Category: शिशु रोग

नवजात बच्चे में हिचकी - कारण और निवारण

By: Salan Khalkho | 9 min read

छोटे बच्चों में और नवजात बच्चे में हिचकी आना एक आम बात है। जानिए की किन-किन वजहों से छोटे बच्चों को हिचकी आ सकती है और आप कैसे उनका सफल निवारण कर सकती हैं। नवजात बच्चे में हिचकी मुख्यता 7 कारणों से होता है। शिशु के हिचकी को ख़त्म करने के घरेलु नुस्खे।

नवजात बच्चे में हिचकी - कारण और निवारण hiccups in baby cause symptoms and remedy

चिंतित होना स्वभाविक है,

बच्चे की हर छोटे बड़े तकलीफ से माँ-बाप का परेशान हो जाना लाजमी है। अगर दूध पीते ही आप का बच्चा हिचकी लेने लगे तो चिन्ता न करें। 



For Readers: Diaper पे भारी छुट (Discount) का लाभ उठायें!
Know More>>
*Amazon पे हर दिन discount और offers बदलता है| जरुरी नहीं की यह DISCOUNT कल उपलब्ध रहे|


आप सोच रही होंगी की अगर बच्चे को हिचकी से परेशानी हो रही है तो एक माँ होने के नाते आप चिन्ता क्योँ ना करें। आप का सोचना जायज है। मगर परेशान होना भी तो कोई हल तो नहीं। 

चलिए हम आप को बताते हैं की अगर आप के बच्चे को कभी हिचकी आये तो आप क्या कर सकती हैं ताकि आप के कलेजे-के-टुकड़े को तुरंत राहत मिल सके। 

मगर इससे पहले हम आपको यह बताते हैं की  नवजात बच्चे को हिचकी क्योँ आती है। 

नवजात शिशुओं में हिचकी आने के सात कारण

कारणों seven reasons of hiccups in children

छोटे बच्चों में और नवजात बच्चे में हिचकी आना एक आम बात है। नवजात बच्चे में हिचकी की समस्या इतनी आम है की शायद आप के बच्चे ने पहली बार हिचकी आप के गर्भ में ही ले लिए होगा। 

शिशु में हिचकी की समस्या तब से शुरू हो जाती है जब से आप अपने pregnancy के second trimester में पहुँचती हैं। 

हालाँकि उस समय आप का बच्चा इस लिए हिचकी ले रहा होगा क्यूंकि उसने गर्भ में amniotic fluids घोट लिया होगा। 

मगर अब उसे हिचकी इसलिए आती है क्यूंकि वो दूध के साथ हवा (वायु) भी गटक जाता है। शिशु के डॉयाफ्राम में संकुचन की वजह से हिचकी होती है। इसका सबसे बड़ा कारण है बेबी का तेजी से दूध पीना।

इस लेख में: 

  1. छोटे और नवजात  बच्चे में हिचकी का कारण
  2. एसिड रिफ्लक्स (Gastroesophageal reflux)
  3. ज्यादा आहार खा लेने से
  4. स्तनपान के दौरान हवा (वायु) गटक लेने के कारण
  5. एलर्जी के कारण
  6. अस्थमा या दमे के कारण
  7. साँस लेने में जलन (inflamation)
  8. अचानक से तापमान में गिरावट आने से
  9. छोटे और नवजात  बच्चे में हिचकी का निवारण
  10. शिशु को थोड़ा चीनी दे दें
  11. बच्चे के पीट पे मालिश करें
  12. बच्चे को आहार देने के बाद खड़े स्थिति में ही रखें
  13. बच्चे के ध्यान को भटका दें
  14. बच्चे को ग्राइप वाटर दें (gripe water)
  15. बच्चे को हिचकी आने पे कुछ चीज़ें कभी न करें
  16. बच्चे को डराएं नहीं और ना ही आचम्भित करें
  17. खट्टी हलवाई
  18. बच्चे के पीट को जोर-जोर से थपकी देना
  19. बच्चे के आखों की पुतलियों को दबाना
  20. बच्चे के जीभ और हाथों को न घींचे
  21. शिशु में हिचकी के किन हालातों में डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए

Infant hiccups Causes & Treatments in Babies & Newborns

छोटे और नवजात  बच्चे में हिचकी का कारण

नवजात बच्चे में हिचकी मुख्यता 7 कारणों से होता है। चलिए विस्तार से देखते हैं इस सात कारणों के बारे मैं। 

1. एसिड रिफ्लक्स (Gastroesophageal reflux)

