Category: बच्चों का पोषण

बच्चों में अंगूर के स्वास्थ्य लाभ

Published:13 Aug, 2017     By: Salan Khalkho     4 min read

अंगूर में घनिष्ट मात्र में पाशक तत्त्व होते हैं जो बढते बच्चों के शारीरक और बौद्धिक विकास के लिए जरुरी है। अंगूर उन कुछ फलों में से एक हैं जो बहुत आसानी से बच्चों को digest हो जाते हैं। जब आपका बच्चा अपच से पीड़ित है तो अंगूर एक उपयुक्त फल है। बच्चे को अंगूर खिलाने से उसके पेट की acidity कम होती है। शिशु आहार baby food


बच्चों में अंगूर के स्वास्थ्य लाभ Grapes for Baby Food शिशु आहार

बच्चों को अंगूरों से अनेक स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होते हैं - जैसे की एंटीऑक्सिडेंट की आपूर्ति, central nervous system की सुरक्षा है। अंगूर बच्चों में natural laxative के रूप में भी काम करती है। यह पचाने में आसान है  और  श्वसन रोगों का सुधर, रक्त की मात्रा में सुधार और जिगर की रक्षा करता है।

अगर आप ६ महीने के शिशु को अंगूर खिलाना चहते हैं तो आप उसे अंगूर की प्यूरी भी बना के दे सकते हैं। 

बच्चों के लिए अंगूर के स्वास्थ्य लाभ

अंगूर में घनिष्ट मात्र में पाशक तत्त्व होते हैं जो बढते बच्चों के शारीरक और बौद्धिक विकास के लिए जरुरी है। बच्चों को साबूत अंगूर ना दें बल्कि अंगूर को दो टुकड़ों में चाकू से कट के दें। इससे बच्चों के गले में अंगूर के फसने का खतरा नहीं रहता। बच्चों को अंगूर देने से पहले आप अंगूर के छिलके को निकल के भी दे सकती हैं। सही तरीके से आप अंगूर के छिलकों को बहुत आसानी से और तुरंत निकल सकती हैं। 

ऐसी बनावट वाली टोपी शिशु को जुकाम से बचाती है

शिशु के सर पे ऐसी टोपी जो उसके कान को पूरी तरह से ढक दे, उसे सर्दी और जुकाम से बचाती है| अगर आप नवजात शिशु के लिए सबसे best टोपी का उदहारण देखना चाहती हैं तो इस उदहारण को देखें (उदहारण को देखने के लिए यहाँ क्लिक करे)|

 

अंगूर में पोषक तत्त्व शिशु आहार

एक कप अंगूर में विटामिन मी मात्र 

  • विटामिन A – 92 IU
  • विटामिन C – 3.7 mg
  • विटामिन B1 (thiamine) – .08 mg
  • विटामिन B2 (riboflavin) – .05 mg
  • Niacin – .27 mg
  • फोलेट – 4 mcg
  • इसमें और भी तरह विटामिन्स कम मात्रा मैं विधमान है 

एक कप अंगूर में मिनरल (खनिज तत्वों) की मात्र 

  • पोटैशियम – 176 mg
  • फॉस्फोरस – 9 mg
  • मैग्नीशियम – 5 mg
  • कैल्शियम – 13 mg
  • सोडियम – 2 mg
  • आयरन – .27 mg
  • बहुत थड़ी मात्रा में इसमें  मैनगनीज, कॉपर  और जिंक भी पाया जाता है। 

माना जाता है कि Middle East में 6 से 8 हजार साल पहले अंगूर की खेती की जाती थी। यहां से अंगूर एशिया, मिस्र, यूरोप और अमेरिका के अन्य हिस्सों में फैला। फिलहाल भारत के कई राज्यों में अंगूर का उत्पादन होता है।

क्या बच्चों को अंगूर देना सुरक्षित है?

हाँ, बच्चे को अंगूर देना सुरक्षित है। लेकिन, कुछ बातों का ध्यान रखने की आवश्यकता है। केवल मसले (mash) किए हुए अंगूर को बच्चे को दिया जाना चाहिए। खड़ा अंगूर न दें क्योंकि बच्चों के गले में फसने का और इससे घुटन होने का बड़ा खतरा होता है। अगर जरुरी बातों का ख्याल रखें तो आप अपने बच्चे को 6-8 महीने की उम्र से ही अंगूर देना प्रारंभ कर सकती हैं। 

बच्चों को अंगूर देते समय इन बातों का ख्याल रखें 

  • पूरा साबुत अंगूर न दें: बच्चों को पूरा अंगूर देना, विशेषकर जिनके दांत नहीं हैं, हानिकारक हो सकता है।  अंगूर से घुटन का खतरा रहता है क्योंकि वे बच्चों के गले में फंस सकते हैं। इसके बजाय, बच्चों को देते वक्त अंगूर को मैश करें और शिशुओं को अंगूर का pulp दें। अंगूर को मैशिंग करते वक्त बीज हटा दें। बच्चों को पूरे बीज को निगलने में समस्या हो सकती है।
  • बच्चों को अंगूर का juice न दें: अक्सर, कुछ माता-पिता सोचते हैं कि juice देना, फलों का पल्प देने से बेहतर होता है। बच्चों के चिकित्सक बच्चों को फलों का juice देने से माता-पिता को मना करते हैं। आम तौर पर, फलों के juice बहुत मीठे होते हैं और बच्चों को उस मीठे स्वाद से लगाव हो जाता है, ऐसा होने पे बच्चे दुसरे कम मीठे आहार खाने में आना कानी करते हैं। 

Grapes for Baby Food When can baby eat grape


बच्चों को अंगूर से होने वाले स्वास्थ्य लाभ - शिशु में अंगूर के फायेदे 

Antioxidants की आपूर्ति

बच्चे के आहार और वजन में बढ़ने के अनुपात को अगर आप देखें तो आपको अंदाजा मिल जायेगा की बच्चों को अधिक आहार खाने की आवश्यकता है। बढते बच्चों को ज्यादा आहार की आवश्यकता है। जरुरी पोषक तत्वों की आवश्यकता की पूर्ति के लिए बच्चों का शारीर तजी से आहार को metabolize करता है। मगर तेज़ मेटाबोलिज्म की वजह से बच्चे के शारीर में free radicals का उत्पादन भी तेज़ हो जाता है। Free radicals बच्चों के DNA को को प्रभावित करता है और उसे नुकसान पहुंचता है। अंगूर में प्रचुर मात्र में Antioxidants होता है जो free radicals को बांध देता है और बच्चों के DNA को प्रभावित करने से रूकता है। अंगूर केवल बच्चों के भूक को ही शांत नहीं करता, उन्हें केवल उर्जा ही नहीं देता, बल्कि बच्चों के शारीर में पैदा हो रहे free radicals से भी लड़ता है। 

केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का संरक्षण (Protection of central nervous system): 

शिशुओं में केंद्रीय तंत्रिका तंत्र एक विकासशील प्रक्रिया है। जिस तरह आपका बच्चा बढ़ रहा है, उसका तंत्रिका तंत्र भी विकसित हो रहा है। जैसे-जैसे बच्चा उम्र में बढ़ता है, नए न्यूरॉन्स के रूप और नए तंत्रिका कनेक्शन बनते हैं। यह एक नाजुक संतुलन है जो भविष्य में बच्चे की स्मृति और बुद्धि को प्रभावित करता है। बच्चों को अंगूर देकर आप उनके न्यूरॉन्स को क्षति से बचा सकते है और उनके मस्तिष्क की अच्छी स्वस्थ्य सुनिश्चित कर सकते हैं।

प्राकृतिक laxative के रूप में कार्य (Acts as a natural laxative)

अंगूरों में काफी मात्रा में dietary fiber होते हैं। यह dietary fiber पानी को अवशोषित कर मल को भारी मगर नरम बनाता हैं जिससे bowel movements बहुत आसानी से होती हैं।

आसानी से पचने योग्य (Easily digestible)

अंगूर उन कुछ फलों में से एक हैं जो बहुत आसानी से बच्चों को digest हो जाते हैं। जब आपका बच्चा अपच से पीड़ित है तो अंगूर एक उपयुक्त फल है। बच्चे को अंगूर खिलाने से उसके पेट की acidity कम होती है।  

श्वसन रोगों के लिए उपाय (Remedy for respiratory diseases)

बच्चों और शिशुओं में शीतल रोगों से संक्रमित होने की सम्भावना ज्यादा होती है जैसे की आम सर्दी, खांसी,  अस्थमा और ब्रोंकाइटिस। अपने बच्चे को अंगूर देना अस्थमा जैसे रोगों के लिए एक अच्छा उपाय है। 

रक्त की गुणवत्ता और रक्त की संख्या में सुधार (Improving blood quality and blood count)

