Category: बच्चों की परवरिश

माँ के गर्भ में ही सीखने लगते हैं बच्चे

Published:19 Aug, 2017     By: Salan Khalkho     2 min read

गर्भवती महिलाएं जो भी प्रेगनेंसी के दौरान खाती है, उसकी आदत बच्चों को भी पड़ जाती है| भारत में तो सदियोँ से ही गर्भवती महिलायों को यह नसीहत दी जाती है की वे चिंता मुक्त रहें, धार्मिक पुस्तकें पढ़ें क्योँकि इसका असर बच्चे पे पड़ता है| ऐसा नहीं करने पे बच्चे पे बुरा असर पड़ता है|


महाभारत का वो किस्सा तो आप जानते ही होंगे जहाँ अर्जुन के बेटे अभिमन्यु ने चक्रव्यूह में घुसने की कला अपने माँ के कोख में ही सिख ली थी जब अर्जुन अभिमन्यु की माँ से सोते वक्त चक्रव्यूह के बारे में बातें कर रहा था। 

मगर अफ़सोस, जब तक अर्जुन अपनी पत्नी सुभद्रा को यह बता पता की चक्रव्यूह को भेदकर बहार कैसे आये तब तक वो सो गयी और अर्जुन की यह वार्तालाप वहीँ समाप्त हो गयी। अभिमन्यु तो चक्रव्यूह में घुसने का तरीका तो सिख गया मगर यह नहीं जान सका की चक्रव्यूह से कैसे बहार आते हैं। और आखिरकार इसी वजह से अभिमन्यु चक्रव्यूह में फस कर वीरगति को प्राप्त होते हैं। 

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

 

महाभारत चक्रव्यूह अभिमन्यु शिशु बच्चा गर्भ अर्जुन

बहुत से लोग इस कथा पे विश्वास करते हैं। मगर बहुत इसे एक काल्पनिक पौराणिक कथा या महर्षि वेद व्यास द्वारा लिखी केवल एक महा काव्य मानते हैं। इस वजह से वे इस बात को गम्भीरता से नहीं लेते हैं। मगर यह बात अब आधुनिक विज्ञानं ने भी प्रामाणिक कर दिया है की बच्चे मां के गर्भ में रहते हुए ही सिखने लगते हैं।  

यह बात पिछले कुछ दशक में हुए अनेक अध्यन में पाया गया है की बच्चे मां के गर्भ में रहते हुए माँ से बहुत कुछ सीखते हैं। ऐसा सिर्फ इंसानो में ही नहीं, वरन बहुत से जानवरों में भी यह गौर करने वाली बात पायी गयी ही। 

एक बहुत मजेदार अध्यन के बारे में आप को मैं बताना चाहूंगा। एडीलेड की फ्लाइंडर्स यूनिवर्सिटी में एक बहुत ही रोचक अध्यन हुआ। अध्यन फेयरी रेन नामक चिड़िया पे किया गया। अध्यन में पाया गया की रात के वक़्त अंडे सेने वाली मादा फेयरी रेन एक अलग ही तरह की आवाज़ निकालती थी। 

यह ताजूब की बात थी क्योँकि परिंदे अंडे सेने का काम चुपचाप करते हैं ताकि दुश्मन को पता न चल जाये। मगर यह चिड़िया खूब आवाज करती थी। जब अंडो के फूटने का वक्त आया तो मुख्या अध्यन करता ने पाया की अंडे से चूज़े बहार आकर ठीक उसी तरह का आवाज कर रहे हैं। इसका मतलब चूज़े इस तरह का आवाज निकलना अपनी माँ से अंडे में रहते वक्त सीखे। 

मगर सवाल यह है की माँ ने बच्चों को इस तरह का आवाज निकलना क्योँ सिखाया। 

तो बात यह है की कोयल एक बहुत ही आलसी चिड़िया है। कोयल बच्चे पालने के अपने जिम्मेदारी से बचने के लिए चुपचाप फेयरी रेन के घोंसले में अंडे दे आती है। फेयरी रेन, कोयल के अंडो को अपना समझ उसे सेती है। जब बच्चे अंडे से बहार आते हैं तो कोयल के बच्चे सबसे ज्यादा शोर मचाते हैं। इसका नतीजा यह होता है की फेयरी रेन आवाज सुन कर अपने असल बच्चों को छोड़ कोयल के बच्चों को ही सारा खाना खिला देती है। इसकी वजह से फेयरी रेन के असल बच्चे भूख से मर जाते हैं। 