एसिड रिफ्लक्स जिसे अंग्रेज़ी में Gastroesophageal reflux कहते हैं  एक ऐसी अवस्था है जिसमे पेट का आहार esophagus तक पहुँच जाता है। ऐसा इसलिए क्योँकि नवजात बच्चे के शरीर का वो हिस्सा जो पेट को  esophagus से अलग करता है और पेट की वास्तु को esophagus में वापस पहुँचने रोकता है, जिसे  lower esophageal sphincter कहते हैं - पूरी तरह विकसित नहीं होता है। ऐसा होने पे nerve cells उत्तजित हो जाते हैं और diaphragm में फड़फड़ाहट पैदा करते हैं जिस वजह से बच्चे को हिचकियाँ आने लगती हैं।  

2. ज्यादा आहार खा लेने से

नवजात बच्चे का पेट बहुत छोटा होता है। इसमें बहुत जायदा आहार नहीं समाता है। इसी वजह से शिशु को जल्दी जल्दी भूख लगती है। शिशु को हर दो घंटे पे स्तनपान करने आवश्यकता पड़ती है। आहार मिलने में थोड़ा विलम्ब होने पे बच्चे को अत्यधिक भूख लगने लगती है। इसी अत्यधिक भूख के कारण शिशु इतना स्तनपान कर लेते है की उसका पेट फ़ैल जाता है। पेट के इस तरह एकाएक फैलने के कारण बच्चे का abdominal cavity उसके  diaphragm को तान देता है। ऐसा होने पे बच्चे को हिचकियाँ आने लगती हैं। बड़े भी जब अत्यधिक भोजन कर लेते हैं तो कभी कभी उन्हें हिचकी आने लगती है।  

hiccups due to overfeeding in children स्तनपान के दौरान हवा गटक लेने के कारण

3. स्तनपान के दौरान हवा (वायु) गटक लेने के कारण

स्तनपान के दौरान या जब बच्चे बोतल से दूध पीते हैं तो वे आहार के साथ हवा भी गटक लेते हैं। पेट में हवा भर जाने के कारण भी बच्चे में वही लक्षण दिखते हैं जो शिशु के ज्यादा आहार ग्रहण कर लेने के कारण दिखते हैं। नवजात बच्चों में और छोटे बच्चों में हिचकी का ये मुख्या कारण है। दूध पिलाने के बाद बच्चे को खड़े स्थिति में गोद में ले कर थपकी देने से इस प्रकार के हिचकियोँ से बच्चे को निजात दिलाया जा सकता है। 

4. एलर्जी के कारण

कभी कभार कुछ बच्चे formula milk (मिल्क पाउडर) में पाए जाने वाले एक खास किस्म के प्रोटीन के प्रति एलर्जी विकसित कर लेते हैं। एलर्जी के कारण बच्चे के esophagus में inflammation पैदा होता है और इसी कारण जब-जब शिशु आहार ग्रहण करता है उसे हिचकी आने लगती है। कभी कभी माँ के दूध के बदले हुए composition के कारण भी बच्चे को एलर्जी के कारण हिचकी आ सकती है। ऐसा तब होता है जब माँ ने कोई ऐसा विशेष आहार ग्रहण किया हो जिससे बच्चा को एलर्जी हो। 

5. अस्थमा या दमे के कारण

नवजात बच्चे में, समय से पहले जन्मे बच्चे में और प्री-मैच्योर बेबी में lungs पूरी तरह विकसित नहीं होता है। इस वजह से बच्चे को अस्थमा या दमे का सामना करना पड़ता है। बच्चे के lungs की bronchial tubes में inflammation हो जाता है इस वजह से साँस लेने में अवरोध पैदा होता है और बच्चे को हिचकी आने लगती है। 

hiccups in children due to inflammation in bronchial tubes नवजात बच्चे में अस्थमा या दमे हिचकी

6. साँस लेने में जलन (inflamation)

बच्चों का श्वसन तंत्र (respiratory system) बहुत संवेदनशील होता है। वायु में उपस्थित कुछ तत्त्व जैसे की पोलन, धुआँ, और इत्र की वजह से बच्चे को लगातार खांसी हो सकता है। इससे बच्चे के diaphragm पे दबाव पड़ता है और बच्चे को हिचकी आने लगती है। 

7. अचानक से तापमान में गिरावट आने से

कभी कभार वातावरण में तापमान के गिरने से बच्चे का muscles (मांसपेशियों) में संकुचन होता है। इस वजह से भी बच्चे के diaphragm पे दबाव पड़ता है और शिशु को हिचकी आ जाती है। 

छोटे और नवजात  बच्चे में हिचकी का निवारण 

शिशु में हिचकी के निवारण के लिए हम यहां कुछ घरेलू नस्खे बता रहे हैं जिन्हे सदियों से भारत देश में आजमाया गया है और जो काफी कारगर भी हैं। 

शिशु को थोड़ा चीनी दे दें sugar to prevent hiccups in children

शिशु को थोड़ा चीनी दे दें

अगर आप का बच्चा इतना बड़ा है की वो अब ठोस आहार ग्रहण करता है तो आप उसके जीभ के निचे कुछ चीनी के दाने रख सकती हैं। अगर बच्चा बहुत छोटा है तो आप उसके चुसनी को चीनी के चासनी में डुबो के उसको दे सकती हैं। या फिर आप अपनी ऊँगली को ही चीनी के चासनी में डुबो के उसको चूसने के लिए दे सकती हैं। बस ध्यान इस बात का रहे की आप की ऊँगली या चुसनी साफ़ हों। चीनी की चासनी शिशु के diaphragm को आराम पहुंचाएगा और हिचकी को शांत करेगा। यह घरेलु नुस्खा छह महीने से बड़े बच्चों पे ही आजमाएं। छह महीने से छोटे बच्चे को माँ के दूध के आलावा कुछ भी नहीं दिया जाना चाहिए। 

massage or pat baby back to ease hiccups बच्चे के पीट पे मालिश करें

बच्चे के पीट पे मालिश करें

यह एक बहुत ही सीधा तरीका है बच्चे के हिचकी को शांत करने का। बच्चे को छाती से लगा कर गोद में खड़े स्थिति मैं पकडे और उसके पीठ पे गोलाकार स्थिति मैं मालिश करें। आप बच्चे को किसी आरामदायक जगह पे जैसे की बिस्तर पे ये अपने जांघ पे (lap) पे शिशु को पेट के बल लिटा के भी इस तरह से मालिश कर सकती हैं। जो भी करें, आराम से करें। इस बात का ख्याल रखें की बच्चे के पेट पे बहुत ज्यादा बल ना पड़े। इस तरह की मालिश से बच्चे के diaphragm में जो तनाव पैदा हुआ है वो शांत हो जायेगा और बच्चे को हिचकी से शांति मिलेगी। 

बच्चे को आहार देने के बाद खड़े स्थिति में ही रखें

बच्चे को आहार देने के बाद या उसे दूध पिलाने के बाद कम से कम पंद्रह मिनट तक खड़े स्थिति में ही रखें। ऐसे खड़े स्थिति में रखने से बच्चे का diaphragm अपने प्राकृतिक स्थिति में रहता है और उसपे दबाव कम पड़ता है। आप चाहें तो बच्चे के पीठ को हौले से थप-थपा सकती हैं ताकि बच्चे को डकार आ जाये। दूध पीते वक्त बच्चे ने जो हवा गटक ली है वो डकार से बहार आप जाएगी और बच्चे के पेट में थोड़ी जगह बनेगी। बच्चे को डकार दिलाने से बच्चे में हिचकी की सम्भावना बहुत कम हो जाती है।  

बच्चे के ध्यान को भटका दें

कभी कभार बच्चे के साथ लूका-छिप्पी (peek-a-boo) खेलने से भी हिचकी समाप्त हो जाती है। जब भी बच्चे को हिचकी आये उसके ध्यान को भटकने के लिए उसके साथ कोई खेल खलेने लगें। या फिर आप उसके किसी पसन्दीदा खिलौने से उसके सामने खेलें। Muscle spasms के वजह से nerve impulses उत्तेजित  हो जाते हैं और हिचकी आती है। Nerve stimuli के बदलाव मैं जैसे की मसाज से या पसंद का खिलौना देखने से बच्चे की हिचकी भले ही पूरी तरह न शांत हो, मगर कम जरूर हो जाती है। 

बच्चे को ग्राइप वाटर दें (gripe water) to ease hiccups

बच्चे को ग्राइप वाटर दें (gripe water)

वैज्ञानिक तौर पे ग्राइप वाटर (gripe water) को अभी तक प्रमाणित नहीं किया जा सका है की यह किस तरह से बच्चों को और नवजात शिशु के gastrointestinal तकलीफ में आराम पहुंचता है। मगर एक बात तो तय है की यह  नवजात शिशु के पेट के गैस को शांत करने में बहुत कारगर है। ये हम नहीं कहते हैं - लोग कहते हैं - जिन्हो ने इसे आजमाया है। ग्राइप वाटर (gripe water) देने से बच्चे को हिचकी में भी आराम मिल सकता है। अपने बच्चे को ग्राइप वाटर (gripe water) देने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य ले लें। 

बच्चे को हिचकी आने पे कुछ चीज़ें कभी न करें

हिचकी के निवारण के लिए कुछ घरेलु नुस्खे ऐसे हैं जो केवल बड़ों के लिए ही उचित हैं। इसे कभी भी बच्चों पे ना आजमाएं। बच्चों पे इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है। 

बच्चे को डराएं नहीं और ना ही आचम्भित करें

बच्चे की हिचकी को दूर करने के लिए उसे डराने या अचंभित करने की कोशिश ना करें। जैसे की प्लास्टिक बैग को फोड़ कर जोरदार आवाज करना। बड़ों के लिए तो यह कारगर हो सकता है मगर बच्चों के कान के परदे बहुत नाजुक हैं और उनके आसानी से फटने की सम्भावना रहती है। दुसरी बात यह की इससे बच्चे बेहद डर सकते हैं। इतना डर सकते हैं की वे colic trauma की स्थिति तक पहुँच सकते हैं। आप अवश्य नहीं चाहेंगे की आप के बच्चे के साथ ऐसा हो। 

खट्टी हलवाई

खट्टी हलवाई जैसे की खट्टी कैंडी तो बड़ों के लिए कारगर है मगर यह बच्चों के लिए नहीं बनी है। अगर आप का बच्चा एक साल से बड़ा हो गया है तो भी आप उसे हिचकी आने पे यह ना दें। अधिकांश खट्टी कैंडी में powdered edible acid होता है। यह बच्चे के सेहत पे बुरा प्रभाव डाल सकता है। 

बच्चे के पीट को जोर-जोर से थपकी देना

यह अक्सर देखा गया है की लोग हिचकी आने पे अपने बच्चे के पीट को थपकियाँ देते हैं। ये थपकियाँ आराम से - हौले से दें। बच्चे के पीट की हड्डियां और मासपेशियां बहुत नाजुक होती है। जोर जोर से थपकी देने से उन्हें नुकसान पहुँच सकता है। 

बच्चे के आखों की पुतलियों को दबाना 

शिशु की आखें अभी भी विकासशील अवस्था में होती हैं। ऐसे स्थिति में अगर शिशु की आखों को दबाया गया तो वे अपनी जगह पे वापस नहीं लौट पायेंगी। शिशु की नाजुक आखों को हलके से भी दबाने पे बहुत गंभीर परिणाम हो सकते हैं। बड़ों पे आजमाए जाने वाले नुस्खे भूल कर भी बच्चों पे न आजमाएं।  

बच्चे के जीभ और हाथों को न घींचे

जैसे की मैंने पहले बताया है की शिशु का शरीर बहुत नाजुक होता है और अभी भी विकासशील स्थिति में है, कोई ऐसा काम न करें जिससे शिशु को जिंदगी भर के लिए तकलीफ का सामना करना पड़े। बच्चे की हड्डियां और जोड़ दोनों ही बहुत नाजुक और कमजोर होती हैं। बच्चे के हिचकी को रूकने के लिए उसके जीभ को या उसके हाथ को न घींचे। 

बच्चे में हिचकी कुछ समय के लिए ही रहता है। कुछ भी न किया जाये तो भी यह स्वतः समाप्त हो जाता है। अगर बच्चे को हर कुछ देर पे हिचकी आती है या बार बार हिचकी आती है तो आप अपने बच्चे को शिशु/बाल रोग विशेषज्ञ (child specialist doctor) को दिखा सकते हैं। 

शिशु में हिचकी के किन हालातों में डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए

अगर बच्चे को एसिड रिफ्लक्स जिसे अंग्रेज़ी में Gastroesophageal reflux, के कारण हिचकी आती है और हर बार हिचकी में वो आहार बहार निकल (उलटी कर) देता है तो आप को डॉक्टर को दिखाने की आवश्यकता है। शिशु में Gastroesophageal reflux के और भी कई लक्षण हो सकते हैं। जैसे की पीट को पीछे की तरफ मोड़ के रोना, स्तनपान या दूध पिने के कुछ ही देर बाद रोने लगना, चिड़चिड़ाहट इतियादी। 

अगर हिचकी बच्चे को बहुत परेशान कर रही है। जैसे की आप का बच्चा रात को सो नहीं पा रहा है, या खेल नहीं पा रहा है  या फिर हिचकी के कारण आहार नहीं ग्रहण कर पा रहा है तो ऐसी स्थिति में बच्चे को तुरंत डॉक्टर के पास लेके जाएँ। हो सकता है की हिचकी के पीछे तकलीफ का कोई और भी कारण हो और बच्चे को डॉक्टरी जाँच की आवश्यकता है। 

थोड़े से धैर्य के साथ और थोड़ा समय के साथ आप सीख जाएँगी की हिचकी आने पे आप अपने बच्चे की देखभाल किस तरह कर सकें। बच्चों की हिचकी को दूर करने के बहुत सारे घरेलु नुस्खे हैं। बस इस बात को हमेशा याद रखियेगा की हिचकी कभी भी आप के बच्चे को कोई हानी नहीं पहुचायेगी। इसीलिए शिशु को हिचकी आने पे बहुत ज्यादा घबराने या चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।  

Most Read

Other Articles

Footer