Category: बच्चों की परवरिश

Apps जो बचाये आपके बच्चों को Online ख़तरों से

Published:27 Jun, 2017     By: Salan Khalkho     5 min read

कुछ सॉफ्टवेयर हैं जो पेरेंट्स की मदद करते हैं बच्चों को इंटरनेट की जोखिमों से बचाने में। इन्हे पैरेंटल कन्ट्रो एप्स (parental control apps) के नाम से जाना जाता है। हम आपको कुछ बेहतरीन (parental control apps) के बारे में बताएँगे जो आपके बच्चों की सुरक्षा करेगा जब आपके बच्चे ऑनलाइन होते हैं।


Apps जो बचाये आपके बच्चों को Online ख़तरों से

हम लोग इंटरनेट के आधुनिक युग में जी रहे हैं। जहाँ इंटरनेट ने बहुत सी चीज़ें आसान कर दी हैं जैसे की ऑनलाइन टिकट बुक करना, GPS द्वारा आसानी से नई जगह पे पहुँच जाना, बच्चों का homework या assignment, यह सब बेहद आसान हो गया है। बच्चे और बड़ों सबके लिए नई नई जानकारी पाना बहुत सरल हो गया है। 

मगर ऑनलाइन जगत के अपने कुछ खतरे हैं।  जैसे अनजाने में बच्चों का adult/porn सामग्री से सामना, हैकिंग (hacking), पिशिंग (phishing), और भी तमाम खतरे हैं। बच्चे एक आसान टारगेट (easy target) हैं विशेष कर युवा पीड़ी (teenagers)। 

इंटरनेट के जरिये अराजक तत्त्व बच्चों तथा युवा पीढ़ी को ड्रग्स तक देने की कोशिश करते हैं। साइबर बुलइंग (cyber bullying) भी एक समस्या है जहाँ कुछ बच्चे दूसरे बच्चों को ऑनलाइन परेशान करते हैं। और भी कई प्रकार के लोग हैं जो दूसरे बच्चों को बुरी नियत (wrong intention) से इंटरनेट के जरिये निशाना बनाने की कोशिश करते हैं। 

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

 

युवा पीढ़ी के लिए इंटरनेट पे इन सब चीज़ों से निपटना आसान नहीं है। और इसी लिए आप पेरेंट्स की जिम्मेदारी होती है की आप अपने बच्चों को इंटरनेट के खतरों से बचाएं। मगर पेरेंट्स के लिए सबसे बड़ी समस्या ये है की बहुत से बच्चे अपने पेरेंट्स से सब कुछ शेयर नहीं करते। वे नहीं बताते की उनके जीवन में क्या चल रहा है। 

बच्चो को सुरक्षित रखने के लिए माँ-बाप को क्या करना चाहिए

Apps और software तो अच्छे विकल्प हैं बच्चों को internet के खतरों से बचाने के लिए, मगर कुछ बातों का ख्याल अगर रखा जाये तो बच्चों को पूरी तरह सुरक्षित रखा जा सकता है। यहां पर हम आप को बताने जा रहें हैं कुछ टिप्स जो आप अपने बच्चों को जरूर बताएं। 

व्यक्तिगत जानकारियां न दें - बच्चों को बताएं की वे कभी भी व्यक्तिगत जानकारियां इंटरनेट पे साझा न करें। व्यक्तिगत जानकारियां जैसे की फ़ोन नंबर, घर का पता, फोटो, स्कूल का नाम, कहीं ट्रिप पे जा रहें हों तो, ट्रिप की जानकारी, इंटरनेट पे किसी भी व्यक्ति से शेयर न करें। ऐसा करना आप के बच्चे और आप के घर के लिए असुरक्षित हो सकता है। 

असुरक्षित वेबसाइट्स (websites) पे न जाएँ - बच्चों को सलाह दें की वे असुरक्षित websites पे न जाएँ। न ही असुरक्षित सामग्री online access करें। सिर्फ school से सम्बंधित सामग्री ही access करने की सलाह दें।