कोयल के इस धोखे से बचने के लिए फेयरी रेन रात-रात भर जग कर अपने बच्चे को एक खास किस्म का आवाज निकलना सिखाती है ताकि जब बच्चे अंडे से बहार आएं और इसी तरह का आवाज निकले तो वो उन्हें आसानी से पहचान जाये और अपने बच्चों को चुन चुन कर आहार प्रदान करे। यानि फेयरी रेन ने कोयल के धोखे से बचने के लिए कुदरती तोड़ निकल लिया। 

यह तो हुई परिंदो की बात, चलिए अब करते हैं हम इंसानो की बात। 

पिछले कुछ दशक में शिशुओं पे हुए अनुसंधान में यह बात साबित हुई है की बच्चों में खान-पान, स्वाद, आवाज़, ज़बान जैसी चीज़ें सीखने की बुनियाद माँ के गर्भ में रहते हुए ही हो जाती है। 

भारत में तो सदियोँ से ही गर्भवती महिलायों को यह नसीहत दी जाती है की वे चिंता मुक्त रहें, धार्मिक पुस्तकें पढ़ें क्योँकि इसका असर बच्चे पे पड़ता है। ऐसा नहीं करने पे बच्चे पे बुरा असर पड़ता है।  

गर्भकाल के दौरान माँ को अपने मानसिक और शारीरिक स्वस्थ दोनों का ख्याल रखना जरुरी है। सिर्फ इस बात पे ध्यान देना जरुरी नहीं है की मसालेदार चीज़ें और बहुत ज्यादा गरिष्ट आहार (तेल में ताली हुई वस्तुएं) न खायी जाएँ, वरन जितना हो सके पौष्टिक आहार खाया जाये। इसके साथ ही साथ इस बात पे भी जोर देने की आवश्यकता है की अच्छे माहौल में भी रहा जाये जिससे माँ की मानसिक मनोदशा पे अनुकूल प्रभाव पड़े। क्योँकि माँ जिन हालात से गर्भकाल के दौरान गुजरती है और जिस प्रकार के वातावरण में रहती है, उसका सीधा असर बच्चे पे पड़ता है। 

हाल के कुछ सालों के अध्यन में एक बात और सामने आई है की गर्भवती महिलाएं जो भी प्रेगनेंसी के दौरान खाती है, उसकी आदत बच्चों को भी पड़ जाती है। ऐसा इसलिए क्योँकि गर्भवती महिलाएं जो भी खाती हैं, वो इनके खून के जरिये बच्चे को भी मिलता है। जैसे जैसे बच्चा बड़ा होता है, वैसे वैसे बच्चे को माँ के स्वाद का आदत पड़ जाता है। 

उत्तरी आयरलैंड के बेलफ़ास्ट की यूनिवर्सिटी में हुवे एक अध्यन में मुख्या अध्यन करता पीटर हेपर ने पाया की गर्भकाल के दौरान जा माताएं लहसुन खाती थी, उन माताओं के बच्चों को भी जन्म के बाद लहसून खूब पसंद आता था। पीटर हेपर ने अध्यन में पाया की जब भ्रूण, गर्भ के दसवें हफ्ते में पहुँचता है तो मां के ख़ून से मिलने वाले पोषण को निगलने लगता है। इसका सीधा सा मतलब यह है की बच्चे को उसी वक्त से माँ के आहार का स्वाद मिलने लगता है। 

अमेरिका के पेन्सिल्वेनिया यूनिवर्सिटी में भी एक मिलता जुलता अध्यन हुआ जिसमे यह पाया गया की जो गर्भवती महिलाएं, प्रेगनेंसी के दौरान खूब गाजर खाती थी, उनके बच्चों के जन्म के बाद जब गाजर से बना baby food दिया गया तो उन्हें गाजर से बना शिशु आहार पसंद आया। इसका मतलब बच्चे को गाजर के स्वाद का चस्का माँ के गर्भ में रहते हुए ही लग गया था। 


यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी।



Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Recommended Articles

Sharing is caring

पारिवारिक-माहौल
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।

film-star-school
ब्लू व्हेल - बच्चों के मौत का खेल

अब तक 300 बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं इस गेम को खेल कर - अगला शिकार कहीं आप का बच्चा तो नहीं?

ब्लू-व्हेल
भारत के पांच सबसे महंगे स्कूल

लेकिन भारत के ये प्रसिद्ध बोडिंग स्कूलो, भारत के सबसे महंगे स्कूलों में शामिल हैं| यहां पढ़ाना सबके बस की बात नहीं|

India-expensive-school
6 बेबी प्रोडक्टस जो हो सकते हैं नुकसानदेह आपके बच्चे के लिए

कुछ ऐसे बेबी प्रोडक्ट जो न खरीदें तो बेहतर है

6-बेबी-प्रोडक्टस-जो-हो-सकते-हैं-नुकसानदेह-आपके-बच्चे-के-लिए
6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना है खतरनाक

शिशु में पानी की शुरुआत 6 महीने के बाद की जानी चाहिए।

6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
माँ का दूध छुड़ाने के बाद क्या दें बच्चे को आहार

बच्चों में माँ का दूध कैसे छुड़ाएं और उसके बाद उसे क्या आहार दें ?

बच्चे-को-आहार
छोटे बच्चों को मच्छरों से बचाने के 4 सुरक्षित तरीके

अगर घर में छोटे बच्चे हों तो मच्छरों से बचने के 4 सुरक्षित तरीके।

बच्चों-को-मच्छरों-से-बचाएं
किस उम्र से सिखाएं बच्चों को ब्रश करना

अच्छे दांतों के लिए डेढ़ साल की उम्र से ही अच्छी तरह ब्रशिंग की आदत डालें

बच्चों-को-ब्रश-कराना
बच्चों का लम्बाई बढ़ाने का आसान घरेलु उपाय

अपने बच्चे की शारीरिक लम्बाई को बढ़ाने के लिए इन बातों का ध्यान रखना होगा



बच्चों-का-लम्बाई
Sex Education - बच्चों को किस उम्र में क्या पता होना चाहिए!

बच्चों को सेक्स सम्बन्धी जानकारी क्योँ देना क्यों और कैसे जरुरी है?

Sex-Education
पारिवारिक परिवेश बच्चों के विकास को प्रभावित करता है

माँ-बाप के बीच मधुर सम्बन्ध शिशु के विकास में बहुत तरीके से योगदान करता है।

पारिवारिक-माहौल
बच्चे बुद्धिमान बनते हैं जब आप हर दिन उनसे बात करते हैं|

बच्चों के साथ बातचीत करने से उनपे बेहद अच्छा और सकारात्मक प्रभाव पड़ता है

बच्चे-बुद्धिमान
क्या आप का बच्चा बात करने में ज्यादा समय ले रहा है|

बच्चे के बोलने में आप किस तरह मदद कर सकते हैं?

बच्चा-बात
बच्चों को सिखाएं गुरु का आदर करना [Teacher's Day Special]

आप अपने बच्चे को शिक्षित करने के साथ ही साथ उसे गुरु का आदर करना भी सिखाएं

teachers-day
बच्चे को सुलाएं 60 सेकंड के अन्दर

आइये हम बात करते हैं की आप अपने बच्चे को कैसे झट से 60 second के अन्दर सुला सकती हैं।

बच्चे-को-सुलाएं
5 नुस्खे नवजात बच्चे के दिमागी विकास के लिए

बच्चे को छूने और उसे निहारने से उसके दिमाग के विकास को गति मिलती है|

नवजात-बच्चे-का-दिमागी-विकास
6 TIPS: बच्चे के लिए बेस्ट स्कूल इस तरह चुने

अगर आप अपने बच्चे के लिए best school की तलाश कर रहें हैं तो आप को इन छह बिन्दुओं का धयान रखना है|

best-school-2018
Easy Tips - बच्चों को बोर्ड एग्जैम की तैयारी करवाने के लिए

अगर आप इन बातों का ख्याल रखेंगे तो आप का बच्चा बोर्ड एग्जाम की बेहतर तयारी कर पायेगा|

board-exam
टॉप स्कूल जहाँ पढते हैं फ़िल्मी सितारों के बच्चे

ये लिस्ट है कुछ लोकप्रिय अभिनेताओं का जिन्होंने अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर स्कूल तलाशा।


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit