Category: प्रेगनेंसी

महिलाओं को गर्भधारण करने में समस्या - कारण, लक्षण और इलाज

By: Admin | 7 min read

महिलाओं में गर्भधारण न कर पाने की समस्या बहुत से कारणों से हो सकती है। अगर आप आने वाले दिनों में प्रेगनेंसी प्लान कर रहे हैं तो हम आपको बताएंगे कुछ बातें जिनका आपको खास ध्यान रखने की जरूरत है। लाइफस्टाइल के अलावा और भी कुछ कारण है जिनकी वजह से बहुत सारी महिलाएं कंसीव नहीं कर पाती हैं।

महिलाओं को गर्भधारण करने में समस्या - कारण, लक्षण और इलाज

महिलाओं को गर्भधारण करने में समस्या - कारण, लक्षण और इलाज

माँ बनना अपने आप में एक बेहद सम्मान की बात है। एक स्त्री को मां बनने पर जितनी खुशी होती है उतनी खुशी शायद ही उसे किसी और चीज से मिले। 

लेकिन अफ़सोस,

कई कारणों की वजह से हर स्त्री के भाग्य में मां बनने की खुशी नहीं होती है। 

क्या इसका कोई इलाज नहीं है?

हम आपको इस लेख में इससे संबंधित इलाज के बारे में बताएंगे। लेकिन इलाज के बारे में जानने से पहले यह जानना बहुत जरूरी है कि महिलाओं को गर्भधारण करने में परेशानी क्यों होती है। 

अगर गर्भधारण ना कर पाने की सही वजह का पता चल जाए तो उसका उचित इलाज किया जा सकता है। 

महिलाओं में गर्भधारण न कर पाने की समस्या बहुत से कारणों से हो सकती है। और इन सब में सबसे आम कारण है हमारा आज काल का रहन-सहन यानी लाइफ स्टाइल। इसके साथ और भी कई कारण है जिनकी वजह से बहुत सी महिलाएं मां नहीं बन पाती हैं।

यह भी पढ़ें: गर्भ में लड़का होने के क्या लक्षण हैं?

अगर आप आने वाले दिनों में प्रेगनेंसी प्लान कर रहे हैं तो हम आपको बताएंगे कुछ बातें जिनका आपको खास ध्यान रखने की जरूरत है। लाइफस्टाइल के अलावा और भी कुछ कारण है जिनकी वजह से बहुत सारी महिलाएं कंसीव नहीं कर पाती हैं।

गर्भधारण न कर पाने  के कारण

  1. एन्डोमेट्रीओसिस
  2. पीसीओ
  3. पेल्विक इन्फ्लैमटोरी डिजीज़
  4. थायराइड रोग
  5. दवाइयों के सेवन से
  6. असामान्य पीरियड
  7. फैलोपियल ट्यूब का ब्लॉक होना
  8. आयु
  9. मेल इंफर्टिलिटी

एन्डोमेट्रीओसिस (Endometriosis)

गर्भाशय के बाहरी दीवारों की त्वचा को एन्डोमेट्रीओसिस (Endometriosis)  कहते हैं। बहुत सी महिलाएं एन्डोमेट्रीओसिस (Endometriosis)  की वजह से गर्भ धारण नहीं कर पाती हैं। 

एन्डोमेट्रीओसिस (Endometriosis)

जब गर्भाशय की बाहरी दीवार - एन्डोमेट्रीओसिस (Endometriosis)  अनियमित रूप से बढ़ने लगती है,  तो इसकी वजह से गर्भधारण करने में समस्या उत्पन्न होती है। इसकी वजह से स्त्री को मानसिक धर्म में भी बहुत कष्टों का सामना करना पड़ता है। 

पीसीओ (PolyCystic Ovarian)

यह एक अवस्था है जो स्त्री के हारमोनल स्तर को प्रभावित करता है। गर्भधारण करने में स्त्री के शरीर के हार्मोन बहुत अहम भूमिका निभाते हैं। 

जब आप गर्भधारण का प्रयास कर रही हैं तब आपके शरीर में हार्मोन का स्तर और उनके कार्य नियमित होने चाहिए। पीसीओ (PolyCystic Ovarian) से प्रभावित महिलाओं के शरीर में पुरुषों वाले हार्मोन आवश्यकता से ज्यादा बनने लगते हैं। 

यह भी पढ़ें: बड़े होते बच्चों को सिखाएं ये जरुरी बातें - Sex Education

जिससे उनका शरीर अपने आप को गर्भधारण के लिए तैयार नहीं कर पाता है और इस वजह से वह महिला गर्भधारण करने में असफल होती है। 

इसकी वजह से महिलाओं में मानसिक धर्म में सामान्य से ज्यादा का समय भी लगता है। पीसीओ (PolyCystic Ovarian) की वजह है गर्भ में एक प्रकार के हारमोनल सिस्ट का बनना।  

यह सिस्ट  गर्भाशय में हार्मोन बनने की कार्यप्रणाली को प्रभावित करता है। पीसीओ (PolyCystic Ovarian) विश्व स्तर पर महिलाओं में इनफर्टिलिटी का सबसे मुख्य कारण है। 

पेल्विक इन्फ्लैमटोरी डिजीज़ (Pelvic inflammatory disease)

यह एक प्रकार का गर्भाशय का संक्रमण है। यह संक्रमण जीवाणुओं के द्वारा फैलता है और इसका संक्रमण यौन क्रिया यानी कि सेक्स के दौरान होता है। 

पेल्विक इन्फ्लैमटोरी डिजीज़ (Pelvic inflammatory disease)

सेक्स के दौरान संक्रमण के जीवाणु योनि मार्ग से होते हुए स्त्री के गर्भाशय तक पहुंच जाते हैं और गर्भधारण में समस्या पैदा करते हैं। 

पेल्विक इन्फ्लैमटोरी डिजीज़ (Pelvic inflammatory disease) का बैक्टीरिया मुख्य रूप से स्त्री के अंडाशय, गर्भाशय, फैलोपियन ट्यूब और अन्य प्रजनन अंगों को क्षति पहुंचाता है।  

यह भी पढ़ें: डिलीवरी के बाद पेट कम करने का घरेलु नुस्खा

अगर आप गर्भधारण करने में समस्या का सामना कर रही है तो गौर करिए कि कहीं सेक्स के दौरान या पेशाब करते वक्त आपको दर्द, खुजली या जलन का एहसास तो नहीं होता है?  अगर ऐसा है तो आपको अपना टेस्ट करवाना चाहिए। यह लक्षण पेल्विक इन्फ्लैमटोरी डिजीज़ (Pelvic inflammatory disease) की ओर इशारा करते हैं। 

थायराइड ग्रंथि का रोग (hypothyroidism)

कई बार महिलाएं थायराइड ग्रंथि का रोग (hypothyroidism)  की वजह से मां बनने के सुख से वंचित रह जाती हैं। कुछ महिलाओं को गर्भधारण के बाद थायराइड ग्रंथि का रोग (hypothyroidism)  की वजह से मिसकैरेज इस (miscarriages)  का भी सामना करना पड़ सकता है।  

थायराइड ग्रंथि का रोग (hypothyroidism)

हमारे गले में मौजूद थायराइड ग्रंथि बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य करती है। यह हमारे शरीर में मौजूद हार्मोन के निर्माण और उनके संतुलन को नियंत्रित करती है।  

अगर थायराइड ग्रंथि ठीक तरह से कार्य न करें,  तो हमारे शरीर के बहुत सारे कार्य सुचारु रुप से काम नहीं कर पाएंगे।  यहां तक की इसका प्रभाव हमारे व्यवहार और हमारे स्वास्थ्य पर भी पड़ेगा।  

यह भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी में उल्टी और मतली अच्छा संकेत है - जानिए क्योँ?

गर्भधारण करने में हार्मोन बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।  हार्मोन स्त्री के शरीर को गर्भधारण के लिए अनुकूल बनाते हैं।  अगर थायराइड ग्रंथि इन हार्मोन के निर्माण और उनके संतुलन को ठीक से ना बना पाए तो स्त्री के शरीर में गर्भधारण के लिए अनुकूल माहौल नहीं बनता है जिस वजह से स्त्री लाख कोशिशों के बाद भी कंसीव नहीं कर पाती है। 

अगर आप बच्चे की प्लानिंग का मन बना रही हैं तो गर्भधारण करने से पहले एक बार अपना थायराइड टेस्ट जरूर करवा ले। 

दवाइयों के सेवन से (reckless use of medicines)

बाजार में ऐसी बहुत सारी दवाइयां बिकती हैं जिनका ना केवल हमारे शरीर पर बुरा असर पड़ता है बल्कि फर्टिलिटी पर भी इसका बुरा असर पड़ता है।  

दवाइयों के सेवन से infertility

इसीलिए गर्भधारण करने के बाद डॉक्टर महिलाओं को बिना डॉक्टरी सलाह के कोई भी दवा खाने की सलाह नहीं देते हैं।  बहुत सी दवाइयां जो हम आम बीमारियों के लिए खाते हैं उनका सीधा असर स्त्री के फर्टिलिटी और गर्भधारण पर पड़ता है। 

अनचाही प्रेगनेंसी से बचने के लिए बहुत सी महिलाएं गर्भनिरोधक दवाइयों का भी इस्तेमाल करती है। आपको इन दवाइयों को इस्तेमाल करते वक्त विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है।  

यह भी पढ़ें: गर्भावस्था में उल्टी और मतली आना (मॉर्निंग सिकनेस) - घरेलु नुस्खे

काफी लंबे समय तक गर्भनिरोधक दवाइयों के इस्तेमाल से महिलाओं की फर्टिलिटी पर असर पड़ता है।  इन दवाइयों का इस्तेमाल बहुत ही सीमित रूप से करना चाहिए।  

बेहतर तो यह होगा कि अगर आप अपना घर बसाना चाहती हैं तो गर्भनिरोधक दवाइयों से अपने आप को दूर रखें -  विशेषकर तब तक जब तक कि आप मां नहीं बन जाती हैं। 

असामान्य पीरियड (irregular period)

अगर आप गर्भधारण करने में समस्या महसूस कर रही हैं और साथ ही आपका पीरियड भी असामान्य है तो हो सकता है दोनों में कोई संबंध हो।  

असामान्य पीरियड (irregular period)

दुनिया भर में बांझपन के 40% मामलों में देखा गया है कि स्त्री असामान्य पीरियड (irregular period)  की समस्या से भी पीड़ित है। असामान्य पीरियड,  पीरियड का ना होना, या फिर पीरियड के दौरान  अनियंत्रित रूप से रक्त स्राव भी आपके लिए गर्भधारण करने में समस्या पैदा कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: गर्भावस्था के बाद ऐसे रहें फिट और तंदुरुस्त

सामान्य रूप से आप का मानसिक धर्म हर 35 दिन से पहले हो जाना चाहिए लेकिन 21 दिन से पहले नहीं होना चाहिए।  

आपका आहार और आप का रहन सहन तथा आप अगर कोई दवाइयों का सेवन कर रही हैं तो इनका भी असर आपके  मानसिक धर्म पर पड़ सकता है। 

अगर आप असामान्य पीरियड (irregular period)  की समस्या से पीड़ित हैं तो गर्भधारण की प्लानिंग करने से पहले आवश्यक डॉक्टरी जांच करा लें।

फैलोपियल ट्यूब का ब्लॉक होना

फैलोपियल ट्यूब अंडो को सुरक्षित रूप से अंडाशय से गर्भाशय तक पहुंचाने का कार्य करता है।  लेकिन कई बार यह पाया गया है  किसी कारणवश फैलोपियन ट्यूब अंडो को गर्भाशय तक नहीं पहुंचा पाता है और इस वजह से महिलाएं गर्भ धारण नहीं कर पाती हैं।  

फैलोपियल ट्यूब का ब्लॉक होना

जो महिलाएं नियमित रूप से ओवुलेशन करती हैं  उन्हें भी इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है। ऐसी अवस्था कब पैदा होती है जब फैलोपियन ट्यूब में कहीं पर कोई अवरुद्ध पैदा हो जाता है। 

यह भी पढ़ें: नवजात बच्चे में हिचकी - कारण और निवारण

इस अवरोध की वजह से ना तो अंडे गर्भाशय तक पहुंच पाते हैं और ना ही शुक्राणु अंडे तक पहुंच पाते हैं जिस वजह से गर्भ धारण करना असंभव हो जाता है।  गर्भधारण न कर पाने कि इस समस्या को ऑपरेशन के द्वारा ठीक किया जा सकता है। 

स्त्री की आयु

समय के साथ जैसे जैसे उम्र गुजरता है स्त्री के अंडे की गुणवत्ता कम होती जाती है। इसके साथ ही डिंबोत्सर्जन  या ओवुलेशन भी असंतुलित हो जाता है।  

उम्र के साथ हार्मोन भी अनियमित और असंतुलित हो जाता है।  यही वजह है की एक निश्चित उम्र के बाद महिलाओं को अनियमित पीरियड का भी सामना करना पड़ता है। 

और यह सभी चीजें गर्भधारण पर प्रभाव डालती हैं।  महिलाओं की गर्भ धारण करने की सबसे उपयुक्त उम्र होती है 18 साल से 29 साल तक की उम्र।  अगर संभव हो सके तो हर महिला को 29 साल से पहले अपनी फैमिली प्लानिंग कर लेनी चाहिए। 

मेल इंफर्टिलिटी

गर्भधारण न कर पाने की समस्या पर हुए विश्वव्यापी शोध में एक बात उभरकर सामने यह भी आई है कि गर्भधारण न कर पाने के हर 10 घटनाओं में 2 घटनाएं ऐसी होती हैं जिसमें मेल इंफर्टिलिटी जिम्मेदार होती है। 

इसीलिए अगर किसी कारणवश गर्भ धारण नहीं कर पा रही हैं तो आप अपना चिकित्सा जांच तो करवाइए ही साथ ही अपने पति को भी प्रेरित कीजिए कि वह भी अपना फर्टिलिटी जांच करवा लें।  

गर्भधारण न कर पाने की स्थिति में जरूरी है कि पति और पत्नी दोनों अपनी तरफ से हर संभव प्रयास करें ताकि पत्नी कंसीव कर सकें। 

Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Kidhealthcenter.com is a participant in the Amazon Services LLC Associates Program, an affiliate advertising program designed to provide a means for us to earn fees by linking to Amazon.com and affiliated sites.
3
Footer