अनजान व्यक्तियों से कुछ न लें - जिस तरह अनजान व्यक्तियों से chocolate और gifts नहीं लेनी चाहिए उसी तरह अनजान व्यक्तियों से ईमेल, फाइल्स, और messages नहीं लेनी चाहिए।                   

सभी ऑनलाइन सामग्री विश्वसनीय नहीं होती - सभी बातें जो हम ऑनलाइन पढ़ते हैं जरुरी नहीं की सही हों। कई बार ये वो लोग नहीं होते जो वे अपने को दिखाते हैं। इसी लिए जानकारी के स्रोत का पता कर लें ताकि जानकारी की विश्वसनीयता का पता चल सके। 

बड़ों की सलाह - बच्चों को बताएं की अगर कोई ऑनलाइन सामग्री परेशान या विचलित करने वाली हो तो माँ-बाप से ये फिर अध्यापक से उसके बारे में जरूर राय ले लें। बच्चों को बताएं की अगर उन्हें कोई ऑनलाइन परेशान करता है (cyber bullying) तो उसके बारे में भी उन्हें जरूर बताएं।   

इन बातों के आलावा हम बताने जा रहें हैं कुछ software और apps के बारे में जो पेरेंट्स की मदद करते हैं बच्चों को इंटरनेट की जोखिमों से बचाने में। इन्हे पैरेंटल कन्ट्रो एप्स (parental control apps) के नाम से जाना जाता है। 

बच्चों के लिए online risk के प्रकार

हम आपको कुछ बेहतरीन (parental control apps) के बारे में बताएँगे जो आपके बच्चों की सुरक्षा करेगा जब आपके बच्चे ऑनलाइन होते हैं। 

शील्डमाईटीन (ShieldMyTeen)

यह एक लेटेस्ट सॉफ्टवेयर है जो आपको वो सारे features देगा जो जरुरी है। ये आपके बच्चों के स्मार्टफोन पे होने वाली text messages और calls की निगरानी करता है। इस सॉफ्टवेयर के जरिये आप देख सकते हैं की आपके बच्चे की प्रकार के वार्तालाप में संलिप्त हो रहे हैं, किन लोगों के संगती में रहते हैं और किन लोगों के साथ अक्सर घूमते हैं। अगर आप के बच्चों के स्मार्टफोन पे कुछ जयदा ही कॉल्स आ रहे हों और वे कुछ ज्यादा ही घर से बहार रह रहे हो तो आप को सावधान हो जाना चाहिए। 

इस सॉफ्टवेयर में एक ऐसा features है जिसके मदद से आप बच्चों के स्मार्टफोन पे होने वाली  text messages को पढ़ सकते हैं। क्या बातें चल रही हैं और बात करने का अंदाज क्या है इससे आप पता लगा सकती हैं की आप के बच्चे कहीं cyber bullying के शिकार तो नहीं हो रहे हैं। cyber bullying आप के बच्चों के मनोबल (confidence) को कमजोर कर सकता है। अगर ऐसा कुछ हो रहा है तो जरुरत है की आप स्थिति को अपने हाथ में लें इससे पहले की देर हो जाये। 

इस सॉफ्टवेयर का दूसरा features है location tracking जो पेरेंट्स की मदद करता है ये जानने में की उनका बच्चा दिन भर किन किन जगहों पे जाता है। अगर वो ऐसे जगहों पे जा रहा है जहाँ उसे नहीं जाना चाहिए, तो आप अपने बच्चों से इस बारे मैं बात कर सकती हैं। 

ShieldMyTeen की एक और खासियत ये है की ये सारे adults contents को block कर देता है। इसका मतलब आपके बच्चे अपने smartphone पे pornography नहीं देख पाएंगे। 

