Category: Baby food Recipes

झटपट करें त्यार सब्जियों का puree बच्चों के लिए (baby food)

Published:23 Jul, 2017     By: Salan Khalkho     9 min read

सब्जियों की puree एक बहुत ही आसान तरीका है झटपट baby food त्यार करने का| बच्चे को हरी सब्जियां खिलाइये, मगर बाजार से baby food खरीद कर नहीं बल्कि ताज़ा घर में बना कर| घर में बने बच्चे के आहार में आप को पता रहेगा की आप के बच्चे के भोजन में क्या-क्या है| बाजार का बना बेबी फ़ूड महंगा भी बहुत होता है| घर पे आप इसे बहुत ही कम कीमत में बना लेंगे|


सब्जियों का puree बच्चों के लिए (baby food) in hindi

घर की बनी सब्जियों की puree, पोषक तत्वों से भरपूर, बच्चों के स्वास्थ्य के लिए उत्तम और सुरक्षित भी। बाजार का ख़रीदा हुआ baby food में preservatives और added sugar और salt होता है जो 6 to 12 months old babies के लिए अच्छा नहीं है। 

सब्जियों की puree एक बहुत ही आसान तरीका है झटपट baby food त्यार करने का। सबसे अच्छी बात यह है की इस आहार के द्वारा आप के बच्चे को मिलेगा ढेर सारे ताज़े सब्जियों के फायदे। विश्व भर में शिशु आहार विशेषज्ञ इस बात की राय देते हैं की बच्चों में ठोस आहार की शुरुआत ताज़े हरी सब्जियों से करनी चाहिए। ऐसा इसलिए क्योँकि हरी सब्जियां उतनी मीठी नहीं होती जितनी की पिली और लाल सब्जियां होती हैं। छोटे बच्चों को पहले अगर मीठा आहार खिला दिया गया तो बाद में वे कम मीठे आहार में उतनी रूचि नहीं लेंगे। 

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

 

भारत की बात अलग है। हम यहां अपने बच्चों में ठोस आहार की शुरुआत ही मीठे से करते हैं। हमारे यहां परंपरा है "खीर चटाई की"। शायद ही मैंने कभी किसी माँ-बाप को अपने बच्चे से खीर चटाई की रसम के कारण परेशान देखा हो। मेरी तो सभी माँ-बाप से यही राय है की सुने सबकी और करें अपनी समझ से। 

खैर जिस कारण से भी आप अपने बच्चे को हरी सब्जियां खिलाना चाहते हैं, उसे खिलाइये, मगर बाजार से baby food खरीद कर नहीं बल्कि ताज़ा घर में बना कर। घर में बने बच्चे के आहार में आप को पता रहेगा की आप के बच्चे के भोजन में क्या-क्या है। बाजार का बना बेबी फ़ूड महंगा भी बहुत होता है। घर पे आप इसे बहुत ही कम कीमत में बना लेंगे। 

5 प्रकार की घर की बनी सब्जियों की प्यूरी 

  1. गाजर की puree (carrot puree)
  2. बीन्स की puree
  3. मटर की puree (Pea Puree)
  4. कद्दू की puree (Pumpkin Puree)
  5. पालक की puree (Spinach Puree)

गाजर की puree (carrot puree) baby food in hindi

गाजर की puree (carrot puree)

गाजर में अच्छी मात्रा में beta-carotene होता है। इसके साथ ही गाजर अन्य पोषक तत्वों का भंडार भी है। गाजर में विटामिन A होता है जो बच्चों की आँखों के लिए बहुत अच्छा है और बच्चों के शरीर को संक्रमण से बचाता है। गाजर की खूबी यह है की आप इसे आसानी से किसी भी आहार के साथ मिला के बना सकते हैं। जैसे की आप इसे अन्य फलों के साथ, सब्जियों के साथ तथा दूसरे आहारों के साथ मिला के भी खिला सकते हैं। 