रक्त की गुणवत्ता हीमोग्लोबिन के स्तर को दर्शाती है और रक्त गणना लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या को दर्शाती है। अंगूरों को नियमित रूप से शिशुओं और बच्च कों देने से उनमे हीमोग्लोबिन का स्तर बढता है और लाल रक्त कोशिकाओं में सुधार होता है। 

जिगर को उत्तेजित करता है (Stimulates liver) 

अंगूर यकृत के उत्तेजक के रूप में कार्य करते हैं और इसे ठीक कर देते हैं। जिगर की उत्तेजना से जिगर की गतिविधि और पित्त स्राव में वृद्धि होती है। पित्त स्राव पाचन में एक आवश्यक कदम है 


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Latest Articles

khansi-ka-gharelu-upchar

शिशु रोग

12 Tips शिशु की खांसी का घरेलु उपचार - khansi ka gharelu upchar

 
khansi-ka-ilaj

शिशु रोग

बंद नाक में शिशु को सुलाने का आसन तरीका (khansi ka ilaj)

 
sardi-ka-ilaj

शिशु रोग

7 प्राकृतिक औषधि से शिशु की सर्दी का इलाज - Sardi Ka ilaj

 
childrens-day

बच्चों की परवरिश

बाल दिवस पर विशेष लेख - children's day celebration

 
खांसी-की-अचूक-दवा

शिशु रोग

15 आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे शिशु की खांसी की अचूक दवा - Complete Guide

 
khasi-ki-dawa

शिशु रोग

5 घरेलु उपाय शिशु को जुकाम से राहत दिलाने के लिए (khasi ki dawa)

 
बंद-नाक

शिशु रोग

13 जुकाम के घरेलू उपाय (बंद नाक) - डॉक्टर की सलाह

 
जुकाम-के-घरेलू-उपाय

शिशु रोग

5 आसान बंद नाक और जुकाम के घरेलू उपाय

 
कफ-निकालने-के-उपाय

शिशु रोग

बच्चों का भाप (स्‍टीम) के दुवारा कफ निकालने के उपाय

 
ह्यूमिडिफायर-Humidifier

शिशु रोग

ह्यूमिडिफायर (Humidifier) से जुकाम का इलाज - Jukam Ka ilaj

 
पेट्रोलियम-जैली---Vaseline

शिशु रोग

बेबी प्रोडक्ट्स में पेट्रोलियम जैली कहीं कर न दे आप के शिशु को बीमार

 
Khasi-Ke-Upay

शिशु रोग

आराम करने ठीक होता है शिशु का सर्दी जुकाम - Khasi Ke Upay

 
jukam-ki-dawa

शिशु रोग

भाप है जुकाम की दवा और झट से खोले बंद नाक - jukam ki dawa

 
नेबुलाइजर-Nebulizer-zukam-ka-ilaj

शिशु रोग

नेबुलाइजर (Nebulizer) से शिशु के जुकाम का इलाज - Zukam Ka ilaj

 
शिशु-सवाल

शिशु रोग

बच्चों के डॉक्टर से मिलने से पहले इन प्रश्नों की सूचि तयार कर लें

 
खांसी-की-अचूक-दवा

शिशु रोग

बच्चे के बुखार, सर्दी, खांसी की अचूक दवा - Guide

 
पराबेन-(paraben)

शिशु रोग

पराबेन (paraben) क्योँ है शिशु के लिए हानिकारक

 
Khasi-Ki-Dawai

शिशु रोग

घर पे बनाये Vapor rub (वेपर रब) - Khasi Ki Dawai

 
sardi-ki-dawa

शिशु रोग

विटामिन डी है सर्दी जुकाम की दवा - sardi ki dawa

 
खांसी-की-दवा

शिशु रोग

शिशु को बुरी खांसी में दें ये खांसी की दवा

 
सर्दी-जुकाम-की-दवा

शिशु रोग

सर्दी जुकाम की दवा - तुरंत राहत के लिए उपचार

 
Sharing is caring


सर्दी-जुकाम-की-दवा
किस उम्र में शिशु को आइस क्रीम (ice-cream) देना उचित है|

यह जाना बेहद जरुरी है की बच्चे को किस उम्र में आइस क्रीम (ice-cream) दिया जा सकता है।

शिशु-को-आइस-क्रीम
6 से 8 माह के बच्चे के लिए भोजन तलिका

शिशु को ऐसे आहारे देने की आवश्यकता है जिसे उनका पाचन तंत्र आसानी से पचा सके।

भोजन-तलिका
दुबले बच्चे का कैसे बढ़ाए वजन

अपने शिशु का वजन बढ़ने के लिए आप शिशु के लिए diet chart त्यार कर सकते हैं।

शिशु-diet-chart
मखाने के फ़ायदे | Health Benefits of Lotus Seed - Recipes

मखाना ड्राई फ्रूट से भी ज्यादा पौष्टिक है और छोटे बच्चों के लिए बहुत फायेदेमंद भी।

मखाना
भीगे चने खाने के फायदे भीगे बादाम से भी ज्यादा

चने में मिलने वाले यह पोषक तत्व आप के दिमाग को तेज़ करने के साथ ही साथ आप की सुंदरता और चेहरे की रौनक भी बढ़ाते हैं।

भीगे-चने
5 कारण स्तनपान के दौरान शिशु के रोने के

जानिए शिशु के रोने के पांच कारण और उन्हें दूर करने के तरीके।

शिशु-क्योँ-रोता
15 अदभुत फायेदे Vitamin C के

विटामिन सी, या एस्कॉर्बिक एसिड, सबसे प्रभावी और सबसे सुरक्षित पोषक तत्वों में से एक है

Vitamin-C-benefits
विटामिन C का महत्व शिशु के शारीरिक विकास में

जाने की बच्चों के लिए विटामिन सी की कितनी मात्र आवश्यक है और क्योँ?

विटामिन-C
बच्चे के उम्र के अनुसार शिशु आहार - सात से नौ महीने

शिशु के पाचन तंत्र के मजबूत बनने में इस प्रकार के आहार बहुत महत्व पूर्ण भूमिका निभाते हैं।

शिशु-आहार
शिशु में कैल्शियम के कम होने का लक्षण और उपचार

बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास में कैल्शियम एहम भूमिका निभाता है|

शिशु-में-कैल्शियम-की-कमी
29 शिशु आहार जो बनाने में आसान

रसोई में जो वस्तुएं पहले से मौजूद हैं उनकी ही मदद से आप बढ़िया, स्वादिष्ट और पौष्टिक शिशु आहार बना सकती हैं।

शिशु-आहार
शिशु के लिए हानिकारक आहार

जानिए की वो कौन से आहार हैं जो आप के बच्चों के लिए हानिकारक हैं|

हानिकारक-आहार
बच्चों में अंगूर के स्वास्थ्य लाभ

बढते बच्चों में अंगूर से होने वाले फायेदे

अंगूर-के-फायेदे
अंगूर को आसानी से किस तरह छिलें

अब आप बिना समस्या के आसानी से अंगूर का छिलका उत्तार सकेंगे|

अंगूर-को-आसानी-से-किस-तरह-छिलें-
6 माह के बच्चे का baby food chart और Recipe

6 महीने के बच्चे का आहार - 6 month baby Food Chart-Meal Plan

6-महीने-के-बच्चे-का-आहार
बच्चों को दूध पीने के फायदे

माँ का दूध बच्चे के शरीर को viruses और bacteria से मुकाबला करने में सक्षम बनता है|

दूध-के-फायदे
10 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

दस साल के बच्चे को आहार में क्या खाने को दें - आहार सरणी (food chart)

10-month-baby-food-chart
9 माह के बच्चे का baby food chart - Indian Baby Food Recipe

नौ माह का बच्चा आसानी से कई प्रकार के आहार आराम से ग्रहण कर सकता है - शिशु आहार सारणी

9-month-baby-food-chart-
2 साल के बच्चे का शाकाहारी आहार सारणी - baby food chart और Recipe

इस लेख में आप पड़ेंगे दो साल के बच्चे के लिए vegetarian Indian food chart जिसे आप आसानी से घर पर बना सकती हैं|

शाकाहारी-baby-food-chart
11 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

11 महीने के बच्चे का आहार सारणी इस तरह होना चाहिए की कम-से-कम दिन में तीन बार ठोस आहार का प्रावधान हो|

11-month-baby-food-chart
8 माह के बच्चे का baby food chart और Indian Baby Food Recipe

इस लेख में आप जानेगे की ८ महीने के बच्चे को आहार देने का सही तरीका क्या है।

8-month-baby-food
12 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

बढ़ते बच्चों के माँ-बाप को अक्सर यह चिंता रहती है की उनके बच्चे को सम्पूर्ण पोषक तत्त्व मिल पा रहा है की नहीं?

12-month-baby-food-chart
2 साल के बच्चे का मांसाहारी food chart और Recipe

इस लेख में आप पड़ेंगे दो साल के बच्चे के लिए non-vegetarian Indian food chart जिसे आप आसानी से घर पर बना सकती हैं|

मांसाहारी-baby-food-chart
सूजी का हलवा है बेहतरीन हिंदुस्तानी baby food

बनाने में यह बेहद आसान और पोषण (nutrition) के मामले में इसका कोई बराबरी नहीं।

सूजी-का-हलवा
घर पे करें त्यार बच्चों का आहार

2 साल से कम उम्र के बच्चों को घर का बना शिशु-आहार (baby food) ही दिया जाना चाहिए।

घर-पे-त्यार-बच्चों-का-आहार
6 माह से पहले ठोस आहार है बच्चे के लिए हानिकारक

समय से पहले बच्चों में ठोस आहार की शुरुआत करने के फायदे तो कुछ नहीं हैं मगर नुकसान बहुत हैं|

6-माह-से-पहले-ठोस-आहार
7 माह के बच्चे का baby food chart और Indian Baby Food Recipe

यह निर्धारित करने के लिए की बच्चे को सुबह, दोपहर और शाम को क्या खाने को दें|

7-month-के-बच्चे-का-baby-food
बच्चों को बचाये एलेर्जी से भोजन के तीन दिवसीय नियम

बच्चों में ठोस आहार शुरू करते वक्त यह सावधानियां बरतें

तीन-दिवसीय-नियम
3 साल तक के बच्चे का baby food chart

अक्सर माताओं के लिए यह काफी चुनौतीपूर्ण रहता है की 3 साल के बच्चे को क्या पौष्टिक आहार दें

3-years-baby-food-chart-in-Hindi
बच्चों को बीमार न कर दे ज्यादा नमक और चीनी का सेवन

बच्चों में जरूरत से ज्यादा नमक और चीनी का सावन उन्हें मोटापा जैसी बीमारियोँ के तरफ धकेल रहा है|

नमक-चीनी
इन चीज़ों की आवशकता पड़ेगी आपको बच्चे में ठोस आहार की शुरुआत करते वक्त

बच्चे को ठोस आहार खिलाने के लिए किन सही वस्तुओं की आवश्यकता पड़ेगी आपको

बेबी-फ़ूड-खरीदते-वक्त-बरतें-सावधानियां
6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना है खतरनाक

शिशु में पानी की शुरुआत 6 महीने के बाद की जानी चाहिए।

6-महीने-से-पहले-बच्चे-को-पानी-पिलाना-है-खतरनाक
माँ का दूध छुड़ाने के बाद क्या दें बच्चे को आहार

बच्चों में माँ का दूध कैसे छुड़ाएं और उसके बाद उसे क्या आहार दें ?

बच्चे-को-आहार
बच्चों के मजबूत हड्डियों के लिए उत्तम आहार

आहार जिनसे मिले बच्चों को कैल्शियम और आयरन से भरपूर पोषक तत्व

मजबूत-हड्डियों-के-लिए-आहार
6 से 12 वर्ष के शिशु को क्या खिलाएं - Indian Baby food diet chart

ठोस भोजन की शुरुआत का सही तरीका - The right way to start solid food in 5 to 6 month old baby

6-से-12-वर्ष-के-शिशु-को-क्या-खिलाएं
ठोस आहार की शुरुआत

ठोस आहार की शुरुआत करते वक्त कौन सा भोजन कब दिया जाना चाहिये

ठोस-आहार
क्यों होते हैं बच्चें कुपोषण के शिकार?

उचित पोषण न मिलना ही कुपोषण हैं। बच्चों को कुपोषण से बचने का आसान तरीका

बच्चो-में-कुपोषण
क्या शिशु को शहद देना सुरक्षित है?

विटामिन और मिनिरल से भरपूर, बढ़ते बच्चों को शहद देने के 8 फायदे हैं|

शहद-के-फायदे
बच्चों में वजन बढ़ाने के आहार

यदि आपका बच्चा कमज़ोर है तो यहां दिए खाद्य वस्तुयों का प्रयोग आपके बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए कारगर होगा।


How to Plan for Good Health Through Good Diet and Active Lifestyle

Be Active, Be Fit