यह सॉफ्टवेयर फ्री (free) में उपलब्ध है जिसका मतलब आपको अपने बच्चों को सुरक्षित करने के लिए एक भी पैसा खर्च नहीं करना है। ShieldMyTeen की और भी बहुत सारी विशेषतएं हैं जो आपकी मदद करेंगी आप के बच्चों को इंटरनेट के खतरों से बचाने मैं। एहि वजह है की इस सॉफ्टवेयर का जिक्र मैंने सबसे पहले किया। 

नेट नैनी (Net Nanny) 

नेट नैनी पैरेंटल एप्लीकेशन (parental application) के बारे मैं बहुतों को पता है। ये काफी लोकप्रिय application है। ये application बहुत समय से माँ-बाप की मदद कर रहा है बच्चों को ऑनलाइन (online) सुरक्षित रखने मैं।पिछले कई सैलून के दौरान इस सॉफ्टवेयर मैं कई बदलाव और सुधर हुए हैं। लोगों की राय माने तो यह सॉफ्टवेयर सबसे बेहतरीन पैरेंटल एप्लीकेशन (parental application) में से एक है। यह सॉफ्टवेयर pornographic content को ब्लॉक करता है, बहुतेरे हानिकारक websites को filter करता है, माँ-बाप को लगातार बच्चों के online गतिविधियों के बारे मैं सूचित (alert) करता है। इसमें और भी बहुत सारी features हैं।

नेट नैनी (Net Nanny) का सबसे बेहतरीन feature है social media monitoring। ये आप जैसे माँ-बाप की मदद करता है बच्चों के social networking platforms की निगरानी करने मैं। आप देख सकेंगे की आपका बच्चा social networking platforms पर क्या कर रहा है। यहां तक की आप WhatsApp जैसे applications पर वो क्या बातचित कर रहा है देख सकेंगे।

नेट नैनी (Net Nanny) app का कोई फ्री संस्करण नहीं है। इसे इस्तेमाल करने के लिए आपको उनकी सर्विस खरीदनी पड़ेगी। मगर इस aap के कई पैकेज उपलब्ध हैं। जो अलग अलग कीमतों पे आते हैं। कुछ पैकेज ऐसे हैं जो बेहद सस्ते हैं और try out करने के लिए अच्छा विकल्प है।           

कास्परस्की सफेकिडस (Kaspersky SafeKids) 

इसके दो संस्करण उपलब्ध हैं। एक जो फ्री है और दूसरा जिसके लिए आपको खर्च करना पड़ेगा। फ्री version और paid version में सिर्फ इतना अंतर है की paid version के साथ आपको कुछ added features भी मिलते हैं।

Free version में आप कोई भी online content जिसे आप अपने बच्चों के लिए सही न समझे, ब्लॉक कर सकते हैं। कास्परस्की सफेकिडस (Kaspersky SafeKids) निगरानी करता है उन aps की भी जिसे आप के बच्चों ने download किया है। इस software की मदद से आप चाहें तो उन aps को block/unblock कर सकते हैं। कास्परस्की सफेकिडस (Kaspersky SafeKids) का free संस्करण यहीं तक सिमित है। 
Paid version मैं आपको और features मिलते हैं जैसा की calls monitoring, text messaging,location tracking, Facebook profile track  करना और Facebook friend list की निगरानी करना वगैरह वगैरह।

अगर आपको लगता है की कास्परस्की सफेकिडस (Kaspersky SafeKids) आपके बच्चों को online सुरक्षित रखने में मदद कर सकता है तो हम आपको सुझाव देंगे की आप paid version के लिए जाएँ। Paid version या premium version मैं वो सारे फीचर्स आप को मिलेंगे जो जरुरी हैं आप के बच्चों को online सुरक्षित रखने मैं।  


यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी।



Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Recommended Articles

Sharing is caring

शिशु-क्योँ-रोता
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school
ब्लू व्हेल - बच्चों के मौत का खेल

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

ब्लू-व्हेल
भारत के पांच सबसे महंगे स्कूल

लेकिन भारत के ये प्रसिद्ध बोडिंग स्कूलो, भारत के सबसे महंगे स्कूलों में शामिल हैं| यहां पढ़ाना सबके बस की बात नहीं|

India-expensive-school
6 बेबी प्रोडक्टस जो हो सकते हैं नुकसानदेह आपके बच्चे के लिए

कुछ ऐसे बेबी प्रोडक्ट जो न खरीदें तो बेहतर है

6-बेबी-प्रोडक्टस-जो-हो-सकते-हैं-नुकसानदेह-आपके-बच्चे-के-लिए
6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना है खतरनाक

शिशु में पानी की शुरुआत 6 महीने के बाद की जानी चाहिए।

6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
माँ का दूध छुड़ाने के बाद क्या दें बच्चे को आहार

बच्चों में माँ का दूध कैसे छुड़ाएं और उसके बाद उसे क्या आहार दें ?

बच्चे-को-आहार
छोटे बच्चों को मच्छरों से बचाने के 4 सुरक्षित तरीके

अगर घर में छोटे बच्चे हों तो मच्छरों से बचने के 4 सुरक्षित तरीके।

बच्चों-को-मच्छरों-से-बचाएं
किस उम्र से सिखाएं बच्चों को ब्रश करना

अच्छे दांतों के लिए डेढ़ साल की उम्र से ही अच्छी तरह ब्रशिंग की आदत डालें

बच्चों-को-ब्रश-कराना
बच्चों का लम्बाई बढ़ाने का आसान घरेलु उपाय

अपने बच्चे की शारीरिक लम्बाई को बढ़ाने के लिए इन बातों का ध्यान रखना होगा



बच्चों-का-लम्बाई
नवजात शिशु की देख रेख - Dos and Donts of Neonatal Care

शिशु की देख भाल की तरह की जाये ताकि बच्चा रहे स्वस्थ और उसका हो अच्छा शारीरिक और मानसिक विकास।

Neonatal-Care
Sex Education - बच्चों को किस उम्र में क्या पता होना चाहिए!

बच्चों को सेक्स सम्बन्धी जानकारी क्योँ देना क्यों और कैसे जरुरी है?

Sex-Education
पारिवारिक परिवेश बच्चों के विकास को प्रभावित करता है

माँ-बाप के बीच मधुर सम्बन्ध शिशु के विकास में बहुत तरीके से योगदान करता है।

पारिवारिक-माहौल
बच्चे बुद्धिमान बनते हैं जब आप हर दिन उनसे बात करते हैं|

बच्चों के साथ बातचीत करने से उनपे बेहद अच्छा और सकारात्मक प्रभाव पड़ता है

बच्चे-बुद्धिमान
क्या आप का बच्चा बात करने में ज्यादा समय ले रहा है|

बच्चे के बोलने में आप किस तरह मदद कर सकते हैं?

बच्चा-बात
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
बच्चे को सुलाएं 60 सेकंड के अन्दर

आइये हम बात करते हैं की आप अपने बच्चे को कैसे झट से 60 second के अन्दर सुला सकती हैं।

बच्चे-को-सुलाएं
5 नुस्खे नवजात बच्चे के दिमागी विकास के लिए

बच्चे को छूने और उसे निहारने से उसके दिमाग के विकास को गति मिलती है|

नवजात-बच्चे-का-दिमागी-विकास
6 TIPS: बच्चे के लिए बेस्ट स्कूल इस तरह चुने

अगर आप अपने बच्चे के लिए best school की तलाश कर रहें हैं तो आप को इन छह बिन्दुओं का धयान रखना है|

best-school-2018
Easy Tips - बच्चों को बोर्ड एग्जैम की तैयारी करवाने के लिए

अगर आप इन बातों का ख्याल रखेंगे तो आप का बच्चा बोर्ड एग्जाम की बेहतर तयारी कर पायेगा|


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit