Category: बच्चों की परवरिश

बच्चे बुद्धिमान बनते हैं जब आप हर दिन उनसे बात करते हैं|

By: Salan Khalkho | 3 min read

आज के बदलते परिवेश में जो माँ-बाप समय निकल कर अपने बच्चों के साथ बातचीत करते हैं, उसका बेहद अच्छा और सकारात्मक प्रभाव उनके बच्चों पे पड़ रहा है। बच्चों की अच्छी परवरिश करने के लिए सिर्फ पैसों की ही नहीं वरन समय की भी जरुरत पड़ती है। बच्चे माँ-बाप के साथ जो क्वालिटी समय बिताते हैं, वो आप खरीद नहीं सकते हैं। बच्चों को जितनी अच्छे से उनके माँ-बाप समझ सकते हैं, कोई और नहीं।

बच्चों से बातें करना उन्हें बुद्धिमान बनता है talking to children makes them smart

शिशु विशेषज्ञों के अनुसार छोटे बच्चों से हर दिन बातें करने उनके सुनने, सोचने और बात करने की काबिलियत को बढ़ता है। अगर शिशु ऐसे घरेलु वातावरण में रहता है जहाँ उससे बात करने वाला कोई नहीं है तो इसका बहुत ही बुरा असर शिशु के विकास पे पड़ता है। 

बच्चों में आत्महत्या की प्रवृति

बच्चों से अगर घर पे कोई बात करने वाला नहीं है तो इसका बुरा असर केवल छोटे बच्चों पे ही नहीं वरन बड़े बच्चों पे भी पड़ता है। बेंगलुरु के Nimhans में कार्यरत, child and adolescent psychiatry के प्रोफेसर - Dr K John Vijay Sagar के अनुसार जो बच्चे ऐसे घरेलु परिवेश में रहते हैं जहाँ उनसे बात करने वाला कोई भी नहीं है तो उन बच्चों में आत्महत्या की प्रवृति पायी गयी है। ऐसे बच्चों के मन में रह-रह के आत्महत्या करने का ख्याल आता है। आज इंटरनेट पे ऐसे बहुत से गेम्स मौजूद हैं जो बच्चों को आत्महत्या करने के लिए प्रेरित करते हैं। 

कुछ सालों पहले की बात है, Spandana Rehabilitation Centre के consultant psychologist -  Dr Mahesh Gowda को उनके एक मरीज का काफी दुखद फ़ोन आता है। यह फ़ोन था एक अधेड़ उम्र दम्पति का जो एक दिन जब काम ख़त्म कर जब घर पहुँचते हैं तो वे अपने पुत्र को पंखे से लटकता हुआ पाते हैं। एक दिन पहले ही उनके लड़के ने उन्हें बताया था की उसे उसके दोस्तों के पास जाना है अपने नोट्स को वापस लेने के लिए। दम्पति के अनुसार उनका बच्चा एक मेघावी छात्र था और उसके द्वारा यह कदम उठाया जाना काफी अविश्वसनीय था। 

टेक्नोलॉजी और स्मार्ट फ़ोन का बच्चों पे प्रभाव

शिशु विशेषज्ञों के अनुसार आज कल के बच्चे हर वक्त  technology के  संपर्क में रहते हैं। इनका इस्तेमाल  बच्चे के कोमल मन पे गहरा प्रभाव डालता है। टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल से बच्चे अपने दोस्तों और साथियोँ के साथ समय बिताना भूल जाते हैं। टेक्नोलॉजी की अपनी ही एक वर्चुअल (मायावी) दुनिया होती है। 

बीस साल पहले की बात अगर करें तो हम और आप उस उम्र में यह नहीं जानते थे की आत्महत्या क्या होती है। मगर आज टेक्नोलॉजी और स्मार्टफोन का बच्चों के जीवन में बढ़ते इस्तेमाल से उन्हें समय से पहले सब-कुछ पता हो गया है - वो सब भी जो उन्हें इस नन्ही सी उम्र मैं नहीं पता होना चाहिए। आज स्मार्टफोन का इस्तेमाल लाइफस्टाइल (lifestyle) बन कर रह गया है। अगर आप का बच्चा भी स्मार्ट फ़ोन का इस्तेमाल करता है तो आप को रखनी है कुछ बातों का ख्याल ताकि आप के बच्चे रहें सुरक्षित। 

