Category: बच्चों की परवरिश

बच्चों में संगति का बड़ा गहरा प्रभाव पड़ता है

Published:12 Aug, 2017     By: Vandana Srivastava     6 min read

संगती का बच्चों पे गहरा प्रभाव पड़ता है| बच्चे दोस्ती करना सीखते हैं, दोस्तों के साथ व्यहार करना सीखते हैं, क्या बात करना चाहिए और क्या नहीं ये सीखते हैं, आत्मसम्मान, अस्वीकार की स्थिति, स्कूल में किस तरह adjust करना और अपने भावनाओं पे कैसे काबू पाना है ये सीखते हैं| Peer relationships, peer interaction, children's development, Peer Influence the Behavior, Children's Socialization, Negative Effects, Social Skill Development, Cognitive Development, Child Behavior


बच्चों में संगति ka prabhav - influence of peers in children Peer relationships, peer interaction

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। समाज से प्रथक होकर रहना उसके लिए बहुत कठिन है। समाज में विविध प्रकृति एवम रुचियों के व्यक्ति रहते हैं। घर के बाहर, सड़कों पर, स्कूल में, सभा में, विभिन्न लोगों के साथ, विभिन्न व्यवहार करना होता है। मनुष्य सबसे कमजोर प्राणी होता है। बिना संगति के एकाकी जीवन व्यतीत नहीं करता। जन्म के कुछ समय के बाद सुरक्षा के रूप में संबल की आवश्यकता पड़ती है। एक लंबी आयु तक माता - पिता के आश्रय की आवश्यकता पड़ती है। इस के बाद वह विभिन्न संबलों के सहारे आगे बढ़ता है, आजीवन दूसरों के सहारे जीता है, इसलिए वह स्वभावता संगति पसंद होता है।

इस लेख में:


बच्चों के अच्छी संगती सुनिश्चित करने में अभिभावकों का योगदान 

बच्चा जब- तक माता पिता के संपर्क में रहता है, तब तक पारिवारिक संस्कार उसपर  प्रभावी रहते हैं। जैसे ही वह परिवार से निकलकर बाह्य समाज में पदार्पण करता है, उस पर सर्वप्रथम संगति का प्रभाव पड़ता है।  जिन व्यक्तियों का प्रभाव उस पर सबसे पहले पड़ता है। वह उसी के प्रभाव को ग्रहण कर लेता है। अगर बच्चा सबसे पहले बुरे संगती के प्रभाव में आता है तो उसके जीवन पे बुरा प्रभाव पड़ता है। और अगर बच्चा अच्छे संगती में आता है तो उसके जीवन पे अच्छा प्रभाव पड़ता है। ये माँ-बाप की जिमेदारी है की देखें की उनका बच्चा बाल अवस्था से ले के युवा अवस्था तक किन लोगों की संगती मैं है। जिन लोगों का बचपन अच्छे बच्चों के संगती में बीतता, वे युवा अवस्था में और बाकि के जिंदगी में भी अच्छी संगती में ही रहना पसंद करते हैं। बच्चों के जीवन में किस संगती का जायदा प्रभाव पड़ा, ये बहुत हद तक माँ-बाप पे निर्भर करता है। माँ-बाप को हमेशा बच्चों को अच्छी संगती में रहने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। बच्चों में सोचने - समझने की छमता नहीं होती है। माँ-बाप अपनी मेहनत से बच्चों को अच्छे और बुरे संगती में फर्क करना सिखाते हैं। 

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

 

teach children to differentiate between right and wrong

बच्चों में बुरे संगती का प्रभाव 

जो माँ-बाप अपने बच्चो को अच्छे और बुरे संगती में फर्क करना नहीं सिखाये उनके बच्चे जब युवा अवस्था में पहुँचते हैं तो उनमे सोचने समझने की क्षमता नहीं होती है, इस प्रकार जो उसे पसंद आता है, मित्रता कर लेता है। उचित अनुचित की परख न होने के कारण वह कुसंगति में शीघ्रता से पड़ जाता है। खेल - खेल में, हंसी-मजाक में, जोश में, प्रथम अनुभव ही उसके जीवन को चौपट कर देता है। कुसंगति का प्रभाव शीघ्रता से युवा मन में अपनी जड़े जमा लेता है। उसे अपनी गलती की अनुभूति तब होती है, जब बुराइयों में डूब जाता है। - इन सब में माँ-बाप का भी दोष है।  दुःख होता है ऐसे बच्चों और युवाओं के बारे मैं सोच कर। काश इन बच्चों के माँ-बाप ने अपनी जिमेदारी समझी होती। 

बच्चों में अच्छे संगती का प्रभाव 

अच्छे व्यक्तियों की संगति हमेशा अच्छी होती है, अच्छी संगति का जीवन में बहुत महत्व होता है। समाज के निर्माण में, मनुष्य के निर्माण में अच्छी संगति का बहुत योगदान है।सभी मंगलकारी कार्यों का मूल्य सत्संगति है। जैसी संगति में बच्चा उठता - बैठता है, उसी के  समझ गए उसी के अनुरूप उसका मूल्यांकन किया जाता है। सत्संगति सदा हितकारी होती है। जिस प्रकार स्वाति नक्षत्र में वर्षा के जल की एक बूंद यदि केले के पेड़ में पड़ जाए तो कपूर बन जाती है। यदि सीप के मुख में पड़ जाये तो मोती बन जाती है। यदि सर्प के मुख में पड़ जाये तो विष बन जाती है। इसी प्रकार प्रत्येक व्यक्ति पर संगती का प्रभाव पड़ ता है।

अच्छी संगती के फायेदे 

company of good peers lead to good character

अच्छे दोस्त की संगति सत्संगति कही जाती है सत्संगति मनुष्य को बहुत ही ऊंचा उठा सकती है और बुरी संगति नीचे गिरा सकती है सत्संगति का बहुत ही महत्व है कहा जाता है कि अच्छे मित्र का मिलना का मिलना बहुत ही भाग्य की बात होती है क्योंकि अच्छा मित्र उसे अच्छे रास्ते पर ले जा सकता है अच्छी संगति होने के कुछ लाभ हैं आप जैसे जैसे आपका बच्चा कोई भी काम करने से पहले    अपने मित्र से सलाह ले कर उस काम को शुरू करेगा दूसरा लाभ यह है कि उसका मित्र उसे अच्छे रास्ते पर चलने की हिदायत देगा अच्छे मित्र के माध्यम से वह बड़ी से बड़ी कठिनाइयों को बाधाओं को दूर कर लेगा यदि वह अकेले हैं तो यह मार्ग उसके लिए बहुत ही कठिन होगा अच्छी संगति के माध्यम से बहुत सारे प्रश्नों का हल स्वयं मिल जाता है बच्चे के दिमाग में किसी भी तरह की  कठिनाई नहीं रह नहीं पाती है।

संगती का प्रभाव बाद के जीवन पे 

अच्छी संगति से मनुष्य अच्छे मार्ग पर चल पड़ता है, वह दूसरों के अच्छे विचार और अच्छे आचरण को देख कर व्यवहार करता है। भगत सिंह क्रांतिकारियों की संगति में आये तो क्रांतिकारी बन गए, सत्संगति ने उनके जीवन की दिशा ही बदल दी।

बुरी संगती का बच्चों के विकास पे बुरा असर पड़ता है और अच्छी संगती का अच्छा प्रभाव। बच्चों का उनके साथियोँ के साथ कैसा संवाद होता है, या बच्चे किस तरह दूसरों के साथ समय बिताते हैं, उसका बच्चों के शुरुआती दिनों से ही उनके व्यक्तित्व पे प्रभाव पड़ने लगता है। 

बचपन की दोस्ती का बच्चों के बाकी के जिंदगी पे असर पड़ता है। बचपन में दोस्तों के साथ बिता समय बच्चों के विकास में, विशेषकर उनके सिखने की छमता को बेहतर बना सकता है या ख़राब कर सकता है - निर्भर करता है की बच्चे का समय अच्छी संगती में बिता या ख़राब संगति मैं। 

Peer Influence the Behavior Cognitive Development, Child Behavior

बच्चों में व्याहारिक कला का विकास (social development in kids)

बच्चों का व्यहार कैसा है या आगे चलकर कैसा होगा, इस पे सबसे ज्यादा प्रभाव उनके साथियों का पड़ता है। जब बच्चे हमउम्र दूसरे बच्चों के साथ interact करते हैं तो वे सीखते हैं की उन्हें team work किस तरह करना चाहिए या दूसरों के साथ की तरह cooperate या collaborate करना चाहिए। बच्चों का उनके साथियोँ के साथ बिता समय उनके communication skills का भी विकास करता है। बच्चे अपने साथियोँ के साथ रहते समय सीखते हैं की उन्हें किस तरह का बर्ताव दूसरों के साथ नहीं करना चाहिए, और कौन सी बातें किस तरह से कही जनि चाहिए ताकि उनके साथियोँ को बुरा न लगे। 

बच्चों में व्याहारिक कला का विकास social development in kids

संज्ञानात्मक विकास (Cognitive Development)

दोस्तों और साथियोँ का बच्चों के Cognitive Development पे बहुत तरह से प्रभाव पड़ता है। जब बच्चे सीखते हैं group activity के द्वारा सहयोग करना, तो वे अपने विचारों को, अपने पसंद/नापसंद को दोस्तों के साथ साझा करना सीखते हैं। जिन बच्चों को ये अवसर मिलता है की वे विभिन्न प्रकार के learning और recreational activities में हिस्सा लें, उन बच्चों में रचनात्मक (creative) और समस्या का निवारण (problem solving) के गुणों का विकास होता है। आप अपने बच्चे को सदैव तरह-तरह के extracurricular activities में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करें। बच्चे दोस्त बनाना भी सीखते हैं और व्याहारिक गुण भी सीखते हैं। 

शारीरिक विकास physical development positive peer influence

शारीरिक विकास (physical development)

दोस्तों का और साथियोँ का बहुत गहरा प्रभाव बच्चों के शारीरिक विकास पे पड़ता है। जब छोटे बच्चे बहार खेलने के लिए इकट्ठा  होते हैं तो जिस प्रकार के शारीरिक क्रिया कलापों में वो संलिप्त होता हैं, वो उन्हें शारीरिक रूप से ताकतवर और स्वस्थ बनता है। बच्चों को प्रोत्साहित करें की वे ऐसे खेल खेलें जिनमें ज्यादा शारीरिक ताकत की आवश्यकता होती है जैसे की रस्सी खींचना (tag a war), लुका छिप्पी (hide and seek) वगेराह। 

अच्छी संगति के प्रभाव 

अच्छी संगति का व्यक्ति के जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता है। जैसे:

  • अच्छी संगति कुमार्ग से हटाकर सनमार्गः पर ले आती है।
  • अच्छी संगति बुद्धि को प्रखर बनाती है।
  • अच्छी संगति वाणी में मिठास लाती है।
  • अच्छी संगति व्यक्ति को निर्भय बनाती है।
  • अच्छी संगति मन को प्रसन्न रखती है।
  • अच्छी संगति व्यक्ति को प्रेरणा देती है।
  • अच्छी संगति कुछ ही समय में व्यक्ति के जीवन की दिशा बदल देती है।

अपने बच्चे को आप इस प्रकार अच्छी संगति से, एक अच्छा इंसान बना सकती हैं।

Related term: Peer relationships, peer interaction, children's development, Peer Influence the Behavior, Children's Socialization, Negative Effects, Social Skill Development, Cognitive Development, Child Behavior


यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी।



Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Recommended Articles

Sharing is caring

पारिवारिक-माहौल
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school
ब्लू व्हेल - बच्चों के मौत का खेल

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

ब्लू-व्हेल
भारत के पांच सबसे महंगे स्कूल

लेकिन भारत के ये प्रसिद्ध बोडिंग स्कूलो, भारत के सबसे महंगे स्कूलों में शामिल हैं| यहां पढ़ाना सबके बस की बात नहीं|

India-expensive-school
6 बेबी प्रोडक्टस जो हो सकते हैं नुकसानदेह आपके बच्चे के लिए

कुछ ऐसे बेबी प्रोडक्ट जो न खरीदें तो बेहतर है

6-बेबी-प्रोडक्टस-जो-हो-सकते-हैं-नुकसानदेह-आपके-बच्चे-के-लिए
6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना है खतरनाक

शिशु में पानी की शुरुआत 6 महीने के बाद की जानी चाहिए।

6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
माँ का दूध छुड़ाने के बाद क्या दें बच्चे को आहार

बच्चों में माँ का दूध कैसे छुड़ाएं और उसके बाद उसे क्या आहार दें ?

बच्चे-को-आहार
छोटे बच्चों को मच्छरों से बचाने के 4 सुरक्षित तरीके

अगर घर में छोटे बच्चे हों तो मच्छरों से बचने के 4 सुरक्षित तरीके।

बच्चों-को-मच्छरों-से-बचाएं
किस उम्र से सिखाएं बच्चों को ब्रश करना

अच्छे दांतों के लिए डेढ़ साल की उम्र से ही अच्छी तरह ब्रशिंग की आदत डालें

बच्चों-को-ब्रश-कराना
बच्चों का लम्बाई बढ़ाने का आसान घरेलु उपाय

अपने बच्चे की शारीरिक लम्बाई को बढ़ाने के लिए इन बातों का ध्यान रखना होगा



बच्चों-का-लम्बाई
Sex Education - बच्चों को किस उम्र में क्या पता होना चाहिए!

बच्चों को सेक्स सम्बन्धी जानकारी क्योँ देना क्यों और कैसे जरुरी है?

Sex-Education
पारिवारिक परिवेश बच्चों के विकास को प्रभावित करता है

माँ-बाप के बीच मधुर सम्बन्ध शिशु के विकास में बहुत तरीके से योगदान करता है।

पारिवारिक-माहौल
बच्चे बुद्धिमान बनते हैं जब आप हर दिन उनसे बात करते हैं|

बच्चों के साथ बातचीत करने से उनपे बेहद अच्छा और सकारात्मक प्रभाव पड़ता है

बच्चे-बुद्धिमान
क्या आप का बच्चा बात करने में ज्यादा समय ले रहा है|

बच्चे के बोलने में आप किस तरह मदद कर सकते हैं?

बच्चा-बात
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
बच्चे को सुलाएं 60 सेकंड के अन्दर

आइये हम बात करते हैं की आप अपने बच्चे को कैसे झट से 60 second के अन्दर सुला सकती हैं।

बच्चे-को-सुलाएं
5 नुस्खे नवजात बच्चे के दिमागी विकास के लिए

बच्चे को छूने और उसे निहारने से उसके दिमाग के विकास को गति मिलती है|

नवजात-बच्चे-का-दिमागी-विकास
6 TIPS: बच्चे के लिए बेस्ट स्कूल इस तरह चुने

अगर आप अपने बच्चे के लिए best school की तलाश कर रहें हैं तो आप को इन छह बिन्दुओं का धयान रखना है|

best-school-2018
Easy Tips - बच्चों को बोर्ड एग्जैम की तैयारी करवाने के लिए

अगर आप इन बातों का ख्याल रखेंगे तो आप का बच्चा बोर्ड एग्जाम की बेहतर तयारी कर पायेगा|

board-exam
टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit