Category: शिशु रोग

नवजात बच्चे में हिचकी - कारण और निवारण

Published:06 Sep, 2017     By: Salan Khalkho     9 min read

छोटे बच्चों में और नवजात बच्चे में हिचकी आना एक आम बात है। जानिए की किन-किन वजहों से छोटे बच्चों को हिचकी आ सकती है और आप कैसे उनका सफल निवारण कर सकती हैं। नवजात बच्चे में हिचकी मुख्यता 7 कारणों से होता है। शिशु के हिचकी को ख़त्म करने के घरेलु नुस्खे।


नवजात बच्चे में हिचकी - कारण और निवारण hiccups in baby cause symptoms and remedy

चिंतित होना स्वभाविक है,

बच्चे की हर छोटे बड़े तकलीफ से माँ-बाप का परेशान हो जाना लाजमी है। अगर दूध पीते ही आप का बच्चा हिचकी लेने लगे तो चिन्ता न करें। 

आप सोच रही होंगी की अगर बच्चे को हिचकी से परेशानी हो रही है तो एक माँ होने के नाते आप चिन्ता क्योँ ना करें। आप का सोचना जायज है। मगर परेशान होना भी तो कोई हल तो नहीं। 

चलिए हम आप को बताते हैं की अगर आप के बच्चे को कभी हिचकी आये तो आप क्या कर सकती हैं ताकि आप के कलेजे-के-टुकड़े को तुरंत राहत मिल सके। 

मगर इससे पहले हम आपको यह बताते हैं की  नवजात बच्चे को हिचकी क्योँ आती है। 

नवजात शिशुओं में हिचकी आने के सात कारण

कारणों seven reasons of hiccups in children

छोटे बच्चों में और नवजात बच्चे में हिचकी आना एक आम बात है। नवजात बच्चे में हिचकी की समस्या इतनी आम है की शायद आप के बच्चे ने पहली बार हिचकी आप के गर्भ में ही ले लिए होगा। शिशु में हिचकी की समस्या तब से शुरू हो जाती है जब से आप अपने pregnancy के second trimester में पहुँचती हैं। हालाँकि उस समय आप का बच्चा इस लिए हिचकी ले रहा होगा क्यूंकि उसने गर्भ में amniotic fluids घोट लिया होगा। मगर अब उसे हिचकी इसलिए आती है क्यूंकि वो दूध के साथ हवा (वायु) भी गटक जाता है। शिशु के डॉयाफ्राम में संकुचन की वजह से हिचकी होती है। इसका सबसे बड़ा कारण है बेबी का तेजी से दूध पीना।

इस लेख में: 

  1. छोटे और नवजात  बच्चे में हिचकी का कारण
  2. एसिड रिफ्लक्स (Gastroesophageal reflux)
  3. ज्यादा आहार खा लेने से
  4. स्तनपान के दौरान हवा (वायु) गटक लेने के कारण
  5. एलर्जी के कारण
  6. अस्थमा या दमे के कारण
  7. साँस लेने में जलन (inflamation)
  8. अचानक से तापमान में गिरावट आने से
  9. छोटे और नवजात  बच्चे में हिचकी का निवारण
  10. शिशु को थोड़ा चीनी दे दें
  11. बच्चे के पीट पे मालिश करें
  12. बच्चे को आहार देने के बाद खड़े स्थिति में ही रखें
  13. बच्चे के ध्यान को भटका दें
  14. बच्चे को ग्राइप वाटर दें (gripe water)
  15. बच्चे को हिचकी आने पे कुछ चीज़ें कभी न करें
  16. बच्चे को डराएं नहीं और ना ही आचम्भित करें
  17. खट्टी हलवाई
  18. बच्चे के पीट को जोर-जोर से थपकी देना
  19. बच्चे के आखों की पुतलियों को दबाना
  20. बच्चे के जीभ और हाथों को न घींचे
  21. शिशु में हिचकी के किन हालातों में डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए

Infant hiccups Causes & Treatments in Babies & Newborns

छोटे और नवजात  बच्चे में हिचकी का कारण

नवजात बच्चे में हिचकी मुख्यता 7 कारणों से होता है। चलिए विस्तार से देखते हैं इस सात कारणों के बारे मैं। 

1. एसिड रिफ्लक्स (Gastroesophageal reflux)

