Category: बच्चों की परवरिश

Apps जो बचाये आपके बच्चों को Online ख़तरों से

By: Salan Khalkho | 5 min read

कुछ सॉफ्टवेयर हैं जो पेरेंट्स की मदद करते हैं बच्चों को इंटरनेट की जोखिमों से बचाने में। इन्हे पैरेंटल कन्ट्रो एप्स (parental control apps) के नाम से जाना जाता है। हम आपको कुछ बेहतरीन (parental control apps) के बारे में बताएँगे जो आपके बच्चों की सुरक्षा करेगा जब आपके बच्चे ऑनलाइन होते हैं।

Apps जो बचाये आपके बच्चों को Online ख़तरों से

हम लोग इंटरनेट के आधुनिक युग में जी रहे हैं। जहाँ इंटरनेट ने बहुत सी चीज़ें आसान कर दी हैं जैसे की ऑनलाइन टिकट बुक करना, GPS द्वारा आसानी से नई जगह पे पहुँच जाना, बच्चों का homework या assignment, यह सब बेहद आसान हो गया है। बच्चे और बड़ों सबके लिए नई नई जानकारी पाना बहुत सरल हो गया है। 

मगर ऑनलाइन जगत के अपने कुछ खतरे हैं।  जैसे अनजाने में बच्चों का adult/porn सामग्री से सामना, हैकिंग (hacking), पिशिंग (phishing), और भी तमाम खतरे हैं। बच्चे एक आसान टारगेट (easy target) हैं विशेष कर युवा पीड़ी (teenagers)। 



For Readers: Diaper पे भारी छुट (Discount) का लाभ उठायें!
Know More>>
*Amazon पे हर दिन discount और offers बदलता है| जरुरी नहीं की यह DISCOUNT कल उपलब्ध रहे|


इंटरनेट के जरिये अराजक तत्त्व बच्चों तथा युवा पीढ़ी को ड्रग्स तक देने की कोशिश करते हैं। साइबर बुलइंग (cyber bullying) भी एक समस्या है जहाँ कुछ बच्चे दूसरे बच्चों को ऑनलाइन परेशान करते हैं। और भी कई प्रकार के लोग हैं जो दूसरे बच्चों को बुरी नियत (wrong intention) से इंटरनेट के जरिये निशाना बनाने की कोशिश करते हैं। 

 

युवा पीढ़ी के लिए इंटरनेट पे इन सब चीज़ों से निपटना आसान नहीं है। और इसी लिए आप पेरेंट्स की जिम्मेदारी होती है की आप अपने बच्चों को इंटरनेट के खतरों से बचाएं। मगर पेरेंट्स के लिए सबसे बड़ी समस्या ये है की बहुत से बच्चे अपने पेरेंट्स से सब कुछ शेयर नहीं करते। वे नहीं बताते की उनके जीवन में क्या चल रहा है। 

बच्चो को सुरक्षित रखने के लिए माँ-बाप को क्या करना चाहिए

Apps और software तो अच्छे विकल्प हैं बच्चों को internet के खतरों से बचाने के लिए, मगर कुछ बातों का ख्याल अगर रखा जाये तो बच्चों को पूरी तरह सुरक्षित रखा जा सकता है। यहां पर हम आप को बताने जा रहें हैं कुछ टिप्स जो आप अपने बच्चों को जरूर बताएं। 

व्यक्तिगत जानकारियां न दें - बच्चों को बताएं की वे कभी भी व्यक्तिगत जानकारियां इंटरनेट पे साझा न करें। व्यक्तिगत जानकारियां जैसे की फ़ोन नंबर, घर का पता, फोटो, स्कूल का नाम, कहीं ट्रिप पे जा रहें हों तो, ट्रिप की जानकारी, इंटरनेट पे किसी भी व्यक्ति से शेयर न करें। ऐसा करना आप के बच्चे और आप के घर के लिए असुरक्षित हो सकता है। 