आज के बदलते परिवेश में जो माँ-बाप समय निकल कर अपने बच्चों के साथ बातचीत करते हैं, उसका बेहद अच्छा और सकारात्मक प्रभाव उनके बच्चों पे पड़ रहा है। बच्चों की अच्छी परवरिश करने के लिए सिर्फ पैसों की ही नहीं वरन समय की भी जरुरत पड़ती है। बच्चे माँ-बाप के साथ जो क्वालिटी समय बिताते हैं, वो आप खरीद नहीं सकते हैं। बच्चों को जितनी अच्छे से उनके माँ-बाप समझ सकते हैं, कोई और नहीं। 

बच्चों के मन में आज-कल यह भावना आम हो गई है की कोई भी उन्हें नहीं समझता है। ऐसे में केवल माँ-बाप बच्चों के साथ बातचीत के द्वारा और समय बिता कर उनके अंदर सकारात्मक विचारों बढ़ावा दे सकते हैं। 

बच्चे तो बच्चे होते हैं और घर का परिवेश उनके अच्छे मानसिक और शारीरक विकास को बहुआयामी तरीके से प्रभावित करता है। विशेषकर जब बच्चे छोटे होते हैं तब उनके साथ बिताया गया हर पल बहुत महत्वपूर्ण होता है। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

लौकी-की-प्यूरी
चावल-का-खीर
आटे-का-हलुआ
केले-का-smoothie
मसूर-दाल
मटर-की-प्यूरी
केले-का-प्यूरी
चावल-का-शिशु-आहार
अवोकाडो-का-प्यूरी
शकरकंद-की-प्यूरी
गाजर-का-प्यूरी
कद्दू-की-प्यूरी
रागी-का-खिचड़ी
रागी-डोसा
पालक-और-याम
अवोकाडो-और-केले
गाजर-मटर-और-आलू-से-बना-शिशु-आहार
पपीते-का-प्यूरी
मछली-और-गाजर
सूजी-उपमा
दही-चावल
वेजिटेबल-पुलाव
इडली-दाल
संगति-का-प्रभाव
अंगूर-को-आसानी-से-किस-तरह-छिलें-
अंगूर-के-फायेदे
हानिकारक-आहार
अंगूर-शिशु-आहार
india-Indian-Independence-Day-15-August
पारिवारिक-माहौल

Most Read

बच्चे-के-पुरे-शरीर-पे-बाल
बच्चों-की-परवरिश
बच्चे-को-आहार
बच्चों-की-साफ-सफाई
टीके-के-नुकसान
बच्चे-के-मेमोरी-को-बूस्ट-करने-का-बेस्ट-तरीका
6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
बच्चों-की-online-सुरक्षा
6-महीने-के-बच्चे-का-आहार
बेबी-फ़ूड-खरीदते-वक्त-बरतें-सावधानियां
ठोस-आहार-के-लिए-वस्तुएं
प्रेम-और-सहनशीलता
बच्चों-को-सिखाएं-नैतिक-मूल्यों-के-महत्व
नव-भारत-की-नई-सुबह
बारिश-में-शिशुओं-का-स्वस्थ्य
Sex-Education
बाल-यौन-शोषण
बच्चे-के-साथ-यौन-शोषण
बच्चों-को-दें-अच्छे-संस्कार-
6-माह-से-पहले-ठोस-आहार
3-years-baby-food-chart-in-Hindi
7-month-के-बच्चे-का-baby-food
8-month-baby-food
घर-पे-त्यार-बच्चों-का-आहार
3-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें
5-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें
बच्चों-का-दिनचर्या
सब्जियों-का-puree---baby-food
तीन-दिवसीय-नियम
सूजी-का-हलवा
9-month-baby-food-chart-
10-month-baby-food-chart
11-month-baby-food-chart
मांसाहारी-baby-food-chart
शाकाहारी-baby-food-chart
रागी-का-हलवा---baby-food
12-month-baby-food-chart
दलीय-है-baby-food
सूजी-का-उपमा-baby-food
सेवई-baby-food
जुडवा-बच्चों-का-गावं
बच्चे-को-डकार
गाजर-का-हलवा-baby-food
टीके-से-बुखार
Jaundice-in-newborn-in-hindi
कम-वजन-बच्चे
शिशु-के-कपड़े
शिशु-आहार
गाजर-की-खिचड़ी
मुंग-का-दाल

Other Articles

indexed_200.txt
Footer