Category: बच्चों की परवरिश

शिशु बहुत गुस्सा करता है - करें शांत इस तरह

By: Salan Khalkho | 3 min read

अगर आप का शिशु बहुत गुस्सा करता है तो इसमें कोई ताजुब की बात नहीं है। सभी बच्चे गुस्सा करते हैं। गुस्सा अपनी भावना को प्रकट करने का एक तरीका है - जिस तरह हसना, मुस्कुराना और रोना। बस आप को अपने बच्चे को यह सिखाना है की जब उसे गुस्सा आये तो उसे किस तरह नियंत्रित करे।

शिशु बहुत गुस्सा करता है - करें शांत इस तरह how to calm an angry child

बच्चे भी तो आखिर इंसान हैं,

उन्हें भी गुस्सा आता है। 

बस अंतर इतना है की उन्हें नहीं  पता नहीं की अपने गुस्से को control कैसे करें। 

यहीं पे माँ होने के नाते आपकी की यह जिम्मेदारी बनती है की आप अपने शिशु को सिखाएं की गुस्से पे नियंत्रण कैसे रखा जाये। 

नाराज होना, गुस्सा करना ना ही कोई अच्छी बात है और ना ही कोई बुरी बात है। 

अगर गुस्सा आता है तो स्वस्थ हैं आप का बच्चा। 

यह तो सिर्फ एक भावना है - मगर गुस्सा आने पे किस तरह अपने आप को सम्हालना है यह आप का शिशु सीख रहा है और इसमें आप के मदद की उसको आवश्यकता पड़ेगी। 

अधिकांश घरों में जब बच्चा गुस्सा करता है तो माँ-बाप उसे डाटते है और उसे आपने कमरे में जाने को कहते हैं। यह सही तरीका नहीं है क्योँकि इससे आप का शिशु यह नहीं सीखता है की अपने गुस्से पे किस तरह काबू पाया जाय। 

जब शिशु नाराज होता है तो वो उसी क्षण निराशा की स्थिति से भी गुजर रहा होता है। यह एक बेहद नाजुक स्थिति होती है।  गुस्सा कम करने के टोटके तो कोई होते नहीं हैं। यहाँ पे आपको समझदारी से काम लेना होगा। 

यहां हम आप को बताते हैं पांच तरीके जिनकी मदद से आप अपने बच्चे को उसके गुस्से पे नियंत्रण करना सीखा पाएंगी। 

शिशु के गुस्से के कारण reason why children get angry

शिशु के गुस्से के कारण को समझें 

अपने शिशु को आहिस्ते से पूरा प्रकरण समझने को कहें। उससे पूछें की क्योँ वो इतना गुस्स कर रहा है। किस वजह से नाराज है। 

कई बार जब बच्चे अपने नाराज होने के कारणों को समझते हैं तो समझाने के दौरान उनका गुस्सा शांत हो जाता है। 

अगर आप का शिशु आप को ना बताना चाहे तो उससे कहें को वो अपने गुस्सा करने के कारण को अपने पसंदीदा खिलौनों को बता सकते हैं। 

बच्चे अधिकांश मामलों में गुस्सा इस लिए होते हैं की उन्हें लागता है की उनके साथ अन्याय हुआ है और उनके पक्ष को सुना नहीं गया है। 

जब बच्चे को अपना पक्ष रखने का मौका मिलता है तो उसका गुस्सा भी शांत हो जाता है। इसके साथ ही साथ आप को भी यह पता चलेगा की आप का शिशु किन बातों से नाराज हो जाता है और आप उसके गुस्से का इलाज कर पाएंगी।

शिशु के गुस्से को नियंत्रित करने के उपाय how to teach children anger management

बच्चे को उसका भड़ास निकालने दें

कभी-कभी मन का गुबार निकल जाना भी अच्छा होता है। अगर आप का बच्चा बहुत गुस्से मैं है और अपने पैर पटक रहा है तो उसे अपना गुस्सा निकालने के लिए तकिया दे दें। 

ताकि वो चाहे जितनी घुसे उस तकिये को मार के अपने गुस्से को शांत कर ले। इससे घर के दुसरे बच्चों को शारीरिक हानि का खतरा ताल जाता है। 

शिशु यह भी सीखता है की गुस्से को निकालने के लिए जरुरी नहीं की आपस में लड़ा जाये। अन्यथा बहुत ज्यादा नाराज बच्चे को वश मे करना कभी-कभी उतना आसान काम भी नहीं होता है।  

शिशु में गुस्से और जिद का कारण help children manage anger with love

बच्चे को प्यार दें

कई बार जब बच्चे बहुत गुस्से में होते हैं तो माँ ता थोड़ा सा प्यार मिलते ही वे पिघल जाते हैं और फुट-फुट के रोने लगते हैं। 

अपने बच्चे को गोदी में उठा लें। उसे गालों पे प्यार दें और बहुत ही प्यार से उसके तकलीफ के बारे में पूछें। प्यार में बहुत ताकत होती है।  

गुस्सा क्यों आता है शिशु को why children get angry present your example

अपने शिशु के लिए अच्छा उदहारण प्रस्तुत करें

जब आप नाराज होते हैं तो आप का शिशु आप को देखता है की आप की तरह अपने नाराजगी को सँभालते हैं - और इसी दौरान आप का शिशु सीखता है की वो अपने गुस्से को किस तरह नियंत्रित करे। 

जब आप नाराज हों तो नाराजगी को जाहिर करने का सही तरीका अपनाएं। अपने गुस्से को अपने ऊपर हावी नहीं होने दें। समझदारी से काम लें। जैसा आप करेंगे आप का शिशु भी वही करेगा। 

बच्चों के व्यवहार पर गुस्सा हुआ हावी dont let anger take control of your children

शिशु के सही बर्ताव को सराहें

जब आप का शिशु नाराज होने पे सही रवैया अपनाएं तो उसके इस कदम को सराहें। जब आप का बच्चा देखेगा की उसके सही कदम को बड़ों ने सराहा है तो वो उसी तरह करने के लिए और ज्यादा प्रयास करेगा।

जिद के कारण

बच्चे जिद्दी हो तो क्या करे - कई बार बच्चे जिद के कारण भी गुस्सा करते हैं। बच्चों का जिद्दी होना भी स्वाभाविक है। यह भी बच्चे के स्वस्थ होने की निशानी है। 

जब बच्चे जिद करते हैं तो इसका मतलब यह होता है की बच्चे आप में अपना अधिकार समझते हैं। ऐसे में उन्हें डांट के उनका दिल ना तोड़ें। उन्हें प्यार से और समझदारी से समझाएं। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

शिशु-का-वजन
शिशु-मैं-हिचकी
teachers-day
बच्चों-के-हिचकी
शिशु-में-हिचकी
शिशु-हिचकी
दूध-के-बाद-हिचकी
नवजात-में-हिचकी
SIDS
Ambroxol-Hydrochloride
कोलोस्‍ट्रम
ठण्ड-शिशु
शिशु-potty
सरसों-के-तेल-के-फायदे
मखाना
भीगे-चने
Neonatal-Care
शिशु-मालिश
-शिशु-में-एलर्जी-अस्थमा
शिशु-क्योँ-रोता
अंडे-की-एलर्जी
शिशु-एलर्जी
नारियल-से-एलर्जी
रंगहीनता-(Albinism)
पेट-दर्द
fried-rice
दाल-का-पानी
गर्भावस्था
बच्चे-बैठना
शिशु-को-आइस-क्रीम

Most Read

पपीते-का-प्यूरी
मछली-और-गाजर
सूजी-उपमा
दही-चावल
वेजिटेबल-पुलाव
इडली-दाल
संगति-का-प्रभाव
अंगूर-को-आसानी-से-किस-तरह-छिलें-
अंगूर-के-फायेदे
हानिकारक-आहार
अंगूर-शिशु-आहार
india-Indian-Independence-Day-15-August
पारिवारिक-माहौल
बच्चे-बुद्धिमान
baby-sleep
हड्डियाँ-ज्यादा-मजबूत
नवजात-बच्चे-का-दिमागी-विकास
बच्चों-की-मजेदार-एक्टिविटीज-
बच्चा-बात
स्मार्ट-फ़ोन
बच्चों-के-उग्र-स्वाभाव
शिशु-आहार
गर्भ-में-सीखना
Vitamin-C-benefits
homemade-baby-food
बच्चों-के-पेट-के-कीड़े
पेट-में-कीड़े
शिशु-में-कैल्शियम-की-कमी
abandoned-newborn
बच्चों-के-साथ-यात्रा
बच्चे-ट्यूशन
पढ़ाई-का-माहौल
best-school-2018
बच्चे-के-पीठ-दर्द
board-exam
India-expensive-school
ब्लू-व्हेल
शिशु-के-लिए-नींद
film-star-school
डिस्टे्रक्टर
winter-season
बच्चे-के-कपडे
बच्चे-को-साथ-सुलाने-के-फायेदे
बच्चे-को-सुलाएं
सिर-का-आकार
दूध-पीते-ही-उलटी
बच्चे-में-हिचकी
बच्चे-का-वजन
Weight-&-Height-Calculator
Indian-Baby-Sleep-Chart

Other Articles

indexed_280.txt
Footer