Category: शिशु रोग

क्योँ कुछ बच्चे कभी बीमार नहीं पड़ते

By: Salan Khalkho | 5 min read

क्या आप के पड़ोस में कोई ऐसा बच्चा है जो कभी बीमार नहीं पड़ता है? आप शायद सोच रही होंगी की उसके माँ-बाप को कुछ पता है जो आप को नहीं पता है। सच बात तो ये है की अगर आप केवल सात बातों का ख्याल रखें तो आप के भी बच्चों के बीमार पड़ने की सम्भावना बहुत कम हो जाएगी।

क्योँ कुछ बच्चे कभी बीमार नहीं पड़ते why some children never fall sick

क्या आप ने कभी सोचा है की कुछ बच्चे क्योँ कभी बीमार नहीं पड़ते हैं?

वहीँ कुछ बच्चे ऐसे होते हैं जिनको मामूली सर्दी और जुकाम भी ठीक होने में कई सप्ताह लग जाते हैं। 

सच तो ये है की आप के बच्चे भी कभी बीमार नहीं पड़ेंगे अगर आप कुछ बातों का ख्याल रखना शुरू कर दें तो।

जी हाँ - हम बात कर रहें कुछ सावधानियों की। 

सावधानियां - इलाज से कहीं बेहतर हैं।

7 टिप्स जिनका अगर आप ख्याल रखें तो आप के बच्चे कभी बीमार नहीं पड़ेंगे।

  1. १. अपने हातों को साफ़ रखिये
  2. २. बच्चों को क्रियाशील रखें
  3. ३. बच्चों को पूरी नींद सोने दें
  4. ४. बच्चों के हातों को उनके चेहरे से दूर रखें
  5. ५. बच्चों को संतुलित आहार दें
  6. ६. अपने बच्चे को फ्लू का वैक्सीन दिलवाएं
  7. ७. कुछ वस्तु कभी ना बाटें

१. अपने हातों को साफ़ रखिये

लगातार हातों को धो कर, आप अपने शिशु को संक्रमण लगने से बचा सकती हैं। अगर आप दिन में कई बार हाथ को धोती हैं तो आप के हातों से आप के शिशु को संक्रमण लगने का खतरा बहुत कम हो जाता है। 

keep hands clean to prevent infection अपने हातों को साफ़ रखिये

आप अपने शिशु को भी सिखाएं की वो भी दिन में कई बार अपने हातों को धोये। शिशु को सिखाएं की टॉयलेट से बहार आने के बाद उसे तुरंत अपने हातों को धोना चाहिए, खेल के आने के बाद भी शिशु को हाथ धोने को कहें। अपने शिशु के स्कूल बैग में  हैंड सांइटिज़ेर (hand sanitizer) भी रखें और उसे बताएं की जब भी वो कुछ खाये, अपने हातों को हैंड सांइटिज़ेर (hand sanitizer) से साफ करें। 

२. बच्चों को क्रियाशील रखें

संसार भर में शिशुओं पे हुए शोध में यह पाया गया है की जो बच्चे लगातार, हर दिन व्यायाम करते हैं, उन्हें व्यायाम ना करने वाले बच्चों की तुलना में सर्दी और जुकाम के संक्रमण का खतरा 25-50 प्रतिशत कम रहता है। 

बच्चों को क्रियाशील रखें keep childrens active

खेल-कूद करने और व्यायाम करने से शरीर में रक्त संचार बढ़ जाता है। इस वजह से शरीर में संक्रमण से लड़ने वाली कोशिकाओं का भी संचार बढ़ जाता है। शिशु को स्वस्थ रखने के लिए खेल-कूद और व्यायाम से बेहतर और कोई दवा नहीं है। 

३. बच्चों को पूरी नींद सोने दें

अंग्रेज़ी में एक कहावत है - Early to Bed Early to Bed Early to Rise Makes a Child Healthy Wealthy and Wise - कहने का तात्पर्य है की जो बच्चे सही समय पे सोने जाते हैं और सही समय पे सुबह उठते हैं, वे बच्चे स्वस्थ, और बुद्धिमान बनते हैं। 

बच्चों को पूरी नींद सोने दें help children sleep full night sleep

जो बच्चे रात को ठीक से सो नहीं पाते हैं, देर रात तक जागते हैं, जिनकी नींद पूरी नहीं होती है, उनमें सर्दी और जुखाम का खतरा बहुत बढ़ जाता है। एक साल से छोटे बच्चे को कम से कम 14 घंटे की नींद आवश्यक है - जबकि तीन साल से छोटे बच्चे को कम से कम 11-13 घंटे सोने की आवशकता है। 

४. बच्चों के हातों को उनके चेहरे से दूर रखें

बच्चों में जीवाणु और विषाणु शिशु की नाक, आंख और मुँह के दुवारा उनके शरीर में प्रवेश करते हैं। चूँकि बच्चे खेलते वक्त अनेक प्रकार के सतह को छूते हैं, उनके गंदे हातों में हर वक्त जीवाणु और विषाणु के मौजूद होने की सम्भावना बनी रहती है। 

