Category: शिशु रोग

नवजात के सिर का आकार सही नहीं है। मैं इसे गोल बनाने

Published:08 Sep, 2017     By: Salan Khalkho     3 min read

नवजात बच्चे के खोपड़ी की हड्डियां नरम और लचीली होती हैं ताकि जन्म के समय वे संकरे जनन मार्ग से सिकुड़ कर आसानी से बहार आ सके। अंग्रेज़ी में इसी प्रक्रिया को मोल्डिंग (moulding) कहते हैं और नवजात बच्चे के अजीब से आकार के सर को newborn head molding कहते हैं।


नवजात के सिर का आकार newborn head molding

क्या?

आप के नवजात बच्चे के सर का आकर सही नहीं है?

क्या आप ये सोच रही हैं की आप अपने शिशु का सर गोल किस तरह बना सकती है?

ठहरिये!

बच्चे के सर का आकर अलग-अलग व अजीब सा आकार होना एकदम सामान्य सा बात है।

जी हाँ - नवजात शिशु का सर टेड़े-मेड़े आकार का होना बिलकुल सामान्य सी बात है। 

समय के साथ यह आपने आप ठीक हो जाता है।

आप यही सोच रही होंगी की - 

नवजात बच्चे का सर और छोटे बच्चों का सर क्योँ अजीब सा आकार का होता है?

वो इसलिए क्यूंकि नवजात बच्चे के खोपड़ी की हड्डियां नरम और लचीली होती हैं। ऐसा इसलिए होता है ताकि जन्म के समय वे संकरे जनन मार्ग से सिकुड़ कर आसानी से बहार आ सके। अंग्रेज़ी में इसी प्रक्रिया को मोल्डिंग (moulding) कहते हैं और नवजात बच्चे के अजीब से आकार के सर को newborn head molding कहते हैं।

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

बच्चे का सर कब सामान्य आकर का होगा?

शिशु के सर पे कुछ नरम स्थानों (सॉफ्ट स्पॉट) होते हैं। कुछ समय बाद सर की हड्डियोँ के मिलने के पे ये नरम स्थानों (सॉफ्ट स्पॉट) स्वतः ही भर जायेंगे और बच्चे का सर सामान्य आकर का हो जायेगा। 

छोटे बच्चों के सर पे दो स्थान ऐसे होते हैं जो बाकि स्थानों से नरम होते हैं। इन्हे कलांतराल (fontanel) कहते हैं। शिशु के सर पे पीछे वाला कलांतराल (fontanel) लगभग छह सप्ताह (six weeks) में बंद हो जाता है। दूसरा नरम स्थान सर के सामने वाले भाग में स्थित होता है। यह हिस्सा सर की त्वचा पर हल्के से धंसे हुए हिस्से के रूप में छूने पे महसूस किया जा सकता है। इसे बंद होने या ख़त्म होने में काफी समय लगता है। आम तौर पे देखा गया है की यह कम से कम 18 महीने तो लेते ही है बंद होने में। कुछ बच्चों में ज्यादा समय भी लग सकता है। बच्चे का सर आकर में आने में कम समय लगे या ज्यादा, यह कतई चिंता की बात नहीं है। 

शिशु ब्रेकिसेफेली

शिशु के सर के पीछे का हिस्सा समतल होना (ब्रेकिसेफेली)

कुछ बच्चों के सर के पीछे का हिस्सा समतल होता है। यह भी बहुत आम सी बात है। ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि छोटे बच्चों को अक्सर पीठ के बल सुलाया जाता है ताकि उन्हें अकस्मात शिशु मृत्यु सिंड्रोम (SIDS) के खतरे से बचाया जा सके। 

सर के पीछे के हिस्से के समतल होने के तीन कारण - Three reasons

समय पूर्व जन्मे बच्चे (premature baby) - समय से पहले जन्मे बच्चे की हड्डियां पूरी तरह से विकसित नहीं होती हैं। और जो हड्डियां होती हैं, वो भी बहुत नरम होती हैं। ऐसे में प्रसव (delivery) के दौरान प्रसव नलिका से शिशु के बहार आते वक्त उसके सर का आकर बिगड़ने की सम्भावना ज्यादा रहती है। समय पूर्व जन्मे बच्चे को अपने सर का नियंत्रण सँभालने में भी ज्यादा समय लगता है। इसीलिए जब तक समय पूर्व जन्मे बच्चे (premature baby) थोड़े बड़े नहीं हो जाते, उनके सर का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

जुड़वाँ बच्चों में

अगर गर्भ में एक से ज्यादा बच्चे हैं तो सम्भावना है की सभी बच्चों के सर का आकर थोड़ा मोड़ा टेड़े-मेड़े आकार का होगा। आप को बच्चों के सर का ध्यान देने की आवश्यकता है, मगर यह चिंता का विषय नहीं है। मालिश के द्वारा बच्चे के सर को ठीक करने की कोशिश न करें। 

जुड़वाँ बच्चों में twins fontanel

गर्भ में amniotic fluid (oligohydramnios) का कम होना 

जब माँ के गर्भ में  एमनियोटिक द्रव का स्तर कम होता है तो उस स्थिति में बच्चे को हिलने-डुलने के लिए पर्याप्त स्थान नहीं मिलता है। इस वजह से शिशु गर्भ में उतनी अच्छी स्थिति में नहीं रहता है जितनी की ज्यादा एमनियोटिक द्रव में रहने वाले शिशु होते हैं।

बच्चे के सर के बगल के हिस्से का समतल होना

कभी कभार कुछ बच्चों में सर के साइड का हिस्सा समतल हो सकता है। सर की इस स्तिथि को प्लेजियोसेफेली कहते हैं। इसकी वजह से बच्चे का सर अजीब सा दिख सकता है। मगर यह बिलकुल भी चिंता की बात नहीं है। 

बच्चे के सर के बगल के हिस्से को सामान्य आकर में लाने के लिए क्या करें

  1. जब आप का बच्चा सोता है या खेलता है तब आप उसके सर के स्थिति में बदलाव करते रहिये। हर दिन एक ही स्थिति में दूध न पिलायें। हर दिन एक ही स्थिति में ना सुलाएं। इससे बच्चे के सर को सही आकर में आने में मदद मिलेगी। आप बच्चे को किसी भी स्थिति में सुला सकती हैं मगर ध्यान रखें की आप उसे हमेशा पीट के बल ही सुलाएं। जब बच्चे को आप पीट के बल सुलाएं तो कोशिश करें की सर का वो हिस्सा जो गोल है उसी साइड से बच्चे को सुलाएं। 
  2. बच्चे को बस्तर पे या पलने पे सुलाते वक्त नियमित तौर पर उसके सोने की दिशा को अदला-बदली करती रहे। इससे बच्चा हमेशा एक ही दिशा या स्थिति में नहीं दिखेगा। बच्चे के सोते वक्त उसके पैर उसके पलंग के पैताने को छूने चाहिए जिससे की बच्चे को अकस्मात शिशु मृत्यु सिंड्रोम (SIDS) का खतरा ना हो। 
  3. बच्चे के बिस्तर पे हर समय स्थिति बदल बदल के सुलाने के आलावा आप उसके सभी खिलौनों को हटाकर दूसरी तरफ लगा सकती हैं, जिन्हे आप का शिशु देखना पसंद करता है। 
  4. दिन में जब बच्चा आप की निगरानी में सो रहा हो तब आप उसको करवट लेकर सोने के लिए प्रोत्साहित करें। इस बात का ध्यान रखें की बच्चे की नाक के पास कोई भी वास्तु ना हो जो उसके साँस लेने में अवरोध पैदा करे। 
  5. समय के साथ जैसे जैसे आप के बच्चे के गर्दन की मांसपेशियों मजबूत होने लगे - आप उसे पेट के बल सुलाना शुरू करें। शुरुआत में केवल कुछ मिनिटों (few minutes) के लिए ही सुलाएं। पेट के बल लेटने का यह समय धीरे धीरे बढ़ा कर कम से कम 30 minute का कर सकती हैं आप। 
  6. दिन के समय आप बच्चे को स्लिंग या कैरियर में भी लेके सुला सकती हैं। इससे बच्चे के सर पे उस दौरान कोई भी दबाव नहीं पड़ेगा। बस इस बात का ध्यान रखें की आप के बच्चे का सर इस स्थिति में हो की आप अपना सर निचे कर अपने बच्चे को देख सकें। स्लिंग तना हुआ हो ताकि आपकी पीठ को आधार मिल सके। इस बात का भी ध्यान रखें की बच्चे की ठोड़ी उसकी छाती पर ना लगी हुई हो। 


यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी।



Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Recommended Articles

Sharing is caring

शिशु-क्योँ-रोता
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school
ब्लू व्हेल - बच्चों के मौत का खेल

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

ब्लू-व्हेल
भारत के पांच सबसे महंगे स्कूल

लेकिन भारत के ये प्रसिद्ध बोडिंग स्कूलो, भारत के सबसे महंगे स्कूलों में शामिल हैं| यहां पढ़ाना सबके बस की बात नहीं|

India-expensive-school
6 बेबी प्रोडक्टस जो हो सकते हैं नुकसानदेह आपके बच्चे के लिए

कुछ ऐसे बेबी प्रोडक्ट जो न खरीदें तो बेहतर है

6-बेबी-प्रोडक्टस-जो-हो-सकते-हैं-नुकसानदेह-आपके-बच्चे-के-लिए
6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना है खतरनाक

शिशु में पानी की शुरुआत 6 महीने के बाद की जानी चाहिए।

6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
माँ का दूध छुड़ाने के बाद क्या दें बच्चे को आहार

बच्चों में माँ का दूध कैसे छुड़ाएं और उसके बाद उसे क्या आहार दें ?

बच्चे-को-आहार
छोटे बच्चों को मच्छरों से बचाने के 4 सुरक्षित तरीके

अगर घर में छोटे बच्चे हों तो मच्छरों से बचने के 4 सुरक्षित तरीके।

बच्चों-को-मच्छरों-से-बचाएं
किस उम्र से सिखाएं बच्चों को ब्रश करना

अच्छे दांतों के लिए डेढ़ साल की उम्र से ही अच्छी तरह ब्रशिंग की आदत डालें

बच्चों-को-ब्रश-कराना
बच्चों का लम्बाई बढ़ाने का आसान घरेलु उपाय

अपने बच्चे की शारीरिक लम्बाई को बढ़ाने के लिए इन बातों का ध्यान रखना होगा



बच्चों-का-लम्बाई
रंगहीनता (Albinism) क्या है और यह क्योँ होता है?

अगर आप के शिशु को अल्बिनो (albinism) है तो किन-किन चीजों का ख्याल रखने की आवश्यकता है।

रंगहीनता-(Albinism)
शिशु के पेट दर्द के कई कारण है - जानिए की आप का बच्च क्योँ रो रहा है|

बच्चे के पेट दर्द का सही कारण पता होने पे बच्चे का सही इलाज किया जा सकता है।

पेट-दर्द
शिशु में आहार से एलर्जी - बचाव, कारण और इलाज

आप के शिशु को किसी विशेष आहार से एलर्जी है तो रखें कुछ बातों का विशेष ध्यान

शिशु-एलर्जी
शिशु में अंडे की एलर्जी की पहचान

अगर आप के शिशु को अंडे से एलर्जी की समस्या है तो आप को किन बातों का ख्याल रखने की आवश्यकता है।

अंडे-की-एलर्जी
क्या शिशु में एलर्जी के कारण अस्थमा हो सकता है?

जानिए की किस तरह से आप अपने शिशु को अस्थमा और एलर्जी से बचा सकते हैं।

-शिशु-में-एलर्जी-अस्थमा
शिशु potty (Pooping) करते वक्त क्योँ रोता है?

क्या आप का शिशु potty (Pooping) करते वक्त रोता है। इन वजह से शिशु को potty करते वक्त तकलीफ होती है।

शिशु-potty
बच्चों को Ambroxol Hydrochloride देना है खतरनाक!

जानिए की कब Ambroxol Hydrochloride को देना हो सकता है खतरनाक।

Ambroxol-Hydrochloride
बच्चों को बुखार व तेज दर्द होने पे क्या करें?

तेज़ बुखार और दर्द के द्वारा पैदा हुई विकृति को आधुनिक तकनिकी द्वारा ठीक किया जा सकता है

डिस्टे्रक्टर
ठण्ड में ऐसे करें बच्चों की देखभाल तो नहीं पड़ेंगे बीमार

थोड़ी सी सावधानी बरत कर माँ-बाप बच्चों को कई तरह के ठण्ड के मौसम में होने वाले बीमारियोँ से बच्चों को बचा सकते हैं।

winter-season
अकस्मात शिशु मृत्यु सिंड्रोम (SIDS) - कारण और बचाव

कुछ बातों का ख्याल अगर रखा जाये तो शिशु को SIDS की वजह से होने वाली मौत से बचाया जा सकता है।


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit