Category: बच्चों का पोषण

बढ़ते बच्चों के लिए शीर्ष 10 Superfoods

By: Salan Khalkho | 8 min read

सुपरफूड हम उन आहारों को बोलते हैं जिनके अंदर प्रचुर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं। सुपर फ़ूड शिशु के अच्छी शारीरिक और मानसिक विकास में बहुत पूर्ण भूमिका निभाते हैं। ये बच्चों को वो सभी पोषक तत्व प्रदान करते हैं जो शिशु के शारीर को अच्छी विकास के लिए जरुरी होता है।

बढ़ते बच्चों के लिए शीर्ष 10 Superfoods

अगर आप चाहती हैं कि आपके बच्चे स्वस्थ और तंदुरुस्त रहे तो आप उन्हें आहार  ढेर सारे दें सुपर फूड (Superfoods) खाने को दें। लेकिन अधिकांश माँ बाप परेशानी इस बार की रहती है की चाहे जितना भी कोशिश कर ले  बच्चों को आहार खिलाना बहुत ही मुश्किल काम रहता है - पौष्टिक आहार तो दूर की बात है। 

आपकी परेशानी को हम समझ सकते हैं क्योंकि मैं भी एक माँ हूं और मेरा भी 4 साल का एक नटखट बेटा है।  उसे खाना खिलाने के लिए मुझे बहुत मेहनत करनी पड़ती है।  लेकिन फिर भी मैं इस बात की कोशिश करती हूं कि उसके अंदर आहार से संबंधित अच्छे गुण विकसित हो सके।  

ऐसा इसलिए क्योंकि जब बच्चे छोटे होते हैं तो अगर हम तभी उनके अंदर आहार से संबंधित अच्छे गुणों का विकास करते हैं तो आगे चलकर जब बच्चे बड़े होते हैं तो अपने आहार पर उतना ही ध्यान देते हैं। 

लेकिन जब बच्चे बड़े हो जाते हैं तब उनके अंदर आहार से संबंधित अच्छे गुणों को विकसित करना बहुत मुश्किल होता है। आहार और स्वास्थ्य संबंधित जो बातें आप अपने बच्चों को बचपन सिखा देती है आगे चलकर के उनके जिंदगी में उनके अच्छे स्वास्थ्य के लिए यह एक मजबूत नींव (strong foundation for a healthy life) का काम करता है।

यहाँ हम आपको दस ऐसे सुपर फ़ूड के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें अगर आप अपने बच्चे को खिलाएँगी तो उसके शारीर की पोषण से संबंधित सभी प्रकार की आवशकता पूरी होगी तथा उसके शारीर का स्वस्थ विकास होगा। 

इस लेख में:

  1. सेब Apple स्वस्थ शारीरिक विकास के लिए
  2. ओटमील (oatmeal) स्वस्थ ह्रदय के लिए
  3. अंडा (egg) शिशु के दिमागी विकास के लिए
  4. बेरी वाले फल (Berries) शिशु की दृष्टि और तंत्रिका तंत्र के लिए
  5. एवोकाडो (Avocado) देता है स्वस्थ वासा
  6. गाजर (Carrots) शारीर की रोग प्रतिरोधक छमता के लिए
  7. बीन्स और दलहन (Beans and Lentils)
  8. नट्स, ड्राई फ्रूट्स (सूखे मेवे) शिशु को बनाये उर्जावान
  9. दूध और दूध से बने उत्पाद दे दिमाग और शारीर को उर्जा
  10. एक बात का ध्यान रखें

सेब Apple स्वस्थ शारीरिक विकास के लिए

सेब Apple स्वस्थ शारीरिक विकास के लिए

यह कहावत तो आप ने खूब सुना ही होगा की हर दिन एक सेब खाने से डोक्टर के पास जाने की कभी नौबत नहीं आती है। सच बात तो यह है की सेब से सम्बंधित इस प्रकार का कोई शोध नहीं हुआ है जो यह बात प्रमाणित करता है की जो लोग सेब खाते हैं वे कभी डोक्टर के पास नहीं जाते हैं - लेकिन यह बात भी सच है की अनेक अन्तराष्ट्रीय शोधों दुवारा प्रमाणित हो चूका है की सेब मैं प्रचुर मात्र मैं एंटीऑक्सीडेंट, फाइबर और विटामिन सी (antioxidants, fiber, and vitamin C) पाया जाता है। 

जब बच्चे छोटे होते हैं तो उनका पाचन तंत्र पूरी तरह से विकसित नहीं होता है इसीलिए उन्हें तरह तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है जैसे की कब्ज। 

चूँकि सेब में बहुत फाइबर होता है इसीलिए हर दिन सेब खिलने से शिशु को कब्ज की समस्या नहीं होगी। सेब में विटामिन सी जो शिशु के चहरे और त्वचा को खुबसूरत और चमकदार बनाता है। 

पढ़ें: बढ़ते बच्चों के लिए 7 महत्वपूर्ण पोष्टिक आहार

ओटमील oatmeal स्वस्थ ह्रदय के लिए

ओटमील (oatmeal) स्वस्थ ह्रदय के लिए 

ओटमील (oatmeal) शारीर में ग्लूकोस की मात्र को नियंत्रित करता है और बच्चों के स्वाभाव (मूड) को भी नियंत्रित करता है। इसमें भरपूर मात्र में विटामिन बी, beta-glucans, तथा ऐसे तत्त्व पएंजाते हैं जो हृदय से सम्बंधित रिगों को दूर करते हैं और शारीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्र को भी कम करते हैं। 

अंडा (egg) शिशु के दिमागी विकास के लिए

अंडा (egg) शिशु के दिमागी विकास के लिए 

एक अंडे से आप के शिशु को सम्पूर्ण पोषण मिलेगा। इसीलिए सुबह की शुरुआत के लिए अंडा बहुत ही पौष्टिक ब्रेकफास्ट है। यह प्रोटीन का भी बहुत बढ़िया स्रोत है। प्रो

टीन शारीर में मस्पेशियौं के निर्माण में सहायता करता है तथा आवश्यक होर्मोनेस के बन्ने में भी योगदान देता है। अंडे में एक पोषक तत्त्व पाया जाता है जिसे choline कहते हैं। यह शिशु के दिमागी विकास को गति प्रदान करता है और प्रखर बुद्धि का बनाता है। 

बेरी वाले फल (Berries) शिशु की दृष्टि और तंत्रिका तंत्र के लिए

बेरी वाले फल (Berries) शिशु की दृष्टि और तंत्रिका तंत्र के लिए 

बेरी वाले फल जैसे की Strawberries, blueberries, और blackberries तथा इसी श्रणी के अन्य फल मीठा होने की वजह से शिशु के मीठा खाने की इक्षा को पूरा करते हैं साथ ही यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। एंटीऑक्सीडेंट कई तरह के होते हैं और हर फल में कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। 

बेरी वाले फलों में एक अलग किस्म का एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जिसे anthocyanin कहते हैं। यह शिशु के दृष्टि को मजबूत बनता है और शारीर की तंत्रिका तंत्र (nervous system) तथा रक्त धम्नियौं को स्वस्थ रखता है। 

बेरी वाले फल (Berries) ऐसे ही खाने में स्वादिष्ट लगते हैं, लेकिन आप चाहें तो इनका इस्तेमाल आहारों को स्वादिष्ट बनाने में कर सकती हैं। जैसे की अगर आप अपने बच्चे को सुबह के नाश्ते मैं ओटमील (oatmeal) दे रही हैं तो उसमें थोडा सा बेरी जैसे की Strawberries मिला के उसे और स्वादिष्ट बना सकती हैं। 

एवोकाडो (Avocado) देता है स्वस्थ वासा

एवोकाडो (Avocado) देता है स्वस्थ वासा 

वासा युक्त आहार शारीर के लिए अच्छा नहीं माना जाता है क्यूंकि इससे मोटापा तथा अन्य कई तरह की बिमारियौं से व्यक्ति के ग्रसित होने की सम्भावना बनती है। लेकिन सच बात तो यह है की कुछ वासा ऐसे भी हैं जो शारीर के स्वस्थ के लिए बहुत आवश्यक हैं। 

एवोकाडो (Avocado) इसी प्रकार के अच्छे वासा का स्रोत है। इसमें monounsaturated वासा पाया जाता है जो दिमागी विकास के लिए और आँखों की दृष्टि के लिए बहुत महत्व पूर्ण हैं। साथ ही यह बढते बच्चों के शारीरिक विकास के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। 

गाजर (Carrots) शारीर की रोग प्रतिरोधक छमता के लिए

गाजर (Carrots) शारीर की रोग प्रतिरोधक छमता के लिए 

खुबसूरत, बड़े बड़े गहरे नारंगी रंग के गाजर बहुत स्वादिष्ट तो होते ही हैं, ये स्वस्थ की दृष्टि से भी बहुत महत्व पूर्ण हैं। इनमें प्रचुर मात्र में ऐसे एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो शिशु के शारीर की रोग प्रतिरोधक छमता को बढ़ाते हैं। 

बच्चे जन्म के प्रथम कुछ वर्षों में बहुत ज्यादा बीमार पड़ते हैं क्यूंकि उनके शारीर की रोगप्रतिरोधक छमता व्यस्को जितनी मजबूत नहीं होती है। अगर आप अपने बच्चों को कम बीमार देखना चाहती हैं तो उन्हें गाजर खिलाएं। 

बीन्स और दलहन (Beans and Lentils)

बीन्स और दलहन (Beans and Lentils)

अगर आप के बच्चों को ध्यान केन्द्रित करने में समस्या आती है और किसी भी वक्त स्थिर नहीं दीखते हैं तो आप उन्हें बीन्स वाले सब्जियां खिलाएं जैसे की बोडा। आप अपने बच्चे को हर तरह के दाल भी खिलाएं। दाल में प्रचुर मात्र में प्रोटीन पाया जाता है। 

यह शाकाहारी भोजन में प्रोटीन का मुख्या घटक है। इसमें फाइबर भी खूब पाया जाता है। शोध इस बात को प्रमाणित करते हैं की फाइबर युक्त आहार शिशु को स्कूल में ध्यान केन्द्रित करने में मदद करता है। 

फाइबर से भरपूर आहार जैसे की बीन्स और दलहन (Beans and Lentils) और ओटमील (oatmeal) में मौजूद फाइबर धीरे धीरे पचता है जिससे शिशु को काफी देर तक उर्जा मिलती रहती है। 

नट्स, ड्राई फ्रूट्स (सूखे मेवे) शिशु को बनाये उर्जावान

नट्स, ड्राई फ्रूट्स (सूखे मेवे) शिशु को बनाये उर्जावान 

नट्स, ड्राई फ्रूट्स (सूखे मेवे) या कहिये बादाम, इनमें प्रचुर मात्र में स्वस्थ वासा पाया जाता है जो शिशु के विकास और उनके शारीर को बढ़ने में मदद करता है। 

ये शिशु के ह्रदय को भी स्वस्थ रखते हैं। सुबह के वक्त नाश्ते में थोडा नट्स, ड्राई फ्रूट्स देने से शिशु को दिन के शुरुआत में काफी सुफुर्ती का एहसास होता है - जो उन्हें दिन भर उर्जावान बनाये रखने में मदद करता है। 

दूध और दूध से बने उत्पाद दे दिमाग और शारीर को उर्जा

दूध और दूध से बने उत्पाद दे दिमाग और शारीर को उर्जा 

दूध और दूध से बने उत्पाद में प्रचुर मात्र में प्रोटीन और कैल्शियम होता है जो शारीर को और शिशु के दिमाग को उर्जा प्रदान करता है। दूध में मौजूद प्रोटीन दिमाग की कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है, और दूध में मौजूद कैल्शियम शिशु की हड्डीयौं को और दातों को मजबूत बनता है।

एक बात का ध्यान रखें

चाहे आप के बच्चे आसानी से आहार खाते हैं या आप को उनके पीछे बहुत मशकत करनी पड़ती है, एक बात का ध्यान रखें की आप उनके आहार में सुपर फूड (Superfoods) का इस्तेमाल जरुर करें ताकि उन्हें बेहतर शारीरिक और मानसिक विकास मिल सके और वे हर वक्त स्वस्थ बने रह सकें। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

Footer