एसिड रिफ्लक्स जिसे अंग्रेज़ी में Gastroesophageal reflux कहते हैं  एक ऐसी अवस्था है जिसमे पेट का आहार esophagus तक पहुँच जाता है। ऐसा इसलिए क्योँकि नवजात बच्चे के शरीर का वो हिस्सा जो पेट को  esophagus से अलग करता है और पेट की वास्तु को esophagus में वापस पहुँचने रोकता है, जिसे  lower esophageal sphincter कहते हैं - पूरी तरह विकसित नहीं होता है। ऐसा होने पे nerve cells उत्तजित हो जाते हैं और diaphragm में फड़फड़ाहट पैदा करते हैं जिस वजह से बच्चे को हिचकियाँ आने लगती हैं।  

2. ज्यादा आहार खा लेने से

नवजात बच्चे का पेट बहुत छोटा होता है। इसमें बहुत जायदा आहार नहीं समाता है। इसी वजह से शिशु को जल्दी जल्दी भूख लगती है। शिशु को हर दो घंटे पे स्तनपान करने आवश्यकता पड़ती है। आहार मिलने में थोड़ा विलम्ब होने पे बच्चे को अत्यधिक भूख लगने लगती है। इसी अत्यधिक भूख के कारण शिशु इतना स्तनपान कर लेते है की उसका पेट फ़ैल जाता है। पेट के इस तरह एकाएक फैलने के कारण बच्चे का abdominal cavity उसके  diaphragm को तान देता है। ऐसा होने पे बच्चे को हिचकियाँ आने लगती हैं। बड़े भी जब अत्यधिक भोजन कर लेते हैं तो कभी कभी उन्हें हिचकी आने लगती है।  

hiccups due to overfeeding in children स्तनपान के दौरान हवा गटक लेने के कारण

3. स्तनपान के दौरान हवा (वायु) गटक लेने के कारण

स्तनपान के दौरान या जब बच्चे बोतल से दूध पीते हैं तो वे आहार के साथ हवा भी गटक लेते हैं। पेट में हवा भर जाने के कारण भी बच्चे में वही लक्षण दिखते हैं जो शिशु के ज्यादा आहार ग्रहण कर लेने के कारण दिखते हैं। नवजात बच्चों में और छोटे बच्चों में हिचकी का ये मुख्या कारण है। दूध पिलाने के बाद बच्चे को खड़े स्थिति में गोद में ले कर थपकी देने से इस प्रकार के हिचकियोँ से बच्चे को निजात दिलाया जा सकता है। 

4. एलर्जी के कारण

कभी कभार कुछ बच्चे formula milk (मिल्क पाउडर) में पाए जाने वाले एक खास किस्म के प्रोटीन के प्रति एलर्जी विकसित कर लेते हैं। एलर्जी के कारण बच्चे के esophagus में inflammation पैदा होता है और इसी कारण जब-जब शिशु आहार ग्रहण करता है उसे हिचकी आने लगती है। कभी कभी माँ के दूध के बदले हुए composition के कारण भी बच्चे को एलर्जी के कारण हिचकी आ सकती है। ऐसा तब होता है जब माँ ने कोई ऐसा विशेष आहार ग्रहण किया हो जिससे बच्चा को एलर्जी हो। 

5. अस्थमा या दमे के कारण

नवजात बच्चे में, समय से पहले जन्मे बच्चे में और प्री-मैच्योर बेबी में lungs पूरी तरह विकसित नहीं होता है। इस वजह से बच्चे को अस्थमा या दमे का सामना करना पड़ता है। बच्चे के lungs की bronchial tubes में inflammation हो जाता है इस वजह से साँस लेने में अवरोध पैदा होता है और बच्चे को हिचकी आने लगती है। 

सिर-का-आकार

बच्चे के सर का आकर अलग-अलग व अजीब सा आकार होना एकदम सामान्य सा बात है।

.
winter-season

थोड़ी सी सावधानी बरत कर माँ-बाप बच्चों को कई तरह के ठण्ड के मौसम में होने वाले बीमारियोँ से बच्चों को बचा सकते हैं।

.
डिस्टे्रक्टर

तेज़ बुखार और दर्द के द्वारा पैदा हुई विकृति को आधुनिक तकनिकी द्वारा ठीक किया जा सकता है

hiccups in children due to inflammation in bronchial tubes नवजात बच्चे में अस्थमा या दमे हिचकी