असुरक्षित वेबसाइट्स (websites) पे न जाएँ - बच्चों को सलाह दें की वे असुरक्षित websites पे न जाएँ। न ही असुरक्षित सामग्री online access करें। सिर्फ school से सम्बंधित सामग्री ही access करने की सलाह दें।

अनजान व्यक्तियों से कुछ न लें - जिस तरह अनजान व्यक्तियों से chocolate और gifts नहीं लेनी चाहिए उसी तरह अनजान व्यक्तियों से ईमेल, फाइल्स, और messages नहीं लेनी चाहिए।                   

सभी ऑनलाइन सामग्री विश्वसनीय नहीं होती - सभी बातें जो हम ऑनलाइन पढ़ते हैं जरुरी नहीं की सही हों। कई बार ये वो लोग नहीं होते जो वे अपने को दिखाते हैं। इसी लिए जानकारी के स्रोत का पता कर लें ताकि जानकारी की विश्वसनीयता का पता चल सके। 

बड़ों की सलाह - बच्चों को बताएं की अगर कोई ऑनलाइन सामग्री परेशान या विचलित करने वाली हो तो माँ-बाप से ये फिर अध्यापक से उसके बारे में जरूर राय ले लें। बच्चों को बताएं की अगर उन्हें कोई ऑनलाइन परेशान करता है (cyber bullying) तो उसके बारे में भी उन्हें जरूर बताएं।   

इन बातों के आलावा हम बताने जा रहें हैं कुछ software और apps के बारे में जो पेरेंट्स की मदद करते हैं बच्चों को इंटरनेट की जोखिमों से बचाने में। इन्हे पैरेंटल कन्ट्रो एप्स (parental control apps) के नाम से जाना जाता है। 

बच्चों के लिए online risk के प्रकार

हम आपको कुछ बेहतरीन (parental control apps) के बारे में बताएँगे जो आपके बच्चों की सुरक्षा करेगा जब आपके बच्चे ऑनलाइन होते हैं। 

शील्डमाईटीन (ShieldMyTeen)

यह एक लेटेस्ट सॉफ्टवेयर है जो आपको वो सारे features देगा जो जरुरी है। ये आपके बच्चों के स्मार्टफोन पे होने वाली text messages और calls की निगरानी करता है। इस सॉफ्टवेयर के जरिये आप देख सकते हैं की आपके बच्चे की प्रकार के वार्तालाप में संलिप्त हो रहे हैं, किन लोगों के संगती में रहते हैं और किन लोगों के साथ अक्सर घूमते हैं। अगर आप के बच्चों के स्मार्टफोन पे कुछ जयदा ही कॉल्स आ रहे हों और वे कुछ ज्यादा ही घर से बहार रह रहे हो तो आप को सावधान हो जाना चाहिए। 

इस सॉफ्टवेयर में एक ऐसा features है जिसके मदद से आप बच्चों के स्मार्टफोन पे होने वाली  text messages को पढ़ सकते हैं। क्या बातें चल रही हैं और बात करने का अंदाज क्या है इससे आप पता लगा सकती हैं की आप के बच्चे कहीं cyber bullying के शिकार तो नहीं हो रहे हैं। cyber bullying आप के बच्चों के मनोबल (confidence) को कमजोर कर सकता है। अगर ऐसा कुछ हो रहा है तो जरुरत है की आप स्थिति को अपने हाथ में लें इससे पहले की देर हो जाये। 

इस सॉफ्टवेयर का दूसरा features है location tracking जो पेरेंट्स की मदद करता है ये जानने में की उनका बच्चा दिन भर किन किन जगहों पे जाता है। अगर वो ऐसे जगहों पे जा रहा है जहाँ उसे नहीं जाना चाहिए, तो आप अपने बच्चों से इस बारे मैं बात कर सकती हैं। 

ShieldMyTeen की एक और खासियत ये है की ये सारे adults contents को block कर देता है। इसका मतलब आपके बच्चे अपने smartphone पे pornography नहीं देख पाएंगे। 

यह सॉफ्टवेयर फ्री (free) में उपलब्ध है जिसका मतलब आपको अपने बच्चों को सुरक्षित करने के लिए एक भी पैसा खर्च नहीं करना है। ShieldMyTeen की और भी बहुत सारी विशेषतएं हैं जो आपकी मदद करेंगी आप के बच्चों को इंटरनेट के खतरों से बचाने मैं। एहि वजह है की इस सॉफ्टवेयर का जिक्र मैंने सबसे पहले किया। 

नेट नैनी (Net Nanny) 

नेट नैनी पैरेंटल एप्लीकेशन (parental application) के बारे मैं बहुतों को पता है। ये काफी लोकप्रिय application है। ये application बहुत समय से माँ-बाप की मदद कर रहा है बच्चों को ऑनलाइन (online) सुरक्षित रखने मैं।पिछले कई सैलून के दौरान इस सॉफ्टवेयर मैं कई बदलाव और सुधर हुए हैं। लोगों की राय माने तो यह सॉफ्टवेयर सबसे बेहतरीन पैरेंटल एप्लीकेशन (parental application) में से एक है। यह सॉफ्टवेयर pornographic content को ब्लॉक करता है, बहुतेरे हानिकारक websites को filter करता है, माँ-बाप को लगातार बच्चों के online गतिविधियों के बारे मैं सूचित (alert) करता है। इसमें और भी बहुत सारी features हैं।

नेट नैनी (Net Nanny) का सबसे बेहतरीन feature है social media monitoring। ये आप जैसे माँ-बाप की मदद करता है बच्चों के social networking platforms की निगरानी करने मैं। आप देख सकेंगे की आपका बच्चा social networking platforms पर क्या कर रहा है। यहां तक की आप WhatsApp जैसे applications पर वो क्या बातचित कर रहा है देख सकेंगे।

नेट नैनी (Net Nanny) app का कोई फ्री संस्करण नहीं है। इसे इस्तेमाल करने के लिए आपको उनकी सर्विस खरीदनी पड़ेगी। मगर इस aap के कई पैकेज उपलब्ध हैं। जो अलग अलग कीमतों पे आते हैं। कुछ पैकेज ऐसे हैं जो बेहद सस्ते हैं और try out करने के लिए अच्छा विकल्प है।           

कास्परस्की सफेकिडस (Kaspersky SafeKids) 

इसके दो संस्करण उपलब्ध हैं। एक जो फ्री है और दूसरा जिसके लिए आपको खर्च करना पड़ेगा। फ्री version और paid version में सिर्फ इतना अंतर है की paid version के साथ आपको कुछ added features भी मिलते हैं।

Free version में आप कोई भी online content जिसे आप अपने बच्चों के लिए सही न समझे, ब्लॉक कर सकते हैं। कास्परस्की सफेकिडस (Kaspersky SafeKids) निगरानी करता है उन aps की भी जिसे आप के बच्चों ने download किया है। इस software की मदद से आप चाहें तो उन aps को block/unblock कर सकते हैं। कास्परस्की सफेकिडस (Kaspersky SafeKids) का free संस्करण यहीं तक सिमित है। 
Paid version मैं आपको और features मिलते हैं जैसा की calls monitoring, text messaging,location tracking, Facebook profile track  करना और Facebook friend list की निगरानी करना वगैरह वगैरह।

अगर आपको लगता है की कास्परस्की सफेकिडस (Kaspersky SafeKids) आपके बच्चों को online सुरक्षित रखने में मदद कर सकता है तो हम आपको सुझाव देंगे की आप paid version के लिए जाएँ। Paid version या premium version मैं वो सारे फीचर्स आप को मिलेंगे जो जरुरी हैं आप के बच्चों को online सुरक्षित रखने मैं।  

Most Read

Other Articles

Footer