Category: बच्चों का पोषण

पढाई में तेज़ शिशु चाहिए तो खिलाएं रंग-बिरंगे फल और सब्जियां

By: Salan Khalkho | 5 min read

हर मां बाप चाहते हैं कि उनका बच्चा पढ़ाई में तेज निकले। लेकिन शिशु की बौद्धिक क्षमता कई बातों पर निर्भर करती है जिस में से एक है शिशु का पोषण।अगर एक शोध की मानें तो फल और सब्जियां प्राकृतिक रूप से जितनी रंगीन होती हैं वे उतना ही ज्यादा स्वादिष्ट और पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। रंग बिरंगी फल और सब्जियों में भरपूर मात्रा में बीटा-कैरोटीन, वीटामिन-बी, विटामिन-सी के साथ साथ और भी कई प्रकार के पोषक तत्व होते हैं।

पढाई में तेज़ शिशु चाहिए तो खिलाएं रंग-बिरंगे फल और सब्जियां

चलिए अब हम आपको बताते हैं आहार में रंग बिरंगी फल और सब्जियों को सम्मिलित करने के फायदे:

इस लेख मे :

  1. काले और बैगनी रंग के फल और सब्जियों से मिलते हैं यह फायदे
  2. पीले रंग की सब्जियां
  3. लाल रंग की सब्जियां
  4. सफेद रंग की सब्जियां
  5. हरे रंग की सब्जियां
  6. एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर सब्जियां

काले और बैगनी रंग के फल और सब्जियों से मिलते हैं यह फायदे

काले और बैगनी रंग के फल और सब्जियां जैसे कि बैगन, चौलाई, सिंघाड़े, काला  गाजर आदि में कई प्रकार के फाइटोकेमिकल्स होते हैं जो शिशु की याददाश्त शक्ति को पढ़ाते हैं। 

काले और बैगनी रंग के फल और सब्जियों से मिलते हैं यह फायदे

 यानी अगर आप अपने बच्चों को उनके आहार में  काले और बैगनी रंग के फल और सब्जियां देंगी तो वे आसानी से अपने पाठ को याद कर पाएंगे और इंतिहान में भी अच्छा परफॉर्म करेंगे। 

 साथ ही काली और बैगनी रंग के फल और सब्जियों में आयरन भी प्रचुर मात्रा में होता है जो शरीर में खून की कमी को दूर करता है।  खून शरीर में ऑक्सीजन को  पहुंचाता है। स्वस्थ मस्तिष्क के लिए ऑक्शन की पर्याप्त मात्रा बहुत आवश्यक है।  

खून की कमी के कारण अगर मस्तिष्क को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन ना मिले तो शिशु में कई प्रकार के बौद्धिक क्षमता से आधारित नुकसान हो सकते हैं।  लेकिन ध्यान रहे कि इन सब्जियों को लोहे की कड़ाही में ना पकाएं। 

पीले रंग की सब्जियां

 पीले रंग की सब्जियां जैसे कैप्सिकम (पीला शिमला मिर्च),  नींबू,  पपीता,  केला, बेल, संतरा, अनानास, आदि में विटामिन-सी जैसे एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो शिशु के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं।  शिशु के जन्म के समय उसके अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत कम होती है। 

पीले रंग की सब्जियां

 जब तक शिशु स्तनपान करता है तब तक उसे मां के दूध के द्वारा मां के शरीर की एंटीबॉडी मिलती है जो शिशु के शरीर को रोग मुक्त रखती है और संक्रमण से लड़ती है। जब शिशु ठोस आहार ग्रहण करने लगता है तो फल और सब्जियों में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट शिशु के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाना शुरू करते हैं।  

शिशु के आहार में पीले रंग की सब्जियों को सम्मिलित करने से शिशु  शारीरिक और मानसिक रूप से ज्यादा स्वस्थ रहेगा।  पीले रंग की सब्जियां शिशु के पाचन तंत्र को भी बेहतर बनाए रखती हैं और उसे कब्ज की समस्या से बचाती हैं। पीले रंग की सब्जी में विटामिन सी और कैरोटिनॉइड होता है जो व्यस्क में ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को कम करते हैं। यह शरीर में होने वाली एलर्जी  और सूजन को भी कम करते हैं। 

लाल रंग की सब्जियां

लाल  रंग की सब्जियां जैसे कि टमाटर, गाजर, स्ट्रौबरी, सेब, आदि शिशु के शरीर में मौजूद ऊर्जा के स्तर को सामान्य बनाए रखने में मदद करती है।  लाल रंग की सब्जियों में कई प्रकार के विटामिंस मौजूद होते हैं जिन में विटामिन सी की मात्रा सबसे ज्यादा (63 प्रतिशत) होती है। 

लाल रंग की सब्जियां

लाल रंग के फल और सब्जियों में लाइकोपिन नाम का फाइटोकेमिकल पाया जाता है जो आंखों की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है,  तथा शरीर के आंतरिक शक्ति को या सूरज की किरणों से होने वाले त्वचा के नुकसान को कम करता है।   यह शरीर के उच्च रक्तचाप की समस्या को भी कम करता है और डायबिटीज से जुड़ी समस्याओं से भी शरीर को बचाता है। 

सफेद रंग की सब्जियां

सफेद रंग की सब्जियां जैसे की मशरूम,  लहसुन,  सफेद प्यार,  गोभी,  शलजम, मुली, सफेद बैंगन कई प्रकार के पोषक तत्व जैसे कि एलीसिन फाइटोकेमिकल्स से भरपूर होते हैं।  सेलेनियम एक प्रकार का मिनरल होता है जो मशरूम में अच्छी मात्रा में पाया जाता है। 

सफेद रंग की सब्जियां

 यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियमित करता है जिससे शिशु का शरीर कई प्रकार के ह्रदय रोग से संबंधित बीमारियों से सुरक्षित रहते हैं।  सफेद रंग की सब्जियों में एंटीबैक्टीरियल गुण भी होते हैं जिसकी वजह से बदलते मौसम में यह सब्जियां शिशु के शरीर को संक्रमण से बचाती है।  इस रंग की सब्जियों में एक और खास बात है वह यह है कि सफेद रंग की सब्जियां शरीर से विषैले पदार्थों को निकालने की क्षमता भी रखते हैं। 

हरे रंग की सब्जियां

हरे रंग की सब्जियां लगभग हर मौसम में उपलब्ध रहती हैं और यह शिशु के शरीर को सबसे ज्यादा फायदा पहुंचाती हैं। 

हरे रंग की सब्जियां

 हालांकि  हर रंग की सब्जियां शिशु के शारीरिक और बौद्धिक विकास के लिए आवश्यक हैं।  हरे रंग की सब्जियों में प्रचुर मात्रा में आयरन होता है जो शरीर में खून की मात्रा को बढ़ाते हैं जिससे शिशु को एनीमिया जैसी बीमारी नहीं होती है और शिशु की याद आत क्षमता बेहतर बनती है। 

हरे रंग की सब्जियां शिशु के आंखों की रोशनी को भी बढ़ाती है और दांतो से संबंधित कई प्रकार की बीमारियों को दूर करती है।  हरे रंग की सब्जियां आपके कैंसर से भी बचाव करती है।  हरे रंग की सब्जियों को अगर आप पर पकाकर खाया जाए तो यह ज्यादा फायदा पहुंचाती हैं क्योंकि तेल में इन्हें भूनकर पकाने से इनकी कई पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। 

हरे रंग की सब्जियों में मिनरल्स की भरपूर मात्रा में होते हैं जो मानसिक तनाव कम करते हैं और शिशु के इम्यून सिस्टम यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत बनाते हैं। इसके अलावा हरि रंग की सब्जी में लूटीं नाम का फाइटोकेमिकल पाया जाता है जो लीवर से संबंधित बीमारियों से शिशु की रक्षा करता है इसीलिए डॉक्टर शिशु को नियमित रूप से फल और सब्जियों को खाने की सलाह देते हैं। 

एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर सब्जियां

 हर रंग की सब्जी शिशु के शरीर के लिए महत्वपूर्ण है।  अगर आप किसी को केवल एक ही रंग की सब्जियां देंगे और एक ही प्रकार के आहार हर दिन प्रदान करेंगे तो शिशु में कुपोषण की समस्या फायदा हो जाएगी।

एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर सब्जियां

  क्योंकि ऐसा करने से शिशु को मात्र एक ही प्रकार के पोषण हर दिन मिलेंगे और दूसरे प्रकार के पोषण जो दूसरे फल और सब्जियों में मौजूद हैं वह नहीं मिल पाएंगे जिससे इस प्रकार के पोषण शिशु के शरीर में कम हो जाएंगे और शिशु कुपोषित हो जाएगा। 

इसीलिए अपनी तरफ से यह कोशिश करें कि अपने शिशु को हर प्रकार के फल और सब्जियों खिलाए विशेषकर मौसम के अनुसार उपलब्ध फल और सब्जियां।  विशेष मौसम में उपलब्ध फल और सब्जियां उस विशेष मौसम में शिशु के शारीरिक आवश्यकता के अनुसार पोषक तत्व प्रदान करने में सक्षम होते हैं। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

दाँतों-की-सुरक्षा
6-से-12-वर्ष-के-शिशु-को-क्या-खिलाएं
बच्चों-को-गोरा-करने-का-तरीका-
गोरा-बच्चा
शिशु-diet-chart
खिचड़ी-की-recipe
बेबी-फ़ूड
पौष्टिक-दाल-और-सब्जी-वाली-बच्चों-की-खिचड़ी
पांच-दलों-से-बनी-खिचडी
बेबी-फ़ूड
शिशु-आहार
सब्जियों-की-प्यूरी
भोजन-तलिका
सेरेलक
चावल-का-पानी
सेब-बेबी-फ़ूड
बच्चों-के-लिए-खीर
सेब-पुडिंग
बच्चों-का-डाइट-प्लान
बच्चों-में-भूख-बढ़ने
फूड-प्वाइजनिंग
baby-food
बच्चे-की-भूख-बढ़ाने-के-घरेलू-नुस्खे
अपने-बच्चे-को-कैसे-बुद्धिमान-बनायें
शिशु-को-सुलाने-
एक-साल-तक-के-शिशु-को-क्या-खिलाए
दूध-पिने-के-बाद-बच्चा-उलटी-कर-देता-है----क्या-करें
रोते-बच्चों-को-शांत-करने-के-उपाए
गर्मियों-में-अपने-शिशु-को-ठंडा-व-आरामदायक-कैसे-रखें
सूजी-का-खीर

Most Read

बच्चों-मे-सीलिएक
बच्चों-में-स्किन-रैश-शीतपित्त
बच्चों-में-अण्डे-एलर्जी
बच्चे-को-दूध-से-एलर्जी
दस्त-में-शिशु-आहार
टीकाकरण-चार्ट-2018
बच्चों-का-गर्मी-से-बचाव
आयरन-से-भरपूर-आहार
सर्दी-जुकाम-से-बचाव
बच्चों-में-टाइफाइड
बच्चों-में-अंजनहारी
बच्चों-में-खाने-से-एलर्जी
बच्चों-में-चेचक
डेंगू-के-लक्षण
बच्चों-में-न्यूमोनिया
बच्चों-का-घरेलू-इलाज
बच्चों-में-यूरिन
वायरल-बुखार-Viral-fever
बच्चों-में-सर्दी
एंटी-रेबीज-वैक्सीन
चिकन-पाक्स-का-टिका
टाइफाइड-वैक्सीन
शिशु-का-वजन-बढ़ाने-का-आहार
दिमागी-बुखार
येलो-फीवर-yellow-fever
हेपेटाइटिस-बी
हैजा-का-टीकाकरण---Cholera-Vaccination
बच्चों-का-मालिश
गर्मियों-से-बचें
बच्चों-का-मालिश
बच्चों-की-लम्बाई
उल्टी-में-देखभाल
शहद-के-फायदे
बच्चो-में-कुपोषण
हाइपोथर्मिया-hypothermia
ठोस-आहार
बच्चे-क्यों-रोते
टीके-की-बूस्टर-खुराक
टीकाकरण-का-महत्व
बिस्तर-पर-पेशाब-करना
अंगूठा-चूसना-
नकसीर-फूटना
बच्चों-में-अच्छी-आदतें
बच्चों-में-पेट-दर्द
बच्चों-के-ड्राई-फ्रूट्स
ड्राई-फ्रूट-चिक्की
विटामिन-C

Other Articles

Footer