6. साँस लेने में जलन (inflamation)

बच्चों का श्वसन तंत्र (respiratory system) बहुत संवेदनशील होता है। वायु में उपस्थित कुछ तत्त्व जैसे की पोलन, धुआँ, और इत्र की वजह से बच्चे को लगातार खांसी हो सकता है। इससे बच्चे के diaphragm पे दबाव पड़ता है और बच्चे को हिचकी आने लगती है। 

7. अचानक से तापमान में गिरावट आने से

कभी कभार वातावरण में तापमान के गिरने से बच्चे का muscles (मांसपेशियों) में संकुचन होता है। इस वजह से भी बच्चे के diaphragm पे दबाव पड़ता है और शिशु को हिचकी आ जाती है। 

बच्चे-के-पीठ-दर्द

अगर आप चाहती हैं की आप का बच्चा पीठ दर्द से दूर, स्वस्थ और चुस्त रहे तो, तो इन बातों का ख्याल रखें|

.
पेट-में-कीड़े

बहुत से तरीके हैं जिनकी मदद से बच्चों के पेट के कीड़ों को ख़तम किया जा सकता है।

.
बच्चों-के-पेट-के-कीड़े

घरेलु नुस्खे जिनकी सहायता से आप अपने बच्चे के पेट में पल रहे परजीवी (parasite) बिना किसी दवा के ही समाप्त कर सकेंगे|

छोटे और नवजात  बच्चे में हिचकी का निवारण 

शिशु में हिचकी के निवारण के लिए हम यहां कुछ घरेलू नस्खे बता रहे हैं जिन्हे सदियों से भारत देश में आजमाया गया है और जो काफी कारगर भी हैं। 

शिशु को थोड़ा चीनी दे दें sugar to prevent hiccups in children

शिशु को थोड़ा चीनी दे दें

अगर आप का बच्चा इतना बड़ा है की वो अब ठोस आहार ग्रहण करता है तो आप उसके जीभ के निचे कुछ चीनी के दाने रख सकती हैं। अगर बच्चा बहुत छोटा है तो आप उसके चुसनी को चीनी के चासनी में डुबो के उसको दे सकती हैं। या फिर आप अपनी ऊँगली को ही चीनी के चासनी में डुबो के उसको चूसने के लिए दे सकती हैं। बस ध्यान इस बात का रहे की आप की ऊँगली या चुसनी साफ़ हों। चीनी की चासनी शिशु के diaphragm को आराम पहुंचाएगा और हिचकी को शांत करेगा। यह घरेलु नुस्खा छह महीने से बड़े बच्चों पे ही आजमाएं। छह महीने से छोटे बच्चे को माँ के दूध के आलावा कुछ भी नहीं दिया जाना चाहिए। 

massage or pat baby back to ease hiccups बच्चे के पीट पे मालिश करें

बच्चे के पीट पे मालिश करें

यह एक बहुत ही सीधा तरीका है बच्चे के हिचकी को शांत करने का। बच्चे को छाती से लगा कर गोद में खड़े स्थिति मैं पकडे और उसके पीठ पे गोलाकार स्थिति मैं मालिश करें। आप बच्चे को किसी आरामदायक जगह पे जैसे की बिस्तर पे ये अपने जांघ पे (lap) पे शिशु को पेट के बल लिटा के भी इस तरह से मालिश कर सकती हैं। जो भी करें, आराम से करें। इस बात का ख्याल रखें की बच्चे के पेट पे बहुत ज्यादा बल ना पड़े। इस तरह की मालिश से बच्चे के diaphragm में जो तनाव पैदा हुआ है वो शांत हो जायेगा और बच्चे को हिचकी से शांति मिलेगी। 

बच्चे को आहार देने के बाद खड़े स्थिति में ही रखें

बच्चे को आहार देने के बाद या उसे दूध पिलाने के बाद कम से कम पंद्रह मिनट तक खड़े स्थिति में ही रखें। ऐसे खड़े स्थिति में रखने से बच्चे का diaphragm अपने प्राकृतिक स्थिति में रहता है और उसपे दबाव कम पड़ता है। आप चाहें तो बच्चे के पीठ को हौले से थप-थपा सकती हैं ताकि बच्चे को डकार आ जाये। दूध पीते वक्त बच्चे ने जो हवा गटक ली है वो डकार से बहार आप जाएगी और बच्चे के पेट में थोड़ी जगह बनेगी। बच्चे को डकार दिलाने से बच्चे में हिचकी की सम्भावना बहुत कम हो जाती है।  

कम-वजन-बच्चे

जिन बच्चों का वजन जन्म के समय कम रहता है उन बच्चों को संक्रमण का खतरा बना रहता है|

.
Jaundice-in-newborn-in-hindi

अगर बच्चे में पीलिया रोग के लक्षण दिखे तो इसे बहुत गम्भीरता से लेना चाहिए|

.
बारिश-में-शिशुओं-का-स्वस्थ्य

बारिश के मौसम में आप की जिम्मेदारी अपने बच्चों के प्रति काफी बढ़ जाती हैं

बच्चे के ध्यान को भटका दें

कभी कभार बच्चे के साथ लूका-छिप्पी (peek-a-boo) खेलने से भी हिचकी समाप्त हो जाती है। जब भी बच्चे को हिचकी आये उसके ध्यान को भटकने के लिए उसके साथ कोई खेल खलेने लगें। या फिर आप उसके किसी पसन्दीदा खिलौने से उसके सामने खेलें। Muscle spasms के वजह से nerve impulses उत्तेजित  हो जाते हैं और हिचकी आती है। Nerve stimuli के बदलाव मैं जैसे की मसाज से या पसंद का खिलौना देखने से बच्चे की हिचकी भले ही पूरी तरह न शांत हो, मगर कम जरूर हो जाती है। 

बच्चे को ग्राइप वाटर दें (gripe water) to ease hiccups

बच्चे को ग्राइप वाटर दें (gripe water)

वैज्ञानिक तौर पे ग्राइप वाटर (gripe water) को अभी तक प्रमाणित नहीं किया जा सका है की यह किस तरह से बच्चों को और नवजात शिशु के gastrointestinal तकलीफ में आराम पहुंचता है। मगर एक बात तो तय है की यह  नवजात शिशु के पेट के गैस को शांत करने में बहुत कारगर है। ये हम नहीं कहते हैं - लोग कहते हैं - जिन्हो ने इसे आजमाया है। ग्राइप वाटर (gripe water) देने से बच्चे को हिचकी में भी आराम मिल सकता है। अपने बच्चे को ग्राइप वाटर (gripe water) देने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य ले लें। 

बच्चे को हिचकी आने पे कुछ चीज़ें कभी न करें

हिचकी के निवारण के लिए कुछ घरेलु नुस्खे ऐसे हैं जो केवल बड़ों के लिए ही उचित हैं। इसे कभी भी बच्चों पे ना आजमाएं। बच्चों पे इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है। 

बच्चे को डराएं नहीं और ना ही आचम्भित करें

बच्चे की हिचकी को दूर करने के लिए उसे डराने या अचंभित करने की कोशिश ना करें। जैसे की प्लास्टिक बैग को फोड़ कर जोरदार आवाज करना। बड़ों के लिए तो यह कारगर हो सकता है मगर बच्चों के कान के परदे बहुत नाजुक हैं और उनके आसानी से फटने की सम्भावना रहती है। दुसरी बात यह की इससे बच्चे बेहद डर सकते हैं। इतना डर सकते हैं की वे colic trauma की स्थिति तक पहुँच सकते हैं। आप अवश्य नहीं चाहेंगे की आप के बच्चे के साथ ऐसा हो। 

खट्टी हलवाई

खट्टी हलवाई जैसे की खट्टी कैंडी तो बड़ों के लिए कारगर है मगर यह बच्चों के लिए नहीं बनी है। अगर आप का बच्चा एक साल से बड़ा हो गया है तो भी आप उसे हिचकी आने पे यह ना दें। अधिकांश खट्टी कैंडी में powdered edible acid होता है। यह बच्चे के सेहत पे बुरा प्रभाव डाल सकता है। 

बच्चे के पीट को जोर-जोर से थपकी देना

यह अक्सर देखा गया है की लोग हिचकी आने पे अपने बच्चे के पीट को थपकियाँ देते हैं। ये थपकियाँ आराम से - हौले से दें। बच्चे के पीट की हड्डियां और मासपेशियां बहुत नाजुक होती है। जोर जोर से थपकी देने से उन्हें नुकसान पहुँच सकता है। 

बच्चे के आखों की पुतलियों को दबाना 

शिशु की आखें अभी भी विकासशील अवस्था में होती हैं। ऐसे स्थिति में अगर शिशु की आखों को दबाया गया तो वे अपनी जगह पे वापस नहीं लौट पायेंगी। शिशु की नाजुक आखों को हलके से भी दबाने पे बहुत गंभीर परिणाम हो सकते हैं। बड़ों पे आजमाए जाने वाले नुस्खे भूल कर भी बच्चों पे न आजमाएं।  

बच्चे के जीभ और हाथों को न घींचे

जैसे की मैंने पहले बताया है की शिशु का शरीर बहुत नाजुक होता है और अभी भी विकासशील स्थिति में है, कोई ऐसा काम न करें जिससे शिशु को जिंदगी भर के लिए तकलीफ का सामना करना पड़े। बच्चे की हड्डियां और जोड़ दोनों ही बहुत नाजुक और कमजोर होती हैं। बच्चे के हिचकी को रूकने के लिए उसके जीभ को या उसके हाथ को न घींचे। 

बच्चे में हिचकी कुछ समय के लिए ही रहता है। कुछ भी न किया जाये तो भी यह स्वतः समाप्त हो जाता है। अगर बच्चे को हर कुछ देर पे हिचकी आती है या बार बार हिचकी आती है तो आप अपने बच्चे को शिशु/बाल रोग विशेषज्ञ (child specialist doctor) को दिखा सकते हैं। 

शिशु में हिचकी के किन हालातों में डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए

अगर बच्चे को एसिड रिफ्लक्स जिसे अंग्रेज़ी में Gastroesophageal reflux, के कारण हिचकी आती है और हर बार हिचकी में वो आहार बहार निकल (उलटी कर) देता है तो आप को डॉक्टर को दिखाने की आवश्यकता है। शिशु में Gastroesophageal reflux के और भी कई लक्षण हो सकते हैं। जैसे की पीट को पीछे की तरफ मोड़ के रोना, स्तनपान या दूध पिने के कुछ ही देर बाद रोने लगना, चिड़चिड़ाहट इतियादी। 

अगर हिचकी बच्चे को बहुत परेशान कर रही है। जैसे की आप का बच्चा रात को सो नहीं पा रहा है, या खेल नहीं पा रहा है  या फिर हिचकी के कारण आहार नहीं ग्रहण कर पा रहा है तो ऐसी स्थिति में बच्चे को तुरंत डॉक्टर के पास लेके जाएँ। हो सकता है की हिचकी के पीछे तकलीफ का कोई और भी कारण हो और बच्चे को डॉक्टरी जाँच की आवश्यकता है। 

थोड़े से धैर्य के साथ और थोड़ा समय के साथ आप सीख जाएँगी की हिचकी आने पे आप अपने बच्चे की देखभाल किस तरह कर सकें। बच्चों की हिचकी को दूर करने के बहुत सारे घरेलु नुस्खे हैं। बस इस बात को हमेशा याद रखियेगा की हिचकी कभी भी आप के बच्चे को कोई हानी नहीं पहुचायेगी। इसीलिए शिशु को हिचकी आने पे बहुत ज्यादा घबराने या चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।  


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

टिप्पणी



प्रातिक्रिया दे (Leave your comment)

आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा|

Latest Articles

एडीएचडी-(ADHD)

शिशु रोग

ADHD से प्रभावित बच्चों को बनाये SMART इस तरह

 
सुभाष-चंद्र-बोस

बच्चों की परवरिश

सुभाष चंद्र बोस की जीवनी से बच्चों को सिखाएं देश भक्ति का महत्व

 
गर्भ-में-लड़का-होने-के-लक्षण-इन-हिंदी

स्वस्थ शरीर

गर्भ में लड़का होने के क्या लक्षण हैं?

 
4-महीने-के-शिशु-का-वजन

स्वस्थ शरीर

4 महीने के शिशु का वजन कितना होना चाहिए?

 
ठोस-आहार

बच्चों का पोषण

बच्चे में ठोस आहार की शुरुआत कब करें: अन्नप्राशन

 
डिस्लेक्सिया-Dyslexia

शिशु रोग

डिस्लेक्सिया (Dyslexia) - बच्चों में बढ़ता प्रकोप – लक्षण कारण और इलाज

 
देसी-घी

बच्चों का पोषण

शिशु को कितना देसी घी खिलाना चाहिए?

 
लड़की-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई

स्वस्थ शरीर

6 महीने के बच्चे (लड़की) का आदर्श वजन और लम्बाई

 
शिशु-की-लम्बाई

स्वस्थ शरीर

व्यस्क होने पे शिशु की लम्बाई कितनी होगी?

 
नवजात-शिशु-का-Infant-Growth-Percentile-Calculator

स्वस्थ शरीर

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile Chart - Calculator

 
BMI-Calculator

स्वस्थ शरीर

BMI calculator

 
1-साल-के-बच्चे-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई

स्वस्थ शरीर

1 साल के बच्चे (लड़के) का आदर्श वजन और लम्बाई

 
नवजात-शिशु-का-BMI

स्वस्थ शरीर

नवजात शिशु का BMI Calculate करने का आसन तरीका (Time 2 Minutes)

 
6-महीने-के-शिशु-का-वजन

स्वस्थ शरीर

6 महीने के शिशु का आदर्श वजन और लम्बाई

 
शिशु-को-अंडा

बच्चों का पोषण

6 Month के शिशु को कितना अंडा देना चाहिए

 
शिशु-का-वजन-बढ़ाये-देशी-घी

बच्चों का पोषण

शिशु का वजन बढ़ाने के लिए उसके उम्र के अनुसार उसे देशी घी दें

 
कोलोस्‍ट्रम

बच्चों का पोषण

माँ का पहला गहड़ा दूध (कोलोस्ट्रम) किस प्रकार शिशु की मदद करता है?

 
शिशु-का-वजन-घटना

बच्चों का पोषण

क्योँ जन्म के बाद नवजात शिशु का वजन घट गया?

 
नवजात-शिशु-वजन

स्वस्थ शरीर

नवजात शिशु का आदर्श वजन कितना होना चाहिए?

 
बच्चों-का-डाइट-प्लान

बच्चों का पोषण

छोटे बच्चों का डाइट प्लान (Diet Plan)

 
शिशु-को-खासी

शिशु रोग

शिशु को खासी से कैसे बचाएं (Solved)

 
Sharing is caring

Most Read Articles
शिशु-को-खासी
बच्चों में सर्दी और खांसी के घरेलु उपचार

सर्दी, जुकाम और खाँसी (cold cough and sore throat) को दूर करने के लिए कुछ आसान से घरेलू उपचार

बच्चों-में-सर्दी
शिशु टीकाकरण चार्ट - 2018 Updated

टीकाकरण अभियान का लाभ उठा कर आपने बच्चों को अनेक प्रकार के बीमारियों से बचाएं।

टीकाकरण-चार्ट-2018
बच्चों की त्वचा को गोरा करने का घरेलू तरीका

त्वचा को गोरा और दाग रहित बनाने के लिए घरूले नुश्खे

बच्चों-को-गोरा-करने-का-तरीका-
6 माह के बच्चे का baby food chart और Recipe

6 महीने के बच्चे का आहार - 6 month baby Food Chart-Meal Plan

उलटी-और-दस्त
8 माह के बच्चे का baby food chart और Indian Baby Food Recipe

इस लेख में आप जानेगे की ८ महीने के बच्चे को आहार देने का सही तरीका क्या है।

8-month-baby-food
चार्ट - शिशु के उम्र के अनुसार लंबाई और वजन का चार्ट - Baby Growth Weight & Height Chart

शिशुओं और बच्चों के लिए उम्र के अनुसार लंबाई और वजन का चार्ट डाउनलोड करें (Baby Growth Chart)

Weight-&-Height-Calculator
6 से 12 वर्ष के शिशु को क्या खिलाएं - Indian Baby food diet chart

ठोस भोजन की शुरुआत का सही तरीका - The right way to start solid food in 5 to 6 month old baby

6-से-12-वर्ष-के-शिशु-को-क्या-खिलाएं
7 माह के बच्चे का baby food chart और Indian Baby Food Recipe

यह निर्धारित करने के लिए की बच्चे को सुबह, दोपहर और शाम को क्या खाने को दें|

7-month-के-बच्चे-का-baby-food
13 जुकाम के घरेलू उपाय (बंद नाक) - डॉक्टर की सलाह

बच्चों में बंद नाक की समस्या को बिना दावा के ठीक किया जा सकता है।

बच्चों-में-यूरिन
3 साल तक के बच्चे का baby food chart

अक्सर माताओं के लिए यह काफी चुनौतीपूर्ण रहता है की 3 साल के बच्चे को क्या पौष्टिक आहार दें

बच्चों-में-न्यूमोनिया
शिशु को कई दिनों से जुकाम हो तो यह इलाज करें - 1 Month to 6 Month Baby

शिशु की खांसी, सर्दी, जुकाम और बंद नाक का इलाज आप घर के रसोई (kitchen) में आसानी से मिल जाने वाली सामग्रियों से कर सकती हैं

कई-दिनों-से-जुकाम
नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के तरीके

जानिए की नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के लिए आप को क्या क्या करना पड़ेगा|

शिशु-का-वजन
बच्चों का बिस्तर पर पेशाब करना कैसे रोकें (bed wetting)

बिस्तर पे पिशाब करना (bed wetting) कोई गंभीर समस्या नहीं है और इसे आसानी से हल किया जा सकता है।

बिस्तर-पर-पेशाब-करना
2 साल के बच्चे का शाकाहारी आहार सारणी - baby food chart और Recipe

इस लेख में आप पड़ेंगे दो साल के बच्चे के लिए vegetarian Indian food chart जिसे आप आसानी से घर पर बना सकती हैं|

शाकाहारी-baby-food-chart
बच्चों को ड्राइफ्रूट्स खिलाने के फायदे

शारारिक रूप से स्वस्थ और मानसिक रूप से तेज़ रखने के लिए दें बच्चों को ड्राई फ्रूट्स

बच्चों-के-ड्राई-फ्रूट्स
बच्चों का भाप (स्‍टीम) के दुवारा कफ निकालने के उपाय

भाप (स्‍टीम) एक बहुत ही प्राकृतिक तरीका शिशु को सर्दी और जुकाम (colds, chest congestion and sinusitus) में रहत पहुँचाने का।

कफ-निकालने-के-उपाय
9 माह के बच्चे का baby food chart - Indian Baby Food Recipe

नौ माह का बच्चा आसानी से कई प्रकार के आहार आराम से ग्रहण कर सकता है - शिशु आहार सारणी

9-month-baby-food-chart-
12 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

बढ़ते बच्चों के माँ-बाप को अक्सर यह चिंता रहती है की उनके बच्चे को सम्पूर्ण पोषक तत्त्व मिल पा रहा है की नहीं?

12-month-baby-food-chart
बच्चों को चोट लगने पर प्राथमिक चिकित्सा

तुरंत ही नहीं ईलाज नहीं किया गया तो ये चोट गंभीर घाव का रूप ले लेते हैं

बच्चों-में-स्किन-रैश-शीतपित्त
11 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

11 महीने के बच्चे का आहार सारणी इस तरह होना चाहिए की कम-से-कम दिन में तीन बार ठोस आहार का प्रावधान हो|

बच्चों-में-पेट-दर्द
नवजात शिशु को हिचकी क्यों आता है?

बच्चे गर्भ में रहते वक्त तो हिचकी करते ही हैं, मगर जब वे पैदा हो जाते हैं तो भी हर वक्त उन्हें हिचकी आती है

शिशु-मैं-हिचकी
10 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

दस साल के बच्चे को आहार में क्या खाने को दें - आहार सरणी (food chart)

10-month-baby-food-chart
बच्चों को सर्दी जुकाम से कैसे बचाएं

भारतीय सभ्यता में बहुत प्रकार के घरेलू नुस्खें हैं जिनका इस्तेमाल कर के बच्चों को बिमारियों से बचाया जा सकता है

सर्दी-जुकाम-से-बचाव
बच्चों की नाक बंद होना - सरल उपचार

बहुत ही सरल तरीकों से आप अपने बच्चों के बंद नाक की समस्या को कम कर सकती हैं और उन्हें आराम पहुंचा सकती हैं।

बच्चों-की-नाक-बंद-होना
29 शिशु आहार जो बनाने में आसान

रसोई में जो वस्तुएं पहले से मौजूद हैं उनकी ही मदद से आप बढ़िया, स्वादिष्ट और पौष्टिक शिशु आहार बना सकती हैं।

शिशु-आहार
10 सबसे बेहतरीन तेल बच्चों के मसाज के लिए

शिशु की मालिश में कई तरह के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है और हर तेल की अपनी विशेषता है।

बच्चों-का-मालिश
शिशु मालिश के लिए सर्वोतम तेल

बच्चों की मालिश करने के लिए सबसे बेहतरीन तेल

शिशु-मालिश
शिशु को सर्दी जुकाम से कैसे बचाएं

अगर आप कुछ बातों का ख्याल रखें तो आप के बच्चे सर्दी और जुकाम के संक्रमण से बचे रह सकते हैं।

शिशु-सर्दी
नवजात बच्चे के चेहरे से बाल कैसे हटाएँ

अगर आपके बच्चे के जन्म के समय उसके पुरे शरीर पर महीन बाल हैं तो पढ़िए

बच्चे-के-पुरे-शरीर-पे-बाल
15 आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे शिशु की खांसी की अचूक दवा - Complete Guide

शिशु की सर्दी और जुकाम ठीक करने का घरेलु इलाज

खांसी-की-अचूक-दवा
नेबुलाइजर (Nebulizer) से शिशु के जुकाम का इलाज - Zukam Ka ilaj

नेबुलाइजर (Nebulizer) एक बहुत ही प्रभावी तरीका है शिशु के कफ को और जुखाम को कम करने के लिए।

नेबुलाइजर-Nebulizer-zukam-ka-ilaj
5 महीने का बच्चे की देख भाल कैसे करें

पांचवे महीने में शिशु की देखभाल में होने वाले बदलाव के बारे में पढ़िए इस लेख में|

5-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें
बच्चों में वजन बढ़ाने के आहार

यदि आपका बच्चा कमज़ोर है तो यहां दिए खाद्य वस्तुयों का प्रयोग आपके बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए कारगर होगा।

शिशु-का-वजन-बढ़ाने-का-आहार
ठंड में बच्चों को गर्म रखने के उपाय

कुछ विशेष स्वधानियाँ अगर आप बरतें तो आप का शिशु ठण्ड के दिनों में स्वस्थ और सुरक्षित रह सकता है।

ठण्ड-शिशु
दुबले बच्चे का कैसे बढ़ाए वजन

अपने शिशु का वजन बढ़ने के लिए आप शिशु के लिए diet chart त्यार कर सकते हैं।

शिशु-diet-chart
क्या शिशु को शहद देना सुरक्षित है?

विटामिन और मिनिरल से भरपूर, बढ़ते बच्चों को शहद देने के 8 फायदे हैं|

शहद-के-फायदे
6 से 8 माह के बच्चे के लिए भोजन तलिका

शिशु को ऐसे आहारे देने की आवश्यकता है जिसे उनका पाचन तंत्र आसानी से पचा सके।

भोजन-तलिका
बच्चों में पीलिये के लक्षण पहचाने - झट से

अगर बच्चे में पीलिया रोग के लक्षण दिखे तो इसे बहुत गम्भीरता से लेना चाहिए|

Jaundice-in-newborn-in-hindi
क्योँ कुछ बच्चे कभी बीमार नहीं पड़ते

अगर आप केवल सात बातों का ख्याल रखें तो आप के भी बच्चों के बीमार पड़ने की सम्भावना बहुत कम हो जाएगी।

बच्चे-बीमार
बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा - कारण और उपचार

अगर आप के बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा है तो जानिए की आप को क्या करना चाहिए

बच्चे-का-वजन
सर्दियौं में शिशु को किस तरह Nappy Rash से बचाएं

नवजात शिशु को डायपर के रैशेस से बचने का सरल और प्रभावी घरेलु तरीका।

डायपर-के-रैशेस
मखाने के फ़ायदे | Health Benefits of Lotus Seed - Recipes

मखाना ड्राई फ्रूट से भी ज्यादा पौष्टिक है और छोटे बच्चों के लिए बहुत फायेदेमंद भी।

बच्चों-में-चेचक
टीके के बाद बुखार क्यों आता है बच्चों को?

जानिए की आप किस तरह टीकाकरण के दुष्प्रभाव को कम कर सकती हैं|

How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit