Category: स्वस्थ शरीर

शिशु में डायपर रैशेस से छुटकारा पाने का तुरंत उपाय

Published:29 Jun, 2017     By: Salan Khalkho     19 min read

बहुत लम्बे समय तक जब बच्चा गिला डायपर पहने रहता है तो डायपर वाली जगह पर रैशेस पैदा हो जाते हैं। डायपर रैशेस के लक्षण अगर दिखें तो डायपर रैशेस वाली जगह को तुरंत साफ कर मेडिकेटिड पाउडर या क्रीम लगा दें। डायपर रैशेज होता है बैक्टीरियल इन्फेक्शन की वजह से और मेडिकेटिड पाउडर या क्रीम में एंटी बैक्टीरियल तत्त्व होते हैं जो नैपी रैशिज को ठीक करते हैं|


diaper rash in hindi

छोटे बच्चों में डायपर रैशेस (diaper dermatitis) एक बेहद आम समस्या है। आप के भी नवजात शिशु को डायपर रैशेस की समस्या कभी न कभी जरूर सतायी होगी। डायपर रैशेज, डायपर से होने वाले बहुत से डायपर साइड इफेक्ट मैं से एक है।  बच्चो को डायपर से होने वाले दानों का घरेलू और नैचुरल उपचार बेहद आसान है। 

बदलते जीवन शैली में बच्चों के डायपर के प्रयोग से व्यस्त जीवन को काफी सहूलियत मिली है। सूती के नैपी का इस्तेमाल सब से बेहतर है बच्चों के लिए, मगर इसके प्रयोग से बच्चे के कपडे बार बार गीले होते है जिन्हे बार बार बदलना पड़ता है। 

 

डायपर के प्रयोग से कपडे बार बार गीले नहीं होते और पेरेंट्स को बहुत सुविधा हो जाती है। डायपर के प्रयोग अगर सावधानी से किया जाये तो बच्चे तथा माँ-बाप सबका जीवन काफी आसान हो जाता है। 
डायपर को इस तरह बनाया गया है की उसमे नमी सोखने की छमता होती है। सूती की नैपी बच्चे की त्वचा के लिए अच्छी है पर इसमें डायपर के मुकाबले नमी सोखने की छमता काम होती है। एक डायपर कम से कम 12 सूती के नैपी की नमी के बारब नमी सोख सकता है। अच्छे ब्रांड का डायपर पुरे रात भर आप के बच्चे के कपड़ों को सूखा और साफ रख सकता है।  जैसा की pampers active baby डायपर। मगर डायपर के नुकसान भी हैं या यूँ कहें की डायपर साइड इफेक्ट भी होते हैं। 

  1. डायपर रैशेज क्योँ होता है?
  2. डायपर रैशेस वाली जगह पर लाल चक्कते - डायपर रैशेज के लक्षण
  3. डायपर रैशेज से बचाव
  4. शिशु को डायपर रैशेस से छुटकारा दिलाने के घरूले नुस्खे
  5. डायपर रैशेस वाली जगह की सफाई
  6. नारियल तेल
  7. पेट्रोलियम जेली
  8. डायपर रैशेस में वेट वाइप्स का इस्तेमाल
  9. सूती के नैपी का इस्तेमाल
  10. सूती के नैपी से डायपर रैश 
  11. डायपर के इस्तेमाल में बरतें ये सावधानी
  12. डायपर रैशेज का घरेलु उपचार
  13. एलोवेरा से डायपर रैश का उपचार
  14. मकई के आटे से डायपर रैश का इलाज
  15. नारियल के तेल से डायपर रैश का उपचार
  16. केमोमाइल चाय और डायपर रैश
  17. डायपर रैश के उपचार में टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल
  18. वैसलीन पेट्रोलियम जैली दे डायपर रैश में आराम
  19. डायपर रैश से आराम दे बेकिंग सोडा
  20. डायपर रैश का इलाज दही से
  21. दूध दे आराम डायपर रैश मैं
  22. Video: बच्चो को डायपर से होने वाले दानों का घरेलू और नैचुरल उपचार

 डायपर रैशेज क्योँ होता है? Why diaper rash happens in children?

बहुत लम्बे समय तक जब बच्चा गिला डायपर पहने रहता है तो डायपर वाली जगह पर रैशेस पैदा हो जाते हैं। ऐसा इस लिए होता है क्योँकि डाइपर वाली जगह पर हवा बहुत देर तक नहीं पहुँच पाती। ये डायपर के नुकसान हैं। डायपर रैशेज दो वजह से होता है - स्किन एलर्जी तथा बैक्टीरियल इन्फेक्शन की वजह से। 

1. डायपर रैशेज क्योँ होता है - cause of diaper rash in babies in hindi

डायपर रैशेस वाली जगह पर लाल चक्कते - डायपर रैशेज के लक्षण (symptoms of diaper rash)

बच्चे के शरीर पर डायपर रैशेस वाली जगह पर त्वचा पर लाल चकत्ते पड़ जाते हैं जिसके वजह से आप डायपर रैशेस को पहचान सकती हैं। 

डायपर रैशेज के लक्षण - symptoms of dyper rash in hindi

डायपर रैश होने पे क्या करना चाहिए - what you should do in case of diaper rash

डायपर रैश होने पे क्या नहीं करें - what you should not do in case of diaper rash

डायपर रैशेज से बचाव - How to prevent diaper rash in children?

डायपर रैशेस से बचाव का सबसे अच्छा उपाय है की बच्चे को बहुत देर तक गिला डायपर पहना कर न रखें। अगर बच्चा घर पर है तो दिन में डायपर ही न पहनाये। ऐसा करने पे आप बच्चे को डायपर रैशेस और इन्फेक्शन दोनों से बचा सकते हैं। डायपर रैशेस के लक्षण अगर दिखें तो डायपर रैशेस वाली जगह को तुरंत साफ कर मेडिकेटिड पाउडर या क्रीम लगा दें। डायपर रैशेज होता है बैक्टीरियल इन्फेक्शन की वजह से और मेडिकेटिड पाउडर या क्रीम में एंटी बैक्टीरियल तत्त्व होते हैं जो बैक्टीरियल इन्फेक्शन को समाप्त करता है। डायपर रैशेज त्वचा की एलर्जी के कारण भी होता है। मेडिकेटिड पाउडर या क्रीम इसमें भी मदद करता है।  

डायपर रैशेज से बचाव - prevention from diaper rash in hindi

बच्चे-के-पुरे-शरीर-पे-बाल

अगर आपके बच्चे के जन्म के समय उसके पुरे शरीर पर महीन बाल हैं तो पढ़िए

.
बच्चों-का-लम्बाई

अपने बच्चे की शारीरिक लम्बाई को बढ़ाने के लिए इन बातों का ध्यान रखना होगा

.
सर्वश्रेष्ठ-सनस्क्रीन

बच्चे की त्वचा के प्रकार के आधार पे सही सनस्क्रीन का चुनाव

शिशु को डायपर रैशेस से छुटकारा दिलाने के घरूले नुस्खे - Home remedy to cure diaper rash in babies

डायपर रैशेस की समस्या एक आम बात है क्योँकि अगर बच्चे को कभी बहार घूमने ले गए तो, या फिर जब आप यात्रा कर रहें हैं तो निश्चित समय पे डायपर बदलना कभी-कभी संभव नहीं हो पता है। ऐसे मे डायपर रैशेस का खतरा बन जाता है। मगर कुछ घरूले नुस्खे हैं जिनका इस्तेमाल कर आप अपने बच्चे को डायपर रैशेस से छुटकारा दिला सकते हैं। 

डायपर रैशेज का घरेलु उपचार - home remedy for diaper rash

डायपर रैशेस वाली जगह की सफाई - How to clean the diaper rash area?

अपने बच्चे को डायपर रैशेस वाली जगह पर हलके गुनगुने पानी से सफाई करें। सफाई के लिए सूती कपडे का ही इस्तेमाल करें। इससे बच्चे को आराम मिलेगा। सफाई करते वक्त आम साबुन का इस्तेमाल न करें। आम साबुन केमिकल युक्त होता है और इसके इस्तेमाल से बच्चे को जलन हो सकता है। कुछ साबुन विशेष कर बच्चों के लिए बनाये जाते हैं। अपने डॉक्टर की सलाह पर इन बच्चो वाले साबुन (baby soap) का इस्तेमाल करें। डायपर रैशेस त्वचा की एलर्जी और इसी वजह से साबुन का इस्तेमाल जलन पैदा कर सकता है। स्किन एलर्जी का इलाज करते वक्त जो सावधानियां बरतनी हैं वही सावधानियां यहां भी आपको बरतनी पड़ेंगी ताकि बच्चे को तकलीफ न हो। 

डायपर रैश की सफाई - cleaning the diaper rash area in hindi

नारियल तेल - Treating diaper rash with Coconut oil 

बच्चों को डायपर रैशेज से बचाने में नारियल का तेल काफी कारगर है। नारियल का तेल बच्चे की त्वचा पर पनप रहे यीस्ट, फंगस या माइक्रोबियल इंफेक्शन को ख़तम करता है और भविष्य में  होने से बचाता है। शिशु के शरीर पर डायपर रैशेस वाली जगह पर नारियल ता तेल लगाएं। ऐसा करने से यीस्ट, फंगस या माइक्रोबियल इंफेक्शन तो ख़तम होंगे ही साथ ही साथ बच्चे को लाल चकत्ते  से भी आराम मिलेगा। एक बात और नारियल का तेल बच्चे की त्वचा पे नमी बनाये रखने में भी मदद करता है। 

नारियल तेल - method to use coconut oil to treat diaper rash

शिशु-को-दूध

स्तनपान के लाभ सिर्फ बच्चे तक सिमित नहीं है| स्तनपान का लाभ माँ को भी मिलता है|

.
मां-का-दूध

मां का दूध बच्चे के लिए सुरक्षित, पौष्टिक और सुपाच्य होता है| बच्चे को रोगों से लड़ने की शक्ति माँ के दूध से मिलती है|

.
माँ-का-दूध

माँ का दूध बच्चे की भूख मिटाता है, और हर प्रकार के बीमारी से बचाता है|

पेट्रोलियम जेली - Treatment of diaper rash with petroleum jelly 

नारियल के तेल की तरह पेट्रोलियम जेली भी बच्चे की त्वचा पे नमी बनाये रखने में मदद करता है और साथ ही डायपर रैशेस से आराम भी पहुंचता है। डायपर रैशेस  से होने वाली जलन को भी पेट्रोलियम जेली ख़तम करता है। और बच्चे के त्वचा के बीच होने वाले फ्रिक्शन को काम करता है। 

Vaseline-Petroleum-jelly- पेट्रोलियम जेली to treat diaper rash

डायपर रैशेस में वेट वाइप्स का इस्तेमाल - Avoid wet wipes in case of diaper rash

डायपर रैशेस वाली जगह को वेट वाइप्स से साफ न करें। इससे  जलन बढ़ सकती है और नमी घाट सकती है। डायपर वाली जगह पर त्वचा पर लाल चकत्ते पड़ जाते हैं। इसी स्थिति को डायपर रैशेज कहा जाता है। डायपर रैशेस एक प्रकार की त्वचा की एलर्जी है।  

डायपर रैशेस में वेट वाइप्स - dont use wet wipes in diaper rash

सूती के नैपी का इस्तेमाल - Use cotton nappy to avoid diaper rash 

बच्चों के लिए सूती का नैपी सबसे अच्छा विकल्प है। शिशुओं को डायपर रैशेज होने पर सूती का नैपी तब तक पहनाये जब तक डायपर रैशेस पूरी तरह समाप्त न हो जाये। अगर आप घर पर ही हैं तो बच्चे को पूरा दिन सूती का नैपी ही पहना के रखें। सूती के नैपी से डायपर रैशेस ख़तम ही नहीं होता बल्कि इसके पुनः होने की संभावना भी समाप्त हो जाती है। 

सूती के नैपी बचाये डायपर रैश से - cotton nappies prevent diaper rash

गर्मियों-की-बीमारियां

गर्मियों की आम बीमारियां जैसे की बुखार, खांसी, घमोरी और जुखाम से अपने शिशु को इस तरह बचाएं।

.
गर्मियों-में-डिहाइड्रेशन

अपने शिशु को किस उम्र में कितना पानी पिलायें की उसे डिहाइड्रेशन न हो।

.
पढ़ाई

कुछ बातों का ध्यान रखें तो आप अपने बच्चे के बुद्धिस्तर को बढ़ा सकते हैं

सूती के नैपी से डायपर रैश 

सिर्फ लीक प्रूफ डायपर से ही डाइपर रैश नहीं होता बल्कि सूती के नैपी से भी डायपर रैश का खतरा बना रहता है। सूती के नैपी को अगर आप स्ट्रॉन्ग डिटरडेंट में धो रहे हैं तो बच्चे के स्किन पे डिटरजेंट के कैमिकल्स की वजह से डायपर रैशिज हो सकता है। नैपी रैशिज से बच्चे को काफी तकलीफ होती है और इससे बचा भी जा सकता है। सूती के नैपी को वूलेन डिटर्जेंट में धोएं और इस तरह धोएं की डिटर्जेंट पूरी तरह निकल जाये। सूती के नैपी में अगर डिटरजेंट के कैमिकल्स नहीं होंगे तो बच्चे को रैश भी नहीं होगा। 

डायपर के इस्तेमाल में बरतें ये सावधानी - Precautions while using baby diaper

  1. अगर बच्चा मल त्याग किया हो तो डायपर तुरंत बदलें। तुरंत न बदलने पे बच्चे की त्वचा को नुकसान हो सकता है। डायपर वाली जगह पे त्वचा छील सकती है या काट सकती है। बच्चे की त्वचा को गीले डायपर से कई तरह के नुकसान भी हो सकते हैं। पेशाब में यूरिया, एसिड एवं अमोनिया आदि होते हैं जो बच्चे के कोमल त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं। 
  2. अगर आप बच्चे को डायपर पहनाये तो हर २-३ घंटे पे पीछे हाथ लगा कर जांच करते रहें की डायपर ज्यादा गिला तो नहीं हो गया। अगर डायपर जाली जल्दी गिला हो जा रहा है तो उसे जल्दी जल्दी बदल दें। बहुत देर तक गिला डायपर न पहने रहने दें। 
  3. डायपर की ऊपरी परत हमेशा सुखी रेहनी चाहिए। अगर डायपर से पानी रिसेने (diaper leak) लगे तो और बच्चे का कपडा भीग जाये तो तुरंत डायपर बदल दें। 
  4. डायपर बदलते वक्त अगर डायपर वाली जगह पे त्वचा पे खुजली, सूजन या त्वचा लाल हो जाये, डायपर न पहनाएं। तबतक न पहनाये जब तक की बच्चे की त्वचा फिर से ठीक न हो जाये। डायपर रैशेस होने पर त्वचा बेहद संवेदनशील (sensitive) हो जाती है। ऐसे में इमोजिएंट क्रीम लगाने से त्वचा को आराम मलेगा। 
  5. गिला डायपर अधिक देर तक पहने रहने से गल इंफैक्शन भी हो सकती है। अगर संक्रमण (डायपर रैशेज) अधिक दिनों तक बना रहता है तो बाल रोग विशेषज्ञ से संपर्क करें। 
  6. यात्रा करते वक्त अगर आप अपने बच्चे को पुरे वक्त डायपर पहनाए रख रहे हैं तो हर आधे घंटे चेक करने की आदत दाल लीजिये। गिला डायपर लम्बे समय तक पहने रहने से इन्फेक्शन और डायपर रैशेज का खतरा बना रहता है। 
  7. लीक प्रूफ डायपर है तो बड़ा मददगार। विशेषकर जब आप घर से बहार हों तब। मगर डायपर के अपने साइड इफेक्टस हैं। वो इसलिए क्योँकि डायपर में प्लास्टिक के आलावा अन्य कई टॉक्सिन्स होते हैं जैसे की आर्टिफिशियल कलर, खुशबू के लिए इस्तेमाल केमिकल्स, सोडियम पॉलीक्रायलेट, डाइऑक्सीन्स तथा फैथलेटस। ये ऐसे चेमिकल्स हैं जिनकी वजह से बच्चे को अस्थमा, हॉर्मोनल असंतुलन और कैंसर तक हो सकता है। 
  8. बाजार में कुछ ऐसे भी डायपर भी उपलब्ध हैं जिन में इथाइलबेन्जीन, टॉल्यूइन और जायलीन जैसे वोलेटाइल ऑर्गेनिक कम्पाउंड मौजूद हैं। ये वातावरण में गैस छोड़ते हैं जिनकी वजह से बच्चों की आँखों को इर्रिटेशन हो सकता है और extreme cases मैं बच्चे की इम्यूनिटी तक को कमजोर कर सकता है। 

सूती के नैपी से डायपर रैश - cotton diaper can also cause diaper rash

डायपर रैशेज का घरेलु उपचार

बच्चे की त्वचा पे डायपर रैशेज किसी भी माँ के लिए पीड़ा दायक है। काफी देर गीले में रहने और हवा न मिलने के कारण डायपर रैशेज हो जाता है। इसी लिए समय समय पे देखते रहें की बच्चे का डायपर कहीं गिला तो नहीं हो गया है। फिरभी अगर डायपर रैश हो जाये तो उसके लिए यहां दिए गए घरलू उपचार अपना सकते हैं।

डायपर के इस्तेमाल में बरतें ये सावधानी - precautions you should take while using diaper to prevent diaper rash

एलोवेरा से डायपर रैश का उपचार

एलोवेरा की एक पट्टी को दो भाग में काट लें और तेज़ चाकू की मदद से बीच के गूदे/जेल वाला भाग निकल लें। बच्चे की त्वचा पे जहाँ पे डायपर रैश हुआ है वहां पे इस एलोवेरा जेल को लगाएं। यह डायपर रैश से होने वाले जलन को कम करेगा और तेज़ी से उपचार करेगा। 

एलोवेरा से डायपर रैश का उपचार - treating diaper rash through aloevera

मकई के आटे से डायपर रैश का इलाज 

बच्चे के शरीर पे डायपर रैश वाली जगह पे मकई का आटा छिड़कें और इसके बाद डायपर पहनाएं। जल्द ही बच्चे को डायपर रैश से आराम मिलेगा। 

मकई के आटे से डायपर रैश का इलाज - corn flour for treating diaper rash

नारियल के तेल से डायपर रैश का उपचार

डायपर रैश की वजह से हुए लाल चकते पे हलके से नारियल तेल से मालिश करें। नारियल तेल के स्थान पे जैतून के तेल का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे बच्चे को डायपर रैश से आराम मिलेगा। 

नारियल के तेल से डायपर रैश का उपचार - coconut oil is best for treating diaper rash in hindi

केमोमाइल चाय और डायपर रैश

बच्चे के नहाने के पानी मैं कुछ बून्द केमोमाइल चाय की डाल दें। इस पानी से नहलाने से बच्चे को काफी रहत मिलेगा। बाद में बच्चे को तोलिये की मदद से पोछ के डायपर रैश  वाली जगह पे बेकिंग सोडा लगाएं। ये डायपर रैश का बहुत उपयोगी घरेलू उपचार है। 

chamomile tea for treating diaper rash - केमोमाइल चाय और डायपर रैश

डायपर रैश के उपचार में टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल

टी ट्री ऑयल को थोड़े पानी के साथ मिला कर डायपर रैश वाली जगह पे लगाएं। इससे आपके बच्चे को बहुत आराम मिलेगा। 

tea tree oil for treating diaper rash - डायपर रैश के उपचार में टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल

वैसलीन पेट्रोलियम जैली दे डायपर रैश में आराम

मुलायम हातों से बच्चे के डायपर रैश वाली जगह जहाँ लाल चकते पड़े हैं वहां पे लगाएं। इससे बच्चे को दर्द और जलन में राहत मिलेगा और साथ ही डायपर रैश से छुटकारा भी। 

वैसलीन पेट्रोलियम जैली दे डायपर रैश में आराम - vaseline prevents diaper rash

डायपर रैश से आराम दे बेकिंग सोडा

गुनगुने पानी में दो चमच बेकिंग सोडा मिलाएं। रुई की मदद से, आहिस्ते से बच्चे के डायपर रैश वाली जगह पे इसे लगाएं। इसे डायपर रैश में आराम मिलेगा। 

डायपर रैश से आराम दे बेकिंग सोडा - baking soda provides relief from diaper rash

डायपर रैश का इलाज दही से

दही डायपर के साइड इफेक्ट को कम करने में काफी मदगार है विशेषकर अगर डायपर रैश yeast infection के कारण है तो। दही को एक क्रीम की तरह डायपर रैश वाली जगह (त्वचा पर लाल चकत्ते) पे लगाएं। इससे बच्चे को तकलीफ में आराम मिलेगा। 

डायपर रैश का इलाज दही से - curd cures diaper rash

दूध दे आराम डायपर रैश मैं

एक साफ कपडे, रुमाल या रुई की मदद से दूध को डायपर रैश वाली जगह पे लगाएं। डाइपर रैश से हुई सूजन को कम करने मैं दूध काफी मदद करता है। 

दूध दे आराम डायपर रैश मैं - milk eases diaper rash

Video: बच्चो को डायपर से होने वाले दानों का घरेलू और नैचुरल उपचार




Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

टिप्पणी



प्रातिक्रिया दे (Leave your comment)

आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा|

Latest Articles

गर्भ-में-लड़का-होने-के-लक्षण-इन-हिंदी

स्वस्थ शरीर

गर्भ में लड़का होने के क्या लक्षण हैं?

 
4-महीने-के-शिशु-का-वजन

स्वस्थ शरीर

4 महीने के शिशु का वजन कितना होना चाहिए?

 
ठोस-आहार

बच्चों का पोषण

बच्चे में ठोस आहार की शुरुआत कब करें: अन्नप्राशन

 
डिस्लेक्सिया-Dyslexia

शिशु रोग

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) - बच्चों में बढ़ता प्रकोप – लक्षण कारण और इलाज

 
देसी-घी

बच्चों का पोषण

शिशु को कितना देसी घी खिलाना चाहिए?

 
लड़की-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई

स्वस्थ शरीर

6 महीने के बच्चे (लड़की) का आदर्श वजन और लम्बाई

 
शिशु-की-लम्बाई

स्वस्थ शरीर

व्यस्क होने पे शिशु की लम्बाई कितनी होगी?

 
नवजात-शिशु-का-Infant-Growth-Percentile-Calculator

स्वस्थ शरीर

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile Chart - Calculator

 
BMI-Calculator

स्वस्थ शरीर

BMI calculator

 
1-साल-के-बच्चे-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई

स्वस्थ शरीर

1 साल के बच्चे (लड़के) का आदर्श वजन और लम्बाई

 
नवजात-शिशु-का-BMI

स्वस्थ शरीर

नवजात शिशु का BMI Calculate करने का आसन तरीका (Time 2 Minutes)

 
6-महीने-के-शिशु-का-वजन

स्वस्थ शरीर

6 महीने के शिशु का आदर्श वजन और लम्बाई

 
शिशु-को-अंडा

बच्चों का पोषण

6 Month के शिशु को कितना अंडा देना चाहिए

 
शिशु-का-वजन-बढ़ाये-देशी-घी

बच्चों का पोषण

शिशु का वजन बढ़ाने के लिए उसके उम्र के अनुसार उसे देशी घी दें

 
कोलोस्‍ट्रम

बच्चों का पोषण

माँ का पहला गहड़ा दूध (कोलोस्ट्रम) किस प्रकार शिशु की मदद करता है?

 
शिशु-का-वजन-घटना

बच्चों का पोषण

क्योँ जन्म के बाद नवजात शिशु का वजन घट गया?

 
नवजात-शिशु-वजन

स्वस्थ शरीर

नवजात शिशु का आदर्श वजन कितना होना चाहिए?

 
बच्चों-का-डाइट-प्लान

बच्चों का पोषण

छोटे बच्चों का डाइट प्लान (Diet Plan)

 
शिशु-को-खासी

शिशु रोग

शिशु को खासी से कैसे बचाएं (Solved)

 
शिशु-सर्दी

शिशु रोग

शिशु को सर्दी जुकाम से कैसे बचाएं

 
शिशु-बुखार

शिशु रोग

7 Tips - शिशु को सर्दी के मौसम में बुखार से बचाएं इस तरह

 
Sharing is caring

Most Read Articles
शिशु-बुखार
बच्चों में सर्दी और खांसी के घरेलु उपचार

सर्दी, जुकाम और खाँसी (cold cough and sore throat) को दूर करने के लिए कुछ आसान से घरेलू उपचार

बच्चों-में-सर्दी
शिशु टीकाकरण चार्ट - 2018 Updated

टीकाकरण अभियान का लाभ उठा कर आपने बच्चों को अनेक प्रकार के बीमारियों से बचाएं।

टीकाकरण-चार्ट-2018
बच्चों की त्वचा को गोरा करने का घरेलू तरीका

त्वचा को गोरा और दाग रहित बनाने के लिए घरूले नुश्खे

बच्चों-को-गोरा-करने-का-तरीका-
6 माह के बच्चे का baby food chart और Recipe

6 महीने के बच्चे का आहार - 6 month baby Food Chart-Meal Plan

उलटी-और-दस्त
8 माह के बच्चे का baby food chart और Indian Baby Food Recipe

इस लेख में आप जानेगे की ८ महीने के बच्चे को आहार देने का सही तरीका क्या है।

8-month-baby-food
चार्ट - शिशु के उम्र के अनुसार लंबाई और वजन का चार्ट - Baby Growth Weight & Height Chart

शिशुओं और बच्चों के लिए उम्र के अनुसार लंबाई और वजन का चार्ट डाउनलोड करें (Baby Growth Chart)

Weight-&-Height-Calculator
6 से 12 वर्ष के शिशु को क्या खिलाएं - Indian Baby food diet chart

ठोस भोजन की शुरुआत का सही तरीका - The right way to start solid food in 5 to 6 month old baby

6-से-12-वर्ष-के-शिशु-को-क्या-खिलाएं
7 माह के बच्चे का baby food chart और Indian Baby Food Recipe

यह निर्धारित करने के लिए की बच्चे को सुबह, दोपहर और शाम को क्या खाने को दें|

7-month-के-बच्चे-का-baby-food
13 जुकाम के घरेलू उपाय (बंद नाक) - डॉक्टर की सलाह

बच्चों में बंद नाक की समस्या को बिना दावा के ठीक किया जा सकता है।

बच्चों-में-यूरिन
3 साल तक के बच्चे का baby food chart

अक्सर माताओं के लिए यह काफी चुनौतीपूर्ण रहता है की 3 साल के बच्चे को क्या पौष्टिक आहार दें

बच्चों-में-न्यूमोनिया
शिशु को कई दिनों से जुकाम हो तो यह इलाज करें - 1 Month to 6 Month Baby

शिशु की खांसी, सर्दी, जुकाम और बंद नाक का इलाज आप घर के रसोई (kitchen) में आसानी से मिल जाने वाली सामग्रियों से कर सकती हैं

कई-दिनों-से-जुकाम
नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के तरीके

जानिए की नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के लिए आप को क्या क्या करना पड़ेगा|

शिशु-का-वजन
बच्चों का बिस्तर पर पेशाब करना कैसे रोकें (bed wetting)

बिस्तर पे पिशाब करना (bed wetting) कोई गंभीर समस्या नहीं है और इसे आसानी से हल किया जा सकता है।

बिस्तर-पर-पेशाब-करना
2 साल के बच्चे का शाकाहारी आहार सारणी - baby food chart और Recipe

इस लेख में आप पड़ेंगे दो साल के बच्चे के लिए vegetarian Indian food chart जिसे आप आसानी से घर पर बना सकती हैं|

शाकाहारी-baby-food-chart
बच्चों को ड्राइफ्रूट्स खिलाने के फायदे

शारारिक रूप से स्वस्थ और मानसिक रूप से तेज़ रखने के लिए दें बच्चों को ड्राई फ्रूट्स

बच्चों-के-ड्राई-फ्रूट्स
बच्चों का भाप (स्‍टीम) के दुवारा कफ निकालने के उपाय

भाप (स्‍टीम) एक बहुत ही प्राकृतिक तरीका शिशु को सर्दी और जुकाम (colds, chest congestion and sinusitus) में रहत पहुँचाने का।

कफ-निकालने-के-उपाय
9 माह के बच्चे का baby food chart - Indian Baby Food Recipe

नौ माह का बच्चा आसानी से कई प्रकार के आहार आराम से ग्रहण कर सकता है - शिशु आहार सारणी

9-month-baby-food-chart-
12 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

बढ़ते बच्चों के माँ-बाप को अक्सर यह चिंता रहती है की उनके बच्चे को सम्पूर्ण पोषक तत्त्व मिल पा रहा है की नहीं?

12-month-baby-food-chart
बच्चों को चोट लगने पर प्राथमिक चिकित्सा

तुरंत ही नहीं ईलाज नहीं किया गया तो ये चोट गंभीर घाव का रूप ले लेते हैं

बच्चों-में-स्किन-रैश-शीतपित्त
11 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

11 महीने के बच्चे का आहार सारणी इस तरह होना चाहिए की कम-से-कम दिन में तीन बार ठोस आहार का प्रावधान हो|

बच्चों-में-पेट-दर्द
नवजात शिशु को हिचकी क्यों आता है?

बच्चे गर्भ में रहते वक्त तो हिचकी करते ही हैं, मगर जब वे पैदा हो जाते हैं तो भी हर वक्त उन्हें हिचकी आती है

शिशु-मैं-हिचकी
10 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

दस साल के बच्चे को आहार में क्या खाने को दें - आहार सरणी (food chart)

10-month-baby-food-chart
बच्चों को सर्दी जुकाम से कैसे बचाएं

भारतीय सभ्यता में बहुत प्रकार के घरेलू नुस्खें हैं जिनका इस्तेमाल कर के बच्चों को बिमारियों से बचाया जा सकता है

सर्दी-जुकाम-से-बचाव
बच्चों की नाक बंद होना - सरल उपचार

बहुत ही सरल तरीकों से आप अपने बच्चों के बंद नाक की समस्या को कम कर सकती हैं और उन्हें आराम पहुंचा सकती हैं।

बच्चों-की-नाक-बंद-होना
29 शिशु आहार जो बनाने में आसान

रसोई में जो वस्तुएं पहले से मौजूद हैं उनकी ही मदद से आप बढ़िया, स्वादिष्ट और पौष्टिक शिशु आहार बना सकती हैं।

शिशु-आहार
10 सबसे बेहतरीन तेल बच्चों के मसाज के लिए

शिशु की मालिश में कई तरह के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है और हर तेल की अपनी विशेषता है।

बच्चों-का-मालिश
शिशु मालिश के लिए सर्वोतम तेल

बच्चों की मालिश करने के लिए सबसे बेहतरीन तेल

शिशु-मालिश
शिशु को सर्दी जुकाम से कैसे बचाएं

अगर आप कुछ बातों का ख्याल रखें तो आप के बच्चे सर्दी और जुकाम के संक्रमण से बचे रह सकते हैं।

शिशु-सर्दी
नवजात बच्चे के चेहरे से बाल कैसे हटाएँ

अगर आपके बच्चे के जन्म के समय उसके पुरे शरीर पर महीन बाल हैं तो पढ़िए

बच्चे-के-पुरे-शरीर-पे-बाल
15 आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे शिशु की खांसी की अचूक दवा - Complete Guide

शिशु की सर्दी और जुकाम ठीक करने का घरेलु इलाज

खांसी-की-अचूक-दवा
नेबुलाइजर (Nebulizer) से शिशु के जुकाम का इलाज - Zukam Ka ilaj

नेबुलाइजर (Nebulizer) एक बहुत ही प्रभावी तरीका है शिशु के कफ को और जुखाम को कम करने के लिए।

नेबुलाइजर-Nebulizer-zukam-ka-ilaj
5 महीने का बच्चे की देख भाल कैसे करें

पांचवे महीने में शिशु की देखभाल में होने वाले बदलाव के बारे में पढ़िए इस लेख में|

5-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें
बच्चों में वजन बढ़ाने के आहार

यदि आपका बच्चा कमज़ोर है तो यहां दिए खाद्य वस्तुयों का प्रयोग आपके बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए कारगर होगा।

शिशु-का-वजन-बढ़ाने-का-आहार
ठंड में बच्चों को गर्म रखने के उपाय

कुछ विशेष स्वधानियाँ अगर आप बरतें तो आप का शिशु ठण्ड के दिनों में स्वस्थ और सुरक्षित रह सकता है।

ठण्ड-शिशु
दुबले बच्चे का कैसे बढ़ाए वजन

अपने शिशु का वजन बढ़ने के लिए आप शिशु के लिए diet chart त्यार कर सकते हैं।

शिशु-diet-chart
क्या शिशु को शहद देना सुरक्षित है?

विटामिन और मिनिरल से भरपूर, बढ़ते बच्चों को शहद देने के 8 फायदे हैं|

शहद-के-फायदे
6 से 8 माह के बच्चे के लिए भोजन तलिका

शिशु को ऐसे आहारे देने की आवश्यकता है जिसे उनका पाचन तंत्र आसानी से पचा सके।

भोजन-तलिका
बच्चों में पीलिये के लक्षण पहचाने - झट से

अगर बच्चे में पीलिया रोग के लक्षण दिखे तो इसे बहुत गम्भीरता से लेना चाहिए|

Jaundice-in-newborn-in-hindi
क्योँ कुछ बच्चे कभी बीमार नहीं पड़ते

अगर आप केवल सात बातों का ख्याल रखें तो आप के भी बच्चों के बीमार पड़ने की सम्भावना बहुत कम हो जाएगी।

बच्चे-बीमार
बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा - कारण और उपचार

अगर आप के बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा है तो जानिए की आप को क्या करना चाहिए

बच्चे-का-वजन
सर्दियौं में शिशु को किस तरह Nappy Rash से बचाएं

नवजात शिशु को डायपर के रैशेस से बचने का सरल और प्रभावी घरेलु तरीका।

डायपर-के-रैशेस
मखाने के फ़ायदे | Health Benefits of Lotus Seed - Recipes

मखाना ड्राई फ्रूट से भी ज्यादा पौष्टिक है और छोटे बच्चों के लिए बहुत फायेदेमंद भी।

बच्चों-में-चेचक
टीके के बाद बुखार क्यों आता है बच्चों को?

जानिए की आप किस तरह टीकाकरण के दुष्प्रभाव को कम कर सकती हैं|

How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit