Category: स्वस्थ शरीर

आहार जो माइग्रेन के दर्द को बढ़ाते हैं

By: Editorial Team | 8 min read

ये आहार माइग्रेन के दर्द को बढ़ाते करते हैं। अगर माइग्रेन है तो इन आहारों को न खाएं और न ही किसी ऐसे व्यक्ति को इन आहारों को खाने के लिए दें जिसे माइग्रेन हैं। इस लेख में हम आप को जिन आहारों को माइग्रेन के दौरान खाने से बचने की सलाह दे रहे हैं - आप ने अनुभव किया होगा की जब भी आप इन आहारों को कहते हैं तो 20 से 25 minutes के अंदर सर दर्द का अनुभव होने लगता है। पढ़िए इस लेख में विस्तार से और माइग्रेन के दर्द के दर्द से पाइये छुटकारा।

हमारी खराब जीवन शैली की वजह से आज माइग्रेन एक आम बीमारी बन गई है।  माइग्रेन के शिकार लोग हफ्ते में एक बार या दो बार इसका सामना जरूर करते हैं।  कुछ लोगों को माइग्रेन उनके मां बाप से विरासत में मिलती है। माइग्रेन में सर में बहुत ही तीव्र दर्द होता है। माइग्रेन में सर दर्द थोड़ा अलग प्रकार का होता है।  इस सिर के किसी एक हिस्से में ही दर्द होता है। इसकी वजह से चक्कर उल्टी और थकान का सामना भी करना पड़ता है।

ये आहार माइग्रेन के दर्द को बढ़ाते हैं

  • अल्कोहल (रेड वाइन, बीयर, व्हिस्की, स्कॉच और शैंपेन सबसे अधिक पहचाने जाने वाले सिरदर्द ट्रिगर हैं)
  • मूंगफली, मूंगफली का मक्खन, बादाम, और अन्य नट और बीज
  • पिज्जा या टमाटर आधारित अन्य उत्पाद
  • आलू के चिप वाले उत्पाद
  • चिकन, लीवर और अन्य तरह के मांस
  • स्मोक्ड या सूखी मछली
  • मसालेदार भोजन और अचार
  • डबलरोटी, ब्रेड और ताजा बेक्ड खमीर का सामान जैसे डोनट्स, केक, घर का बना ब्रेड और रोल
  • पनीर
  • दाल, और सूखे बीन्स और मटर सहित अधिकांश बीन्स
  • प्याज, लहसुन
  • avocados
  • पके केले, खट्टे फल, पपीता, लाल आलूबुखारे, रसभरी, कीवी, और अनानास सहित कुछ ताजे फल
  • सूखे मेवे (अंजीर, किशमिश, खजूर)
  • एमएसजी (अजीनोमोटो) तथा preservatives 
  • डिब्बाबंद सूप
  • डेयरी के उत्पाद, खट्टा क्रीम, छाछ, दही
  • चॉकलेट
  • कॉफी, चाय और कोला सहित कैफीन युक्त पेय
  • एस्पार्टेम और अन्य कृत्रिम मिठास
  • नाइट्रेट / नाइट्राइट युक्त मीट जिसमें हॉट डॉग, सॉसेज, बेकन, लंचमीट्स / डेली मीट, पेपरोनी, अन्य ठीक या प्रोसेस्ड मीट शामिल हैं।
  • मोनोसोडियम ग्लूटामेट (MSG) जिसमें सोया सॉस, मीट टेंडराइज़र, एशियाई खाद्य पदार्थ और कई प्रकार के पैकेज्ड खाद्य पदार्थ शामिल हैं। एमएसजी एक अक्सर प्रच्छन्न घटक है; इन सामान्य उपनामों की भी तलाश करें: मोनोपोटेशियम ग्लूटामेट, ऑटोलिस्ड यीस्ट, हाइड्रोलाइज्ड प्रोटीन, सोडियम कैसिनेट

आहार के द्वारा माइग्रेन का दर्द होना कितना आम बात है?

