Category: बच्चों की परवरिश

बच्चों के दिनचर्या को निर्धारित करने के फायदे हैं बहुत

By: Salan Khalkho | 3 min read

अमेरिकी शोध के अनुसार जो बच्चे एक नियमित समय का पालन करते हैं उनमें मोटापे की सम्भावना काफी कम रहती है| नियमित दिनचर्या का पालन करने का सबसे ज्यादा फायदा प्री-स्कूली आयु के बच्चों में होता है| नियमित दिनचर्या का पालन करना सिर्फ सेहत की द्रिष्टी से ही महत्वपूर्ण नहीं है वरन इससे कम उम्र से ही बच्चों में अनुशाशन के प्रति सकारात्मक सोच विकसित होती है|

बच्चों के दिनचर्या को निर्धारित करने के फायदे

हाल ही में हुए एक अमेरिकी शोध में यह बात सामने आयी है की अगर बच्चे समय पे सोते हैं तो उन्हें मोटापा नहीं सताएगा। 

इस लेख में आप पढ़ेंगे: 

  1. नियमित दिनचर्या का प्रभाव छोटे बच्चों पे
  2. नियमित दिनचर्या का पालन और मोटापा
  3. दिनचर्या का मूल्यांकन
  4. शोध का प्रकाशन
  5. चौंकाने वाले तथ्य
  6. सीख - Takeaway

नियमित दिनचर्या का प्रभाव छोटे बच्चों पे - Impact of routine in preschool children इस लेख में आप पढ़ेंगे: 

Impact of routine in preschool children

 

बच्चों को अगर छोटी उम्र से ही नियमित दिनचर्या का पालन करना सिखाया जाये तो आगे चलकर उसके बहुत फायदे हैं। न्यूयॉर्क में छपे अमेरिकी शोध पत्रिका में बताया गया की अगर बच्चे को हर दिन नियमित समय पे सुलाया गया, नियमित समय पे खिलाया गया और अगर बच्चा हर दिन नियमित समय पे खेलता-कूदता है तो ऐसे प्री-स्कूली बच्चों का स्वास्थ्य बेहतर होता है। 

नियमित दिनचर्या का पालन और मोटापा (Following regular routine and obesity in children)

regular routine and obesity in children

नियमित दिनचर्या का पालन करने वाले बच्चों में मोटापे की समस्या भी कम देखी गयी है। बच्चों की सेहत पे नियमित दिनचर्या का क्या असर पड़ता है इस विषय पे शोध अमेरिका के ओहियो स्टेट विश्वविद्यालय में किया गया। शोध की प्रमुख लेखक सारा एंडरसन ने अपने अध्यन में पाया की नियमित दिनचर्या का पालन करने का सबसे ज्यादा फायदा प्री-स्कूली आयु के बच्चों में होता है। उनके अनुसार बच्चों में दिनचर्या उनके बेहतर स्वास्थ्य विकास से जुड़ी होती है तथा यह बच्चों में मोटापाग्रस्त होने की संभावना को भी कम करती है।

दिनचर्या का मूल्यांकन - Points focused in the study 

बच्चों का समय से खेलना

शोध में तीन साल तक की आयु के 3000 बच्चों के दिनचर्या का मूल्यांकन किया गया। मूल्यांकन में जिन बातों का विश्लेषण गया वे थीं 

  • बच्चों का समय से सोने जाना
  • समय से खाना खाना 
  • समय से खेलना
  • निश्चित समय पे निश्चित अवधि के लिए (एक घंटे या कम) टीवी या फिल्म देखना 

शोध का प्रकाशन

शोध के दौरान शोधकर्ताओं ने माता-पिता की रिपोर्ट से बच्चों के दो पहलुओं की तुलना की - आत्म-नियमन और समान उम्र। बच्चों की नियमित दिनचर्या का पालन करने से सम्बंधित इस शोध का प्रकाशन 'ओबेसिटी' नमक पत्रिका में किया गया। 

चौंकाने वाले तथ्य - Shocking revelations  

शोध की प्रमुख लेखक सारा एंडरसन ने पाया की तीन साल की उम्र के जिन बच्चों को नियमित समय पे सोने में कठिनाई होती  है उन बच्चों में 11 साल तक की उम्र तक पहुँचते-पहुँचते मोटापे की संभावना दूसरे बच्चों से ज्यादा रहती है। 

बच्चों में मोटापे की संभावना

जो बच्चे एक नियमित समय का पालन करते हैं, हर दिन एक नियमित समय पे सोते हैं वे बच्चे असमय सोने वाले बच्चों की तुलन में ज्यादा अच्छी सेहत में पाए जाते हैं। उनमें मोटापे की सम्भावना काफी कम रहती है। 

सीख - Takeaway

अगर आप अपने बच्चों की अच्छी सेहत चाहती हैं तो उन्हें नियमित दिनचर्या का पालन करना सिखाइये। नियमित दिनचर्या का पालन करना सिर्फ सेहत की द्रिष्टी से ही महत्वपूर्ण नहीं है वरन इससे कम उम्र से ही बच्चों में अनुशाशन के प्रति सकारात्मक सोच  विकसित होती है। 

अनुशाशन से सम्बंधित आप अपनी राय हमे निचे दिए comment box में दे सकते हैं। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

मजबूत-हड्डियों-के-लिए-आहार
सर्वश्रेष्ठ-सनस्क्रीन
बच्चों-का-लम्बाई
शिशु-में-डायपर-रैशेस
बच्चे-के-पुरे-शरीर-पे-बाल
बच्चों-की-परवरिश
टीके-के-नुकसान
बच्चे-को-आहार
बच्चों-की-साफ-सफाई
बच्चे-के-मेमोरी-को-बूस्ट-करने-का-बेस्ट-तरीका
6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
बच्चों-की-online-सुरक्षा
6-महीने-के-बच्चे-का-आहार
ठोस-आहार-के-लिए-वस्तुएं
बेबी-फ़ूड-खरीदते-वक्त-बरतें-सावधानियां
प्रेम-और-सहनशीलता
बच्चों-को-सिखाएं-नैतिक-मूल्यों-के-महत्व
नव-भारत-की-नई-सुबह
बारिश-में-शिशुओं-का-स्वस्थ्य
Sex-Education
बाल-यौन-शोषण
बच्चे-के-साथ-यौन-शोषण
बच्चों-को-दें-अच्छे-संस्कार-
6-माह-से-पहले-ठोस-आहार
3-years-baby-food-chart-in-Hindi
7-month-के-बच्चे-का-baby-food
8-month-baby-food
घर-पे-त्यार-बच्चों-का-आहार
3-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें
5-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें

Most Read

baby-food
बच्चों-में-भूख-बढ़ने
फूड-प्वाइजनिंग
अपने-बच्चे-को-कैसे-बुद्धिमान-बनायें
बच्चे-की-भूख-बढ़ाने-के-घरेलू-नुस्खे
एक-साल-तक-के-शिशु-को-क्या-खिलाए
शिशु-को-सुलाने-
रोते-बच्चों-को-शांत-करने-के-उपाए
दूध-पिने-के-बाद-बच्चा-उलटी-कर-देता-है----क्या-करें
गर्मियों-में-अपने-शिशु-को-ठंडा-व-आरामदायक-कैसे-रखें
सूजी-का-खीर
सतरंगी-सब्जियों-के-गुण
नाख़ून-कुतरने
दिमागी-बुखार---जापानीज-इन्सेफेलाइटिस
गर्मियों-में-नवजात
BCG-वैक्सीन
पोलियो-वैक्सीन
हेमोफिलस-इन्फ्लुएंजा-बी-(HIB)-
रोटावायरस
न्यूमोकोकल-कन्जुगेटेड-वैक्सीन
इन्फ्लुएंजा-वैक्सीन
खसरे-का-टीका-(वैक्सीन)
हेपेटाइटिस-A-वैक्सीन
एम-एम-आर
मेनिंगोकोकल-वैक्सीन
टी-डी-वैक्सीन
उलटी-और-दस्त
कुपोषण-का-खतरा
पढ़ाई
नमक-चीनी
बच्चों-को-दे-Sex-Education
बच्चों-की-पढाई
बच्चों-की-गलती
गर्मियों-में-डिहाइड्रेशन
गर्मियों-की-बीमारी
गर्मियों-की-बीमारियां
गर्मियों-में-बिमारियों-से-ऐसे-बचें
घमोरी-का-घरेलू-इलाज
स्मार्ट-एक्टिविटीज-J-M-Group-India-
माँ-का-दूध
दूध-के-फायदे
मां-का-दूध
गर्भनाल-की-देखभाल
शिशु-को-दूध
कागज-से-बनायें-जादूगर
कागज-से-बनायें-पत्तों-का-collage
कागज-का-हवाई-मेढक-कैसे-बनायें
stop-bleeding
प्राथमिक-चिकित्सा
कागज-का-खूबसूरत-मोमबत्ती-स्टैंड

Other Articles

indexed_120.txt
Footer