Category: स्वस्थ शरीर

बच्चों के रोने की वजह और उन्हें संभालने के उपाय

By: Vandana Srivastava | 3 min read

बच्चा रो कर ही अपनी बात माँ के सामने रखता हैं। आपका छोटा सा बच्चा खुद अपने आप कुछ नहीं कर सकता हैं। बच्चा अपने हर छोटी-बढ़ी जरूरत के लिए माँ पर आश्रित रहता हैं और रो कर ही अपनी जरूरतों को बताता है।

बच्चों के रोने की वजह

आज के युग में अधिकतर महिलाएं कामकाजी हैं और उनकी दिनचर्या काफी व्यस्त है ऐसे में अपने बच्चे की देखभाल की ज़िम्मेदारी बहुत कठिन होती है। 

फिर भी हर माँ अपने बच्चे को खुश और स्वस्थ्य देखना चाहती है। ऐसे में यदि आपका बच्चा लगातार रोने लगे तो आपका परेशान होना जायज है। 

यह बिलकुल सामान्य बात है की सभी बच्चे रोते है। अधिकांश बच्चे प्रत्येक दिन कुल एक घंटे से लेकर तीन घंटे तक के समय के लिए रोते हैं।

बच्चा क्यों रोता है - Why children cry?

बच्चा रो कर ही अपनी बात माँ के सामने रखता हैं। आपका छोटा सा बच्चा खुद अपने आप कुछ नहीं कर सकता हैं। 

बच्चा अपने हर छोटी - बढ़ी जरूरत के लिए माँ पर आश्रित रहता हैं। बच्चा जब भी भूखा रहता हैं, आराम चाहता है या फिर माँ का दुलार चाहता। 

आपका बच्चा रो कर ही अपने जरूरतों को बता सकता है की उसे किसी चीज़ की ज़रुरत है। आपके लिए कई बार यह पता लगाना मुश्किल हो जाता है की आखिर आपका बच्चा रो क्यों रहा है। 

लेकिन समय के साथ आप बच्चे के रोने का कारण जान जाती हैं। जैसे- जैसे आपका बच्चा बढ़ता है वह आप के साथ बात चीत करने के अन्य तरीके सीख लेता है जैसे की आँखों का समपर्क,  शोर मचाना या फिर मुस्कुराते हुए आपका ध्यान अपनी तरफ खींचना।

आराम से सोता बच्चा

बच्चे के रोने के आम कारण - Common reasons why children cry?

अगर आपका बच्चा लगातार रो रहा है और चुप नहीं हो रहा है तो हो सकता है वह आपसे से कुछ मांग कर रहा हैं या उसको आप की गोद में आराम नहीं मिल रहा हैं।

  • कभी - कभी बच्चा आप से कुछ कहना चाहता हैं जैसे भूख लग रही है।भूख किसी बच्चे के रोने का सबसे बड़ा कारण हैं। आप उसकी समस्या को जान कर उससे दूध पिलाने की कोशिश करे।
  • आप का बच्चा आपका ध्यान अपनी ओर खींचने क लिए रोने लगता है। खासकर तब, अगर उनकी कोमल त्वचा में खुजली या खुश्की हो। कुछ बच्चे  अपनी कलोट बदलने के लिए भी जोर -जोर से रोना शुरू करते हैं। कभी- कभी उसकी कलोट या नैपी आरामदायक ढंग से बंधी नहीं होती हैं जो बच्चे को परेशां करती हैं अपनी नैपी बदलने के लिए जोर- जोर से रोना शुरू कर देता हैं। 
  • कभी- कभी आप का बच्चा रो कर ये बताने की कोशिश करता हैं की मुझे ठण्ड लग लग रही हैं या बिस्तर बहुत गर्म हैं। 
  • बच्चे के लगातार रोने पर उसका पेट छूकर देखे अगर वे ठन्डे हैं तो उससे कुछ चादर या कम्बल ओढ़ादे और यदि वे गर्म हैं तो चादर हटा दे। 
  • मौसम के अनुसार कमरे का तापमान सामान्य रखे क्योंकि कमरे क तापमान के  अनुसार बच्चा अपने को एडजस्ट करता हैं।  तापमान सामान्य न होने पर भी बच्चा जोर - जोर से रोने लगता हैं। 
  • कभी - कभी बच्चे के पेट में तकलीफ हो जाती हैं और आप समझ नहीं पाती हैं। बच्चे के दूध पीते समय उसके पैट में गैस बन जाता हैं ,जिसकी वजह से वह रोने लगता हैं।
  • आप का बच्चा कभी - कभी आपका स्पर्श और प्यार चाहता हैं और रो कर ही वह अपनी बात आपके सामने रखता हैं।
  • कभी - कभी माँ का दूध पीते समय भी उसको  साँस लेने में परेशानी होने लगती हैं और वह रोना शुरू कर देता हैं।
  • कुछ स्थिति में बच्चे के रोने का कारण उसके कान में खुजली का होना भी होता हैं।  

अपने बच्चे को चुप करवाने के लिए या सम्भालनें के उपाय - Method to calm a crying child

यहां कुछ उपाए दिए गए हैं, जिससे आप अपने बच्चे को शांत कराकर उसको राहत पहुंचा सकते हैं

रोते बच्चे को कैसे संभालें

  • बच्चा यदि भूख से रो रहा है तो सबसे पहले उसे दूध पिलायें या कोई खाद्य सामग्री खिलाएं जिससे उसकी भूख शांत हो सके।
  • आपका बच्चा यदि दूध पीने के बाद भी नहीं शांत हो रहा है तो उसका पेट छूकर देखें कि कहीं उसका गैस तो नहीं बना है, यदि ऐसा है तो उसे कंधे पर चिपकाकर पीठ पर थपकी दें।
  • यदि उसे ठण्ड लग रही है तो उसे गरम कपड़े में लपेटे और अपनी गोद में चिपकाएं। माँ कि गोद में चिपकने से उसमें सुरक्षा का भाव आएगा और उसे माँ के स्पर्श से गरमाहट भी आएगी।
  • बच्चा माता पिता के गोद में आते ही चुप हो जाता हैं। क्यों कि वह आपके दिल की धड़कन को सुन के सुखदायक महसूस करता हैं। गर्भ में भी आपका बच्चा आपके दिल की धड़कन लगातार सुनता रहता है। इस लिए आप अपनी मीठी आवाज़ में लोरी गाकर बच्चे को थपकी दें। इस मधुर आवाज़ को सुनकर आपके बच्चे को राहत मिलेगी।
  • अपनी गोद में बच्चे को घुमाएं क्योंकि घूम कर बच्चा खुश हो जाता है। और कभी - कभी सो भी जाता है।
  • बच्चे मालिश करवाना पसंद करते हैं क्योंकि इससे बच्चे की थकान उतर जाती है और उसे नींद आ जाती है। बच्चे को आपने मालिश का समय पता होता है, देर होने पर रोना शुरू कर देते हैं।
  • मालिश के थोड़ी देर बाद बच्चे को एक गुनगुना स्नान दें। गुनगुने पानी से नहलाने से आपका बच्चा ताजगी महसूस करेगा और रोना बंद कर देगा। 

यदि इतना सब करने के बाद भी आपका बच्चा शांत नहीं हो रहा है तो आप घर के किसी बुज़ुर्ग कि मदद ले या उसे डॉक्टर के पास ले जाएँ।

Video: रोते बच्चों को कैसे शांत करें - Best ways to calm crying baby

videocode oHsflC3Qh-g '>

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

बच्चों-का-गर्मी-से-बचाव
आयरन-से-भरपूर-आहार
सर्दी-जुकाम-से-बचाव
बच्चों-में-टाइफाइड
बच्चों-में-अंजनहारी
बच्चों-में-खाने-से-एलर्जी
बच्चों-में-चेचक
डेंगू-के-लक्षण
बच्चों-में-न्यूमोनिया
बच्चों-का-घरेलू-इलाज
बच्चों-में-यूरिन
वायरल-बुखार-Viral-fever
बच्चों-में-सर्दी
एंटी-रेबीज-वैक्सीन
चिकन-पाक्स-का-टिका
टाइफाइड-वैक्सीन
शिशु-का-वजन-बढ़ाने-का-आहार
दिमागी-बुखार
येलो-फीवर-yellow-fever
हेपेटाइटिस-बी
हैजा-का-टीकाकरण---Cholera-Vaccination
बच्चों-का-मालिश
गर्मियों-से-बचें
बच्चों-का-मालिश
बच्चों-की-लम्बाई
उल्टी-में-देखभाल
शहद-के-फायदे
बच्चो-में-कुपोषण
हाइपोथर्मिया-hypothermia
ठोस-आहार
Footer