Category: टीकाकरण (vaccination)

एम एम आर (मम्प्स, खसरा, रूबेला) वैक्सीन - Schedule और Side Effects

By: Salan Khalkho | 4 min read

एम एम आर (मम्प्स, खसरा, रूबेला) वैक्सीन (MM R (mumps, measles, rubella vaccine) Vaccination in Hindi) - हिंदी, - मम्प्स, खसरा, रूबेला का टीका - दवा, ड्रग, उसे, जानकारी, प्रयोग, फायदे, लाभ, उपयोग, दुष्प्रभाव, साइड-इफेक्ट्स, समीक्षाएं, संयोजन, पारस्परिक क्रिया, सावधानिया तथा खुराक

एम एम आर (मम्प्स, खसरा, रूबेला) वैक्सीन (MM R (mumps, measles, rubella vaccine) Vaccination in Hindi)

बच्चों की तीन आम बीमारियां - मम्प्स, खसरा और रूबेला - इन तीनो बिमारियों से आप अपने शिशु को एम एम आर (मम्प्स, खसरा, रूबेला) के वैक्सीन के द्वारा बचा सकते हैं। 

खसरा में शिशु को बुखार, त्वचा पे rash, खांसी, नाक का बहना और आँखों में पानी के लक्षण देखने को मिलते हैं। 

ज्यादा गंभीर स्थिति में शिशु को कान का संक्रमण, दस्त, निमोनिया, मस्तिष्क को छती और अंतिम चरण में मृत्यु भी हो सकती है। 

एम एम आर (मम्प्स, खसरा, रूबेला) - डोज़ (dose) - Schedule of immunization

  1. पहली खुराक - 15-18 महीने की उम्र में
  2. दूसरी खुराक - 5 वर्ष की उम्र में

मम्प्स होने पे शिशु को बुखार, सरदर्द, मांसपेशियोँ में दर्द, थकन, भूख न लगना, गले की सूजन के लक्षण देखने को मिलते हैं। 

ज्यादा गंभीर स्थिति में शिशु के अंडकोष या अंडाशय में सूजन, बहरापन, मस्तिष्क में और मेरुदण्ड में जलन और बहुत दुर्लभ स्थितियौं में मृत्यु तक हो सकती है। 

रूबेला की बीमारी में शिशु को बुखार,  गले में खराश, त्वचा पे रैश, सरदर्द, लाल आखें, और आखों में जलन के लक्षण दिखने को मिलते हैं। 

अगर गर्भावस्था के दौरान स्त्री को रूबेला हो जाये तो गर्भपात (miscarriage) की सम्भावना बन जाती है या फिर गंभीर जन्म दोष (serious birth defects) के साथ शिशु का जन्म होता है। 

इसीलिए आवश्यक है की हर बच्चे को  टीकाकरण चार्ट - 2018 के अनुसार समय पे टीका लगवाया जाये और बच्चे को तथा देशो को मम्प्स, खसरा, रूबेला की महामारी से बचाया जा सके। 

यह टीका क्योँ दिया जाता है?

एम एम आर (मम्प्स, खसरा, रूबेला) का वैक्सीन शिशु को  मम्प्स, खसरा और रूबेला - इन तीनो बिमारियों से बचाता है। इन तीनो बिमारियौं का होना भारत में बहुत ही आम बात था, मगर भारत सरकार के दो दशक के अथक परिश्रम के द्वारा ये तीनो बीमारियां अब बहुत ज्यादा देखने को नहीं मिलता है। इसीलिए भारत सरकार के अनिवार्य टीकाकरण कार्यकर्म में अपने शिशु को सारे टिके टीकाकरण सारणी के अनुसार अवश्य लगवाएं ताकि आप का शिशु कई प्रकार की गंभीर बीमारियोँ से बचा रहे। 

एम एम आर (मम्प्स, खसरा, रूबेला) - डोज़ (dose) - Schedule of immunization

सावधानी (precuations) 

  1. अगर आप के शिशु को बुखार है तो जब तक की आप का बच्चा पूर्ण रूप से ठीक न हो जाये उसे एम एम आर के टिका (MMR vaccine) वैक्सीन न लगवाएं। 
  2. अगर आप के शिशु को एम एम आर के टिका (MMR vaccine) के प्रति गंभीर allergic reaction हो तो उसे यह टिका न लगवाएं। 


दुष्प्रभाव (side effects) 

एम एम आर का टिका (MMR vaccine) बेहद सुरक्षित होता है और बहुत कारगर होता है शिशु को मम्प्स, खसरा, रूबेला की बीमारियोँ से बचाने में। मगर फिर भी सभी दवाइयोँ की तरह इसके भी कुछ हलके फुल्के दुष्प्रभाव (side effects) हैं। ये दुष्प्रभाव उतने गंभीर नहीं है जितना की स्थिति तब गंभीर जो जाती है जब टीकाकरण के आभाव में जब शिशु को मम्प्स, खसरा या रूबेला हो जाये। एम एम आर के टिका (MMR vaccine) का दुष्प्रभाव (side effects):

  1. शरीर में उस जगह पे दर्द जहाँ पे टिके का shot दिया गया है
  2. त्वचा का लाल होना या सूजन का होना जिस जगह पे टिके का shot दिया गया है
  3. बुखार
  4. हल्के लाल चकत्ते
  5. जोड़ों में दर्द और जकड़न
  6. कुछ लोगों के गाल और गर्दन में सूजन हो सकता है 
  7. बहुत दुर्लभ घटनाओं में एम एम आर के टिका (MMR vaccine) के कारण शिशु को अस्थायी low platelet count की समस्या का सामना करना पड़ सकता है - जिसकी वजह से शिशु को bleeding disorder हो सकता है। लेकिन यह बिना किसी इलाज के स्वतः ही ठीक (समाप्त) हो जाता है और कतई भी चिंता का विषय नहीं है। 
  8. बहुत दुर्लभ घटनाओं में कुछ शिशुओं को एम एम आर के टिका (MMR vaccine) के प्रति गंभीर allergic reaction हो सकता है। अगर ऐसा हो जाये तो फिर कभी भी दोबारा शिशु को एम एम आर का टिका (MMR vaccine) न लगवाएं। 


यह टीका किन बच्चों को नहीं लगाया जाना चाहिए 

  1. अगर आप के शिशु को एम एम आर के टिका (MMR vaccine) के प्रति गंभीर allergic reaction हो तो उसे यह टिका न लगवाएं। 
Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_280.txt
Footer