गाजर की puree (carrot puree) बनाने के लिए गाजर को खरीदते वक्त medium size का गाजर खरीदें। गाजर उजले नारंगी रंग का हो। दिखने में पुराने गाजर का इस्तेमाल न करें। इसमें nitrates हो सकते है जो बच्चों की सेहत के लिए अच्छा नहीं है। 

गाजर की puree बनाने की विधि baby food in hindi

गाजर की puree बनाने की विधि

  1. गाजर को धो कर छील लें
  2. इसे छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें
  3. एक डेकची में पानी लें और तेज़ आंच पे चढ़ा दें। 
  4. जब पानी उबलने लगे तो आंच धीमी कर दें और उसमे गाजर दाल दें।
  5. 10 से 15 minutes तक उबलने दें, जब तक की गाजर मुलायम न हो जाये। 
  6. जब गाजर मुलायम हो जाये तो, गैस बंद कर दें और गाजर को ठन्डे पानी में डाल दें।
  7. Mixer & Grinder में गाजर को डाल कर बारीक़ पीस लें। 
  8. अगर गाजर का puree बहुत गाढ़ा बन गया हो तो उसमे थोड़ा पानी मिला के हल्का कर दें। 

गाजर की puree को और पौष्टिक और स्वादिष्ट बनाने के लिए आप उसमे निचे दिए गए फल और सब्जियां को भी मिला सकते हैं।

  • ब्रोकोली
  • बोड़ा (beans)
  • Applesauce
  • शताळु (Peach)
  • कद्दू 
  • लौकी
  • गंजी (sweet potato)
  • अरहर की डाल 

बचे हुए गाजर के puree को आप फ्रिज में store भी कर सकते हैं। स्टोर करने के लिए BPA-free containers का इस्तेमाल करें और तीन दिन के अंदर ख़त्म कर लें। 

बीन्स की puree (Green Bean Puree) baby food in hindi

बीन्स की puree (Green Bean Puree or French beans puree)

बीन्स में प्रचुर मात्रा में विटामिन A और fiber होता है। बीेन्स की puree एक बहुत ही बेहतरीन तरीका है बच्चों को हरी सब्जी खिलने का। अगर आप का बच्चा ठोस आहार की शुरुआत होने पे एक ही प्रकार का अनाज कुछ सप्ताह तक बिना किसी दिकत के खा चूका है तो आप उसे हरी सब्जियां देना शुरू कर सकते हैं - मगर अपने डॉक्टर की सलाह पर। बीन्स की puree तो वैसे ही बहुत स्वादिष्ट होती है मगर फिर भी आप इसमें दूसरी सब्जियां मिला के इसे और भी रोचक बना सकती हैं। बच्चे के लिए बीन्स की puree  बनाने के लिए canned green beans का इस्तेमाल न करें। इसमें बहुत अधिक मात्रा में नमक होता है। 

बीन्स की puree बनाने की विधि baby food in hindi

बीन्स की puree बनाने की विधि

  1. बीन्स को पानी में अच्छी तरह धो लें।
  2. शुरू के और अंत के नोकीले सिरे को तोड़ के अलग कर लें।
  3. Cooker में एक सिटी में बीन्स को पका लें।
  4. पके हुए बीन्स को Mixer & Grinder में पीस लें।

अगर आप चाहें तो बीन्स की puree को दही या चावल के साथ मिला के भी खिला सकती हैं। 

बचे हुए बीन्स की puree को आप फ्रिज में store भी कर सकते हैं। स्टोर करने के लिए BPA-free containers का इस्तेमाल करें और तीन दिन के अंदर ख़त्म कर लें। 

मटर की puree (Pea Puree) baby food in hindi

मटर की puree (Pea Puree)

मटर की puree तो वैसे ही बहुत स्वादिष्ट होती है। मगर अगर आप चाहें तो इसे और भी दूसरे सब्जियों के साथ मिला के बना सकती हैं। 

मटर की puree बनाने के लिए आप चाहें तो ताज़ा मटर इस्तेमाल कर सकते हैं और अगर off season चल रहा है तो frozen peas का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। मगर baby food बनाने के लिए canned peas का इस्तेमाल न करें। इसमें बहुत नमक होता है। 

