Category: शिशु रोग

बच्चों का भाप (स्‍टीम) के दुवारा कफ निकालने के उपाय

By: Salan Khalkho | 10 min read

बच्चों का भाप (स्‍टीम) के दुवारा कफ निकालने के उपाय करने के दौरान भाप (स्‍टीम) जब शिशु साँस दुवारा अंदर लेता है तो उसके छाती में जमे कफ (mucus) के कारण जो जकड़न है वो ढीला पड़ जाता है। भाप (स्‍टीम) एक बहुत ही प्राकृतिक तरीका शिशु को सर्दी और जुकाम (colds, chest congestion and sinusitus) में रहत पहुँचाने का। बच्चों का भाप (स्‍टीम) के दुवारा कफ निकालने के उपाय

बच्चों को भाप (स्‍टीम) दिलाने का सही तरीका ताकि भागे सर्दी और जुकाम children steam vapor blocked nose cold and cough vaporub

औसतन एक छोटे बच्चे को साल में आठ से दस बार सर्दी, जुकाम और बंद नाक का सामना करना पड़ता है। 

छोटे बच्चों को डॉक्टर और शिशु रोग विशेषज्ञ सर्दी और जुकाम में दवा देने की सलाह नहीं देते हैं। इसकी दो वजह है। 

  • पहली - सर्दी और जुकाम ख़तम होने में अपना समय लेते है। सर्दी और जुकाम की दवा संक्रमण को ख़त्म नहीं करती है - बल्कि सर्दी और जुकाम के लक्षणों को कम कम देती है जिससे की शिशु को बहुत आराम मिलता है। 
  • दूसरा - नवजात शिशु और छोटे बच्चों को बार-बार दवा देने से उनके विकासशील शरीर पे इसका बुरा असर पड़ता है। जितना हो सके शिशु को दवा से दूर रखना चाहिए - विशेष कर के एंटीबायोटिक दावों से। जब बच्चों में दवा का इस्तेमाल कम होता है तो शिशु के शरीर में रोग प्रतिरोधक तंत्र बहुत तेज़ी से विकसित होते हैं और शरीर संक्रमण से खुद अपना बचाव करना सिख लेता है। यह भी सच है की सर्दी और जुकाम के विषाणुओं (virus) पे एंटीबायोटिक दावों का कोई असर नहीं होता है - इसीलिए वे जाने में अपना पूरा समय लेते हैं। सर्दी और जुकाम के विषाणुओं (virus) को ख़त्म होने में सात से दस दिन का समय लगता है। 

सर्दी और जुकाम में बच्चों का प्राकृतिक इलाज सबसे बेहतर विकल्प है। बच्चों का भाप (स्‍टीम) के दुवारा कफ निकालने के उपाय:

इस लेख में आप पढेंगे:

  1. क्या बच्चों को भाप (स्‍टीम) देने से उनके बंद नाक खुलते हैं?
  2. शिशु को सर्दी और जुकाम में कितनी बार भाप दिया जा सकता है?
  3. क्या बच्चों को भाप में Vicks Vaporub देना सुरक्षित है?
  4. नवजात शिशु को भाप किस तरह दिया जाये?
  5. नवजोत शिशु को सुरक्षित तरीके से भाप दिलाने के तरीके
  6. पहला तरीका - कमरे में ह्यूमिडिफायर (Humidifier) का इस्तेमाल कीजिये
  7. दूसरा तरीका - स्नान घर (bathroom) को कुछ समय के लिए भाप घर बना दीजिये
  8. तीसरा तरीका - वेपोराइजर (Vaporizer) के इस्तेमाल के दुवारा
  9. किन स्थितियों में डॉक्टर से मिला चाहिए

बच्चों को भाप (स्‍टीम) देने से उनके बंद नाक खुलते हैं steam vapor opens bloched nose in children

क्या बच्चों को भाप (स्‍टीम) देने से उनके बंद नाक खुलते हैं? 

बच्चों को भाप (स्‍टीम) दिलाने से उनका बंद नाक खुल जाता है। भाप (स्‍टीम) जब शिशु साँस दुवारा अंदर लेता है तो उसके छाती में जमे कफ (mucus - बलगम जमा) के कारण जो जकड़न है वो ढीला पड़ जाता है। कफ (mucus) ढीला/पतला हो जाता है और आसानी से नाक के रस्ते बहार आने लायक हो जाता है। कफ (mucus) के ढीला पड़ते ही बंद नाक खुल जाती है और शिशु को सांस लेने में आराम मिलता है। 

भाप (स्‍टीम) एक बहुत ही प्राकृतिक तरीका शिशु को सर्दी और जुकाम (colds, chest congestion and sinusitus) में रहत पहुँचाने का। बाल रोग विशेषज्ञों का कहना है की बच्चों को भाप (स्‍टीम) दिलाने से ना केवल उनकी नाक खुल जाती है, बच्चे रात को बेहतर नीदं सो पाते हैं बल्कि उनका सर्दी और जुकाम भी जल्दी ठीक हो जाता है। 

how many times child can be given steam in cold and cough शिशु को सर्दी और जुकाम में कितनी बार भाप दिया जा सकता है

शिशु को सर्दी और जुकाम में कितनी बार भाप दिया जा सकता है?

How often do you do a steam bath for baby with cold? 

शिशु को सर्दी और जुकाम से रहत पहुँचाने के लिए आप उसे दिन में दो बार भाप दे सकते हैं - सुबह और शाम। 

क्या बच्चों को भाप में Vicks Vaporub देना सुरक्षित है?

दो साल से छोटे बच्चों को Vicks Vaporub देना सुरक्षित नहीं है। 

दो साल से बड़े बच्चों को Vicks Vaporub दिया जा सकता है। शिशु को  Vicks Vaporub देना कितना फायदेमंद है इसके बारे में कई शोध हो चुके हैं। हालाँकि यह बात साबित हो चूका है की  Vicks Vaporub देने से शिशु की सर्दी और जुकाम समाप्त नहीं होती है। मगर यह बात तो सर्दी और जुकाम की सारी दवाओं पे भी लागु होती है। 

is vaporub safe for children क्या बच्चों को भाप में Vicks Vaporub देना सुरक्षित है

Vicks Vaporub के इस्तेमाल से शिशु को सर्दी और जुकाम के लक्षणों से आराम मिलता है। शिशु रात हो अच्छी नींद सो पता है और आराम से साँस ले पता है। 

लेकिन अगर आप के शिशु को Vicks Vaporub के प्रयोग से कठिनाई का सामना करना पड़े तो आप अपने बच्चे पे Vicks Vaporub का इस्तेमाल न करें। 

नवजात शिशु को भाप किस तरह दिया जाये?

शिशु अपने जीवन के पहले दो साल में करीब आठ से दस बार सर्दी और जुकाम का शिकार होता है। इसमें सबसे ज्यादा शिशु बंद नाक के कारण परेशान होता है। नवजात शिशु को भाप देने से उसका नाक खुल जाता है और उसे साँस लेने में आसानी होती है। 

मगर 

नवजात शिशु को भाप दिलाना खतरनाक हो सकता है। उसकी त्वचा बहुत नाजुक होती है और जल सकती है। इसीलिए नवजात शिशु को भाप बड़े बच्चों की तरह नहीं दिया जा सकता है।

नवजोत शिशु को सुरक्षित तरीके से भाप दिलाने के तरीके

नवजात शिशु को कभी भी कटोरे में गरम पानी कर के भाप न दिलाएं - यह बहुत खतरनाक है। नवजात शिशु को भाप दिलाने के और भी बेहतर तरीके मौजूद हैं। 

पहला तरीका - कमरे में ह्यूमिडिफायर (Humidifier) का इस्तेमाल कीजिये 

नवजात शिशु को भाप देने के लिए ह्यूमिडिफायर (Humidifier) का इस्तेमाल करना सबसे सुरक्षित रहता है। इससे शिशु को गरम भाप का सामना नहीं करना पड़ता है। ह्यूमिडिफायर (Humidifier) से मिलने वाली भाप से उसके छाती में जमी बलगम भी समाप्त हो जाती है, कफ (mucus) के ढीले होने से श्वसन तंत्र खुल जाता है (respiratory system clears up), शिशु आरामदायक नींद सो पाता है, और उसकी सर्दी और जुकाम जल्द ठीक हो जाती है। 

बच्चों के लिए ह्यूमिडिफायर (Humidifier) इस्तेमाल करने का तरीका

ह्यूमिडिफायर (Humidifier) को शिशु के कमरे में ऐसी जगह पे रखिये की जहाँ पे छोटे बच्चे नहीं पहुँच सके। ह्यूमिडिफायर (Humidifier) के इस्तेमाल से शिशु के कमरे में नमी का स्तर बढ़ जाता है। ठण्ड के दिनों में कमरों के अंदर नमी का स्तर बहुत घाट जाता है - इससे बच्चे को सर्दी और जुकाम में सांस लेने में बहुत तकलीफ होती है, उसे बार-बार खांसी आती है और बंद नाक का भी सामना करना पड़ता है।  

दूसरा तरीका - स्नान घर (bathroom) को कुछ समय के लिए भाप घर बना दीजिये 

अगर आप के घर के स्नान घर (bathroom) में नल से गरम पानी आने की सुविधा है तो जब शिशु को भाप देना हो तो स्नान घर (bathroom) में कुछ देर के लिए गरम पानी चला के छोड़ दीजिये। आप इसके लिए चाहें तो शावर का इस्तेमाल भी कर सकती हैं। जब स्नान घर (bathroom) भाप से भर जाये तो अपने नवजात बच्चे को गोद में लेके पंद्रह मिनट के लिए स्नान घर (bathroom) में बैठ जाएँ। ध्यान रहें:

  1. आप और आप के बच्चे पे पानी के छींटे न 
  2. अपने स्मार्ट फ़ोन पे बच्चे को कुछ गाने दिखा दें ताकि बच्चे का मन लगा रहे
  3. आप अपने बच्चे को कुछ कहानियां भी सुना सकती हैं।
  4. अगर जरुरत महसूस हो तो आप अपने बच्चे को कुछ देर के लिए और  स्नान घर (bathroom) में रख सकती हैं।
  5. बच्चे को पर्याप्त गरम कपडे पहनाये ताकि शिशु को ठण्ड न लगे। 
  6. आप चाहें तो बच्चे को गोद में लिए-लिए उसे हलके हातों से मसाज भी दे सकती हैं। 

turn bathroom into steam room स्नान घर (bathroom) को कुछ समय के लिए भाप घर बना दीजिये

स्नान घर (bathroom) में बिताये गए समय में शिशु कमरे में मौजूद भाप साँस के दुवारा अंदर लेते है। इससे उसे सर्दी और जुकाम में भाप के सारे फायदे मिलते हैं।

तीसरा तरीका - वेपोराइजर (Vaporizer) के इस्तेमाल के दुवारा

नवजात शिशु को भाप देने के लिए आप वेपोराइजर (Vaporizer) का भी इस्तेमाल कर सकती हैं। यह भी एक बेहतर तरीका है शिशु के छाती में जमी बलगम को दूर करने का। बिस्तर पे जब आप का शिशु आराम से सो रहा हो तो उसके निकट (मगर एक फुट की दुरी पे) वेपोराइजर (Vaporizer) का इस्तेमाल कीजिये। वेपोराइजर (Vaporizer) का इस्तेमाल करते वक्त हर समय शिशु के निकट ही रहिये ताकि शिशु और वेपोराइजर (Vaporizer) हर वक्त सुरक्षित दुरी पे बने रहें। अब आप कम्बल को इस तरह ओढ़ लें ताकि कम्बल के अंदर आप, आप का शिशु और वेपोराइजर (Vaporizer) हों। इससे वेपोराइजर (Vaporizer) से निकलने वाली भाप कम्बल के अंदर ही रह जाएगी। करीब 45 minutes तक समय बिताने से शिशु का बहुत आराम पहुँचता है। 

use vaporizer to cure blocked nose cold and cough in babies वेपोराइजर (Vaporizer) के इस्तेमाल के दुवारा

किन स्थितियों में डॉक्टर से मिला चाहिए

आप हमेशा इस बात का ध्यान रखें की बच्चों की रोग प्रतिरोधक तंत्र (immune system) अभी इतनी विकसित नहीं हुई है की बच्चे को हर प्रकार के सर्दी और जुकाम से तुरंत राहत पहुंचा सके। लेकिन फिर भी बच्चों का शरीर इतना सक्षम जरूर होता है की वो 10-14 दिनों में बिना किसी दवा के खुद ही सर्दी और जुकाम  का सामना कर सके और ठीक हो सके। 

when to meet a doctor in cold and cough of children and babies किन स्थितियों में डॉक्टर से मिला चाहिए

तीन महीने से छोटे शिशु को अगर सर्दी और जुकाम लगे तो आप को डॉक्टर से जरूर मिलना चाहिए। नवजात शिशु में साधारण सी सर्दी और जुकाम भी निमोनिया का रूप आसानी से ले सकती है -  या कोई अन्य गंभीर रूप ले सकती है। तीन महीने से छोटे बच्चों के लिए बहुत सावधानी बरतने की आवशकता है। 

तीन महीने से बड़े बच्चे अगर सर्दी और जुकाम के शिकार हों तो डॉक्टर को बताएं 

  • अगर शिशु का तापमान 38°C (102°F) या इससे ज्यादा हो जाये तो। 
  • अगर शिशु में किसी भी कारण से dehydration हो रहा है।
  • शिशु के कान में दर्द है।
  • उसकी आंखें लाल हैं
  • बच्चा बहुत बुरी तरह खांस रहा है।
  • बच्चे को साँस लेने में कठिनाई हो रही है।
  • नाक से हरे रंग का नेता (कफ - mucus) निकल रहा हो तो
  • बच्चा स्तनपान करने से मना कर दे रहा है। 
  • बच्चे के थूक में लालीपन है। 

Comments and Questions

You may ask your questions here. We will make best effort to provide most accurate answer. Rather than replying to individual questions, we will update the article to include your answer. When we do so, we will update you through email.

Unfortunately, due to the volume of comments received we cannot guarantee that we will be able to give you a timely response. When posting a question, please be very clear and concise. We thank you for your understanding!



प्रातिक्रिया दे (Leave your comment)

आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं

टिप्पणी (Comments)



आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा|



Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_320.txt
Footer