Category: बच्चों का पोषण

भूलकर भी बच्चों को ना खिलाएं ये आहार नहीं तो खतरनाक परिणाम हो सकते हैं

By: Salan Khalkho | 9 min read

हर प्रकार के आहार शिशु के स्वस्थ और उनके विकास के लिए ठीक नहीं होता हैं। जिस तरह कुछ आहार शिशु के स्वस्थ के लिए सही तो उसी तरह कुछ आहार शिशु के स्वस्थ के लिए बुरे भी होते हैं। बच्चों के आहार को ले कर हर माँ-बाप परेशान रहते हैं।क्योंकि बच्चे खाना खाने में बहुत नखड़ा करते हैं। ऐसे मैं अगर बच्चे किसी आहार में विशेष रुचि लेते हैं तो माँ-बाप अपने बच्चे को उसे खाने देते हैं, फिर चाहे वो आहार शिशु के स्वस्थ के लिए भले ही अच्छा ना हो। उनका तर्क ये रहता है की कम से कम बच्चा कुछ तो खा रहा है। लेकिन सावधान, इस लेख को पढने के बाद आप अपने शिशु को कुछ भी खिलने से पहले दो बार जरूर सोचेंगी। और यही इस लेख का उद्देश्य है।

भूलकर भी बच्चों को ना खिलाएं ये आहार नहीं तो खतरनाक परिणाम हो सकते हैं

पौष्टिक आहार ना केवल शिशु को पोषण प्रदान करते हैं बल्कि उसके विकास में भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं। 

जिस प्रकार पौष्टिक आहार शिशु के स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं, उसके विकास के लिए जरूरी होते हैं ठीक उसी तरह कुछ ऐसे आहार होते हैं जो इसी का उल्टा काम करते हैं।  ये आहार ना केवल शिशु के विकास को बाधित करते हैं बल्कि फूड प्वाइजनिंग का भी काम करते हैं। 

क्या आप जानते हैं कि कुछ आहार ऐसे हैं जो शिशु के लिए फूड पाइजन हो सकते हैं। 

 अफसोस इस बात का है कि ऐसे बहुत से आहार हम हर दिन अपने बच्चों को खिलाते हैं। 

छोटे बच्चों का पाचन तंत्र बाजार में मिलने वाले  आहारों के लिए  अभ्यस्त नहीं होता है।  इस वजह से उन्हें कई बार अपच/ indigestion का सामना करना पड़ता है। 

अगर अपने बच्चों की सेहत के प्रति जागरुक हैं तो आपको अपने बच्चों को स्वस्थ-आहार प्रदान करना पड़ेगा।  

जिससे छोटे बच्चों के पाचन तंत्र पर अनचाहा दबाव ना पड़े,  और उनकी विकास के लिए सभी जरूरी पोषक तत्व उन्हें उनके आहार से मिल सके। 

एक अध्ययन के अनुसार बच्चों में 95% क्रॉनिक डिजीज की वजह (chronic diseases), गलत आहारों का चुनाव है। 

इसका मतलब यह है कि हम अपने बच्चों को अधिकांश बीमारियों से बचा सकते हैं अगर हम केवल उन के आहार पर ध्यान दें तो। 

इस लेख में हम चर्चा करने जा रहे हैं कुछ ऐसे आहारों के बारे में जिनसे काफी गंभीर फूड प्वाइजनिंग बच्चों को हो सकती है। 

शिशु का पाचन तंत्र बहुत संवेदनशील होता है।  क्योंकि यह पूरी तरह विकसित नहीं है।  जैसे-जैसे बच्चे बड़े होते जाते हैं उनका पाचन तंत्र विकसित होता जाता है।  

इसलिए बहुत जरूरी है किसी को शुरुआती सालों में सही आहार दिया जाए ताकि उनका विकास अच्छी तरह हो सके,  और उनका पाचन तंत्र दरुस्त रहे। 

 यह हैं ऐसे आहार  जिनसे आपको सावधानी बरतनी है

  1. चॉकलेट मिल्क (Chocolate Milk)
  2. मायोनीज़ (Mayonnaise)
  3. रेडी टू ईट नगेट्स (Ready to Eat Nuggets)
  4. लॉलीपॉप (Lollipops)
  5. कच्चा दूध (Raw Milk)
  6. पार संदूषण (Cross Contamination)
  7. तले हुए आहार
  8. बहुत मसालों वाले आहार
  9. बाजार में उपलब्ध शिशु आहार
  10. रेडीमेड आहार जैसे कि नूडल्स  और पास्ता

चॉकलेट मिल्क (Chocolate Milk)

दूध और चीनी का मिश्रण होने की वजह से यह पचने में काफी समय लेता है।  यह प्राकृतिक रूप से बहुत अम्लीय भी होता है।  

इसका नतीजा यह होता है की कभी कभी बच्चों को खट्टे डकार भी आते हैं और उल्टी भी हो सकती है। अपने बच्चों को कम से कम चॉकलेट मिल्क दें।  

चॉकलेट मिल्क (Chocolate Milk) may not be good for your child

बच्चों के  विकास के लिए दूध बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।  इसके बजाये आप अपने बच्चों को सादा दूध चीनी के साथ दे सकती हैं और साथ ही अपने बच्चों को दूध से बने उत्पाद भी दे सकते हैं जैसी पनीर।  यह आपके शिशु के पाचन तंत्र के लिए सुरक्षित भी है और पौष्टिक भी। सबसे अच्छी बात ये है की यह आसानी से पच भी जाता है।

मायोनीज़ (Mayonnaise)

इसे तो आप अपने बच्चों को बिल्कुल भी ना दें। महीने में एक या दो बार आप अपने बच्चों को मायोनीज़ (Mayonnaise) दे सकती हैं।  

मायोनीज़ (Mayonnaise) शिशु के लिए हानिकारक आहार

लेकिन इसे हमेशा देना,  स्वास्थ्य की दृष्टि से बिल्कुल सुरक्षित नहीं है। इसमें बहुत ज्यादा तेल और अंडा होता है।  इतनी अधिक मात्रा शिशु के विकास को बाधित कर सकती है।  

आप अपने बच्चे को मायोनीज़ (Mayonnaise)  के बदले बटर या मक्खन दे सकती हैं। 

रेडी टू ईट नगेट्स (Ready to Eat Nuggets)

रेडी टू ईट नगेट्स  और चीज़ बॉल बच्चों को बहुत पसंद आता है।  यह आसानी से हर स्टोर्स और  मॉल में भी उपलब्ध है।  इसे बनाना भी आसान है।  

रेडी टू ईट नगेट्स (Ready to Eat Nuggets) बच्चों के लिए बेहद हानिकारक आहार

इसे बनाने के लिए आपको केवल  इसे तलने की आवश्यकता पड़ती है।  लेकिन यह आहार आपके बच्चे के लिए बिल्कुल ठीक नहीं है।  

अगर अब तक आपने अपने बच्चों को इसे खिलाती आई है  तो अब से अपने बच्चों को इन्हें खिलाना कम करें।  व्यस्त माताओं के लिए झटपट आहार तैयार करने का यह एक सुलभ तरीका है।  

लेकिन यह बच्चों के स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं है।  बेहतर यह होगा कि आप अपने बच्चों के लिए घर पर ही स्वस्थ नगेट्स तैयार करें। 

लॉलीपॉप (Lollipops)

बच्चों के इस पसंदीदा मिठाई में चीनी के अलावा कुछ नहीं होता है।  लेकिन चीनी में पोषण चुटकी मात्र नहीं होता है।  इसीलिए इसे एम्प्टी कैलोरी (Empty Calorie) कहा जाता है।  

शिशु के बढ़ते शरीर के विकास के लिए पोषक तत्वों की बहुत आवश्यकता पड़ती है। पोषण की कमी में शिशु को कुपोषण भी हो सकता है।  

लॉलीपॉप (Lollipops) बच्चों के स्वस्थ के लिए नहीं सही

शिशु का शरीर हर प्रकार की बीमारी से उबरने के बाद फिर से पहले जैसा स्वस्थ होने की क्षमता रखता है।  लेकिन कुपोषण से शिशु के शरीर को हुए नुकसान की भरपाई कभी भी पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाती है।  

इसीलिए सबसे बेहतर यह होगा कि शिशु को कुपोषण होने ही नहीं दिया जाए।  क्योंकि चीनी बहुत सरलता से शरीर में अवशोषित हो जाता है इसीलिए दूसरे आहारों की तुलना में शरीर चीनी के अवशोषण  को प्राथमिकता देता है।  

इसका नतीजा यह होता है कि शरीर को कैलोरी यानी ऊर्जा तो मिल जाती है लेकिन पोषण नहीं मिलता है। 

कुपोषण केवल भूख के कारण नहीं होता है बल्कि यह कई बार स्वस्थ आहार ना मिलने की वजह से भी होता है। इसके अलावा लॉलीपॉप (Lollipops)  और दूसरी Candy को बच्चे बहुत देर तक मुंह में रखकर चूसते हैं। 

इससे उनके दांतों में कैविटी होने की संभावना भी बढ़ जाती है। बच्चों को आप कभी कभी लॉलीपॉप (Lollipops)  दे सकती हैं,  लेकिन अपने बच्चों को इसका आदत कभी पड़ने ना दें। 

कच्चा दूध (Raw Milk)

बिना पाश्चराइज्ड किया हुआ दूध (Unpasteurized milk),  शिशु के पेट में संक्रमण का सबसे बड़ा कारण है।  शिशु के शुरुआती कुछ महीनों और सालों में दूध और उससे बने आहार, शिशु के मुख्य आहारों में से होते हैं।  

इसीलिए आपको इस बात का ध्यान देने की आवश्यकता पड़ेगी कि आप के शिशु का दूध को फ्रिज में स्टोर करके रखा जाए।  

कच्चा दूध (Raw Milk) के जीवाणु बच्चे को बीमार कर सकते हैं

शिशु को दूध पिलाने से पहले उसे अच्छी तरह से उबाल लिया जाए।  दूध में भरपूर मात्रा में प्रोटीन होता है।  इसीलिए दूध बहुत जल्दी खराब भी हो जाता है। 

बाजार से पैकेट दूध खरीदते समय उसके पैकेट के ऊपर पढ़ लें की दूध को पाश्चराइज्ड (Pasturize) किया गया है या नहीं। 

पार संदूषण (Cross Contamination)

सब्जी काटने वाले बोर्ड (Vegetable cutting board) पर अगर आप कच्चे  मीट को काटते हैं और फिर बिना धोए उसे अपने बच्चों के लिए फलों को काटने  के लिए इस्तेमाल करती हैं, तो यह आपके बच्चों के लिए जानलेवा हो सकता है। 

पार संदूषण (Cross Contamination) से शिशु को जानलेवा संक्रमण लग सकता है

 किचन में साफ सफाई का ध्यान अगर ना रखा जाए तो बच्चों को अपच की समस्या हो सकती है।  उन्हें फूड प्वाइजनिंग भी हो सकता है। 

किचन में मीट को काटने के लिए अलग बोर्ड (Cutting board) और फल सब्जियों को काटने के लिए अलग बोर्ड (Vegetable cutting board) का इस्तेमाल करें। फल और सब्जियों को रखने के लिए अलग भगौनो (Containers/Bowls) का भी इस्तेमाल करें। 

तले हुए आहार

तले हुए आहार में कितनी तेल की मात्रा होती है, इसका अंदाजा भी नहीं लगा सकती हैं आप। बाजार में उपलब्ध इस्माइली और फ्राइज (Smileys and Fries) में पहले से ही बहुत तेल होता है। 

तले हुए आहार शिशु के स्वस्थ के लिए नहीं सही

बाजार से रेडीमेड इस्माइली और फ्राइज (Smileys and Fries)  खरीदने की  बजाएं,  आप इसे अपने बच्चों के लिए घर पर ही तैयार करने की कोशिश करें।   

इसे बनाना बेहद आसान है,  और आपको इस की रेसिपी  आसानी से इंटरनेट पर मिल जाएगी। 

बहुत मसालों वाले आहार

हालांकि बच्चे खुद ही बहुत ज्यादा मसाले वाले आहार नहीं खाते हैं।  लेकिन कुछ ऐसे मसाले जैसे कि अदरक,  इलायची और लौंग इतने चटक नहीं होते हैं।  

बहुत मसालों वाले आहार शिशु के पाचन तंत्र को बिगाड़ देते हैं

इस वजह से इनसे बने आहार बच्चे सहजता से खा लेते हैं।  लेकिन इन मसालों की मात्रा अगर आहार में अधिक हो जाए तो यह बच्चों में एसिडिटी और बेचैनी पैदा कर सकते हैं।

बाजार में उपलब्ध शिशु आहार

आज कल बाजार में ऐसे रेस्टोरेंट, फूड कोर्ट, और जॉइंट की संख्या तेजी से बढ़ रही है जो विशेषकर बच्चों के लिए आहार बनाती है।  

बाजार में उपलब्ध शिशु आहार हैं हानिकारक

बच्चों को यहां के बने आहार बहुत स्वादिष्ट और आकर्षक लगते हैं।  इसका कारण यह है कि इसमें अत्यधिक मात्रा में चटक रंगों का इस्तेमाल और कृत्रिम जायकों (आर्टिफीसियल फ्लेवर/कृत्रिम स्वाद) का इस्तेमाल होता है। लेकिन कृत्रिम स्वाद  और चटक रंग आपके शिशु के स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक है। 

कभी कभार अपने बच्चों को ऐसी जगहों पर आप  ले के जा सकती है।  लेकिन अपने बच्चों को ऐसी जगहों पर हमेशा लेकर नहीं जाएँ। 

रेडीमेड आहार जैसे कि नूडल्स  और पास्ता

बाजार में उपलब्ध रेडीमेड आहार जैसे कि नूडल्स और पास्ता झटपट तैयार हो जाते हैं और यह खाने में भी बहुत स्वादिष्ट होते हैं।  

लेकिन इन में भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, वसा और अत्यधिक मात्रा में  स्वाद बढ़ाने के लिए MSG  का इस्तेमाल किया जाता है।  

रेडीमेड आहार जैसे कि नूडल्स और पास्ता बच्चों के सेहत के लिए नहीं सही

इस वजह से यह आपके शिशु के लिए स्वस्थ बिल्कुल नहीं है।  आप अपने बच्चों के लिए घर पर स्वस्थ नूडल और पास्ता बना सकती हैं।  

ना केवल यह पोषण से भरपूर होंगे,  बल्कि आपके बच्चों के स्वास्थ्य विकास के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण होंगे। 

ऊपर जो आहार हमने बताए हैं, यह कुछ आम आहार हैं जिनकी वजह से अधिकांश मामलों में बच्चों को फूड प्वाइजनिंग की समस्या होती है। 

3 साल तक के उम्र के बच्चों का पाचन तंत्र बहुत ज्यादा संवेदनशील होता है। अगर शिशु का पाचन तंत्र इन आहारों को सही तरीके से हजम ना कर सके तो फूड प्वाइजनिंग की संभावना बन जाती है। 

बच्चों को खाना खिलते वक्त होने वाली आम गलतियां 

Comments and Questions

You may ask your questions here. We will make best effort to provide most accurate answer. Rather than replying to individual questions, we will update the article to include your answer. When we do so, we will update you through email.

Unfortunately, due to the volume of comments received we cannot guarantee that we will be able to give you a timely response. When posting a question, please be very clear and concise. We thank you for your understanding!



प्रातिक्रिया दे (Leave your comment)

आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं

टिप्पणी (Comments)



आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा|



Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_0.txt
Footer