मटर की puree (Pea Puree) बनाने की विधि baby food in hindi

मटर की puree (Pea Puree) बनाने की विधि

  1. मटर को बहते पानी में धो लें।
  2. इसे steamer में 3 से 5 minute तक पका लें, जब तक की मटर मुलायम न हो जाये। मटर के पानी को बहा दें और ठन्डे पानी में धो लें।
  3. Steam किये हुए मटर को food processor या blender की मदद से पीस लें। 
  4. मटर की puree में आवश्यकता अनुसार पानी मिला लें - जब तक की आप की जरुरत के अनुसार घाड़ापन  (consistency) ना मिल जाये। 
कद्दू की puree (Pumpkin Puree) baby food in hindi

 कद्दू की puree (Pumpkin Puree)

Vitamin A, vitamin C, Iron और potassium से भरपूर कद्दू, बच्चों के baby food के लिए बिलकुल उपयुक्त आहार है। इसमें पोषक तत्त्व काफी मात्रा मैं होते हैं और बच्चों को इसका nutty flavor और velvety texture बेहद पसंद आएगा। 

    कद्दू की puree बनाने की विधि baby food in hindi

    कद्दू की puree बनाने की विधि

    1. कद्दू को अच्छे से छील लें और बहते पानी के निचे धो लें। 
    2. इसे एक cooker में डाल लें और तीन सीट तक पका लें। 
    3. Food processor या blender में इसे अच्छी तरह पीस लें। 
    4. कद्दू की puree अगर बहुत गाढ़ी बनी है तो उसमें पानी मिला कर जितनी आवश्यकता हो उतना हल्का कर लें। 
    5. Puree को और स्वादिष्ट बनाने के लिए आप इसमें दूसरी सब्जियां भी मिला सकते हैं। 

    पालक की puree (Spinach Puree) baby food in hindi

     पालक की puree (Spinach Puree)

    अगर आप का बच्चा 8 months का हो गया है, तभी आप पालक की puree को उसके baby food की तरह इस्तेमाल कर सकती हैं। इसमें calcium और antioxidant भरपूर मात्रा मैं होता है। पालक में काफी प्रकार के पोषक तत्त्व होता हैं जो बढ़ते बच्चों के लिए जरुरी हैं। पालक से बच्चों को iron, vitamin A और selenium मिलता है। मगर चूँकि इसमें nitrates की भी कुछ मात्रा होती है इसीलिए इसे बच्चों को moderation में हि दें। 

    पालक की puree बनाने की विधि baby food in hindi

    पालक की puree बनाने की विधि

    1. पालक को भली भांति धो लें। अगर आप ताज़ा पालक इस्तेमाल कर रही हैं तो इसकी दांडियोँ (stem) को निकल दें। 
    2. पालक को 5 minute तक steam में पका लें - जब तक की मुलायम ना हो जाये। 
    3. पानी निकल (drain) कर दें।
    4. Food processor या blender में इसे बारीक़ पीस लें। 
    5. पीसते वक्त आप इसमें पानी या फिर दूध मिला सकते हैं। 

    बच्चों में हमेशा नए आहार को शुरू करते वक्त अपने डॉक्टर की सलाह अवशय ले लें। 




    यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी।



    Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

    Recommended Articles

    Sharing is caring

    शिशु-क्योँ-रोता
    बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

    आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

    teachers-day
    टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

    ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

    film-star-school
    ब्लू व्हेल - बच्चों के मौत का खेल

    अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

    ब्लू-व्हेल
    भारत के पांच सबसे महंगे स्कूल

    लेकिन भारत के ये प्रसिद्ध बोडिंग स्कूलो, भारत के सबसे महंगे स्कूलों में शामिल हैं| यहां पढ़ाना सबके बस की बात नहीं|

    India-expensive-school
    6 बेबी प्रोडक्टस जो हो सकते हैं नुकसानदेह आपके बच्चे के लिए

    कुछ ऐसे बेबी प्रोडक्ट जो न खरीदें तो बेहतर है

    6-बेबी-प्रोडक्टस-जो-हो-सकते-हैं-नुकसानदेह-आपके-बच्चे-के-लिए
    6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना है खतरनाक

    शिशु में पानी की शुरुआत 6 महीने के बाद की जानी चाहिए।

    6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
    माँ का दूध छुड़ाने के बाद क्या दें बच्चे को आहार

    बच्चों में माँ का दूध कैसे छुड़ाएं और उसके बाद उसे क्या आहार दें ?

    बच्चे-को-आहार
    छोटे बच्चों को मच्छरों से बचाने के 4 सुरक्षित तरीके

    अगर घर में छोटे बच्चे हों तो मच्छरों से बचने के 4 सुरक्षित तरीके।

    बच्चों-को-मच्छरों-से-बचाएं
    किस उम्र से सिखाएं बच्चों को ब्रश करना

    अच्छे दांतों के लिए डेढ़ साल की उम्र से ही अच्छी तरह ब्रशिंग की आदत डालें

    बच्चों-को-ब्रश-कराना
    बच्चों का लम्बाई बढ़ाने का आसान घरेलु उपाय

    अपने बच्चे की शारीरिक लम्बाई को बढ़ाने के लिए इन बातों का ध्यान रखना होगा



    बच्चों-का-लम्बाई
    बच्चे के लिए बनाये होममेड शिशु आहार (baby food)

    बढ़ते बच्चे के लिए जो भी पौष्टिक तत्वों की आवश्यकता होती है, वो सब घर का बना शिशु आहार प्रदान करता है|

    homemade-baby-food
    इडली दाल बनाने की विधि - शिशु आहार

    इडली बच्चों के स्वस्थ के लिए बहुत गुण कारी है| इससे शिशु को प्रचुर मात्रा में कार्बोहायड्रेट और प्रोटीन मिलता है|

    इडली-दाल
    वेजिटेबल पुलाव बनाने की विधि - शिशु आहार

    ढेरों सब्जियां के साथ पुलाव बच्चों के लिए विशेष लाभकारी है| बच्चे बड़े चाव से खाते हैं|

    वेजिटेबल-पुलाव
    दही चावल बनाने की विधि - शिशु आहार

    दही चावल या curd rice, तुरंत बन जाने वाला बेहद आसान पौष्टिक तत्वों से भरपूर आहार है|

    दही-चावल
    सूजी उपमा बनाने की विधि - शिशु आहार

    सूजी का उपमा या रवा उपमा बेहद पौष्टिक और बनाने में आसान व्यंजन है

    सूजी-उपमा
    पपीते का प्यूरी बनाने की विधि - शिशु आहार

    अगर आप के बच्चे को कब्ज या पेट से सम्बंधित परेशानी है तो पपीते का प्यूरी सबसे बढ़िया विकल्प है।

    पपीते-का-प्यूरी
    गाजर मटर और आलू से बना शिशु आहार

    गाजर, मटर और आलू से बना यह एक सर्वोतम आहार है 9 महीने के बच्चे के लिए|

    गाजर-मटर-और-आलू-से-बना-शिशु-आहार
    अवोकाडो और केले से बना शिशु आहार

    घर पे आसानी से बनायें अवोकाडो और केले की मदद से पौष्टिक शिशु आहार|

    अवोकाडो-और-केले
    केले का smoothie बनाने की विधि - शिशु आहार

    केला पौष्टिक तत्वों का जखीरा है और शिशु में ठोस आहार शुरू करने के लिए सर्वोत्तम आहार।

    केले-का-smoothie
    अंगूर की प्यूरी - शिशु आहार - Baby Food

    अंगूर से बना शिशु आहार - अंगूर में घनिष्ट मात्र में पोषक तत्त्व होता हैं जो बढते बच्चों के लिए आवश्यक है|


    How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

    Be Active, Be Fit