बच्चों के हातों को उनके चेहरे से दूर रखें keep hands away from face to prevent infection

बच्चे अपने इन गंदे हातों से अपने चेहरे को छूते रहते हैं और इस तरह संक्रमण को बच्चों के शरीर में प्रवेश करने का मौका मिल जाता है। इसीलिए ये आवशयक है की आप अपने बच्चे को शुरू से ही हातों को धोना सिखाएं। जब भी आप का शिशु घर से बहार जाये, एक छोटा  हैंड सांइटिज़ेर (hand sanitizer) उसे अपने पास रखने को कहें। इससे आवशकता पड़ने पे वो अपने हातों को साफ़ रख सकेगा। 

५. बच्चों को संतुलित आहार दें

बच्चों को मौसम के अनुसार आहार दें। शिशु को आहार में मौसमी सब्जियां दें। उसे मौसम के अनुसार फल भी खाने को दें। 

बच्चों को संतुलित आहार दें give children well balanced diet

शिशु के आहार में ढेर सरे विभिन रंगो के सब्जियों को शामिलित करें। सब्जियों में अनेक प्रकार के एंटीऑक्सिडेंट्स होते हैं। कई तरह के रंगो के सब्जियों को समलित करने से शिशु को बहुत प्रकार के एंटीऑक्सिडेंट्स (antioxidants) मिल जाता है - जो शिशु की अच्छी स्वस्थ के लिए बहुत बेहतर है। शिशु के आहार में ऐसे वस्तुओं को समाहित करें जिसमे vitamin C और vitamin D हो। शिशु को आहार में दही भी दीजिये। 

अपने बच्चे को फ्लू का वैक्सीन दिलवाएं get your child vaccinated against flu

६. अपने बच्चे को फ्लू का वैक्सीन दिलवाएं 

शिशु को फ्लू से बचाने का सबसे बेहतर तरीका है की आप उसे फ्लू का वैक्सीन दिलवाएं। यह शिशु को फ्लू से बचाने का बेहतर तरीका है। 

Never share certain things with other children कुछ वस्तु कभी ना बाटें

७. कुछ वस्तु कभी ना बाटें 

बचपन से ही आप अपने शिशु को अच्छे संस्कार दें। जैसे की उसे सिखाये की वो अपने चीज़ें को दूसरों के साथ बाटें। लेकिन अपने शिशु को यह भी सिखएं की कुछ चीजें कभी भी किसी के साथ साझा ना करें। अपने शिशु को कप, पानी की बोतल, पानी का स्ट्रॉ और टूथब्रश कभी किसी के साथ शायर करने ना दें। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

बच्चे-बैठना
शिशु-को-आइस-क्रीम
चिकनगुनिया
शिशु-गुस्सा
दाई-babysitter
टीकाकरण-2018
शिशु-एक्जिमा-(eczema)
बच्चों-को-डेंगू
शिशु-कान
ब्‍लू-व्‍हेल-गेम
D.P.T.
vaccination-2018
टाइफाइड-कन्जुगेटेड-वैक्सीन
OPV
वेरिसेला-वैक्सीन
कॉलरा
जन्म-के-समय-टीके
टीकाकरण-Guide
six-week-vaccine
ढाई-माह-टीका-
-9-महीने-पे-टीका
5-वर्ष-पे-टीका-
2-वर्ष-पे-टीका
14-सप्ताह-पे-टीका
6-महीने-पे-टीका
10-12-महीने-पे-टीका
शिशु-के-1-वर्ष-पे-टीका
15-18-महीने-पे-टीका
शिशु-सवाल
बंद-नाक

Most Read

abandoned-newborn
बच्चों-के-साथ-यात्रा
बच्चे-ट्यूशन
पढ़ाई-का-माहौल
best-school-2018
बच्चे-के-पीठ-दर्द
board-exam
India-expensive-school
ब्लू-व्हेल
शिशु-के-लिए-नींद
film-star-school
winter-season
डिस्टे्रक्टर
बच्चे-को-साथ-सुलाने-के-फायेदे
बच्चे-के-कपडे
बच्चे-को-सुलाएं
सिर-का-आकार
दूध-पीते-ही-उलटी
बच्चे-में-हिचकी
बच्चे-का-वजन
Weight-&-Height-Calculator
Indian-Baby-Sleep-Chart
शिशु-का-वजन
teachers-day
शिशु-मैं-हिचकी
बच्चों-के-हिचकी
शिशु-में-हिचकी
शिशु-हिचकी
दूध-के-बाद-हिचकी
नवजात-में-हिचकी
SIDS
Ambroxol-Hydrochloride
कोलोस्‍ट्रम
शिशु-potty
ठण्ड-शिशु
सरसों-के-तेल-के-फायदे
मखाना
भीगे-चने
Neonatal-Care
शिशु-मालिश
-शिशु-में-एलर्जी-अस्थमा
शिशु-क्योँ-रोता
अंडे-की-एलर्जी
शिशु-एलर्जी
नारियल-से-एलर्जी
रंगहीनता-(Albinism)
पेट-दर्द
fried-rice
दाल-का-पानी
गर्भावस्था

Other Articles

indexed_320.txt
Footer