Category: स्वस्थ शरीर

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile Chart - Calculator

By: Salan Khalkho | 8 min read

यहां दिए गए नवजात शिशु का Infant Growth Percentile कैलकुलेटर की मदद से आप शिशु का परसेंटाइल आसानी से calculate कर सकती हैं।

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile जानना क्योँ जरुरी है

जब हम छोटे बच्चों को डॉक्टर के पास ले के जाते हैं तो डॉक्टर बच्चे का इलाज करने से पहले उसका वजन और लम्बाई नापता है। 

शिशु के वजन और लम्बाई के आधार पे शिशु के percentile की गणना की जाती है। इस percentile की तुलना देश के सरकारी औसत से तुलना (comparison to national averages) की जाती है। 

शिशु का BMI जानने के लिए यहाँ click करें। 

इस लेख में आप पढ़ेंगी:

  1. नवजात शिशु का Infant Growth Percentile क्या है
  2. नवजात शिशु के Infant Growth Percentile का क्या फायदा है
  3. नवजात शिशु का Infant Growth Percentile जानना क्योँ जरुरी है
  4. नवजात शिशु का Infant Growth Percentile किस तरह नापा जाता है
  5. Infant Growth Percentile को इस तरह समझे
  6. Birth mass क्या है
  7. Infant Growth Percentile कैलकुलेटर को इस तरह इस्तेमाल करें

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile क्या है

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile क्या है 

सांख्यकी में Percentile का मतलब होता है की शिशु की स्थिति देश के बाकि बच्चों की स्थिति में किस स्थान पे है। 

उदहारण के लिए अगर बच्चे का Infant Growth Percentile है 20th परसेंटाइल है तो इसका मतलब देश के 20 प्रतिशत बच्चों की तुलना में उसकी स्थिति बेहतर है। 

Infant Growth Percentile भी BMI की ही तरह का एक गणना करने की तकनिकी है जो शिशु के विकास के स्तर को दर्शाता है। 

नवजात शिशु के Infant Growth Percentile का क्या फायदा है

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile यह बताता है की देश के बाकि बच्चों के वजन की तुलना में आप के बच्चे का वजन कैसा है। 

नवजात शिशु के Infant Growth Percentile की गणना से शिशु के विकास का हिसाब रखना आसान हो जाता है। 

यह शिशु के विकास का बेहतर दृश्य भी प्रस्तुत करता है क्योँकि अगर मान लीजिये की आप के बच्चे का उम्र 3 साल है तो Growth Percentile उसकी उम्र के बाकि बच्चों से उसके वजन और लम्बाई का तुलनात्मक दृश्य प्रस्तुत करता है। 

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile Chart - Calculator

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile जानना क्योँ जरुरी है 

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile से आप घर पे ही इस बात का आकलन कर सकती हैं की आप के शिशु का विकास सामान्य (सुचारु) रूप से हो रहा है या नहीं। 

परसेंटाइल चार्ट की मदद से माँ-बाप इस बात का अच्छा अनुमान लगा सकते हैं की उनके बच्चे का शारीरक विकास, उसी के उम्र के देश के दुसरे बच्चों, की तुलना में किस तरह हो रहा है। 

क्या आप को पता है की आप के शिशु का आदर्श वजन कितना होना चाहिए ? - जानिए इस लेख में। 

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile किस तरह नापा जाता है

  1. वजन - शिशु का वजन लेने से पहले उसके कपडे उतर दिए जाते हैं ताकि सही वजन लिया जा सके। 
  2. लम्बाई - जब तक की आप का बच्चा खड़े होने में सक्षम न हो जाये, उसकी लम्बाई सर से लेके पावों तक लेटे-लेटे लिया जाता है। 
  3. सर का नाप - टेप की सहायता से सर के सबसे बड़े हिस्से का नाप लिया जाता है। 

नवजात शिशु का Infant Growth Percentile किस तरह नापा जाता है

Infant Growth Percentile को इस तरह समझे 

  1. पचास प्रतिशत 50% percentile का मतलब होता है औसत 
  2. पचास प्रतिशत 50% से कम percentile का मतलब होता है की शिशु का वजन औसत से कम है। यह तुलना देश के सरकारी औसत से तुलना (comparison to national averages) के आधार पे है। 
  3. पचास प्रतिशत 50% percentile से ज्यादा का मतलब होता है की शिशु का वजन औसत से ज्यादा है। 

Infant Growth Percentile से यह निष्कर्ष नहीं नकालना चाहिए की शिशु का वजन ज्यादा या कम (overweight or underweight) है। 

Infant Growth Percentile को अच्छी तरह से समझने के लिए आप को एक डॉक्टर की सहायता आवशयक रूप से लेनी चाहिए। केवल एक शिशु विशेषज्ञ ही शिशु के Infant Growth Percentile को सही तरीके से विश्लेषित कर सकता है। 

Birth mass क्या है

शिशु के जन्म के समय उसके शरीर का mass उसका Birth mass कहलाता है। शिशु का Birth mass उसके जन्म के महीने पे भी निर्भर करता है। 

जिन बच्चों का जन्म नौ महीने पुरे कर के होता है उनका Birth mass आठ महीने पे जन्मे बच्चों से ज्यादा होता है। 

जिन बच्चों का Birth mass उनके जन्म लेने वाले महीने के अनुसार सामान्य रेंज (range) में हो उन बच्चों को "appropriate for gestational age (AGA)" से परिभाषित करते हैं। 

लेकिन जिन बच्चों का वजन उनके जन्म लेने वाले महीने के सामान्य रेंज (range) से ज्यादा या कम हो तो ऐसे बच्चों का विकास सामान्य नहीं मन जाता है। 

शिशु का गर्भ में इस तरह का विकास इस बात को दर्शाता है की pregnancy में किसी प्रकार का complication है और यह शिशु को या उसके माँ को प्रभावित कर सकता है। 

Infant Growth Percentile कैलकुलेटर को इस तरह इस्तेमाल करें

Infant Growth Percentile कैलकुलेटर को इस तरह इस्तेमाल करें

इस कैलकुलेटर की मदद से आप अपने शिशु के वजन का Percentile उसके उम्र के अनुसार पता कर सकते हैं। निचे दिए कैलकुलेटर में अपने शिशु का वजन, और उसकी लम्बाई डालिये। 

अगर आप के शिशु का Growth Percentile 45% आता है तो इसका मतलब है की 100 बच्चों के sample में आप के शिशु का वजन 45 बच्चों से ज्यादा है मगर 55 बच्चों से कम है। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

ह्यूमिडिफायर-Humidifier
नेबुलाइजर-Nebulizer-zukam-ka-ilaj
पेट्रोलियम-जैली---Vaseline
Khasi-Ke-Upay
खांसी-की-अचूक-दवा
Khasi-Ki-Dawai
पराबेन-(paraben)
sardi-ki-dawa
jukam-ki-dawa
खांसी-की-अचूक-दवा
जुकाम-के-घरेलू-उपाय
बंद-नाक
khasi-ki-dawa
कई-दिनों-से-जुकाम
शिशु-को-खासी
शिशु-खांसी-के-लिए-घर-उपचार
बच्चों-की-नाक-बंद-होना
Best-Baby-Carriers
शिशु-सर्दी
शिशु-बुखार
1-साल-के-बच्चे-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई
नवजात-शिशु-वजन
शिशु-का-वजन-घटना
शिशु-की-लम्बाई
नवजात-शिशु-का-BMI
6-महीने-के-शिशु-का-वजन
बच्चों-का-BMI
शिशु-का-वजन-बढ़ाये-देशी-घी
शिशु-को-अंडा
शिशु-को-देशी-घी

Most Read

शिशु-क्योँ-रोता
शिशु-मालिश
अंडे-की-एलर्जी
शिशु-एलर्जी
नारियल-से-एलर्जी
रंगहीनता-(Albinism)
पेट-दर्द
fried-rice
दाल-का-पानी
गर्भावस्था
बच्चे-बैठना
शिशु-को-आइस-क्रीम
चिकनगुनिया
शिशु-गुस्सा
दाई-babysitter
टीकाकरण-2018
शिशु-एक्जिमा-(eczema)
बच्चों-को-डेंगू
शिशु-कान
ब्‍लू-व्‍हेल-गेम
vaccination-2018
D.P.T.
टाइफाइड-कन्जुगेटेड-वैक्सीन
OPV
वेरिसेला-वैक्सीन
कॉलरा
जन्म-के-समय-टीके
टीकाकरण-Guide
six-week-vaccine
ढाई-माह-टीका-
-9-महीने-पे-टीका
5-वर्ष-पे-टीका-
2-वर्ष-पे-टीका
14-सप्ताह-पे-टीका
6-महीने-पे-टीका
10-12-महीने-पे-टीका
शिशु-के-1-वर्ष-पे-टीका
15-18-महीने-पे-टीका
शिशु-सवाल
बंद-नाक
बच्चे-बीमार
डायपर-के-रैशेस
sardi-ka-ilaj
khansi-ka-ilaj
khansi-ka-gharelu-upchar
खांसी-की-दवा
sardi-jukam
सर्दी-जुकाम-की-दवा
balgam-wali-khansi-ka-desi-ilaj
कफ-निकालने-के-उपाय

Other Articles

indexed_360.txt
Footer