Category: शिशु रोग

शिशु में हिचकी क्या साधारण बात है?

By: Salan Khalkho | 3 min read

शिशु में हिचकी आना कितना आम बात है तो - सच तो यह है की एक साल से कम उम्र के बच्चों में हिचकी का आना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। हिचकी आने पे डॉक्टरी सलाह की आवश्यकता नहीं पड़ती है। हिचकी को हटाने के बहुत से घरेलू नुस्खे हैं। अगर हिचकी आने पे कुछ भी न किया जाये तो भी यह कुछ समय बाद अपने आप ही चली जाती है।

शिशु में हिचकी how common is hiccups in children

अगर आप यह सोच रही है की

शिशु में हिचकी आना कितना आम बात है तो - सच तो यह है की एक साल से कम उम्र के बच्चों में हिचकी का आना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। 

बच्चे को तभी से हिचकी लेने लगते हैं जब वे माँ के गर्भ में पल रहे होते हैं। गर्भ में बच्चों की हिचकी से कभी कभी pregnancy में स्त्रियां डर सी भी जाती हैं। - हालाँकि इसमें डरने जैसी कोई बात नहीं। 

मगर यह एक बेहद आम बात है। 

डरे नहीं!

ताजूब लगता है न यह सोच के की शिशु गर्भ में तो साँस ले नहीं रहा होता है - तो भला हिचकी कैसे लेता होगा? गर्भ में तो शिशु Amniotic fluid के पानी में तैर रहा होता है - जाहिर सी बात है की पानी में साँस नहीं लेगा। 

यह सब प्रकृति का करिश्मा है। 

हम और आप तो सिर्फ सर्वोच्च परमेश्वर (परम प्रधान ईश्वर) को नन्हे से वरदान के लिए सिर्फ धन्यवाद ही दे सकते हैं। 

खर चलिए आते हैं मुद्दे पे!

शिशु को हिचकी आती है जब उसके डायफ्राम (पतली सी झिल्ली जो पेट को शरीर के बाकी organs से अलग करती है) पे दबाव पड़ता है। इस वजह से  डायफ्राम के मांसपेशियोँ पे संकुचन शुरू हो जाता है और बच्चे को हिचकी आने लगती है। 

बच्चे को अक्सर हिचकी बोतल से दूध पिने पे या फिर स्तनपान के बाद आता है। समझा जाता है की कभी कभी बच्चा इतना ज्यादा दूध पी लेता है की उसका पेट तन जाता है जिस वजह से उसके डायफ्राम पे दबाव पड़ता है और मांसपेशियोँ पे संकुचन के कारण बच्चे को हिचकियाँ शुरू हो जाती है। 

हिचकियाँ बच्चे को उतना परेशान नहीं करती हैं जितना की माँ-बाप को। हाँ बच्चे परेशान तब होते हैं जब हिचकी के कारण वे सो नहीं पाते हैं या फिर कोई अन्य दैनिक कार्य नहीं कर पा रहे होते हैं जैसे की आहार ग्रहण करना। 

हिचकी आने पे डॉक्टरी सलाह की आवश्यकता नहीं पड़ती है। 

कुछ बच्चों में हिचकी कुछ ज्यादा ही आती है और जल्दी जल्दी आती है। यह अवस्था बच्चों में gastroesophageal reflux नामक बीमारी के कारण भी हो सकता है। अगर आप के बच्चे को बहुत ज्यादा हिचकी आती है तो आप अपने डॉक्टर से परामर्श करें। इस बीमारी का लक्षण यह भी है की आप का बच्चा हिचकी के साथ साथ बहुत थूकेगा भी और बार बार ख़ासेगा भी। इस अवस्था में बच्चे बहुत ज्यादा चिड़चिड़े भी हो जाते हैं।  

अगर बच्चे को बहुत हिचकी आती है वो भी तब जब की बच्चा एक साल से बड़ा हो गया है तो डॉक्टर को तुरंत दिखाएँ। यह सामान्य बात नहीं है। बहुत rare cases मैं यह कोई बड़ी बीमारी का संकेत भी हो सकता है। 

हिचकी से सम्बंधित बहुत सी बातें हैं और बहुत सी धारणाएं है। मगर सबसे मुख्य बात यह है की हिचकी से आप के बच्चे को कोई हानी नहीं होती है। अगर हिचकी आने पे कुछ भी न किया जाये तो भी यह कुछ समय बाद अपने आप ही चली जाती है। 

हिचकी को हटाने के बहुत से घरेलू नुस्खे हैं, मगर इनका इस्तेमाल संभल कर करें। कोई ऐसा काम न करे जिससे की बच्चे को हानी पहुंचे। जैसे की बच्चे के हाथों या पैरों का न खीचें। उसके जीभ को न खीचें। अचानक से जोर से आवाज न करें। बच्चे को ना डराएं। बच्चे के आखों को ना दबाएं। बच्चे को शहद न चटायें। यह सभी चीज़ें भारत में प्रचलन मैं है। इनका इस्तेमाल बच्चे के लिए बहुत खतरनाक है। इससे बच्चे को वो हानी पहुँचती है जो फिर कभी ठीक नहीं होती है और बच्चे को आजीवन खामियाजा भुगतना पड़ता है। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_200.txt
Footer