Category: प्रेगनेंसी

नार्मल डिलीवरी से मौत का जोखिम

By: Editorial team | 5 min read

नॉर्मल डिलीवरी से शिशु के जन्म में कई प्रकार के खतरे होते हैं और इसमें मौत का जोखिम भी होता है - लेकिन इससे जुड़ी कुछ बातें हैं जो आपके लिए जानना जरूरी है। शिशु का जन्म एक साधारण प्रक्रिया है जिसके लिए प्राकृतिक ने शरीर की रचना किस तरह से की है। यानी सदियों से शिशु का जन्म नॉर्मल डिलीवरी के पद्धति से ही होता आया है।

नार्मल डिलीवरी से मौत का जोखिम

अधिकांश मामलों में जहां बहुत ज्यादा प्रक्रिया में हस्तक्षेप नहीं किया गया है,  नॉर्मल डिलीवरी शिशु के जन्म के लिए बहुत सुरक्षित रहा है और,  इसमें खतरे भी सबसे कम रहे हैं और यह सदियों से शिशु को जन्म देने का एक बेहतर तरीका माना गया है। 

 गर्भधारण और शिशु का जन्म दोनों ही एक प्राकृतिक प्रक्रिया है लेकिन फिर भी इसके अपने कुछ खतरे हैं।  सभी बातों की जानकारी होने से खतरों से बचा जा सकता है और मां के स्वास्थ्य के अनुसार शिशु के जन्म के लिए सही प्रक्रिया का चुनाव किया जा सकता है। 

यह भी गौर करने वाली बात है कि नॉर्मल डिलीवरी में जोखिम होता है लेकिन फिर भी बहुत  स्थितियां ऐसी होती हैं जहां पर नॉर्मल डिलीवरी में कोई खतरा नहीं होता है लेकिन वही सिजेरियन डिलीवरी में खतरा रहता है जोकि अपने आप में एक बहुत ही बड़ा ऑपरेशन है। 

 सी सेक्शन डिलीवरी यानी सिजेरियन  प्रक्रिया को इमरजेंसी में अपनाया जाता है ताकि मां और बच्चे दोनों की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। 

 यहां हम आपको नॉर्मल डिलीवरी के 6 खतरों के बारे में बताएंगे। इसकी जानकारी होने से सही सावधानी बरतकर खतरों से बची रह सकती है। शिशु के जन्म के समय ऐसी बहुत सारी जटिलताएं हो सकती हैं जो बच्चे को नुकसान पहुंचा सकते हैं।  उदाहरण के लिए गर्भ में बच्चे का उल्टा हो जाना या फिर समय से पहले प्रसव ऐसी कुछ परिस्थितियां है  जिनसे एक गर्भवती महिला को शिशु के जन्म के समय जूझना पड़ सकता है।  आइए चलिए विस्तार से देखते हैं इन्हीं कुछ जटिलताओं के बारे में: 

इस लेख मे :

गर्भनाल का आगे की ओर बढ़ना

1. गर्भनाल का आगे की ओर बढ़ना

 गर्भनाल को शिशु की जीवन रेखा कहा जाता है क्योंकि इसी के जरिए गर्भ में पल रहे बच्चे को ऑक्सीजन मिलता है तथा मां के शरीर से पोषक तत्व भी शिशु को गर्भनाल की जरिए ही पहुंचता है। लेकिन कुछ दुर्लभ मामलों में कई बार गर्भाशय ग्रीवा से गर्भनाल निकल जाता है।  या फिर गर्भनाल योनि के माध्यम से बाहर आता है इससे भ्रूण के लिए अप्रोच पैदा हो जाता है।  यह ऐसी परिस्थिति है जो मां और बच्चे दोनों के लिए बहुत खतरनाक है और ऐसी परिस्थिति में तुरंत चिकित्सीय सहायता लेनी चाहिए।

बच्चे का जन्म सर की बजाये पांव की तरफ से होता है

2. बच्चे का जन्म  सर की बजाये पांव की तरफ से होता है

 बच्चे के जन्म के समय उसके पैर सबसे पहले बाहर आते हैं तो इस परिस्थिति में शिशु के सर के पास जाने का खतरा बढ़ जाता है। शिशु के जन्म के समय अगर यह परिस्थिति पैदा हो जाए तो तुरंत शल्यक्रिया की आवश्यकता पड़ती है। 

गर्भावस्था के दौरान प्लेसेंटा का अचानक टूट जाना

3. गर्भावस्था के दौरान प्लेसेंटा का अचानक टूट जाना

 गर्भनाल शिशु की जीवन रेखा होती है लेकिन अगर यह जीवन रेखा टूट जाए तो शिशु और मां दोनों के लिए गंभीर परिस्थिति पैदा हो सकती है।  गर्भनाल के टूट जाने पर गर्भ में पल रहे बच्चे को आक्सीजन और पोषक तत्वों मिलना बंद हो जाता है।  इस स्थिति को नाल झड़ना कहते हैं।  यह स्थिति अस्थाई होता है इसीलिए ऐसी परिस्थिति अगर उत्पन्न हो तो गर्भवती महिला को पूरी तरह से आराम करने को कहा जाता है।  लेकिन अगर गर्भनाल पूरी तरह से अलग हो गया है तो प्रसव की तुरंत आवश्यकता पड़ती है नहीं तो बच्चे के जान का खतरा बढ़ जाता है। 

समय पूर्व प्रसव

4.  समय पूर्व प्रसव

गर्भधारण के 10 से 12% ऐसे मामले होते हैं जहां पर शिशु का जन्म समय से पहले हो जाता है।  लेकिन सामान्य और स्वस्थ गर्भावस्था के लिए यह आवश्यक है कि  गर्भ में पल रहे शिशु को 39-40 सप्ताह का समय मिले।  लेकिन कई बार शिशु का जन्म 35 सप्ताह से पहले हो जाता है।  समय से पहले जन्मे बच्चे में कई प्रकार की विकास से संबंधित समस्याएं हो सकती हैं।  उनमें बहुत सारे अंग ऐसे होते हैं जो अब परिपक्व होते हैं और सांसारिक परिस्थितियों  के लिए पूरी तरह से तैयार नहीं होते हैं।  ऐसे बच्चों को कुछ समय के लिए अस्पताल में ही रखा जाता है जब तक की उनकी महत्वपूर्ण अंग पूरी तरह से विकसित ना हो जाए।  घर जाने पर भी इन बच्चों का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता पड़ती है।  ऐसे बच्चों में पाचन संबंधी तथा संक्रमण से संबंधित परेशानियों खतरा बना रहता है। 

लंबे समय तक पर सब

5.  लंबे समय तक पर सब

कई बार गर्भावस्था के दौरान 9 महीने पूरे हो जाने के बाद भी गर्भाशय ग्रीवा पूरी तरह नहीं खुल पाता है।  ऐसे में गर्भ में पल रहे बच्चे को ठीक तरह से जन्म देने में परेशानी हो सकती है।  तथा इस परिस्थिति में असामान्य रूप से बड़ी सिर के बच्चे को भी जन्म देने में परेशानी हो सकती है।  अगर गर्भवती महिला में लंबे समय तक प्रसव की संभावना बनती है तो उसे शल्यक्रिया द्वारा ही शिशु को जन्म देना चाहिए। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

सुभाष-चंद्र-बोस
ADHD-में-शिशु
ADHD-शिशु
गणतंत्र-दिवस-essay
बोर्ड-एग्जाम
लर्निंग-डिसेबिलिटी-Learning-Disabilities
बच्चों-में-तुतलाने
-देर-से-बोलते-हैं-कुछ-बच्चे
गर्भावस्था-में-उलटी
प्रेग्नेंसी-में-उल्टी-और-मतली
सिजेरियन-या-नार्मल-डिलीवरी
यूटीआई-UTI-Infection
गर्भपात
डिलीवरी-के-बाद-पेट-कम
डिलीवरी-के-बाद-आहार
होली-सिखाये-बच्चों
स्तनपान-आहार
स्तनपान-में-आहार
बालों-का-झाड़ना
प्रेगनेंसी-के-दौरान-गैस
प्रेगनेंसी-में-हेयर-डाई
अपच-Indigestion-or-dyspepsia
गर्भावस्था-(प्रेगनेंसी)-में-ब्लड-प्रेशर-का-घरेलु-उपचार
गर्भधारण-का-उपयुक्त-समय-
बच्चे-में-अच्छा-व्यहार-(Good-Behavior)
शिशु-के-गले-के-टॉन्सिल-इन्फेक्शन
गर्भावस्था-में-बालों-का-झड़ना
बच्चों-का-गुस्सा
क्या-गर्भावस्था-के-दौरान-Vitamins-लेना-सुरक्षित-है
बालों-का-झाड़ना

Most Read

khansi-ka-gharelu-upchar
खांसी-की-दवा
sardi-jukam
सर्दी-जुकाम-की-दवा
balgam-wali-khansi-ka-desi-ilaj
कफ-निकालने-के-उपाय
नेबुलाइजर-Nebulizer-zukam-ka-ilaj
ह्यूमिडिफायर-Humidifier
पेट्रोलियम-जैली---Vaseline
Khasi-Ke-Upay
खांसी-की-अचूक-दवा
पराबेन-(paraben)
Khasi-Ki-Dawai
sardi-ki-dawa
jukam-ki-dawa
खांसी-की-अचूक-दवा
जुकाम-के-घरेलू-उपाय
khasi-ki-dawa
बंद-नाक
कई-दिनों-से-जुकाम
शिशु-को-खासी
शिशु-खांसी-के-लिए-घर-उपचार
बच्चों-की-नाक-बंद-होना
Best-Baby-Carriers
शिशु-सर्दी
शिशु-बुखार
1-साल-के-बच्चे-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई
नवजात-शिशु-वजन
शिशु-का-वजन-घटना
शिशु-की-लम्बाई
बच्चों-का-BMI
6-महीने-के-शिशु-का-वजन
नवजात-शिशु-का-BMI
शिशु-का-वजन-बढ़ाये-देशी-घी
शिशु-को-अंडा
शिशु-को-देशी-घी
देसी-घी
शिशु-का-वजन-बढ़ाएं
BMI-Calculator
नवजात-शिशु-का-Infant-Growth-Percentile-Calculator
गर्भ-में-लड़का-होने-के-लक्षण-इन-हिंदी
लड़की-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई
4-महीने-के-शिशु-का-वजन
डिस्लेक्सिया-Dyslexia
ठोस-आहार
मॉर्निंग-सिकनेस
benefits-of-story-telling-to-kids
एडीएचडी-(ADHD)
जिद्दी-बच्चे
बच्चों-पे-चिल्लाना

Other Articles

Footer