Category:

जुडवा बच्चों का गावं - हैरत में डाल दे

By: Salan Khalkho | 1 min read

जुड़वाँ बच्चे पैदा होना इस गावं में आम बात है और इस गावं की खासियत भी| इसी कारण इस गावं में जुड़वाँ बच्चों की संख्या हर साल बढ़ रही है|

भारत में एक ऐसा अनूठा गावं है जहाँ पैदा होते हैं जुड़वा बच्चे। ऐसे देखें तो दुनिया भर में हर एक हजार बच्चों में चार जुड़वाँ बच्चे पैदा होते हैं। लेकिन भारत का यह एक ऐसा अजब गावं है जहाँ हर 1000 पर 45 जुड़वाँ बच्चे पैदा होता हैं। यह गावं विश्व में दूसरे स्थान पे है और एशिया में पहले स्थान पे। 

भारत का जुड़वाँ बच्चों का गावं

भारत का यह गावं केरल के मलप्पुरम जिले में स्थित कोडिन्ही गाँव (Kodihni) है। इस गावं को जुड़वाँ गावं भी कहा जाता है। इस गावं में करीब 350 जुड़वाँ बच्चों के जोड़े रहते हैं। यानी 740 के करीब जुड़वाँ बच्चे है। इस गावं मैं। इस गावं की कुल आबादी 2000 है। इस गावं में अगर आप सैर के लिए आएंगे तो आप पाएंगे की school से लेकर बाजार तक - हर जगह आपको जुड़वाँ बच्चे (हमशकल) ही दिखेंगे। 

जुड़वाँ बच्चे पैदा होना इस गावं में आम बात है और इस गावं की खासियत भी। इसी कारण इस गावं में जुड़वाँ बच्चों की संख्या हर साल बढ़ रही है। 

 

साल 2008 में जब इस गावं का सर्वेछण किया गया था तब इस गावं में हर 300 पे 15 जुड़वाँ बच्चे थे। इस गावं मैं सिर्फ जुड़वाँ बच्चे ही नहीं है, कई घर तो ऐसे हैं जहाँ 3-3 बच्चे भी हैं। 

जुड़वाँ बच्चे पैदा होना इस गावं में आम बात है

आज से लग-भग करीब 70 साल पहले इस गावं में पहली बार जुड़वाँ बच्चे पैदा हुए थे। उसके बाद तो मनो जुड़वाँ बच्चों का सील-सिला ही चालू हो गया। शुरुआती सालों में तो इक्के-दुक्का ही जुड़वाँ बच्चे पैदा होते थे। लेकिन पिछले कुछ दशकों में इसमें तेज़ी आ गयी है। अब इस गावं में बहुत ज्यादा संख्या में जुड़वाँ बच्चे पैदा होने लगे हैं। कुल जुड़वाँ बच्चों की आधी संख्या तो केवल पिछले 10 सालों में ही पैदा हुई है। अब तो आलम यह है इस इस गावं में हर घर में जुड़वाँ बच्चे पैदा हो रहे हैं। 

केरल के मलप्पुरम जिले में स्थित कोडिन्ही गाँव ही एक मात्र ऐसा गावं नहीं है जहाँ इतनी बड़ी तादाद में जुड़ा बच्चे पैदा हो रहे हैं। अगर विश्व स्तर पे देखें तो नाइज़ीरिआ में एक स्थान है जिसका नाम है इग्बो-ओरा। यहां पर जुड़वाँ लोगों की इतनी भरमार है की जितनी आप को पुरे विश्व में दूसरी जगह नहीं पाएंगे।

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

6-महीने-के-बच्चे-का-आहार
ठोस-आहार-के-लिए-वस्तुएं
बेबी-फ़ूड-खरीदते-वक्त-बरतें-सावधानियां
प्रेम-और-सहनशीलता
बच्चों-को-सिखाएं-नैतिक-मूल्यों-के-महत्व
नव-भारत-की-नई-सुबह
बारिश-में-शिशुओं-का-स्वस्थ्य
Sex-Education
बाल-यौन-शोषण
बच्चे-के-साथ-यौन-शोषण
बच्चों-को-दें-अच्छे-संस्कार-
6-माह-से-पहले-ठोस-आहार
3-years-baby-food-chart-in-Hindi
7-month-के-बच्चे-का-baby-food
8-month-baby-food
3-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें
घर-पे-त्यार-बच्चों-का-आहार
5-महीने-का-बच्चे-की-देख-भाल-कैसे-करें
सब्जियों-का-puree---baby-food
बच्चों-का-दिनचर्या
तीन-दिवसीय-नियम
सूजी-का-हलवा
9-month-baby-food-chart-
10-month-baby-food-chart
11-month-baby-food-chart
शाकाहारी-baby-food-chart
मांसाहारी-baby-food-chart
रागी-का-हलवा---baby-food
12-month-baby-food-chart
दलीय-है-baby-food

Most Read

दिमागी-बुखार---जापानीज-इन्सेफेलाइटिस
BCG-वैक्सीन
पोलियो-वैक्सीन
हेमोफिलस-इन्फ्लुएंजा-बी-(HIB)-
रोटावायरस
न्यूमोकोकल-कन्जुगेटेड-वैक्सीन
इन्फ्लुएंजा-वैक्सीन
खसरे-का-टीका-(वैक्सीन)
हेपेटाइटिस-A-वैक्सीन
एम-एम-आर
मेनिंगोकोकल-वैक्सीन
टी-डी-वैक्सीन
उलटी-और-दस्त
कुपोषण-का-खतरा
पढ़ाई
नमक-चीनी
बच्चों-को-दे-Sex-Education
बच्चों-की-पढाई
बच्चों-की-गलती
गर्मियों-में-डिहाइड्रेशन
गर्मियों-की-बीमारी
गर्मियों-की-बीमारियां
गर्मियों-में-बिमारियों-से-ऐसे-बचें
घमोरी-का-घरेलू-इलाज
माँ-का-दूध
स्मार्ट-एक्टिविटीज-J-M-Group-India-
दूध-के-फायदे
मां-का-दूध
गर्भनाल-की-देखभाल
कागज-से-बनायें-पत्तों-का-collage
कागज-से-बनायें-जादूगर
शिशु-को-दूध
कागज-का-हवाई-मेढक-कैसे-बनायें
stop-bleeding
प्राथमिक-चिकित्सा
मजबूत-हड्डियों-के-लिए-आहार
कागज-का-खूबसूरत-मोमबत्ती-स्टैंड
सर्वश्रेष्ठ-सनस्क्रीन
बच्चों-का-लम्बाई
शिशु-में-डायपर-रैशेस
बच्चे-के-पुरे-शरीर-पे-बाल
बच्चों-की-परवरिश
बच्चों-की-साफ-सफाई
बच्चे-को-आहार
टीके-के-नुकसान
बच्चे-के-मेमोरी-को-बूस्ट-करने-का-बेस्ट-तरीका
6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
बच्चों-की-online-सुरक्षा
6-महीने-के-बच्चे-का-आहार
ठोस-आहार-के-लिए-वस्तुएं

Other Articles

indexed_120.txt
Footer