Category: स्वस्थ शरीर

6 आसान तरीके बच्चों की लम्बाई बढ़ाने के

By: Salan Khalkho | 3 min read

शोध (research studies) में यह पाया गया है की जेनेटिक्स सिर्फ एक करक, इसके आलावा और बहुत से करक हैं जो बढ़ते बच्चों के लम्बाई को प्रभावित करते हैं। जानिए 6 आसान तरीके जिनके द्वारा आप अपने बच्चे को अच्छी लम्बी पाने में मदद कर सकते हैं।

how to grow childs height

हर एक माँ बाप की चाहत होती है की उनका बच्चा उनसे लम्बा और तंदरुस्त हो। बढ़ते बच्चे कई प्रकार के बदलाव से गुजर रहे होते हैं जैसे की शारीरिक, हॉर्मोनल और मानसिक बदलाव जो उनके लम्बाई और सेहत पे असर डालते हैं मगर आप का बच्चा बड़ा होकर कितना लम्बा हो, यह बहुत हद तक उसकी जेनेटिक्स (genetics) द्वारा निर्धारित होता है। 

इसका मतलब बच्चे औसतन अपने माँ-बाप की लम्बाई के बराबर लम्बे होते हैं। मगर इसके बावजूद कया आप ने कभी देखा कुश बच्चे अपने माँ और बाप से कुछ ज्यादा ही लम्बे निकल जाते हैं। 

शोध (research studies) में यह पाया गया है की जेनेटिक्स सिर्फ एक करक, इसके आलावा और बहुत से करक हैं जो बढ़ते बच्चों के लम्बाई को प्रभावित करते हैं। 

यहां पर हम आपको बताते हैं 6 आसान तरीके जिनके द्वारा आप अपने बच्चे को अच्छी लम्बी पाने में मदद कर सकते हैं। 

1. अच्छा भोजन

स्वस्थ से भरपूर आहार एक बच्चे को बढ़ने में मदद करता है। समतोल आहार (balanced diet) बढ़ते बच्चे के हडियोंको कैल्शियम प्रदान करता है और मास-पेशियों  को बनने के लीये प्रोटीन। सही आहार मिले तो बच्चा अच्छी लम्बाई पकड़ेगा। 

कार्बोहाइड्रेट - गेहूँ की चपाती, दालें और ब्रेड में कार्बोहाइड्रेट (carbohydrate) भरपूर होता है। कार्बोहाइड्रेट बढ़ते बच्चों को जरुरी ऊर्जा प्रदान करता है। 

दूध और दूध की बनी चीज़ें - इनमें कैल्शियम और प्रोटीन भरपूर होता है जो बच्चों की हड्डियाँ मज़बूत करने के साथ-साथ उनकी लंबाई के लिए भी अच्छा है अपने बच्चों को दूध और दूध की बनी चीज़ें रोज दें।

प्रटीन से भरपूर आहार - प्रोटीन युक्त भोजन अपने बच्चों को खिलाएं। दाल, सीरीअल, मीट, अंडा और फिश में भरपूर होता है प्रोटीन।

विटामिन डी - यह विटामिन शरीर के लिए काफी महत्वपूर्ण है विशेषकर स्किन और मांसपेशियों के लिए। धूप में शरीर यह विटामिन खुद-बा-खुद बना लेता है। यह विटामिन आप के शिशु को अच्छी लम्बाई पाने में भी मदद करता है।

food and factors that influence childs height

2. व्यायाम और योगा

हर दिन एक्सरसाइज बढ़ते बच्चों को शारीरिक रूप से फिट और अच्छी लम्बाई पाने में मदद करता है। इस वीडियो में देखिये वो एक्सरसाइज जो आपके बच्चे को अच्छी लम्बाई पाने में मददगार साबित होगें। 

3. बुरी आदतों और नकली पदार्थों से दूर

बुरी आदतों बच्चों के सक्रिय बढ़त में बाध डालते हैं। अपने बच्चों को आर्टिफिशियल हॉर्मोन के कैप्सूल से दूर रखें। यह भी सुनाशित करें की आपके बच्चे बुरी संगती में न पड़े। 

बुरी संगती में पड़कर कई बच्चे नाजुक उम्र में शराब और सिगरेट का सेवन शुरू कर देते हैं। यह बुरी आदतें ना केवल उनके इम्यून सिस्टम पर प्रतिकूल प्रभाव डालती हैं बल्कि उनके सक्रिय विकास को हमेशा के लिए बाधित कर देती हैं। 

4. अच्छी नींद

अच्छी नींद बच्चों के अच्छे विकास में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। बच्चों को हर दिन कम से कम 8 घंटे जरूर सोना चाहिए। 

उनके सोने के लिए घर में ऐसे प्रबंध करें की उनको पर्याप्त जगह मिल सके। वैज्ञानिक शोध में यह बात सामने आयी है की सोने की तंग जगह हड्डियों और पूरे शरीर को बढ़ने में रुकावट लती हैं। 

जगह इतनी होनी चाहिए की बच्चे आराम से पैर फैला के सो सकें। साथ ही साथ अगर दिन का समय है तो कमरे के अंदर की रौशनी को इस तरह व्यस्थित करें ताकि माहौल सोने के अनुकूल बन सके।

exercise and sleep helps attain height

5. डॉक्टर की सलाह

यदि आप बच्चे की सेहत, खान पान और रोजाना व्यायाम का ध्यान रख रहे हैं फिर भी आप का बच्चा उस तरह लम्बा नहीं हो पा रहा जिस तरह उसे होना चाहिए, तो आप डॉक्टर से संपर्क करें। कई बार जब चीज़ें स्पष्ट ना हों तो एक डॉक्टर ही सही राय दे सकता है। एक बच्चे की लम्बाई 18 से 20 वर्ष तक ही बढ़ती है। इसका मतलब आप को डॉक्टर को समय रहते संपर्क करना चाहिए। 

6. बच्चे की आत्मविश्वास को बढ़ावा

अगर इन सबके बावजूद किन्ही कारणों से आपका बच्चा अच्छी लम्बाई नहीं ले पा रहा है तो ना खुद निराश हों और ना ही आने बच्चे को निराश होने दें। हर किसी की शारीरिक बनावट भिन भिन होती है। सफलता का लम्बाई से कोई लेना देना नहीं है। सचिन तेंदुलकर और रानी मुखर्जी जैसे सफल लोगों की मिसाल दे कर अपने बच्चे का कान्फिडन्स बढ़ाएँ।

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

बच्चों-मे-सीलिएक
बच्चों-में-स्किन-रैश-शीतपित्त
बच्चों-में-अण्डे-एलर्जी
बच्चे-को-दूध-से-एलर्जी
दस्त-में-शिशु-आहार
टीकाकरण-चार्ट-2018
बच्चों-का-गर्मी-से-बचाव
आयरन-से-भरपूर-आहार
सर्दी-जुकाम-से-बचाव
बच्चों-में-टाइफाइड
बच्चों-में-अंजनहारी
बच्चों-में-खाने-से-एलर्जी
बच्चों-में-चेचक
डेंगू-के-लक्षण
बच्चों-में-न्यूमोनिया
बच्चों-में-यूरिन
बच्चों-का-घरेलू-इलाज
वायरल-बुखार-Viral-fever
बच्चों-में-सर्दी
एंटी-रेबीज-वैक्सीन
चिकन-पाक्स-का-टिका
टाइफाइड-वैक्सीन
शिशु-का-वजन-बढ़ाने-का-आहार
दिमागी-बुखार
येलो-फीवर-yellow-fever
हेपेटाइटिस-बी
हैजा-का-टीकाकरण---Cholera-Vaccination
बच्चों-का-मालिश
गर्मियों-से-बचें
बच्चों-का-मालिश

Most Read

Other Articles

indexed_40.txt
Footer