby-food-chart
2 साल के बच्चे का मांसाहारी food chart और Recipe

इस लेख में आप पड़ेंगे दो साल के बच्चे के लिए non-vegetarian Indian food chart जिसे आप आसानी से घर पर बना सकती हैं|

मांसाहारी-baby-food-chart
सूजी का हलवा है बेहतरीन हिंदुस्तानी baby food

बनाने में यह बेहद आसान और पोषण (nutrition) के मामले में इसका कोई बराबरी नहीं।

सूजी-का-हलवा
घर पे करें त्यार बच्चों का आहार

2 साल से कम उम्र के बच्चों को घर का बना शिशु-आहार (baby food) ही दिया जाना चाहिए।

घर-पे-त्यार-बच्चों-का-आहार
6 माह से पहले ठोस आहार है बच्चे के लिए हानिकारक

समय से पहले बच्चों में ठोस आहार की शुरुआत करने के फायदे तो कुछ नहीं हैं मगर नुकसान बहुत हैं|

6-माह-से-पहले-ठोस-आहार
7 माह के बच्चे का baby food chart और Indian Baby Food Recipe

यह निर्धारित करने के लिए की बच्चे को सुबह, दोपहर और शाम को क्या खाने को दें|

7-month-के-बच्चे-का-baby-food
बच्चों को बचाये एलेर्जी से भोजन के तीन दिवसीय नियम

बच्चों में ठोस आहार शुरू करते वक्त यह सावधानियां बरतें

तीन-दिवसीय-नियम
3 साल तक के बच्चे का baby food chart

अक्सर माताओं के लिए यह काफी चुनौतीपूर्ण रहता है की 3 साल के बच्चे को क्या पौष्टिक आहार दें

3-years-baby-food-chart-in-Hindi
बच्चों को बीमार न कर दे ज्यादा नमक और चीनी का सेवन

बच्चों में जरूरत से ज्यादा नमक और चीनी का सावन उन्हें मोटापा जैसी बीमारियोँ के तरफ धकेल रहा है|

नमक-चीनी
इन चीज़ों की आवशकता पड़ेगी आपको बच्चे में ठोस आहार की शुरुआत करते वक्त

बच्चे को ठोस आहार खिलाने के लिए किन सही वस्तुओं की आवश्यकता पड़ेगी आपको

ठोस-आहार-के-लिए-वस्तुएं
बेबी फ़ूड खरीदते वक्त बरतें यह सावधानियां

बेबी फ़ूड खरीदते वक्त निम्न बातों का रखें ख्याल| चाहे बेबी फ़ूड अच्छे ब्रांड का ही क्यों न हो

बेबी-फ़ूड-खरीदते-वक्त-बरतें-सावधानियां
6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना है खतरनाक

शिशु में पानी की शुरुआत 6 महीने के बाद की जानी चाहिए।

6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
माँ का दूध छुड़ाने के बाद क्या दें बच्चे को आहार

बच्चों में माँ का दूध कैसे छुड़ाएं और उसके बाद उसे क्या आहार दें ?

बच्चे-को-आहार
बच्चों के मजबूत हड्डियों के लिए उत्तम आहार

आहार जिनसे मिले बच्चों को कैल्शियम और आयरन से भरपूर पोषक तत्व

मजबूत-हड्डियों-के-लिए-आहार
6 से 12 वर्ष के शिशु को क्या खिलाएं - Indian Baby food diet chart

ठोस भोजन की शुरुआत का सही तरीका - The right way to start solid food in 5 to 6 month old baby

6-से-12-वर्ष-के-शिशु-को-क्या-खिलाएं
ठोस आहार की शुरुआत

ठोस आहार की शुरुआत करते वक्त कौन सा भोजन कब दिया जाना चाहिये

ठोस-आहार
क्यों होते हैं बच्चें कुपोषण के शिकार?

उचित पोषण न मिलना ही कुपोषण हैं। बच्चों को कुपोषण से बचने का आसान तरीका

बच्चो-में-कुपोषण
क्या शिशु को शहद देना सुरक्षित है?

विटामिन और मिनिरल से भरपूर, बढ़ते बच्चों को शहद देने के 8 फायदे हैं|

शहद-के-फायदे
बच्चों में वजन बढ़ाने के आहार

यदि आपका बच्चा कमज़ोर है तो यहां दिए खाद्य वस्तुयों का प्रयोग आपके बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए कारगर होगा।


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit