Category: शिशु रोग

शिशु की आंखों में काजल या सुरमा हो सकता है खतरनाक

By: Admin | 4 min read

बच्चों की आंखों में काजल लगाने से उनकी खूबसूरती बहुत बढ़ जाती है। लेकिन शिशु की आंखों में काजल लगाने के बहुत से नुकसान भी है। इस लेख में आप शिशु की आँखों में काजल लगाने के सभी नुकसानों के बारे में भी जानेंगी।

शिशु की आंखों में काजल या सुरमा हो सकता है खतरनाक

भारत में छोटे बच्चों की आंखों में काजल या सुरमा लगाने का प्रचलन है। जब बच्चों की छोटी-छोटी आंखों में काजल लगता है  तो वे बहुत प्यारे से लगते हैं। 

इस लेख में:

  1. बच्चों की आंखों में काजल लगाने का रिवाज
  2. बच्चों की आंखों में काजल या सुरमा कितना सुरक्षित
  3. बच्चों की आंखें और काजल
  4. बच्चों की आंखों में काजल कितना उचित है
  5. आंखों में काजल लगाने के नुकसान
  6. बाजार में उपलब्ध काजल के नुकसान
  7. लेड (सीसा) बहुत खतरनाक तत्व है
  8. काजल से संक्रमण का खतरा
  9. जरा सोचिये

बच्चों की आंखों में काजल लगाने का रिवाज

प्राय सभी घरों में छोटे बच्चों की आंखों में काजल लगाया जाता है।  इसके कई कारण है जैसे कि:



For Readers: Diaper पे भारी छुट (Discount) का लाभ उठायें!
Know More>>
*Amazon पे हर दिन discount और offers बदलता है| जरुरी नहीं की यह DISCOUNT कल उपलब्ध रहे|


  1.  काजल के लगने से बच्चे बहुत खूबसूरत लगते हैं
  2.  काजल बच्चों की आंखों  की रोशनी ठीक रखता है
  3.  बच्चों को काजल इसलिए भी लगाया जाता है ताकि उन्हें नजर ना लगे

बच्चों की आंखों में काजल या सुरमा कितना सुरक्षित

जिन घरों में बच्चों की आंखों में काजल या सुरमा लगाया जाता है, उनके पास इसे लगाने के बहुत से कारण मिलेंगे।  लेकिन बच्चों की आंखों में काजल लगाना क्या वाकई सुरक्षित है?  

बच्चों की आंखों में काजल या सुरमा कितना सुरक्षित

यह एक ऐसा सवाल है जो कई बार माताओं के मन में आता है। अगर आप भी इस बात को लेकर परेशान हैं कि क्या वाकई काजल आपके शिशु आंखों के लिए सुरक्षित है और क्या वाकई यह आपकी बच्चों की आंखों की रोशनी बढ़ाता है तथा उन्हें दूसरों की बुरी नजर से बचाता है, तो हम आप को इस लेख में इसके बारे में विस्तार से बताएंगे। 

बच्चों की आंखें और काजल

 शिशु की आंख उसकी शरीर का सबसे संवेदनशील अंग होता है।  साथ ही बहुत नाजुक भी होता है। बच्चे बड़ों की तरह अपनी आंखों का ख्याल नहीं रख सकती है।  

जब  बड़ों को आंखों में तकलीफ महसूस होती है तो वह उनका ख्याल रख सकते हैं और दूसरों को अपनी तकलीफ बोलकर बता सकते हैं।  लेकिन बच्चे बोलना नहीं जानती है।  

आंखों के लिए काजल बहुत सुरक्षित नहीं माना जाता है।  लेकिन भारत में इसका बहुत व्यापक रूप से प्रयोग होता है। जरूरी नहीं कि हर बार आंखों में काजल लगाने पर उन्हें तकलीफ हो।  लेकिन फिर भी कई बार आंखों में काजल लगाने से तकलीफ होती है।  

मगर बच्चे बोल कर अपनी तकलीफ को जाहिर नहीं कर सकते हैं और काजल से उनकी आंख में हो रही तकलीफ को वह केवल रोकर बयां कर सकते हैं।  

जब बच्चे रोते हैं तो हम अनेक तरह से उन्हें शांत करने की कोशिश करते हैं। लेकिन क्योंकि काजल का इस्तेमाल आमतौर पर सभी करते हैं  इसीलिए इस तरफ किसी का ध्यान नहीं जाता है कि बच्चे की रोने की वजह उसके आंखों का काजल भी हो सकता है। 

बच्चों की आंखों में काजल कितना उचित है

 वैसे तो काजल आंखों की खूबसूरती को कई गुना बढ़ा देता है।  लेकिन कभी-कभार या आंखों को नुकसान भी पहुंचाता है।  और अगर काजल की वजह से बच्चे की आंखों को नुकसान पहुंच रहा है तो अफ़सोस,  क्योंकि बच्चे बोल कर बता नहीं सकते। 

आंखों में काजल लगाने के नुकसान

आंखों में काजल लगाने के नुकसान

 बच्चों की आंखों में काजल लगाने के नुकसान कई प्रकार की देखने को मिल सकते हैं।  कुछ आम नुकसान किस तरह है:

  • बच्ची की आंखें बहुत नाजुक और संवेदनशील होती है।  काजल से इन्हें नुकसान पहुंच सकता है।
  • नहलाते वक्त बच्चों की आंखों का काजल उनके नाक के अंदर जा सकता है।  नाक के अंदर बहुत बारीक़ रोम छिद्र होते हैं। नाक के अंदर मौजूद इन रोम छिद्रों को काजल बंद कर सकता है। इस वजह से उनके नाक के अंदर इंफेक्शन पनपता है और कई तरह की समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती है। 
  • कुछ बच्चों की आंखों में काजल खुजली और एलर्जी भी पैदा कर सकता है 

बाजार में उपलब्ध काजल के नुकसान

 केवल घर का बना काजल की बच्चों की आंखों को नुकसान नहीं पहुंचाता है वरन बाजार से खरीदा हुआ ब्रांडेड का जल्दी बच्चों की आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है।  

इसकी मुख्य वजह है काजल में मौजूद लेड (सीसा)। बाजार में उपलब्ध काजल में प्रचुर मात्रा में लेड (सीसा) होता है। लेड (सीसा) ना केवल शरीर के लिए हानिकारक है बल्कि या आंखों के लिए भी हानिकारक है। 

विश्व भर में हुए अनेक शोध में शरीर पर लेड (सीसा) के हानिकारक प्रभावों को प्रमाणित किया जा चुका है। आप अंदाजा लगा सकते हैं की आंख जो कि शरीर का सबसे संवेदनशील अंग है,  उस पर लेड (सीसा) का क्या बुरा असर पड़ेगा।  क्या  बच्चों की आंखों के मामले में यह जोखिम उठाना सही है? 

लेड (सीसा) बहुत खतरनाक तत्व है

 काजल में मौजूद लेड (सीसा) शरीर के लिए बहुत ही खतरनाक तत्व है। लंबे समय तक शिशु की आंखों में काजल के प्रयोग से उसके शरीर में लेड (सीसा) इकट्ठा होने लगता है। 

लेड (सीसा) इतना खतरनाक होता है या शिशु के केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को नुकसान पहुंचाता है।  इस वजह से आप पाएंगे कि जिन बच्चों की आंखों में काजल का इस्तेमाल होता है उन बच्चों का व्यवहार दूसरे बच्चों की तुलना में थोड़ा आसमान में होता है।  

तथा इन बच्चों के मांसपेशियों का विकास भी उसे अच्छी तरह नहीं होता है जितना कि दूसरे बच्चों का होता है।  लेकिन सबसे ज्यादा डरावनी बात यह है कि काजल में लेड (सीसा)  शिशु के किडनी पर भी प्रभाव डालता है।  बच्चे पर इनका लंबे समय तक प्रभाव इनके किडनी को खराब कर सकता है।  

जब बच्चे रोते हैं तो बच्चों के आंसुओं के साथ काजल उनके मुंह में भी चला जाता है या फिर नहाते वक्त नाक के रास्ते भी काजल शिशु के शरीर में चला जाता है। 

चाहे काजल जिस वजह से भी शिशु के शरीर में पहुंचे,  यहां कई प्रकार के शिशु के शरीर को और उसके मस्तिष्क को क्षति पहुंचाता है। 

शरीर में लेड (सीसा) की मौजूदगी से बच्चे को बोलने में परेशानी होती है,  यह बच्चे बहुत देर से बोलना शुरू करते हैं तथा  यह शिशु के सीखने की क्षमता को भी प्रभावित करता है और यहां तक की शिशु के हड्डियों के विकास को भी बाधित करता है। 

काजल से संक्रमण का खतरा

 काजल में मुख्य रूप से एमॉर्फस, कार्बन, जिंकेट, मैग्नेटाइट और माइनिमम होता है। जब शिशु की आंखों में लंबे समय तक काजल का प्रयोग होता है तो उसके शरीर में लेड (सीसा) इकट्ठा होने लगता है।  

इसका शिशु के दिमाग पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है तथा यह शिशु के बोनमैरो पर भी बुरा प्रभाव डालता है। काजल के इस्तेमाल से शिशु की आंखों में संक्रमण फैल सकता है, विशेषकर अगर शिशु की आंखों में काजल अगर गंदे हाथों से लगाया गया हो यह काजल को साफ सुथरे तरीके से तैयार नहीं किया गया हो तो। 

काजल से संक्रमण की वजह से आंखों में पानी आने की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है।  आंखों के बीच में स्थित कॉर्निया धूल-मिट्टी और गंदगीयह प्रति बहुत संवेदनशील होती है।  

यही वजह है कि हमारी आंखों के ऊपर पल्खें हैं जो आंखों को धूल और गंदगी से बचाती है। शिशु की आंखों में काजल लगने की वजह से उनकी आंखों में स्थित कॉर्निया खुजली उत्पन्न करता है जिस वजह से आप बच्चे को अपनी आंखों को बार-बार न करता हुआ पाएंगे।  

ऐसा करने पर काजल के कारण शिशु के आंखों में स्थित कॉर्निया तक पहुंच सकता है जो उसकी आंखों की तकलीफ को और भी ज्यादा बढ़ा सकता है। 

जरा सोचिये

बच्चों की आंखों में काजल लगाने से उनकी खूबसूरती बहुत बढ़ जाती है।  लेकिन शिशु की आंखों में काजल लगाने के बहुत से नुकसान भी है।  लेकिन सबसे बड़ा नुकसान यह होता है कि शिशु का बौद्धिक और शारीरिक विकास / होता है।  

तो  अब आप ही बताइए कि शिशु की आंखों में काजल लगाना कितना उचित है?

Most Read

Other Articles

Footer