लगभग 20% सिरदर्द रोगियों को खाद्य संवेदनशील माना जाता है। यानि की माइग्रेन के दर्द से पीड़ित 20% लोगों में यह पाया गया है की जब वे ऊपर दिए आहार कहते हैं तो उन्हें माइग्रेन के दर्द का सामना करना पड़ता है।


कैसे पता लगाएं की किस आहार के द्वारा आप को माइग्रेन का दर्द होता है। 

यह पता लगाने के लिए की कौन से आहार आप में सिरदर्द ट्रिगर करते हैं, विशेषज्ञ सभी खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों को ट्रैक करने की सलाह देते हैं जो आप हरदिन कहती हैं - इसकी सूचि त्यार करने के लिए आप डायरी का इस्तेमाल कर सकती हैं। आप अपने आप को एक निश्चित भोजन या पेय के प्रति संवेदनशील मान सकती हैं यदि उस भोजन को खाने के 20 मिनट से 2 घंटे बाद आप को सिरदर्द होने लगे। 

माइग्रेन  के दर्द से किस तरह बचें 

माइग्रेन के दर्द से बचने का सबसे बेहतर तरीका है कि आप  आहारों को पहचाने  जिनकी वजह से आपको सर का दर्द होता है।  अनेक प्रकार के आहारों में कई तरह के केमिकल पाए जाते हैं।  कई बार ये केमिकल भी माइग्रेन का कारण बनते हैं। यहां पर एक बात समझने की आवश्यकता है कि कई बार माइग्रेन का दर्द ऐसी आहार या  ड्रिंक या तरल आहार के द्वारा भी हो सकता है जिनका सेवन आपने कई घंटों पहले किया हो या कुछ दिनों पहले किया हो।  आहार के अलावा और भी बहुत से कारण हैं जिनकी वजह से सर में माइग्रेन का दर्द उभर सकता है। 

माइग्रेन के दर्द से बचने के उपायों को भी आपको इस्तेमाल करना चाहिए।  उदाहरण के लिए अगर आपके परिवार में माइग्रेन के दर्द का इतिहास है जैसे कि आप की मां या आपके पिताजी को भी माइग्रेन की समस्या थी तो आपको माइग्रेन के दर्द से बचने का हर संभव प्रयास करना चाहिए।  दैनिक जीवन में थोड़ा सा बदलाव लाकर भी आप माइग्रेन की समस्या से निजात पा सकती है -  मसलन:

  • हर दिन पर्याप्त मात्रा में सोएं 
  • दिन भर खूब पानी पियें 
  • शारीरिक रूप से क्रियाशील बनी रहे और हर दिन एक्सरसाइज करें
  • जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया, उन आहार के सेवन से दूर रहें जिनसे माइग्रेन होने की संभावना रहती है। 
  • अपने आहार में सभी प्रकार की फल और सब्जियों को सम्मिलित करें ताकि आपके शरीर को पर्याप्त मात्रा में  सभी जरूरी पोषक तत्व  मिल सके। 
  •  डिब्बाबंद आहार और  फ़ास्ट फ़ूड से दूर रहे। 
  • उपवास करने से बचें और किसी भी वक्त के आहार को ना छोड़ें चाहे वह नाश्ता हो या दोपहर का खाना या फिर रात का डिनर। 
Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

विटामिन-डी-remedy
विटामिन-डी-की-कमी
विटामिन-ई-बनाये-बच्चों-को-पढाई-में-तेज़
बढ़ते-बच्चों-के-लिए-शीर्ष-10-Superfoods
कीवी-के-फायदे
शिशु-के-लिए-विटामिन-डी-से-भरपूर-आहार
प्रेगनेंसी-में-वरदान-है-नारियल-पानी
किवी-फल-के-फायदे-और-गुण-बच्चों-के-लिए
शिशु-में-वायरल-फीवर
बच्चों-में-पोषक-तत्वों-की-कमी-के-10-लक्षण
टेढ़े-मेढ़े-दांत-बिना-तार-के-सीधा
चेचक-का-दाग
शिशु-के-पुरे-शारीर-पे-एक्जीमा
बच्चों-की-त्वचा-पे-एक्जीमा-का-घरेलु-इलाज
बच्चों-के-मसूड़ों-के-दर्द-को-ठीक-करने-का-तरीका
शिशु-में-Food-Poisoning-का-इलाज---घरेलु-नुस्खे
छोटे-बच्चों-में-अस्थमा-का-इलाज
जलशीर्ष-Hydrocephalus
बच्चा-बिस्तर-से-गिर
बच्चों-में-माईग्रेन-के-लक्षण-और-घरेलु-उपचार
बच्चों-में-दमा-का-घरेलु-उपाय,-बचाव,-इलाज-और-लक्षण
शिशु-के-दांतों-में-संक्रमण-के-7-लक्षण
बच्चों-में-बाइपोलर-डिसऑर्डर-
बच्चे-के-दाँत-निकलते
शिशु-में-बाइपोलर-डिसऑर्डर
क्या-बच्चे-बाइपोलर-डिसऑर्डर-(Bipolar-Disorder)-
गर्भावस्था-की-खुजली
बाइपोलर-डिसऑर्डर-(bipolar-disorder)
त्वचा-की-झुर्रियां-कम-करें-घरेलु-नुस्खे
गर्भधारण-कारण,-लक्षण-और-इलाज

Most Read

मॉर्निंग-सिकनेस
एडीएचडी-(ADHD)
benefits-of-story-telling-to-kids
बच्चों-पे-चिल्लाना
जिद्दी-बच्चे
सुभाष-चंद्र-बोस
ADHD-में-शिशु
ADHD-शिशु
गणतंत्र-दिवस-essay
बोर्ड-एग्जाम
लर्निंग-डिसेबिलिटी-Learning-Disabilities
-देर-से-बोलते-हैं-कुछ-बच्चे
बच्चों-में-तुतलाने
गर्भावस्था-में-उलटी
प्रेग्नेंसी-में-उल्टी-और-मतली
यूटीआई-UTI-Infection
सिजेरियन-या-नार्मल-डिलीवरी
डिलीवरी-के-बाद-पेट-कम
गर्भपात
डिलीवरी-के-बाद-आहार
होली-सिखाये-बच्चों
स्तनपान-आहार
स्तनपान-में-आहार
प्रेगनेंसी-के-दौरान-गैस
बालों-का-झाड़ना
प्रेगनेंसी-में-हेयर-डाई
अपच-Indigestion-or-dyspepsia
गर्भावस्था-(प्रेगनेंसी)-में-ब्लड-प्रेशर-का-घरेलु-उपचार
गर्भधारण-का-उपयुक्त-समय-
बच्चे-में-अच्छा-व्यहार-(Good-Behavior)
शिशु-के-गले-के-टॉन्सिल-इन्फेक्शन
बच्चों-का-गुस्सा
गर्भावस्था-में-बालों-का-झड़ना
क्या-गर्भावस्था-के-दौरान-Vitamins-लेना-सुरक्षित-है
बालों-का-झाड़ना
बालों-का-झाड़ना
बालों-का-झाड़ना
सिजेरियन-डिलीवरी-के-बाद-देखभाल-के-10-तरीके
सिजेरियन-डिलीवरी-के-बाद-खान-पान-(Diet-Chart)
सिजेरियन-डिलीवरी-के-बाद-मालिश
बच्चे-के-दातों-के-दर्द
नार्मल-डिलीवरी-के-बाद-बार-बार-यूरिन-पास-की-समस्या
डिलीवरी-के-बाद-पीरियड
शिशु-में-फ़ूड-पोइजन-(Food-Poison)-का-घरेलु-इलाज
कपडे-जो-गर्मियौं-में-बच्चों-को-ठंडा-व-आरामदायक-रखें-
बच्चों-को-कुपोषण-से-कैसे-बचाएं
बच्चों-में-विटामिन-और-मिनिरल-की-कमी
शिशु-में-चीनी-का-प्रभाव
विटामिन-बच्चों-की-लम्बाई-के-लिए
बढ़ते-बच्चों-के-लिए-पोष्टिक-आहार

Other Articles

Footer